home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Crohn's Disease से जूझ रहे हैं पी. चिदंबरम, जानें इस बीमारी के बारे में

Crohn's Disease से जूझ रहे हैं पी. चिदंबरम, जानें इस बीमारी के बारे में

पेट दर्द की शिकायत के चलते पूर्व गृह मंत्री और राजनेता पी. चिदंबरम(P. Chidambaram) को अस्पताल ले जाया गया। खबरों के मुताबिक, चिदंबरम कुछ समय से बीमार चल रहे हैं और कथित तौर पर क्रोहन्स डिजीज (Crohn’s Disease) से पीड़ित हैं।

डॉक्टर्स के मुताबिक, वह पिछले काफी समय से इस पुरानी बीमारी से जूझ रहे हैं और अब उन्हें तत्काल इलाज की जरूरत है। उनके खराब स्वास्थ्य के मद्देनजर, उन्हें स्पेशल ट्रीटमेंट हॉस्पिटल्स में भी भेजा गया है। उनके वकील कपिल सिब्बल ने इस मामले में कहा कि पिछले महीने में उन्होंने पांच किलो वजन कम किया और 7, 23, 25 और 28 अक्टूबर को उन्हें कई बार अस्पताल ले जाया गया था।

और पढ़ें: पेट दर्द (Stomach pain) के ये लक्षण जो सामान्य नहीं हैं

क्रोहन्स रोग (Crohn’s Disease) क्या है?

क्रोहन्स रोग एक तरह की सूजन संबंधी समस्या है, जो शरीर में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रेक्ट को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। यह बीमारी दर्दनाक, क्रोनिक और यहां तक ​​कि जानलेवा भी साबित हो सकती है। यह बीमारी डाइजेशन की समस्या और आंतों में अधिक सूजन का कारण बनती है।

हालांकि, भारत में हर साल दुनिया के अन्य देशों की तुलना में इस बीमारी के कम मामलें सामने आते हैं। यह बीमारी डाइजेशन के साथ अलग-अलग अंगों में सूजन का कारण बनती है, जिसमें पेट, गट और ट्रेक्ट लाइनिंग, कई बार मुंह से गुदा(anal) तक, जो बहुत दर्दनाक हो सकता है और डाइजेशन को प्रभावित करता है।

लक्षण

इस बीमारी के लक्षण अलग-अलग रोगियों में अलग-अलग हो सकते हैं। इसके अलावा यह लक्षण हर स्टेज में भी अलग-अलग होते हैं। समय के साथ परेशानियां बढ़ने पर यह रोग बिगड़ता जाता हैं। ज्यादातर लोगो को कोलन और छोटी आंत(Small intestine) में प्रमुख रूप से परेशानी होती है। हालांकि, बीमारी का सही कारण बता पाना थोड़ा मुश्किल है। यह परेशानी इम्यून सिस्टम में एक रिएक्शन से शुरु होती है। इस परेशानी की वजह से शरीर में अच्छे बैक्टीरिया पर हमला शुरु हो जाता है, जो सूजन को बढ़ाता है। कभी-कभी, जेनेटिक कारण और फिजियोलॉजी भी इस समस्या के विकास की संभावनाओं को प्रभावित कर सकते हैं। धूम्रपान भी एक मुख्य कारण है, जो क्रोहन्स की बीमारी से जुड़ा हुआ है।

और पढ़ें: Fissure treatment : बिना सर्जरी के फिशर ट्रीटमेंट कैसे होता है?

इस बीमारी के लक्षण आपकी स्थिति के आधार पर बदलते रहेंगे। सबसे सक्रिय कंडीशन में परेशानी के सबसे आम लक्षण हैं:

  • बुखार
  • दस्त
  • पेट में दर्द
  • भूख कम लगना
  • वजन घटना
  • पस या जोड़ों के आसपास परेशानी
  • स्टूल में खून आना
  • फिस्टुला और इंटरनल ब्लीडिंग (Fistula and internal bleeding)
  • थकान
  • मुँह के छाले
  • भोजन अवशोषण में कमी (Deficiency in food absorption)
  • आंखों, जोड़ों, लिवर और त्वचा की सूजन
  • अल्सर
  • छोटे बच्चों की ग्रोथ में देरी
  • त्वचा के चकत्ते
  • खून की कमी और एनीमिया

लोग लंबे समय तक किसी भी लक्षण को पहचाने बिना रह सकते हैं। इस चरण को रेमिशन(Remission) के रूप में जाना जाता है।
चूंकि क्रोहन्स रोग होने से भूख लगना कम हो जाता है, इसलिए रोगी भूख से भी पीड़ित हो सकते हैं और गंभीर अवस्था में, उन्हें भोजन इंट्रावेंशनली(intravenously) देना पड़ता है। ऐसे मरीजों में डायट को मॉनिटर करने की जरुरत पड़ती है। अगर पाचन संबंधी समस्याओं के अलावा इसकी परेशानियों से बचना हो, तो डेयरी, शराब, मसालेदार खाना और कुछ खाने का आइटम को बिल्कुल छोड़ दें।

और पढ़ें: जानें बवासीर से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय

इलाज

क्रोहन्स रोग अब तक कोई प्रभावी इलाज या उपाय नहीं पाया गया है। हालांकि, एक प्रभावी उपचार योजना से लक्षणों और बीमारी के ग्रेड को राहत दी जा सकती है। कुछ थेरेपी भी हैं, जो लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती हैं, शरीर में रेमिशन(Remission) को आगे बढ़ने से रोक सकती हैं और जीवन की गुणवत्ता में काफी सुधार कर सकती हैं।

अगर आपको दो दिनों से अधिक समय तक बुखार है और डायरिया की परेशानी दवाओं से नहीं ठीक होती है, तो डॉक्टर को दिखाएं।

सामान्य उपचार योजनाओं में दवाओं के साथ-साथ पोषण की खुराक और यहां तक ​​कि सूजन कम करने के लिए सर्जरी शामिल है। मरीज को एंटी-इनफेलेम्रेटी दवाएं, स्टेरॉयड, एंटीबायोटिक दवाएं और रिप्लेस्मेंट मील्स दी जाती है। रोगी के लक्षणों और दवाओं के आधार पर ट्रीटमेंट में बदलाव किया जा सकता है।

रिस्क फैक्टर

उम्रः क्रोहन बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है, लेकिन जब आप छोटे होते हैं तो आपको यह परेशानी होने की आशंका ज्यादा होती है।

फैमिली हिस्ट्रीः अगर आपका एक करीबी रिश्तेदार, जैसे कि माता-पिता, भाई-बहन या बच्चे, बीमारी से पीड़ित हैं, तो आप ज्यादा जोखिम में हैं।

धूम्रपान करनाः क्रोहन रोग के लिए धूम्रपान सबसे महत्वपूर्ण कारण है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Lucky Singh द्वारा लिखित
अपडेटेड 31/10/2019
x