home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना के खिलाफ सख्ती पर ऑक्सफोर्ड ने जारी की रिपोर्ट, भारत ने किया टॉप

कोरोना के खिलाफ सख्ती पर ऑक्सफोर्ड ने जारी की रिपोर्ट, भारत ने किया टॉप

कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए हर देश की सरकार सख्त कदम उठा रही है। ताकि, कोरोना वायरस की महामारी (Coronavirus Pandemic) कोविड- 19 इंफेक्शन (Covid-19 Infection) से देश को आजाद किया जा सके और इसी तरह जल्द ही दुनिया भी कोरोना वायरस फ्री हो जाए। अब कोविड- 19 के खिलाफ उठाए गए कदमों के ऊपर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) ने स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स रिपोर्ट (Stringency Index Report) जारी की है। इस रिपोर्ट में भारत ने टॉप किया है और उसे पूरे नंबर मिले हैं। आइए, जानते हैं कि आखिर क्यों कोरोना वायरस के खिलाफ कदम उठाने में भारत की तारीफ हो रही है और रिपोर्ट में टॉप करने के पीछे क्या वजह है।

यह भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स- ऑक्सफोर्ड कोविड- 19 गवर्नमेंट रेस्पांस ट्रैकर (Oxford COVID-19 Government Response Tracker)

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के ब्लावतनिक स्कूल ऑफ गवर्नमेंट (Blavatnik School of Government) के शोधकर्ताओं द्वारा कोविड- 19 गवर्नमेंट रेस्पांस ट्रैकर रिपोर्ट (Oxford COVID-19 Government Response Tracker) बनाई गई है। इस रिपोर्ट में विश्व के कई देशों की सरकारों द्वारा कोरोना वायरस के खिलाफ उठाए गए कदमों को ध्यान में रखते हुए स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स दिया गया है। यह आंकड़ा कुल 73 देशों से लिया गया है, जिसमें भारत ने टॉप किया है और उसे पूरे 100 मार्क्स मिले हैं।

भारत समेत और भी देशों को 100 मार्क्स मिले हैं, जिसमें इजराइल, न्यूजीलैंड, साउथ अफ्रीका और मोरिशियस शामिल हैं। चेक रिपब्लिक, इटली, लेबनान और फ्रांस ने 90-99 के बीच स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स प्राप्त किया है। वहीं, जर्मनी को 81 अंक और यूनाइटेड किंगडम को 71.4 अंक प्राप्त हुए। वहीं, अमेरिका (America Stringency Index) इस रिपोर्ट में 66.7 स्कोर के साथ काफी नीचे है, जिसके पीछे उसका देरी से कदम उठाना हो सकता है। आपको बता दें कि इस समय दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या अमेरिका में है।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) का स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स (Stringency Index) क्या है?

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की ऑक्सफोर्ड कोविड- 19 गवर्नमेंट रेस्पांस ट्रैकर रिपोर्ट (Oxford COVID-19 Government Response Tracker) में दिया गया स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स इन देशों में कोरोना वायरस के खिलाफ उठाए गए कदमों के बारे में बताता है। 100 मार्क्स का मतलब है कि, देश ने सही समय पर कोरोना वायरस को रोकने के लिए काफी कड़े कदम उठाए। इस डाटा में स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स कई आयामों पर आंकलित किया गया है, जैसे- स्कूल और ऑफिसों को बंद करना, सार्वजनिक कार्यक्रमों को रद्द करना, सार्वजनिक परिवहन को बंद करना, सार्वजनिक सूचना मुहिम को शुरू करना, आंतरिक गतिविधियों को नियंत्रित करना, अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर नियंत्रण, फिस्कल मेजर्स, मोनेटरी मेजर्स, हेल्थ केयर में इमरजेंसी इंवेस्टमेंट, वैक्सीन में इंवेस्टमेंट, टेस्टिंग पॉलिसी और कॉन्टेक्ट ट्रैसिंग। जिस देश ने इन क्षेत्रों में जितने कड़े कदम उठाए होंगे, स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स उतना ही ज्यादा होगा।

यह भी पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

भारत के 100 स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स के पीछे का कारण

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की रिपोर्ट में भारत के 100 स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स पाकर टॉप करने के पीछे सबसे बड़ी वजह लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग है। आपको बता दें कि, भारत ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए बिना देर किए पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया था और उस समय भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या काफी कम थी। लॉकडाउन की वजह से स्कूल, ऑफिस, कॉलेज, दुकानें, सिनेमा हॉल, रेस्टॉरेंट आदि सभी सार्वजनिक जगहों को बंद कर दिया गया था और सिर्फ आवश्यक सेवाओं के जारी रहने की ही अनुमित दी गई थी। इसके बाद भारत में कोरोना वायरस पेशेंट के हॉटस्पॉट को चिन्हित करके उन्हें सील करने का भी काम किया गया। जिस वजह से इतनी आबादी वाले देश में कोरोना वायरस इंफेक्शन नियंत्रित है और भारत की पूरे विश्व में तारीफ हो रही है। इसके अलावा, भारत में हेल्थकेयर और कोरोना वायरस टेस्ट में काफी इंवेस्टमेंट किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाकर कोरोना वायरस से करनी होगी लड़ाई, लेकिन नींद का रखना होगा खास ध्यान

रिपोर्ट देने वाले शोधकर्ताओं का क्या कहना है

ऑक्सफोर्ड कोविड- 19 गवर्नमेंट रेस्पांस ट्रैकर रिपोर्ट (Oxford COVID-19 Government Response Tracker) पेश करने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि, “हमारा स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स पूरी कहानी बयान नहीं करता है, लेकिन इससे सरकारों को सही समय पर उचित निर्णय लेने की आवश्यकता और किन क्षेत्रों में कार्य करने की जरूरत है का पता चलेगा। इसके अलावा, हमारा ट्रैकर समय के साथ अपडेट होता रहेगा। वहीं, हमारा डाटा सार्वजनिक रूप से मौजूद जानकारियों और सूचनाओं के आधार पर इकट्ठा किया गया है, जिसे विश्व के हर हिस्से में मौजूद स्टूडेंट्स और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी टीम ने जुटाने में मदद की है।“ आपको बता दें कि, कोरोना वायरस के पेनडेमिक कर्व (Pandemic Curve) को काफी हद तक फ्लैट करने वाले देश जैसे चीन, साउथ कोरिया और सिंगापुर आदि को इस रिपोर्ट में पूरे स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स नहीं मिला है।

कोरोना वायरस अपडेट (latest news on corona)

वर्ल्ड ओ मीटर के मुताबिक 11 अप्रैल 2020 को दोपहर 12 बजे तक दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 17,00,007 हो गई है और इस खतरनाक बीमारी से जान गंवाने वालों की तादाद 1,02,751 हो गई है। दुनियाभर में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 3,76,529 पहुंच गई है।

यह भी पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

कोरोना वायरस के भारत में मरीज (How many cases of coronavirus in India?)

भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 11 अप्रैल 2020 को सुबह 8 बजे तक देश में 6565 कोरोना वायरस इंफेक्शन से संक्रमित मरीजों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से 642 का इलाज करने के बाद छुट्टी दे दी गई है, वहीं 239 लोगों की जान जा चुकी है। भारत के स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स के अलावा आपको बता दें कि मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक भारत में संक्रमित मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या महाराष्ट्र में हो गई है, जहां 1574 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इसके बाद तमिलनाडु 911 मामले और दिल्ली 903 केस का नंबर आता है।

स्ट्रिंजेंसी इंडेक्स : डब्ल्यूएचओ के आंकड़े

डब्ल्यूएचओ ने अपनी दैनिक सिचुएशन रिपोर्ट 81 में कोरोना वायरस से जुड़े आंकड़े पेश किए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, 10 अप्रैल 2020 को सुबह 10 बजे तक दुनियाभर में 15,21,252 संक्रमित मरीज पाए जा चुके हैं, जिसमें से 92,798 लोगों की जान जा चुकी है। कोरोना वायरस महामारी को देश से खत्म करने के लिए आपको लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही मास्क व पर्सनल हाइजीन जैसी सावधानियों का पालन करना होगा। इसके अलावा, सिर्फ सरकार या हेल्थ एक्सपर्ट द्वारा दी गई जानकारी पर ही विश्वास करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus – Accessed on 11/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html – Accessed on 11/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ – Accessed on 11/4/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 81 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200410-sitrep-81-covid-19.pdf?sfvrsn=ca96eb84_2 – Accessed on 11/4/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ – Accessed on 11/4/2020

Oxford University launches world’s first COVID-19 government response tracker – http://www.ox.ac.uk/news/2020-03-25-oxford-university-launches-world-s-first-covid-19-government-response-tracker – Accessed on 11/4/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x