home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

पीएम मोदी स्पीच : देश में अनलॉक 2.0 की हुई शुरुआत, लापरवाही पड़ सकती है भारी

पीएम मोदी स्पीच : देश में अनलॉक 2.0 की हुई शुरुआत, लापरवाही पड़ सकती है भारी

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को त्रस्त कर के रख दिया है। साल 2020 का आधा वर्ष 30 जून को खत्म होने जा रहा है। ऐसे में इस साल का शुरुआती समय ही कोरोना काल के नाम से जाना जाने लगा। उधर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पूरी दुनिया को सावधान किया है कि अभी तो ये कोरोना की शुरुआत है। लेकिन लोगों की लापरवाही दुनिया में कोरोना वेव 2 (Wave 2) की लहर ले कर आने वाला है। इसलिए अगर अभी भी नहीं सतर्क हुए तो 2020 का आधा बचा साल भी कोरोना की भेंट चढ़ जाएगा। 30 जून, 2020 को भारत में 5.67 लाख से ज्यादा मामले हैं। जिस तरह से भारत में कोरोना का ग्राफ बढ़ रहा है, इसे देखते हुए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को फिर से संबोधित करने का फैसला किया है। 30 जून, 2020 को शाम 4 बजे पीएम मोदी स्पीच दिया। जिसमें उन्होंने अनलॉक 2.0 की शुरुआत की बात कही।

और पढ़ें : गंजे पुरुषों को ज्यादा है कोरोना का खतरा, जानें क्या कहती है रिसर्च

पीएम मोदी स्पीच में अनलॉक 2.0 की शुरुआत का जिक्र

देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी स्पीच में कहें कि “कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ते हुए अब हम अनलॉक 2.0 में प्रवेश कर रहे हैं। हम उस मौसम में भी प्रवेश कर रहे हैं जहां सर्दी-जुखाम, खांसी-बुखार के मामले बढ़ जाते हैं। जब से देश में अनलॉक 1.0 हुआ है, तब से व्यक्तिगत और सामाजिक व्यवहार में लापरवाही भी बढ़ती ही चली जा रही है। पहले हम मास्क को लेकर, दो गज की दूरी को लेकर, 20 सेकेंड तक दिन में कई बार हाथ धोने को लेकर बहुत सतर्क थे। लेकिन अब लापरवाही शुरू हो गई है। कोरोना से होने वाली मृत्यु दर की बात की जाए तो दुनिया के अनेक देशों की तुलना में भारत संभली हुई स्थिति में है। समय पर किए गए लॉकडाउन और अन्य फैसलों ने भारत में लाखों लोगों का जीवन बचाया है।” पीएम मोदी स्पीच देते हुए कहें कि “मैं सभी देशवासियों से आग्रह करता हूं कि आप सभी स्वस्थ रहिए, दो गज की दूरी का पालन करते रहिए, गमछा, फेस कवर, मास्क का उपयोग कीजिये, कोई लापरवाही मत बरतिए।

पीएम मोदी स्पीच में देश के त्योहारों की बात भी किए। इसके अलावा उन्होंने देश की गरीब जनता तक राशन पहुंचाने की बात कही है, क्योंकि पीएम मोदी का मानना है कि कोरोना के बाद अर्थव्यवस्था में हुई गिरावट के कारण गरीब जनता को सही भोजन नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में उन तक राशन पहुंचाना देश की जिम्मेदारी है। इसके साथ ही पीएम मोदी ने 90 हजार करोड़ की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की शुरुआत की है। जिसके तहत नवंबर, 2020 तक सभी 80 करोड़ जरूरतमंदों को मुफ्त में अनाज मिलेगा। जिसमें हर व्यक्ति को नवंबर तक 5 किलोग्राम चावल, 5 किलोग्राम गेंहू और हर परिवार को 1 किलोग्राम चना हर महीने मिलेगा।

भारत में कब और कैसे लगे एक के बाद एक लॉकडाउन

आइए जानते हैं कि भारत में कोरोना के कारण लॉकडाउन कब और कैसे लगे :

22 मार्च, 2020 को लगा था जनता कर्फ्यू

भारत में कोरोना की दस्तक के बाद 19 मार्च 2020 को रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस महामारी से बचाव के लिए देश को संबोधित किया था। पीएम मोदी स्पीच में उन्होंने जनता से अपील की थी के 22 मार्च, 2020 को सभी देशवासियों को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू का पालन करना होगा। पीएम मोदी ने जनता कर्फ्यू को विस्तार से बताते हुए कहा था कि यह कर्फ्यू जनता के लिए, जनता के द्वारा, खुद पर लगाया गया कर्फ्यू है। इस कर्फ्यू के दौरान किसी को भी घर से बाहर बाजार, गली, मोहल्ले, सड़क कहीं पर भी नहीं निकलना था। इस दौरान लोगों से ताली और थाली बजा कर कोरोना वॉरियर्स की हौसला अफजाई करने की भी मांग की थी।

और पढ़ें : क्या कोरोना वायरस के बाद दुनिया एक और नई घातक वायरल बीमारी से लड़ने वाली है?

24 मार्च, 2020 को पीएम मोदी स्पीच के बाद लगा था पहला लॉकडाउन

lockdown in india., भारत में लॉकडॉउन

इसके बाद 23 मार्च, 2020 को रात में 8 बजे पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को फिर से संबोधित किया था। पीएम मोदी स्पीच में पूरे देश में 24 मार्च 2020 की आधी रात 12 बजे से 21 दिन तक लॉकडाउन का आदेश दे दिया था। संपूर्ण लॉकडाउन भारत, उसके नागरिकों को कोरोना से बचाने के लिए पूरी तरह से बाहर निकलने पर पाबंदी लगाई गई थी। देश के सभी गांव, कस्बे, शहर को लॉकडाउन कर दिया गया था। उस वक्त पीएम मोदी लॉकडाउन स्पीच में कहा था कि ये भी एक तरह का जनता कर्फ्यू ही है।

15 अप्रैल, 2020 के बाद शुरू हुआ था लॉकडाउन 2.0

पहला लॉकडाउन खत्म होने ही वाला था कि 14 अप्रैल की सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री मोदी ने देश को फिर से संबोधित (PM Modi addressed Nations) किया था। पीएम मोदी स्पीच में 3 मई, 2020 तक देशभर में लॉकडाउन 2.0 की घोषणा की गई थी। पीएम मोदी के अनुसार कोरोना वायरस की बीमारी कोविड- 19 के खिलाफ भारत की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए लॉकडाउन को बढ़ाया गया था। इस दौरान पीएम मोदी ने जनता से सात बातों का साथ मांगा था।

और पढ़ें : कोरोना वायरस के ट्रीटमेंट के लिए इस्तेमाल की जाएगी रेमडेसिवीर, जानें इसके बारे में

4 मई, 2020 से शुरू हुआ था लॉकडाउन 3.0

इस बार गृह मंत्रालय की तरफ से 3 मई को ट्वीट करके लॉकडाउन 3.0 की घोषणा दी गई। इस बार पीएम मोदी स्पीच के द्वारा घोषणा नहीं की गई थी। लॉकडाउन को बढ़ाते हुए 4 मई से 17 मई तक तीसरा लॉकडाउन लगा दिया गया था और साथ ही सरकार की तरफ से तीसरे लॉकडाउन के लिए गाइडलाइन भी जारी की गई थी। जिसमें कई मामलों में सरकार की तरफ से जनता को राहत मिली थी। ऑफिस और फैक्ट्रियों को गाइलाइन के साथ शुरू करने की इजाजत दी गई थी। लेकिन फिर भी कोरोना के मामलों में बिल्कुल भी कमी नहीं आई।

और पढ़ें : एक्सपर्ट ने दी कोरोनावायरस (कोविड-19) ट्रेवल एडवाइस, यात्रा में रहेंगे सेफ

पीएम मोदी ने राज्यों के साथ लॉकडाउन 4.0 की पहले ही कर ली थी तैयारी

मुंबई में लॉकडाउन 5.0

17 मई, 2020 को लॉकडाउन खत्म होता कि इस बार पीएम मोदी स्पीच देने के बजाए, राज्य सरकारों के साथ मीटिंग कर के लॉकडाउन 4.0 की घोषणा कर दिए थे। इस बार लॉकडाउन 4.0 31 मई, 2020 तक के लिए लागू कर दिया गया था। चौथा लॉकडाउन नए नियमों के साथ देशभर में लागू किया गया था। लेकिन इस बार पीएम मोदी ने राज्यों पर लॉकडाउन की जिम्मेदारी सौंप दी थी।

इस तरह से पीएम मोदी स्पीच के द्वारा भारत में चार चरणों में लॉकडाउन लगाया गया था। लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि पूरी दुनिया को अब कोरोना के साथ ही जीने की आदत डालनी होगी। इसलिए पीएम मोदी ने ‘मिशन बिगेन अगेन’ की शुरुआत की जिसके बाद कुछ राज्यों में लॉकडाउन और कुछ राज्यों में अनलॉक 1.0 की शुरुआत हो गई थी।

अब बस हमें इतना ही करना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बात को मानते हुए कोरोना में सफाई के सभी बातों का ध्यान रखें। क्योंकि कोरोना की दवा ना आने तक हमारी सतर्कता ही हमारा बचाव है। कोरोना से संबंधित अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus Accessed on 30/6/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html Accessed on 30/6/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 84 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200413-sitrep-84-covid-19.pdf?sfvrsn=44f511ab_2  Accessed on 30/6/2020

Coronavirus disease (COVID-19) advice for the public-https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019/advice-for-public Accessed on 30/6/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ Accessed on 30/6/2020

PMO twitter handle https://twitter.com/PMOIndia?ref_src=twsrc%5Egoogle%7Ctwcamp%5Eserp%7Ctwgr%5Eauthor Accessed on 30/6/2020

लेखक की तस्वीर
30/06/2020 पर Shayali Rekha के द्वारा लिखा
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
x