home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बिल गेट्स ने कहा, 20 सालों में कुपोषण को हराना होगा

बिल गेट्स ने कहा, 20 सालों में कुपोषण को हराना होगा

बिल गेट्स ने अपने गेट्स फाउंडेशन कुपोषण मिशन के तहत एक अहम बयान दिया है। कैंब्रिज यूनियन सोसाइटी के प्रोफेसर हॉकिंग फेलोशिप के कार्यक्रम में उन्होंने यह महत्वपूर्ण बात कही। कार्यक्रम में मौजूद लोगों को संबंधोति करते हुए बिल गेट्स ने कहा कि यदि हमें यह पता चल जाए कि हमारा डाइजेशन सिस्टम किस तरह कार्य करता है, तो हम अगले 20 सालों में कुपोषण से निजात पा सकते हैं। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि हमें अगले कुछ दशकों में ग्लोबल हेल्थ में प्रगति नजर आएगी।

बिल गेट्स के मुताबिक, दुनिया में कुपोषण सबसे बड़ी समस्या है, जिसे निजात पाना जरूरी है। उनके मुताबिक, हर साल पांच वर्ष से कम उम्र के 20 लाख से ज्यादा बच्चों की मौत भोजन की कमी से हो जाती है। बिल गेट्स का मानना है कि अगले 20 वर्षों में हम इस आंकड़े को कम कर पाने में सक्षम होंगे। इसके इलाज की चाबी मनुष्य के शरीर में छुपी हुई है।

और पढ़ें: बच्चे की उम्र के अनुसार क्या आप उसे आवश्यक पोषण दे रहे हैं ?

बिल गेट्स ने कहा कि बॉडी के अंगों को समझने की जरूरत

बिल गेट्स ने कहा कि मुझे लगता है कि हमें मनुष्य की बॉडी के छोटे-छोटे अंगे के भीतर पोषण को बेहतर तरीके से समझने की जरूरत है। उदाहरण के लिए हमारे शरीर के छोटे-छोटे बैक्टीरिया कई जरूरतों को पूरा करते हैं। बिल गेट्स ने यहां पर गट और डाइजेस्टिव ट्रैक के भीतर मौजूद बैक्टीरिया के संबंध में यह बात कही।

अभी तक सीमित अध्ययन उपलब्ध

बता दें कि, बिल गेट्स बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन नाम का एक फाउंडेशन चलाते हैं। जो कुपोषण जैसी समस्याओं को दूर करने में अपना योगदान दे रही है। बिल गेट्स फाउंडेशन कुपोषण मिशन के तहत कुपोषण पर किया गया शोध जारी किया है। उनका कहना है कि, मौजूदा समय में इस संबंध में सीमित शोध किया गए हैं। दरअसल, इसका कोई वास्तविक साक्ष्य नहीं है कि प्रोबायोटिक्स मिल्क और इसके जैसे प्रोडक्ट्स का सेवन करने से इस समस्या में मदद सहायता मिलती है। वहीं, दूसरी तरफ एक्सपर्ट्स और डॉक्टरों का मानना है कि कुपोषित बच्चों की डाइजेस्टिव ट्रैक में बैक्टीरिया अलग तरह के होते हैं। सैद्धांतिक रूप से बदतर परिस्थितियों में भूख से मर रहे बच्चों को अधिक भोजन और इलाज से फायदा मिल सकता है। विशेष रूप से इससे डाइजेशन के बैक्टीरिया को टारगेट किया जा सकता है।

और पढ़ें: बच्चों में पोषण की कमी के ये 10 संकेत, अनदेखा न करें इसे

गट बैक्टीरिया से इलाज संभव- मेलिन्डा गेट्स फाउंडेशन मालनूट्रिशन मिशन

अपनी इस बात को लोगों के बीच रखने के लिए बिल गेट्स ने एक बायोलॉजिस्ट के शोध का हवाला दिया। वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के जैफ गोरडोन नामक इस बायोलॉजिस्ट ने एक शोध किया था। इस शोध को 2013 में प्रकाशित किया गया। बायोलॉजिस्ट ने जुड़वां बच्चों में माइक्रोबायोम्स पर शोध किया था। उन्होंने अपने शोध में कहा कि एक जुड़वा बच्चा हेल्दी रह सकता है जबकि, दूसरा बच्चा कुपोषित हो सकता है। ऐसे मामलों में दोनों बच्चों में समान जीन और समान फूड मिलने के बाद भी उनके माइक्रोबायोम्स अलग-अलग होते हैं।

बायोलॉजिस्ट ने कुपोषित बच्चे के कुछ गट बैक्टीरिया को एक चूहे में ट्रांसप्लांट करने के बाद पाया कि चूहे के लिए पोषक तत्वों को बॉडी में डाइजेस्ट कर पाना मुश्किल था।

सबकी पहुंच तक हो ट्रीटमेंट- मेलिन्डा गेट्स फाउंडेशन मालनूट्रिशन मिशन

बिल गेट्स ने कहा, ‘माइक्रोबायोम की यह थेरेपी अभी तक शुरुआती चरण में है। लेकिन, मुझे लगता है कि हमें इसे कारगर बनाने का एक रास्ता मिलेगा।’ इन थेरेपी की प्रभाविकता के इतर गेट्स ने कहा कि इस प्रकार की थेरेपी का ट्रीटमेंट बेहद ही सस्ता होना चाहिए, जिससे यह आम लोगों तक पहुंच सके। मौजूदा समय में इस्तेमाल होने वाल ट्रीटमेंट महंगा है।

और पढ़ें: स्वास्थ्य सेवाओं में कारगर कदम उठाने के लिए दुनिया भर में भारत की सराहना

कुपोषण के कारण लड़कियों की सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं

बिल गेट्स ने कहा कि सैंपल रजिस्ट्रेशन रेट (IMR) के अनुसार, 2016 में 34 में से केवल एक गर्ल चाइल्ड के जीवित बच जाने की संभावना थी। यानी 34 लड़कियां पैदा होने के बाद कुछ ही समय बाद केवल एक ही लड़की जिंदा बची, बाकी सबकी मौत हो गई। वहीं 2017 के सैंपल रजिस्ट्रेशन सर्वे (SRS) के अनुसार, 29 राज्यों में से केवल पांच राज्यों में एक गर्ल चाइल्ड के जीवित रहने की अधिक संभावना थी। ये वाकई भयावह रिजल्ट हैं। यानी गर्ल चाइल्ड की मृत्यु दर अधिक है। सैंपल रजिस्ट्रेशन रेट के अनुसार मरने वाली लड़कियों की उम्र एक साल से भी कम थी।

लड़कियों की मृत्यु दर

ज्यादातर सभी राज्यों में लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की मृत्युदर अधिक पाई गई है। कुछ राज्यों में जैसे कि छत्तीसगढ़, दिल्ली, मध्यप्रदेश, तमिलनाडू और उत्तराखंड को छोड़कर अन्य सभी राज्यों में गर्ल चाइल्ड की मृत्युदर अधिक पाई गई। ये सभी रिपोर्ट्स तीन साल के सर्वे पर बेस्ड है। साल 2015 से 2017 तक में सर्वे किया गया था। 0-4 वर्ष तक की गर्ल चाइल्ड की मृत्यु दर 8.9 थी, वही भारत के ग्रामीण इलाको में शहरी क्षेत्रों की तुलना में अधिक मृत्युदर 10.0 पाई गई। वहीं शहरी क्षेत्रों में मृत्युदर यानी गर्ल चाइल्ड मोरेलिटी 6.0 थी। आपको जानकर हैरानी होगी कि 19.8% गर्ल चाइल्स की डेथ अप्रशिक्षित अधिकारियों की वजह से हुई।

सही स्वास्थ्य सुविधाएं न मिल पाने के कारण कम उम्र में ही महिलाओं की मृत्यु हो जाती है। देश भर में केरला ही ऐसा राज्य है जहां का सेक्स रेशियो सही है। ज्यादातर राज्यों में सेक्स रेशियो यानी लिंग अनुपात में भारी अंतर देखने मिलता है। ज्यादातर पूर्वी और उत्तरी राज्यों में पुरुषों की संख्या महिलाओं से अधिक है। वहीं 100 जिले की महिलाएं निरक्षर यानी बिल्कुल भी पढ़ी लिखी नहीं हैं। महिलाओं को स्कूल इनरॉलमेंट पुरुषों की अपेक्षा 50 % तक कम है।

और पढ़ेंः बढ़ते बच्चों को दें पूरा पोषण, दलिया से बनी इन स्वादिष्ट रेसिपीज के साथ

भारत में कुपोषण की स्थिति

भारत में भूख और कुपोषण की स्थिति बेहद चिंताजनक है। खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) द्वारा इकठ्ठा किए गए आंकड़ों के अनुसार विश्व में अफ्रीका में कुपोषण की स्थिति सबसे दयनीय है। जबकि, भारत की कुल जनसंख्या का लगभग एक चौथाई हिस्सा अल्पपोषित है। साल 2015-16 के आंकड़ें बताते हैं कि मौजूदा समय में देश में 15 फीसदी से अधिक कुपोषण की स्थिति है।

कुपोषण की सबसे अधिक समस्या पांच साल तक के बच्चों में सबसे अधिक देखी जाती है। पांच साल से कम उम्र के बच्चों में कुपोषण के कारण देश में हर साल लगभग एक लाख तीस हजार से भी अधिक मौतें होती हैं। इसके अलावा, भारत की 11 फीसदी जनसंख्या अधिक वजन और मोटापे से भी जूझ रही है। जबकि, 15 साल से 19 साल तक के बच्चों में एनीमिया की भी समस्या देखी गई। जिसमें 56 प्रतिशत युवा लड़कियां और 30 प्रतिशत युवा लड़के शामिल हैं।

कुपोषण पर भारत सरकार की पहल

बता दें कि, भारत सरकार लगातार कुपोषण से लड़ने का भरपूर प्रयास कर रही है। इसी दिशा में भारत सरकार ने साल 2019 में बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ कई समझौते भी किए हैं। भारत स्वास्थ्य मंत्रालय और गेट्स बीएमजीएफ के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर भी हुआ है। अपने इस समझौते पर बिल गेट्स का कहना था कि, बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन भारत की महिलाओं, गर्भवती महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की समस्या को दूर करने में अपना पूरा सहयोग भारत को प्रदान करेगा।

कुपोषण से जुड़ी समस्याएं कैसे दूर की जा सकती हैं, इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से उचित सलाह भी ले सकते हैं। जिसके लिए आप सही डायट भी चुन सकते हैं। हालांकि, उचित पोषण सही उम्र में सही मात्रा में शरीर के लिए सबसे अहम होता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Health of the girl child. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/12158016. Accessed on 17 August, 2020.

Health of mother. http://unicef.in/Story/31/Towards-a-healthier-India-for-mothers-and-children. Accessed on 17 August, 2020.

NUTRITION. https://www.gatesfoundation.org/what-we-do/global-development/nutrition. Accessed on 17 August, 2020.

Bill Gates Makes Hopeful Predictions for Global Health. https://time.com/5694066/bill-gates-future-health/. Accessed on 17 August, 2020.

Malnutrition in India: The National Nutrition Strategy explained. https://www.prsindia.org/theprsblog/malnutrition-india-national-nutrition-strategy-explained. Accessed on 17 August, 2020.

Malnutrition in India: status and government initiatives. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30353132/. Accessed on 17 August, 2020.

Preventing hunger and malnutrition in India. https://www.orfonline.org/research/preventing-hunger-and-malnutrition-in-india/. Accessed on 17 August, 2020.

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Sunil Kumar द्वारा लिखित
अपडेटेड 09/10/2019
x