home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की कल रात बिगड़ी तबीयत, एम्स में भर्ती

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की कल रात बिगड़ी तबीयत, एम्स में भर्ती

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह (Former PM Dr. Manmohan Singh) को तबीयत बिगड़ जाने पर कल यानी 10 मई की रात को दिल्ली के एम्स (AIIMS, Delhi) में भर्ती करवाया गया। उनके ऑफिस की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, उन्हें सीने में दर्द और बुखार की शिकायत थी। हालांकि, पूर्व पीएम के ऑफिस के मुताबिक, ‘वह अभी डॉक्टर की निगरानी में हैं और ठीक हैं।’ आपको बता दें कि, मनमोहन सिंह की 1990 और 2009 में यानी दो बार हार्ट बायपास सर्जरी हो चुकी है।

वर्तमान में राजस्थान से राज्यसभा सांसद डॉ. मनमोहन सिंह को रविवार की रात 8.45 बजे एम्स के कार्डियो-थोरेसिक वार्ड में भर्ती करवाया गया। जहां वह डॉ. नीतीश नायक की निगरानी में हैं। 87 वर्षीय दिग्गज कांग्रेसी नेता के ऑफिस के मुताबिक, ‘वह ठीक हैं। उन्हें कल दी गई दवाई के साइड इफेक्ट की वजह से आए बुखार के कारण अस्पताल लाया गया। वह अभी डॉक्टरों की निगरानी में हैं।’

यह भी पढ़ेंः ‘मकबूल एक्टर’ इरफान खान का निधन, मुंबई में ली आखिरी सांस

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के अस्वस्थ होने पर राजनेताओं की वेल विशेज (Well Wishes)

जैसे ही, पूर्व प्रधानमंत्री के अस्वस्थ होने की जानकारी दी गई, वैसे ही तमाम राजनीति जगत के नेताओं ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया कि, “डॉ. मनमोहन सिंह जी के स्वास्थ्य के प्रति चिंतिंत हूं। आशा है कि, वह जल्द ही पूरी तरह स्वस्थ हो जाएंगे। पूरा भारत अपने पूर्व प्रधानमंत्री के लिए प्रार्थना कर रहा है।” वहीं, कांग्रेस पार्टी के ही वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने भी पूर्व प्रधानमंत्री के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हुए ट्वीट किया कि, “पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दिल्ली के एम्स में भर्ती होने की रिपोर्ट से चिंतिंत था, लेकिन यह जानकर राहत है कि वह आईसीयू में नहीं हैं और अच्छे डॉक्टर की निगरानी में हैं। उनके जल्दी पूर्ण स्वस्थ होने की कामना।” इनके अलावा, उमर अबदुल्ला, सुप्रिया सुले और आदित्य ठाकरे समेत कई नेताओं ने भी अपनी मंगलकामनाएं दीं। आपको बता दें कि, डॉ. मनमोहन सिंह देश और दुनिया के बेहतरीन अर्थशास्त्री के रूप में भी जाने जाते हैं।

यह भी पढ़ेंः कैंसर से दो साल तक लड़ने के बाद ऋषि कपूर ने दुनिया को कहा, अलविदा

कोरोना वायरस से आई आर्थिक तंगी में मार्गदर्शन कर सकते हैं डॉ. मनमोहन सिंह

90 के दशक में भारत में उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण का श्रेय भी पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को ही जाता है, जिसकी वजह से देश की अर्थव्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन देखा गया। इससे पहले भी उन्हें अर्थशास्त्र के क्षेत्र में काफी जरूरी सलाहों के लिए भी जाना जाता है। वहीं, आप सभी जानते हैं कि कोरोना वायरस की वजह से इस समय भारत और दुनिया के अन्य देश आर्थिक तंगी की वजह से जूझ रहे हैं। क्योंकि, सभी देशों में कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए काफी हद तक लॉकडाउन किया गया था और इंडस्ट्री, प्रोडक्शन, सर्विस और फाइनेंशियल सेक्टर को बंद किया गया। इस स्थिति से थोड़ा उबरने के लिए ही देश में कुछ जरूरी क्षेत्रों, फैक्ट्रियों आदि को नियमों का पालन करते हुए कार्य करने की अनुमति दी गई है। ऐसे संकट की घड़ी में डॉ. मनमोहन सिंह का मार्गदर्शन और सलाह देश के काफी काम आ सकती है।

यह भी पढ़ें: कैशलेस एयर एंबुलेंस सेवा भारत में हुई लॉन्च, कोई भी कर सकता है यूज

कोरोना वायरस की वजह से जा सकती हैं नौकरियां

कोरोना वायरस एक रेस्पिरेटरी इंफेक्शन है, जो कि संक्रमित व्यक्ति के ड्रॉप्लेट्स के द्वारा फैलता है। इसके कारण दुनिया के कई देशों ने अपने यहां मौजूद कई कंपनियों को बंद करने का आदेश दिया था, जिसमें छोटी से लेकर बड़ी सभी कंपनियां शामिल थीं। इसके साथ-साथ लोगों, वर्करों और मजदूरों को सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने कंपनियों से नौकरी ने निकालना या सैलरी में कटौती जैसे किसी भी कार्य को न करने का आग्रह भी किया था। लेकिन, इससे कंपनियों पर बोझ बढ़ रहा है। जिस वजह से हो सकता है कई कंपनियां कोरोना वायरस संकट खत्म होने के बाद अपने आर्थिक नुकसान की भरपाई के लिए मैनपावर में कमी कर सकती है।

यह भी पढ़ेंः युवराज सिंह ने कैंसर के दौरान क्या-क्या नहीं सहा, लेकिन कभी हार नहीं मानी

हार्ट बायपास सर्जरी क्या है?

डॉ. मनमोहन सिंह को 2009 में रीडू हार्ट बायपास सर्जरी (Redo Heart Bypass Surgery) से गुजरना पड़ा था। इसका मतलब है कि दोबारा से की जाने वाली हार्ट बायपास सर्जरी, जिसे कोरोनरी आर्टरी बायपास सर्जरी भी कहा जाता है। हमारे दिल तक खून पहुंचाने वाली नसों को आर्टरी कहा जाता है और जब इनमें फैट जमने से खून का बहाव बाधित होने लगता है, तो हार्ट डिजीज होने लगती है। ऐसी स्थिति में कोरोनरी बायपास सर्जरी की मदद से बाधित आर्टरी के आसपास रक्त प्रवाह के लिए नए रास्ते बनाए जाते हैं, ताकि दिल को बिना किसी बाधा के खून के जरिए मिलने वाला पोषण और ऑक्सीजन मिलता रहे

हार्ट बायपास सर्जरी से जुड़ी किन बातों को ध्यान में रखें?

हार्ट बायपास सर्जरी करवाने से पहले आपको इसकी प्लानिंग के बारे में काफी ध्यान रखना होता है। जैसे-

सबसे पहले आपको अपनी सर्जरी करवाने के लिए एक अनुभवी डॉक्टर की तलाश करनी चाहिए। क्योंकि, यह सर्जरी काफी गंभीर खतरा भी पैदा कर सकती है। इसके अलावा, आप अगर अकेले हैं, तो किसी दोस्त, रिश्तेदार आदि या फिर किसी भी घरवाले की मदद जरूर लें। आपको इन दौरान अस्पताल में कुछ दिन बिताने होंगे, इसलिए किसी परिजन की मदद लें, जो आपकी दवाओं या जरूरी सामान की उपलब्धता करवा सके। क्योंकि, सर्जरी के दौरान आपको फुल बेडरेस्ट करवाया जाता है।

यह भी पढ़ेंः बुजुर्गों को क्यों है क्रिएटिव माइंड की जरूरत? जानें रचनात्मकता को कैसे सुधारें

सर्जरी के बाद आपको किस तरह ध्यान रखना चाहिए?

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह एक बुजुर्ग व्यक्ति हैं और बुजुर्ग व्यक्तियों को सर्जरी के बाद अपनी सेहत का काफी ध्यान रखना चाहिए। अगर, किसी बुजुर्ग व्यक्ति ने हार्ट बायपास सर्जरी करवाई है, तो इन बातों का जरूर ध्यान रखें। जैसे, अगर आपको ज्यादा तेज बुखार, दिल की धड़कन बढ़ना जैसी समस्या या फिर सर्जिकल साईट से पास दर्द या ब्लीडिंग होती है, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं। यह बातें सर्जरी के साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। इसके अलावा आपको अपनी लाइफस्टाइल में डायबिटीज का ध्यान रखना चाहिए, कि यह बीमारी नियंत्रित रहे। इसके साथ ही, अपने शारीरिक वजन, ब्लड प्रेशर, एक्सरसाइज, कोलेस्ट्रॉल आदि का ध्यान रखें। सर्जरी के बाद व्यक्ति को तेज मसालेदार खाना छोड़ देना चाहिए और धूम्रपान और शराब का सेवन दोबारा ऐसी स्थिति को आमंत्रण दे सकता है। इसलिए, हार्ट बायपास सर्जरी के बाद अपनी जीवनशैली का पूरी तरह ध्यान रखना चाहिए।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ेंः

टिकटॉक पर ट्रेंड हो रहा Salt Challenge करना पड़ सकता है भारी, जा सकती है जान

मलेरिया से जुड़े मिथ पर कभी न करें विश्वास, जानें फैक्ट्स

बर्थ डे स्पेशल: सचिन तेंदुलकर की वो चोट जिसने उनके करियर पर लगाया था ब्रेक

सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन, दिल्ली के एम्स में आज सुबह ली अंतिम सांस

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus – Accessed on 11/5/2020
Heart bypass surgery – https://medlineplus.gov/ency/article/002946.htm – Accessed on 11/5/2020
Redo coronary artery bypass grafting. – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/24906816 – Accessed on 11/5/2020
How to avoid problems in redo coronary artery bypass. – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/12027122 – Accessed on 11/5/2020
Coronary bypass surgery – https://www.mayoclinic.org/tests-procedures/coronary-bypass-surgery/about/pac-20384589 – Accessed on 11/5/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/05/2020 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x