home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कैसे रखें इस दिवाली अपने घर को साफ और डस्ट फ्री

कैसे रखें इस दिवाली अपने घर को साफ और डस्ट फ्री

दिवाली के कुछ दिन पहले से ही लोग इसकी तैयारियों में लग जाते हैं। अधिकांश लोग दिवाली पर ही घर की साफ-सफाई और पेंट कराते हैं। दिवाली के दिन मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है, ताकि मां लक्ष्मी का आगमन हो और सुख समृद्धि बढ़े। ऐसी मान्यता है कि लक्ष्मी वहीं आती हैं जहां साफ-सफाई हो। त्योहार के इस मौसम में बहुत से ऐसे लोग हैं जिनका शेड्यूल बहुत व्यस्त रहता है। हर किसी के पास घर की सफाई, रिश्तेदारों और दोस्तों से मिलना और दिवाली की शॉपिंग जैसे जरुरी काम होते हैं। लेकिन इस पूरी लिस्ट में सबसे जरूरी काम है अपने घर को सुंदर बनाना और सुंदर बनाने से हमारा मतलब है कि हम इसे अंदर से लेकर बाहर तक साफ करें।

दिवाली की सफाई इसलिए जरूरी होती है क्योंकि आप धन और समृद्धि की देवी का स्वागत करना चाहते हैं। दिवाली के आसपास इतना काम होता है कि आप बहुत थक जाते हैं। लेकिन, अगर यह सफाई का काम एक-एक करके किया जाए, तो बिना थके यह पूरा किया जा सकता है।आज हम आपको ऐसे ही कुछ सफाई के टिप्स देंगे जिससे आप जल्दी सफाई करके दूसरे कामों पर ध्यान दे सकते हैं।

कैसे करें दिवाली की सफाई

सफाई के टिप्स

  • सफाई करने के लिए थोड़ी प्लानिंग करके चलने से सफाई का काम आसान हो जाता है। सफाई करते समय पंखे, ट्यूब लाइट, बल्ब, पर्दे, दीवार घड़ी, लेम्प, शो पीस, रोशनदान सभी कुछ साफ करना चाहिए।
  • कहीं सूखे कपड़े की सफाई से काम चल जाता है, तो कुछ जगह गीले कपड़े से और कहीं-कहीं कैमिकल का इस्तेमाल करना पड़ता है।
  • नमक, सोडा जैसे घरेलु सामान भी सफाई के काम आ सकते हैं। अगर आपके पास वेक्यूम क्लीनर हो, तो उसे इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • पर्दों में भी डस्ट आदि जमा हो जाती है। पर्दे की सफाई के लिए उन्हें उतार कर ड्राईक्लीन या धुलाई करवा लेने से कमरे में नयापन आ जाता है।
  • सफाई की शुरुआत अंदरूनी सफाई से करनी चाहिए यानि अलमारियां आदि का सामान बाहर निकाल कर सूखे और गीले कपड़े से पोंछ दें। जो सामान काम में नहीं आते सिर्फ जगह घेरते हैं, उन्हें अलग सूटकेस में रख दें। फिर बाकि सामान वापस अलमारी में रख दें।
  • हो सके तो रोजाना काम आने वाले कपड़े अलग शेल्फ में और पार्टी वेयर कपड़े अलग शेल्फ में रखें। साथ ही मेडिकल बॉक्स भी चैक कर लें,एक्सपायर दवा फेंक दें। जरुरत की दवा नई लाकर रखें।
  • अलमारी साफ होने के बाद पंखे, लाइटें, शो पीस, दीवार घड़ी आदि साफ कर लें।
  • कोनों में जाले हों, तो उन्हें साफ कर दें।
  • रोशनदान आदि झाड़ लें।
  • फर्नीचर थोड़ा खिसका कर पहले झाड़ू या सूखे कपड़े से साफ कर लें फिर गीले कपडे से साफ करके एक बार वापस साफ सूखे कपडे से पोंछ दें। अगर हो सके तो फर्श को पानी और डिटर्जेंट आदि से धो लें। फर्श की सफाई में सोडा भी काम में लिया जा सकता है।
  • तस्वीरें या वाल पीस लगा रखे हों, तो उन्हें आराम से निकाल कर इनके पीछे सफाई करें। यहां सबसे ज्यादा धुल मिट्टी जमा हो जाती है। इनकी सफाई सूखे और गीले कपड़े से करके इन्हे वापस इनकी जगह पर लगा दें।
  • अगर आपने कूलर लगाया है, तो उसका पानी खाली कर दें और सफाई कर दें। अगर इसमें पानी रह जायेगा तो मच्छर पैदा होंगे और बीमारियां फैलाएंगे।
  • बाथरूम के वेंटिलेशन में मिट्टी जमी हो, तो उसे साफ कर लें। टाइलों के बीच चिकनाई जमा हो जाती है उसे भी साफ कर लेना चाहिए।
  • नलों पर समय के साथ सॉल्ट जमा हो जाता है, जो गन्दा दिखाई देता है। इसे साफ कर लें। सिरका या विनेगर यहां काम आता है।
  • दीवारों पर भी कपड़ा या झाड़ू फेर लें। अगर पेंट धोने लायक हो तो दीवारें धोई जा सकती हैं।
  • बिजली के स्विच वाली प्लेट को पॉलीथिन या क्लिंग फिल्म लगा कर ढक दें, ताकि उसमे पानी ना जाये। हो सके तो सुरक्षा के लिहाज से इस दौरान बिजली का मेन स्विच बंद कर लेना चाहिए ताकि करंट लगने की आशंका खत्म हो जाए।
  • सोफे या कुर्सी के कवर आदि धुलवाये या ड्राई क्लीन करावाये जा सकते हैं।
  • कालीन झाड़ लें या वेक्यूम क्लीनर से अच्छे से साफ कर लें। कालीन में बहुत डस्ट जमा हो जाती है। अगर सिंथेटिक कालीन हो तो इसे पानी से धोया भी जा सकता है।
  • सिंक, बेसिन, बाथरूम की नालियों में सोडा और नमक डालकर उनकी सफाई की जा सकती है इससे बदबू भी मिटती है।
  • रजाइयां, ओढ़ने की चद्दर, बेड शीट आदि धूप में रखकर नमी से मुक्त कर लेने चाहिए। ऊनी कपड़े और कम्बल भी धूप में रख लेने चाहिए।

और पढ़ें : घर पर आसानी से करें फ्रिज की सफाई, अपनाएं ये घरेलू उपाय

क्यों जरूरी है दिवाली की सफाई

दिवाली में क्यों करें सफाई

दिवाली की सफाई का मतलब केवल परम्परा को आगे बढ़ाना या मां लक्ष्मी का आगमन ही नहीं है। दिवाली की सफाई आपको कई बीमारियों और एलर्जी से बचाने में मदद कर सकती है। ऐसे में दिवाली की सफाई जरुरी हो जाती है।

  • दिवाली का त्योहार बरसात के बाद आने वाला पहला त्योहार होता है, जिसको धूम-धाम से मनाया जाता है। बरसात के मौसम में घर में अलग-अलग जगह पर सीलन आ जाती है, जिससे फंगस लग जाती हैं। इसकी सफाई होनी चाहिए वरना यह परेशानी का कारण बन सकती है।
  • बारिश में नमी के कारण बिस्तर, मेट्रेस, रजाई, कुशन, तकिये और घर की दूसरी चीजें नमी सोख लेते हैं, जिसके कारण उनमें डस्ट माइट और दूसरे कई तरह के कीटाणु पैदा हो सकते हैं। इसके कारण कई तरह की बीमारी या एलर्जी होने की संभावना बढ़ जाती है। इनकी साफ-सफाई करने और धूप लगाने से इस तरह की परेशानी से बचाव होता है।
  • बरसात की नमी से अनाज, दालें और सूजी में कीड़े पैदा हो सकते हैं। ऐसे में किचन के ड्रॉअर की सफाई करना जरुरी हो जाता है। इससे घर में कॉकरोच आदि भी पैदा नहीं होते।
  • बारिश के बाद मकड़ी के जाले अधिक संख्या में नजर आते हैं। दिवाली से पहले इन्हें साफ न किया जाए, तो मकड़ियां एक बड़ी समस्या बन सकती हैं। ऐसे में सफाई के दौरान मकड़ी के जाले भी हट जाते हैं।
  • घर के बड़े और भारी फर्नीचर जैसे कि बेड, अलमारी, सोफे के नीचे रोजाना सफाई नहीं हो पाती। इनके पीछे बहुत ज्यादा गंदगी, मिट्टी और जाले इकट्ठे हो जाते हैं। यहां की सफाई दीवाली पर की जा सकती है।
  • दीवाली पर घर सजाने के लिए नए सामान, कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक आइटम आदि खरीदे जाते हैं। नया सामान सजाने के लिए पुराने सामान को घर से निकालना जरुरी होता है। वर्ना इतना सामान इकठ्ठा होता चला जाता है कि संभालना मुश्किल हो जाता है। यह भी दिवाली की सफाई का एक हिस्सा होता है।
  • घर में पुराने सामान को निकालने व साफ-सफाई करने से घर में पॉजिटिव एनर्जी बढ़ जाती है और नई उमंग व उत्साह का संचार होता है।

और पढ़ें : संक्रमण से बचाव के लिए इन बातों का रोजाना रखें ध्यान, बच्चों के खिलौनों को न करें इग्नोर

कैसे दें घर को फाइनल टच

दिवाली में सफाई कैसे करें

एक बार जब आप अपने घर को पूरी तरह से साफ कर लें, तो अपनी दिवाली की सजावट को पूरा करें। दिवाली के लिए घर को सजाने के पीछे मान्यता यह है कि उज्ज्वल रोशनी आपके घर से अंधकार को दूर करने में मदद करेगी, जिससे आपको खुशी और समृद्धि मिलेगी। घर को सजाने के लिए दरवाजे और खिड़कियों पर लाइट और लालटेन लटकाएं और मोमबत्तियों से घर के कोनों को सजाएं। घर में पॉजिटिव एनर्जी के लिए, ताजे फूल खरीदें। इसे एक फूलदान में रखें या सजावट के लिए फूलों की रंगोली बनाएं।

इस दिवाली आप अरोमाथेरेपी, अगरबत्तियों, रूम फ्रेशनर और डिफ्यूजर से घर को महकाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Lucky Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/11/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x