home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

स्मोकिंग छोड़ने के लिए वेपिंग का सहारा लेने वाले हो जाएं सावधान!

स्मोकिंग छोड़ने के लिए वेपिंग का सहारा लेने वाले हो जाएं सावधान!

अक्सर धूम्रपान छोड़ने की कोशिश करने वाले लोग वेपिंग को एक अच्छा विकल्प मान लेते हैं। लेकिन हाल ही में आई नेशनल सेंटर फॉर हेल्थ रिसर्च की यह रिपोर्ट आपको चौंका देगी। इस रिपोर्ट के मुताबिक वेपिंग की वजह से अबतक 450 से ज्यादा लोग गंभीर फेफड़ों की बीमारी के शिकार हो चुके हैं। इससे ये साफ है कि वेपिंग को पूरी तरह सुरक्षित कहना महज एक मिथक है। स्मोकिंग की तुलना में वेपिंग के कई प्रकार हो सकते हैं। ई-सिगरेट के प्रचलन के चलते कई बड़े ब्रांड्स ने इसके अलग-अलग प्रारूप बाजार में उतारे हैं। वेपिंग इसी का एक प्रकार है।

और पढ़ें: धूम्रपान से दांतों को नुकसान: स्मोकिंग की लत दांतों को कर सकती है धुआं-धुआं

वेप मॉड(Vape Mods), जूल्स(Juuls) और वेप पेन(Vape Pen) कुछ आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले ई-सिगरेट के प्रारूप हैं। इनमें से कुछ में निकोटिन, या फिर फ्लेवरिंग का इस्तमाल भी होता है।

डॉक्टर्स कहते हैं कि कैंसर या फिर किसी भी बड़ी बीमारी के होने में लगभग 20 वर्ष का समय लगता है। स्मोकिंग की वजह से कैंसर होता है ये हम लंबे समय से देखते और सुनते आ रहें हैं। लेकिन ई-सिगरेट को समय से पहले ही कैंसर सुरक्षित घोषित कर दिया गया है।

आइए जानते हैं वेपिंग और ई-सिगरेट से जुड़े रोचक और चकित कर देने वाले कुछ सच।

और पढ़ें: डायबिटीज और स्मोकिंग: जानें धूम्रपान छोड़ने के टिप्स

क्या है वेपिंग (Vaping) और कैसे है ये परंपरागत सिगरेट से अलग?

आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली सिगरेट में निकोटीन (तम्बाकू) का उपयोग होता है। इसका धुंआ नशीला होता है जिसकी वजह से इसकी लत लगना स्वाभाविक है। नए जमाने में इस सिगरेट की जगह ई-सिगरेट का उपयोग प्रचलन में है और यह आम धारणा है कि ई-सिगरेट के हानिकारक प्रभाव आम सिगरेट की तुलना में कम होते हैं।

परंपरागत रूप से उपयोग की जाने वाली सिगरेट में लगभग 7000 केमिकल्स होते हैं। ई-सिगरेट में कितने केमिकल्स होते हैं ये साफ तौर पर कहा नहीं जा सकता लेकिन, अनुमान लगाया जाता है कि परंपरागत सिगरेट की तुलना में केमिकल्स की मात्रा कम हो सकती है।

हैलो स्वास्थ्य से बातचीत के दौरान ई-सिगरेट को इस्तेमाल करने वाले ज्यादातर लोगों ने बताया कि ई-सिगरेट में पानी में घुले हुए निकोटीन की भाप को लिया जाता है जिसकी वजह से हानिकारक प्रभाव कम हो जाता है।

और पढ़ें: निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरिपी (NRT) की मदद से धूम्रपान छोड़ना होगा आसान, जानें इसके बारे में

क्या सिगरेट छोड़ने का पहला स्टेप है वेपिंग?

कई लोगों में ऐसी धारणा है कि अगर वे रेगुलर स्मोकिंग की जगह ई-सिगरेट का इस्तेमाल करते हैं तो वे इस लत को छोड़ पाएंगें। लेकिन डॉक्टर्स की मानें तो ये केवल एक मिथक है। अगर आप ई-सिगरेट का इस्तेमाल ठीक उसी तरीके और गति से कर रहे हैं जैसे कि आप रेगुलर सिगरेट का उपयोग करते हैं तो आपकी हालत में सुधार हो पाएगी इसकी पुष्टि कर पाना मुश्किल है। कई बार ऐसे मामले भी सामने आए हैं जहां केवल इस मिथक की वजह से लोगों ने ई-सिगरेट का अधिक इस्तमाल किया और उनकी समस्याएं और अधिक बढ़ गईं।

ये बात पूरी तरह से सच है कि वेपिंग में आपके शरीर कम केमिकल्स जाएंगें लेकिन इससे आपकी स्मोकिंग की आदत छूटेगी या नहीं ये आपके इस्तमाल करने के तरीके पर निर्भर करता है।

आयुर्वेद और प्रकृति दोष को समझने के लिए वीडियो देख लें एक्सपर्ट की राय

ई-सिगरेट (वेपिंग) बन सकता है कैंसर का कारण !

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) द्वारा जारी हुई एक रिपोर्ट में सामने आया है कि ई-सिगरेट में पाए जाने वाले कई पदार्थ कैंसर का कारण बन सकते हैं। पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस जर्नल (Public Library of Science Journal) की रिपोर्ट के अनुसार ई-सिगरेट में कार्ट्रिज का उपयोग किया जाता है। इस कार्ट्रिज में उपयोग होने वाला फोर्मलडीहाइड (Formaldehyde) और बेंजीन (Benzene) कैंसर का महत्वपूर्ण कारण है।

साथ ही लंबे समय तक स्मोकिंग की वजह से आपको हृदय रोग (Heart Disease), ब्रॉन्काइटिस (Bronchitis), एम्फायसिमा (Emphysema) की शिकायत हो सकती है। ई-सिगरेट में परंपरागत सिगरेट जैसे ही पदार्थों का इस्तमाल किया जाता है इसलिए पूरी तरह से इसे सुरक्षित कहना गलत होगा।

ई-सिगरेट बन सकता है डीएनए (DNA) का दुश्मन!

2018 में हुए अमेरिकन केमिकल सोसाइटी (American Chemical Society) के एक शोध में पाया गया है कि ई-सिगरेट के उपयोग से डीएनए भी नष्ट हो सकता है। डीएनए मानव शरीर में एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जानकारी पहुंचाने का काम करता है। वेपिंग के दौरान बनने वाला एक्रोलिन (Acrolein Chemical) DNA में म्यूटेशन यानी हानिकारक बदलाव पैदा करता है जिसकी वजह से शरीर की कार्यप्रणाली पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है। अब आप ही सोचिए जिस चीज को उपयोग करने से डीएनए पर प्रभाव पड़े उसे सुरक्षित कैसे कहा जा सकता है।

ई-सिगरेट से नहीं होता है पर्यावरण पर प्रभाव: ये भी है महज एक जुमला!

इस सिगरेट को स्मोकलेस और पर्यावरण फ्रेंडली मानने वाले भी गलतफहमी के शिकार हैं। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ हाइजीन एंड एन्वायरमेंटल हेल्थ (International Journal of Environmental Health) की रिपोर्ट में बताया गया है कि ई-सिगरेट से निकलने वाले वोलेटाइल आर्गेनिक कंपाउंड (VOC) और छोटे पार्टिकल्स पर्यावरण पर हानिकारक प्रभाव डाल सकते हैं। ई-सिगरेट से होने वाला धुआं भले ही दिखाई न दे लेकिन इससे निकलने वाली वेपर आपको हानि पहुंचाने के लिए काफी है।

क्या आप जानते हैं वेप पेन से आप जल भी सकते हैं?

2015 से 2017 के बीच कई मामले ऐसे भी सामने आए जिसमें ई-सिगरेट के मुंह में एक्सप्लोड होने के भी कई मामले सामने आए। ई-सिगरेट की वजह से आग लगने और एक्सप्लोड होने की भी खबरे सामने आई है। ई-सिगरेट में लिथियम आयन बैटरी का इस्तमाल किया जाता है जो कि बहुत अधिक गरम होने पर इस बैटरी में आग लग सकती है।

इन खतरों के कारण वेपिंग या ई-सिगरेट परंपरागत स्मोकिंग से ज्यादा घातक हो सकती है।

वेपिंग से जुड़े 5 फैक्ट्स क्या हैं?

इससे जुड़े 5 फैक्ट्स निम्नलिखित हैं। जैसे-

  1. वेपिंग स्मोकिंग से कम हानिकारक है लेकिन, फिर भी स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसे सेहत के लिए सुरक्षित नहीं मानते हैं।
  2. रिसर्च के अनुसार वेपिंग हार्ट और लंग्स को बीमार बना सकता है।
  3. वेपिंग या ई-सिगरेट सामान्य सिगरेट की ही तरह है और इसकी भी लत लग सकती है।
  4. एल्क्ट्रॉनिक सिगरेट का प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  5. युवा पीढ़ी वेपिंग या ई-सिगरेट की शिकार ज्यादा हो रही है।

जानें आप क्या-क्या कर सकते हैं

आप ने इस आर्टिकल में वेपिंग से जुड़े रिस्क को जान लिया है, तो उसको ध्यान रखकर आप अपने स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं। यदि आपको धूम्रपान छोड़ने में समस्या हो रही है, तो ऐसे में आपको हेल्थ केयर प्रोवाइडर से सलाह लेनी चाहिए। ताकि आप ई सिगरेट का सेवन छोड़ सके। यदि आप इसे नहीं छोड़ते हैं, तो लंग्स डैमेज की समस्या हो सकती है। कई मामलों में मरीज की मौत तक हो सकती है। डॉक्टरी सलाह लेना जरूरी हो जाता है, जब आपको ऐसे लक्षण महसूस हों-

  • कफिंग, सांस लेने में तकलीफ, छाती में दर्द
  • जी मिचलाना, उल्टी और डायरिया
  • थकान, बुखार और वजन में कमी

तो आपको जल्द से जल्द एक्सपर्ट की सलाह लेकर समस्याओं से निजात पाना चाहिए।

अगर आप वेपिंग या स्मोकिंग से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

5 Vaping Facts You Need to Know/https://www.hopkinsmedicine.org/health/wellness-and-prevention/5-truths-you-need-to-know-about-vaping/Accessed on 08/01/2020

A systematic review of health effects of electronic cigarettes/https://www.who.int/Accessed on 08/01/2020

The Impact of E-Cigarettes on the Lung/https://www.lung.org/Accessed on 08/01/2020

Vaping: What You Need to Know/https://kidshealth.org/en/teens/e-cigarettes.html /Accessed on 14 sep 2020

लेखक की तस्वीर
Suniti Tripathy द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/05/2021 को
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x