home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

महाराष्ट्र सहित पूरे देश में हर साल धूमधाम से मनाए जाने वाले गणेश चतुर्थी के त्योहार की रौनक इस बार कुछ फीकी पड़ गई है। साल 2020 में हर बड़ा त्योहार लोग घरों के अंदर ही मनाने पर मजबूर है। वहीं, भारत में गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकारों ने इस साल गणेश चतुर्थी के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। दस दिनों तक चलने वाले गणेश चतुर्थी उत्सव में सड़क के पंडालों में सर्वजन मंडल की मूर्तियां 22 अगस्त को स्थापित होंगी। जानते हैं, गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए विभिन्न राज्यों ने क्या गाइडलाइन्स जारी की हैं?

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : महाराष्ट्र

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

महाराष्ट्र सरकार ने सभी ‘मंडलों’ के लिए गणेशोत्सव मनाने के लिए संबंधित नगर पालिका या लोकल अथॉरिटी से परमिशन लेना अनिवार्य कर दिया है।

  • गणेश मूर्ति की ऊंचाई को भी निर्धारित किया है। सरकार की गाइडलाइन के अनुसार मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए है। यहां तक कि घर पर स्थापित की जाने वाली मूर्ति भी दो फीट से ज्यादा ऊंची नहीं हो सकती है।
  • गणेश मंडलों को मूर्ति विसर्जन की अनुमति नहीं होगी। पूजा साधारण ढंग से और कम से कम सजावट के साथ की जाएगी।
  • सरकार ने कहा है कि मूर्तियों के आगमन और विसर्जन के लिए जुलूसों की अनुमति नहीं होगी क्योंकि इससे भीड़ ज्यादा जमा होती है।
  • श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखते हुए मास्क लगाना जरूरी होगा। इसके अलावा मंडपों में सैनिटाइजर की भी व्यवस्था होनी चाहिए।
  • पंडालों पर सजे गणपति मंडप को बीच-बीच में सैनिटाइज करते रहना जरूरी होगा। इसके साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग का भी इंतजाम होना चाहिए।

और पढ़ें : गणेश चतुर्थी और आने वाले त्योहारों को बनाएं यादगार, घर पर बनाएं शुगर फ्री मिठाइयां

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : दिल्ली/ एनसीआर

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

आपको बता दें कि दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या बढ़कर लगभग 1.56 लाख हो गई है। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को मद्देनजर रखते हुए दिल्ली गवर्नमेंट ने भी अपनी गाइडलाइन्स जारी की हैं। गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस के लिए जारी दिशानिर्देश-

  • दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (Delhi Pollution Control Committee) ने कहा कि इस साल राजधानी में गणेश चतुर्थी पर सार्वजनिक स्थानों पर कोई बड़ी सभा, कम्युनिटी सेलिब्रेशन या मूर्ति विसर्जन नहीं होगा।
  • डीडीएमए ने कहा कि गणेश चतुर्थी के दौरान सार्वजनिक स्थानों पर भगवान गणेश की कोई मूर्ति स्थापित नहीं की जाएगी।
  • यमुना नदी में मूर्ति स्थापित करने वालों पर 50,000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।
  • दिल्ली पुलिस और नागरिक निकायों (civic bodies) को निर्देश दिए गए हैं कि वे शहर में मूर्तियों को ले जाने वाले वाहनों की एंट्री की जांच करेंगे।
  • सारे कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे। बप्पा के दर्शन भी लाइव होंगे।

और पढ़ें : नेचुरल रूप से घटाना है वजन तो फॉलो करें इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट, जानिए एक्सपर्ट से

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : पुणे

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए पुणे पुलिस ने भी कुछ गाइडलाइन्स जारी की हैं। जैसे-

  • मूर्तियों को ऑनलाइन खरीदा जाना चाहिए।
  • मूर्तियों को केवल निर्धारित खुली जगहों पर बेचा जाना चाहिए, सड़क के किनारे नहीं।
  • मूर्ति के आगमन, स्थापना या विसर्जन के दौरान किसी भी जुलूस की परमिशन नहीं होगी।
  • पंडालों में किसी भी तरह की भीड़ की अनुमति नहीं है।
  • पुणे पुलिस की गाइडलाइन के अनुसार किसी भी समय पूजा में भाग लेने वाले भक्तों की संख्या पांच से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • त्योहारों के दौरान अनुष्ठान करने के लिए मंदिरों से जुड़े गणेश मंडल से आग्रह किया गया है कि वे अपनी मूर्तियों को अपने परिसर में रखें।
  • मंडल पदाधिकारियों के लिए आरोग्य सेतु ऐप रखना अनिवार्य होगा।
  • सभी लोगों को कोविड-19 सेफ्टी नॉर्म्स का पालन करना जरूरी है जैसे कि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और हैंड सैनिटाइटर का उपयोग।
  • अनुष्ठान केवल मंडल के अधिकारियों द्वारा किया जाना चाहिए। भक्त उन्हें ऑनलाइन देख सकते हैं।
  • पंडालों में भक्तों की संख्या एक ऑनलाइन टोकन सिस्टम के माध्यम से रिस्ट्रिक्ट की जाएगी।
  • पंडालों को परिसर में फूड या किसी अन्य स्टॉल को लगाने की अनुमति नहीं होगी।

और पढ़ें : इन पारसी क्यूजीन के बिना अधूरा है नवरोज फेस्टिवल, आप भी करें ट्राई स्वादिष्ट पारसी रेसिपीज

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : कर्नाटक

कर्नाटक सरकार ने गणेश चतुर्थी के लिए पंडालों की अनुमति देते हुए कुछ दिशानिर्देश जारी किए हैं।

  • एक वार्ड या गांव में एक गणेश पंडाल की अनुमति है और आयोजकों को एक समय में पंडालों में 20 से अधिक लोगों को अनुमति नहीं देनी चाहिए।
  • सांस्कृतिक कार्यक्रमों की अनुमति नहीं है।
  • किसी भी कल्चरल प्रोग्राम को आयोजित करने की अनुमति नहीं है।
  • गणेश भगवान की मूर्तियों को घर में विसर्जित करना होगा। वहीं, पब्लिक गणेश उत्सव ऑर्गेनाइजर्स को मूर्तियों को लोकैलिटी में ही विसर्जित करना होगा।
  • भक्तों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य है और सोशल डिस्टेंसिंग के सभी मानदंडों का सख्ती से पालन करना होगा।

क्या करें?

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए सभी पंडालों को कुछ नीचे बताई गई कुछ बातों पर गौर करना चाहिए जैसे-

  • हर साल गणेश चतुर्थी पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों की बजाय हेल्थ से जुड़ी एक्टिविटीज की जा सकती है। जैसे कि ब्लड डोनेशन, मलेरिया, कोरोना, डेंगू जैसी बीमारियों से बचाव के उपाय को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए कैंप लगाए जा सकते हैं।
  • गणेश उत्सव पर मूर्तियां एनवायरनमेंट फ्रेंडली होनी चाहिए। मूर्तियों को घर में ही विसर्जित करें। अगर ऐसा करना पॉसिबल न हो तो घर या सोसाइटी के पास ही किसी उचित जगह पर इन्हें विसर्जित करें।
  • गणेश मंडलों को विसर्जन के लिए परिसर में ही वॉटर टैंक्स को स्थापित करें।
  • प्रवेश द्वार पर हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था सुनिश्चित करें।
  • रोजाना होने वाली आरती के दौरान कोई भीड़ नहीं होनी चाहिए और ध्वनि प्रदूषण (noise pollution) के मानदंडों को फॉलो किया जाना चाहिए।

और पढ़ें : वायु प्रदूषण बन सकता है डिप्रेशन का कारण!

क्या न करें?

  • आरती या कीर्तन के समय भीड़ जमा न करें।
  • सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लंघन न करें।
  • भगवान गणेश की मूर्ति और पंडालों के दर्शन के लिए ऑनलाइन सुविधा भी उपलब्ध होगी। इसलिए, दर्शन के लिए बेवजह कहीं भीड़ न लगाएं।

आज पूरा देश हेल्थ क्राइसिस से जूझ रहा है। कोरोनोवायरस दुनिया भर में फैल रहा है। हर कोई लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंसिंग और पर्सनल हाइजीन के उपायों से तेजी से फैलने वाले इस वायरस से लड़ने की कोशिश में लगा हुआ है। इसकी वजह से हमारे सभी त्योहार और कल्चरल प्रोग्राम्स की चमक भी फीकी पड़ गई है। लेकिन, यही एक तरीका है जिससे वायरस को फैलने से रोकने में मदद मिल सकती है। इसलिए, ‘हैलो हेल्थ ग्रुप’ का आप सभी से विनम्र निवदेन है कि सभी कोरोना सेफ्टी नॉर्म्स का पालन करते हुए ही गणेश चतुर्थी को मनाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Revised Directions for the Idols immersion. http://web.delhi.gov.in/wps/wcm/connect/5ed118804ad4f3df9b079b09c683c810/idol+immersion+Revised.pdf?MOD=AJPERES&lmod=-1601641899. Accessed On 21 Aug 2020

Ganeshotsav festival guidelines issued by Pune Police. https://punepolice.gov.in/. Accessed On 21 Aug 2020

Ganesh Utsav-Guidelines 2020. https://.gov.in/notice/ganesh-utsav-guidelines-2020/. Accessed On 21 Aug 2020

Maharashtra government releases guidelines for Ganesh Utsav pandals. http://newsonair.nic.in/News?title=Maharashtra-government-releases-guidelines-for-Ganesh-Utsav-pandals&id=393537. Accessed On 21 Aug 2020

Ganesh Utsav 2020: Maharashtra govt issues guidelines — permission required, idol height capped. https://www.financialexpress.com/lifestyle/travel-tourism/ganesh-utsav-2020-maharashtra-govt-issues-guidelines-permission-required-idol-height-capped/2020856/. Accessed On 21 Aug 2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shikha Patel द्वारा लिखित
अपडेटेड 21/08/2020
x