home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

नॉर्थ इंडिया में है आपका बसेरा तो जानें प्रदूषण से बचने के उपाय

नॉर्थ इंडिया में है आपका बसेरा तो जानें प्रदूषण से बचने के उपाय

दिल्ली और उसके आसपास के इलाके खासतौर पर उत्तरी भारत में सर्दी के मौसम की दस्तक के साथ प्रदूषण की समस्या भी बढ़ती जाती है। वायु प्रदूषण के मामले में देश की राजधानी दिल्ली विश्व की सबसे प्रदूषित राजधानी रिकॉर्ड की गई है। वैसे दिल्ली समेत आसपास के इलाकों में प्रदूषण से लड़ना एक बड़ी चुनौती बनती जा रही है।

इस साल भी प्रदूषण से बचने के उपाय किए गए थें, लेकिन फिर भी दिवाली के बाद दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण बढ़ गया है। पटाखों पर बैन होने के बावजूद एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (AQI) के अनुसार 306 रिकॉर्ड किया गया है। वहीं दिवाली की रात दिल्ली में प्रदूषण AQI 999 रिकॉर्ड किया गया था। प्रदूषण की वजह से कई सारी बीमारियों जैसे हार्ट अटैक, स्ट्रोक और अस्थमा का खतरा बढ़ जाता है।

और पढ़ें : अस्थमा के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं ये चीजें

प्रदूषण से बचने के उपाय क्या हैं?

प्रदूषण से बचने के उपाय निम्न हैं, जैसे-

  1. बाहर निकलने से पहले मास्क जरूर पहनें
  2. अत्यधिक भीड़-भाड़ वाली जगह पर जाने से बचें
  3. संभव हो तो पैदल (वॉक) चलें, यदि ऑफिस वॉकिंग डिस्टेंस पर है तो वाॅक कर के ही जाएं
  4. इलेक्ट्रिक गाड़ियों से यात्रा करना बेहतर होगा
  5. कूड़े को न जलाएं
  6. जरूरत न होने पर लाइट या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बंद रखें
  7. हर्बल टी जैसे तुलसी और अदरक की चाय पिएं
  8. आहार में विटामिन-सी, ओमेगा- 3 और मैग्निशियम और हल्दी का सेवन करें
  9. अपने घर में प्रदूषण कम करने वाले पौधे रखें

प्रदूषित हवा वैसे लोगों को और ज्यादा परेशानी का करण बन रही है। जिन्हें अस्थमा, फेफड़ों की समस्या, क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिसऑर्डर या फेफड़ों के कैंसर की समस्या है। यही नहीं बच्चों, बुजुर्गों और कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को ज्यादा परेशानी होती है। हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार प्रदूषण से बचने के उपाय के लिए बेहतर होगा कि अगर जरूरत न हो तो घर से बाहर न ही निकलें। अगर आप अपनी गाड़ी में ट्रेवल करते हैं, तो टायर की जांच समय-समय पर करते हैं क्योंकि इससे पेट्रोल या डीजल का खर्च बढ़ने के साथ-साथ इससे जहरीले पदार्थ भी निकलते हैं जो वातावरण को प्रदूषित करने में अहम भूमिका निभाते हैं।

और पढ़ें : बच्चों और बुजुर्गों को दिवाली पर वायु प्रदूषण से ऐसें बचाएं

हमारे स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण का प्रभाव

वायु प्रदूषण कई बीमारियों कि जड़ है। हमें प्रदूषण से बचने के उपाय को ढूंढना होगा। क्योंकि इससे दिल की बीमारी से लेकर सांस की बीमारी होती है। साथ ही दिमाग और यहां तक ​​कि प्रेग्नेंट महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए भी नुकसानदायक होता है। हवा में टॉक्सिक पदार्थों के कण पाए जाते हैं, जो कई एक्यूट और क्रॉनिक परेशानियों का कारण बनते हैं। हालांकि, हार्ट डिजीज और सांस से संबंधित बीमारियों के लक्षणों के बढ़ते रिस्क के साथ एयर पॉल्यूटेंट का यह खतरनाक कॉकटेल आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

और पढ़ें : ग्रीन क्रैकर्स से 30 फिसदी तक कम होगा प्रदूषण, मार्केट में हैं उपलब्ध

वायु प्रदूषण का मनोवैज्ञानिक प्रभाव

वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से बच्चों का मानसिक विकास प्रभावित होता है। खतरनाक वायु प्रदूषण शारीरिक विकास पर जितना प्रभाव डालता है, उससे कहीं ज्यादा नुकसान दिमाग को पहुंचाता है। वॉल्टर्स क्लूवर द्वारा लिपिपकॉट पोर्टफोलियो में प्रकाशित एक मैग्जीन के अनुसार, किशोरों के मेंटल हेल्थ पर हवा के कणों से होने वाले नुकसान की अधिक संभावना होती है। इसलिए प्रदूषण से बचने के उपाय को अपनना बहुत जरूरी हो जाता है।

अदरक, दालचीनी और अन्य हर्बल मसालों के साथ बनने वाली, यह हर्बल चाय खांसी, सर्दी, छींक और गले में जलन को कम कर सकती है। आप इसे सुबह जल्दी, दोपहर के खाने के साथ या शाम को ले सकते हैं।

और पढ़ें : प्रदूषण से भारतीयों की जिंदगी के कम हो रहे सात साल, शिशुओं को भी खतरा

प्रदूषण से बचने के उपाय के लिए पिएं हर्बल टी

प्रदूषण से बचने के उपाय में ज्यादातर लोग हर्बल टी को अपनाते हैं। आइए जानते हैं कि आप हर्बल टी कैसे बना सकते हैं :

सामाग्री

और पढ़ें : यूज्ड ग्रीन टी बैग से मिल सकते हैं ये 5 फायदे

हर्बल टी बनाने की विधि

हर्बल टी को बनाने के लिए अदरक लें। फिर दालचीनी पाउडर (1/4 चम्मच) लें, तुलसी के पत्ते (1/2 चम्मच), ताजा ऑरगेनो(1 चम्मच), तीन काली मिर्च के दाने (pepper corns), दो इलायची, सौंफ (1/4 चम्मच), एक छोटी चुटकी अजवायन, जीरा (1/4 चम्मच), लहसुन की 1-2 फली लें। सभी सामग्री को 2 कप पानी में डाल लें और आधा होने तक उबालें। अब आपकी हर्बल टी तैयार है। इसे छाने लें और टी को हल्का ठंडा करके घूंट-घूंट कर पिएं। अपनी हर्बल चाय को मीठा करने के लिए इसमें गुड़ या शहद भी डाल सकते हैं। प्रदूषण से बचने के उपाय के लिए हर्बल टी सबसे बेस्ट मानी जाती है।

और पढ़ें : प्रदूषण से भारतीयों की जिंदगी के कम हो रहे सात साल, शिशुओं को भी खतरा

वायु प्रदूषण से बचने के उपाय

सभी प्रदूषण में सबसे ज्यादा परेशान वायु प्रदूषण करता है। इसके लिए आपको वायु प्रदूषण से बचने के उपाय के बारे में जरूर जानना चाहिए।

  • वायु प्रदूषण के कारण खांसी को कंट्रोल करने के लिए घरेलू उपाय गुड़ है। गुड़ खाने से बहुत सी परेशानियां कम हो सकती हैं। यह न केवल खांसी को कंट्रोल करने में मदद करता है, बल्कि आपके फेफड़ों (Lungs) और रेस्पिरेट्री ट्रेक्ट (Respiratory Tract) से हानिकारक टॉक्सिन को निकालने में भी मदद कर सकता है।
  • प्रदूषण से बचने के उपाय में सबसे कारगर अदरक है। हर्बल चाय के अलावा आप अदरक, शहद और नींबू की चाय भी ट्राई कर सकते हैं। आप कद्दूकस किया हुआ अदरक, नींबू का रस और शहद ले सकते हैं। इन सभी को उबलते हुए पानी में मिला सकते हैं। पानी उबालने के बाद इसको छान लें और गर्म-गर्म पीएं। यह आपको खांसी, सर्दी से बचाने में मदद करेगा। अदरक में जिंजरॉल तत्व और दूसरे गुण होते हैं, जो श्वास नलिका में सूजन को कम करता है और सांस लेने में होने वाली परेशानी को खत्म करता है।
  • प्रदूषण से बचने के उपाय में आप लहसुन को भी शामिल कर सकते हैं। क्योंकि, यह आपकी इंम्यूनिटी को बढ़ाता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। लहसुन में एंटी इन्फेलेमेटरी गुण होते हैं। जो अस्थमा के लक्षणों को कम कर सकता हैं।
  • संतरा, नींबू, आंवला जैसे खट्टे फल आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। साथ ही वायु प्रदूषण के कारण होने वाली सांस संबंधी परेशानियों को कम कर सकते हैं। इसमें विटामिन सी शरीर के इम्यून सिस्टम के लिए लाभकारी होता है।
  • तुलसी (basil) का रस या तुलसी की चाय जो आप प्रदूषण से बचने के उपाय के रूप में सकते हैं। यह आपको वायु प्रदूषण के दुष्प्रभाव को कम कर सकता है।

अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

नए संशोधन की डॉ. शरयु माकणीकर द्वारा समीक्षा

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Delhi Pollution Control Committee. https://www.dpcc.delhigovt.nic.in/#gsc.tab=0. Accessed on 06 November, 2020.

Air Pollution: Current and Future Challenges. https://www.epa.gov/clean-air-act-overview/air-pollution-current-and-future-challenges. Accessed on 06 November, 2020.

Pollution Prevention Law and Policies. https://www.epa.gov/p2/pollution-prevention-law-and-policies. Accessed on 06 November, 2020.

Website of Central Pollution Control Board. https://www.india.gov.in/official-website-central-pollution-control-board. Accessed on 06 November, 2020.

Air Pollution. https://medlineplus.gov/airpollution.html. Accessed on 06 November, 2020.

लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/11/2020 को
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x