home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

चीन की तरह भारत भी दे सकता है प्रदूषण को मात, उठाने होंगे ये कदम

चीन की तरह भारत भी दे सकता है प्रदूषण को मात, उठाने होंगे ये कदम

दिल्ली में प्रदूषण (Air Pollution) अपने आप में एक बड़ी समस्या है। इन दिनों यह बात सभी प्रमुख खबरों की सुर्खियों में है कि दिल्ली में प्रदूषण (Pollution) का स्तर बढ़ा हुआ है और बात इतनी बिगड़ गई है कि राज्य में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी (Public Health Emergency) घोषित करनी पड़ी है, लेकिन अभी हम बात करेंगे कि कैसे कुछ साल पहले चीन (China) भी प्रदूषण (Air Pollution in China) समस्या से घिरा था और केवल सात साल के अंदर चीन ने इस समस्या पर काबू पा लिया।

एक समय था जब दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) की तरह चीन के बड़े-बड़े शहर धुंध (Delhi Smog) से सराबोर रहते थे। समय वो भी था जब बीजिंग में हर व्यक्ति मास्क (Pollution Mask) पहनकर घूमता था। जिस तरह से दिल्ली में आज हैल्थ इमरजेंसी (Health Emergency) है, ठीक वैसी ही चीन में स्कूल-कॉलेज, सरकारी ऑफिस बंद कर दिए जाते थे। इसका कारण यह था कि वायु प्रदूषण स्तर का तब काफी खतरनाक हो जाता था। लेकिन चीन ने इस परेशानी और इसके कारणों को समझने के बाद प्रदूषण के खिलाफ 2013 में जंग छेड़ी और अब 7 साल बाद हालात ये है कि वहां के शहरों में धुंध और वायु प्रदूषण का स्तर काफी हद तक कम हो गया है। अब लोगों को परेशान नहीं होना पड़ता। चीन ने इसके लिए कई बड़े कदम उठाए। भारत भी उसके जैसे उपायों को अपनाकर वायु प्रदूषण को मात दे सकता है।

और पढ़ें- दिल्ली में ‘पब्लिक हैल्थ इमरजेंसी’ घोषित, 5 नवंबर तक बंद रहेंगे स्कूल

2012 तक हालात थे काफी खराब

साल 2012 तक चीन में वायु प्रदूषण के कारण हालात काफी खराब थे। चीन के 90 फीसदी शहरों की हवा का स्‍तर वहां के निर्धारित मानकों से कई गुना अधिक था। चीन के 74 बड़े शहरों में से केवल आठ शहरों में वायु प्रदूषण निर्धारित स्तर से कम था। कुछ रिपोर्ट के अनुसार चीन में वायु प्रदूषण से हर साल पांच लाख लोगों की मौत समय से पहले हो जाती थी।

2013 में चीन ने वायु प्रदूषण (Air Pollution) के खिलाफ जंग छेड़ी और प्रदूषण के चलते दुनियाभर में हो रही बीजींग (Beijing) की आलोचना का मुंह तोड़ जवाब दिया। बीजिंग में हालात ऐसे थे हफ्तों दिनों तक लोग बिना मास्क (Mask) नजर नहीं आते थे और चीन की यह तस्वीरें हर तरफ आम हो गई थीं।

और पढ़ें- गांजे के नशे में डूबी है दिल्ली और मुंबई, जो पड़ सकता है सेहत को भारी

चीन ने कैसे कम किया प्रदूषण

चीन ने साल 2013 में नेशनल एक्शन प्लान ऑन एयर पॉल्यूशन (National Action plan on Air Pollution) लागू किया। चीन सरकार ने इस प्लान पर 277 अरब डॉलर खर्च करने का फैसला किया था। इसके साथ ही चीन सरकार ने इन योजनाओं पर अमल करना शुरु कर दिया था।

  1. चीन में कारखानों को एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर कर दिया गया। इसके अलावा जिन कारखानों में ज्यादा प्रोडक्शन होता था, उनका प्रोडक्शन कम कर दिया गया।
  2. प्रदूषण कम करने के लिए चीन में कोयले का इस्तेमाल कम कर दिया गया।
  3. चीन के दो मुख्य शहर बीजींग और शंघाई की सड़कों पर कार की संख्या कम कर दी गई। साथ ही पुरानी गाड़ियों को चलाने पर भी रोक लगा दी गई।
  4. किसी भी कोयले की फैक्ट्री को मंजूरी देना बंद कर दिया गया। अगर किसी कंडीशन पर इनको मंजूरी दी जाती तो इन्हें बीजींग शहर से काफी दूर की लोकेशन पर परमिशन दी जाती थी।
  5. चीन के बड़े-बड़े शहरों में अलग-अलग लोकेशन पर एयर प्यूरिफायर लगाना शुरु कर दिया गया।
  6. शहर में ऐसे एरिया बनाए गए जहां ताजा हवा मिल सके। इसके लिए ऐसा एरिया निर्धारित किया गया जहां ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं जा सके।
  7. चीन ने अपने बड़े शहरों में लो-कार्बन पार्क बनाएं। ऐसे एरिया जहां पर कार्बन का प्रोडक्शन कम हो गया।
  8. चीन में औद्योगिक कामों को कम कर दिया गया। प्रदूषण को देखते हुए कई कोयला खदानें बंद कर दी गईं।
  9. चीन सरकार का प्रदूषण कम करने का मोर्चा अभी भी थमा नहीं है। चीन सरकार की तरफ से वायु प्रदूषण को कम करने के लिए अभी भी कई कदम उठाए जा रहे हैं। चीन देश के कई शहरों से प्रदूषण को 2020 तक 60 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य रखा गया है।

और पढ़ें- प्रदूषण से भारतीयों की जिंदगी के कम हो रहे सात साल, शिशुओं को भी खतरा

ऐसा कहा जा रहा है कि भारत में खासकर दिल्ली के आस-पास हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने की वजह से प्रदूषण काफी बढ़ा है उसी तरह से पहले चीन में भी चूल्हा जलाने की वजह से प्रदूषण काफी बढ़ रहा था। चीन के बीजींग शहर में पहले लगभग 40 लाख स्कूलों, घरों, अस्पतालों और होटलों में कोयलें का इस्तेमाल ईंधन के रुप में किया जाता था।

इस समस्या से उबरने के लिए सरकार ने एकाएक चूल्हे के इस्तेमाल पर रोक लगा दी और लोगों को नैचुरल गैस और इलेक्ट्रिक हीटर मुहैया करवा दिए। यहां तक कि लोग ठंड से बचाव के लिए भी इसका इस्तेमाल करते थे इसलिए लोगों की शुरु में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। चीन सरकार का कदम लोगों पर थोड़ा भारी पड़ा लेकिन प्रदूषण वाकई में कम हुआ और वायु प्रदूषण पर रोक लगाने में भी मदद मिली।

ऐसे ही कुछ सख्त कदम उठाकर भारत में भी वायु प्रदुषण (Air Pollution) पर काबू पाया जा सकता है। लेकिन इसके लिए सरकार को पूरी तैयारी करनी होगी वरना वो दिन दूर नहीं जब बीजींग की तरह भारत में भी लोगों को हमेशा मास्क पहनकर घूमना पड़ेगा।

और पढ़ें- प्रदूषण से बचने के लिए आजमाएं यह हर्बल ‘मैजिक लंग टी’

दिल्ली में प्रदूषण कम करने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं?

एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, हमें भी वायु प्रदूषण को कम करने के विकल्पों पर ध्यान देना चाहिए, जिसके लिए हम निम्न सुझावों का पालन कर सकते हैंः

ऊर्जा का संरक्षण करें

घर हो या ऑफिस आपको हर जगह बिजली की बचत करने की आदत खुद में विकसित करनी चाहिए। अगर आप लोकल ट्रेन या किसी भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें सार्वजिनक तौर पर लाइट या पंखें की सुविधा होती है, तो उनका इस्तेमाल न होने पर उनके स्विच जरूर बंद कर दें। अक्सर इस काम को करने के लिए लोग अपने आस-पास खड़े लोगों पर निर्भर हो जाते हैं, लेकिन ऐसा न करें।

इलेक्ट्रिकल वस्तुओं की सही खरीदारी करें

जब भी आप कोई ऐसा उपकरण खरीदने वाले हों, जिसके इस्तेमाल में आपको बिजली की आवश्यकता होने वाली है, तो उसका एनर्जी स्टार लेबल जरूर चेक करें। आमतौर पर अच्छी क्वालिटी के उत्पाद हमेशा अपने इसका लेबल जारी करते हैं कि, वह कितनी मात्रा में ऊर्जा की खपत करता है।

सार्वजिनक परिवहन के इस्तेमाल को बढ़ावा देना

हमेशा कम दूरी के लिए पैदल ही सफर तय करने की आदत डालें। यह स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों के लिए ही सेहतमंद पहल हो सकती है। इसके आलावा, अगर आपके घर से आपके दफ्चर के लिए सार्वजिनक परिवहन की सुविधा है, तो उसका अधिक से अधिक उपयोग करें। अपने निजी वाहनों का इस्तेमाल कम से कम करने का प्रयास करें।

समय-समय पर वाहनों की सर्विसिंग करवाएं

अगर आप आपका अपना निजी वाहन है, तो समय-समय पर उसकी सर्विसिंग के साथ उसके एयर क्वालिटी कंडिशन की भी जांच कराएं।

एलपीजी को बढ़ावा

लकड़ी के चूल्हे की जगह एलपीजी गैस का इस्तेमाल करें।

जरूरत का रखें ख्याल

जरूरत होने पर ही घर या ऑफिस में एसी का इस्तेमाल करें। पूरा दिन एसी को ऑन करके न रखें।

अपने आस-पास और दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए आप अपने आस-पास के लोगों के साथ अपनी और उनकी योजनाएं भी साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Environmental pollution in China decreases. https://phys.org/news/2019-09-environmental-pollution-china-decreases.html. Accessed on 17 August, 2020.

Actions You Can Take to Reduce Air Pollution. https://www3.epa.gov/region1/airquality/reducepollution.html. Accessed on 17 August, 2020.

What Can I Do to Help Reduce Air Pollution?. https://www.des.nh.gov/organization/divisions/air/tsb/ams/aqmdp/share.htm. Accessed on 17 August, 2020.

14 ways citizens and govt can help reduce air pollution in Delhi. https://www.downtoearth.org.in/news/air/14-ways-citizens-and-govt-can-help-reduce-air-pollution-in-delhi-62138. Accessed on 17 August, 2020.

Pollution Prevention Tips at Home. https://www.epa.gov/p2week/pollution-prevention-tips-home. Accessed on 17 August, 2020.

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Lucky Singh द्वारा लिखित
अपडेटेड 04/11/2019
x