home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना वायरस लॉकडाउन को लेकर WHO ने दी चेतावनी, इतनी भी जल्दबाजी न करें

कोरोना वायरस लॉकडाउन को लेकर WHO ने दी चेतावनी, इतनी भी जल्दबाजी न करें

कोविड- 19 (Covid- 19) को नियंत्रित करने व इसकी रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन हटाने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है। डब्ल्यूएचओ (WHO) ने कहा कि, कोरोना वायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) हटाने में जल्दबाजी करना काफी खतरनाक हो सकता है। यह चेतावनी उस समय आई है, जब विश्व के कई देश SARS-CoV-2 के मामले कम होने पर लॉकडाउन में राहत देने की बात कर रहे हैं। आपको बता दें कि, भारत में भी कुछ क्षेत्रों में 20 अप्रैल के बाद राहत दी गई है और यह आर्थिक दृष्टि व लोगों को हो रही परेशानी को ध्यान में रखते हुए किया गया है। अभी तक विश्वभर में कोरोना वायरस की चपेट में 25 लाख से ज्यादा लोग आ चुके हैं और करीब पौने दो लाख लोगों की इस महामारी के कारण जान चली गई है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से मौत की तादाद सरकारी आंकड़ों से हो सकती है बहुत ज्यादा

कोरोना वायरस लॉकडाउन को लेकर WHO ने क्या दी चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए पश्चिमी प्रशांत के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. ताकेशी कासेई (Takeshi Kasai) ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों और नियमों में राहत देने की जल्दबाजी करना काफी हानिकारक साबित हो सकता है और इससे इस खतरनाक महामारी के दोबारा बड़े स्तर पर फैलने का खतरा हो सकता है। उन्होंने कहा कि, ‘यह समय ढिलाई बरतने का नहीं है, बल्कि हम सभी को निकट भविष्य के लिए जीवन जीने के नए तरीके को लेकर स्वयं को तैयार रखने की आवश्यकता है।’

यह भी पढ़ें: कोविड-19: दिन रात इलाज में लगे एक तिहाई मेडिकल स्टाफ को हुई इंसोम्निया की बीमारी

जागरुकता और संतुलन की जरूरत

विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉ. ताकेशी ने आगे कहा कि, ‘अभी भी सभी देशों की सरकार को इस खतरनाक वायरस को रोकने और कोरोना वायरस से बचाव के लिए जागरुक व सतर्क रहने की जरूरत है। इसके अलावा कोरोना वायरस लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के लिए अपनाए गए अन्य तरीकों को हटाने में जल्दबाजी करने की बजाय धीरे-धीरे हटाना चाहिए और लोगों को स्वस्थ रखने व अर्थव्यवस्था को जारी रखने में थोड़ा संतुलन बनाए रखने की जरूरत है।’ आपको बता दें कि, अमेरिका में बोइंग और एक अन्य हैवी-इक्विपमेंट मैन्यूफैक्चर कंपनियों ने अपना उत्पादन फिर से शुरू करने का प्लान बना लिया है। वहीं, यूके में भी लॉकडाउन में राहत देने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अलावा, ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि, वह अपने अस्पतालों में अगले हफ्ते से गैर-जरूरी सर्जरी को शुरू कर सकते हैं, क्योंकि स्वास्थ्य अधिकारियों का मानना है कि अब अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों की भरमार नहीं होगी।

यह भी पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

भारत में भी कोरोना लॉकडाउन से थोड़ी राहत

14 अप्रैल को भारत में लॉकडाउन 2.0 के बारे में जानकारी देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि, कुछ क्षेत्रों में आंकलन के बाद 20 अप्रैल से लॉकडाउन में छूट दी जा सकती है। इसी आदेश के मद्देनजर भारत के ग्रीन जोन एरिया में फाइनेंशियल सेक्टर, सभी हेल्थ सर्विस, सोशल सेक्टर, पब्लिक यूटिलिटी, सामान व कार्गो की लोडिंग व अनलोडिंग, फिशिंग, एग्रीकल्चर व होर्टिकल्चर, चाय, कॉफी, रबर की खेती, एनिमल हस्बैंडरी, एसेंशियल गुड्स की सप्लाई, कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी, केंद्र व राज्य नियंत्रित सरकारी ऑफिस आदि की सेवाएं शुरू कर दी गई है। हालांकि, सरकार ने पहले ऑनलाइन डिलीवरी को चालू रखने की बात भी कही थी, लेकिन बाद में इसे सिर्फ एसेंशियल गुड्स की डिलीवरी तक ही सीमित कर दिया गया। भारत में लॉकडाउन फिलहाल चल रहा है और आगे कब तक राहत मिलेगी, इसके बारे में जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

भारत में गोवा व मणिपुर में हटा कोरोना वायरस लॉकडाउन

कोविड- 19 के संकट से जूझ रहे भारतवासियों के लिए यह एक अच्छी खबर हो सकती है कि, देश के दो राज्य गोवा और मणिपुर कोरोना वायरस फ्री हो चुके हैं। गोवा में 3 अप्रैल से कोई भी कोविड-19 का संक्रमित मरीज नहीं पाया गया है, जिसके बाद 19 अप्रैल को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन में ढील देने संबंधित अधिसूचना सोमवार से लागू कर दी है। इसके एक दिन बाद ही मणिपुर के मुख्यमंत्री ने भी राज्य में सभी कोरोना संक्रमित मरीजों के ठीक होने का ऐलान कर दिया था। भारत के इन दोनों ही राज्यों के कोरोना फ्री हो जाने पर लॉकडाउन में राहत देकर जनजीवन को फिर से आसान बनाने की कोशिश की गई है।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

कोरोना वायरस के आंकड़े (latest news on corona)

वर्ल्ड ओ मीटर के मुताबिक 22 अप्रैल 2020 को सुबह 9 बजे तक दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 25,57,181 हो गई है और इस खतरनाक बीमारी से जान गंवाने वालों की तादाद 1 लाख 77 हजार से ज्यादा हो गई है। दुनियाभर में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 6.9 लाख पहुंच गई है। भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 22 अप्रैल 2020 को सुबह 8 बजे तक देश में 15474 कोरोना वायरस इंफेक्शन से संक्रमित मरीजों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से 3869 काे इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है, वहीं 640 लोगों की जान जा चुकी है। मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक भारत में संक्रमित मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या महाराष्ट्र में हो गई है, जहां 5218 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इसके बाद गुजरात 2178 मामले और दिल्ली 2156 केस का नंबर आता है।

यह भी पढ़ें: UV LED लाइट सतहों को कर सकती है साफ, कोरोना हो सकता है खत्म

कोरोना वायरस से सावधानी

कोरोना वायरस इंफेक्शन से बचने के लिए भारत सरकार ने लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।अगर आपको बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। रोजाना हाथों को 20 सेकेंड तक साफ करें। मास्क और ग्लव्स का यूज बाहर जाते समय जरूर करें। अगर आपको कोरोना वायरस के लक्षण के बारे में जानकारी नहीं है तो हेल्थ केयर प्रोवाइडर से भी इसकी जानकारी ली जा सकती है। मास्क का यूज कर रहे हैं तो सफाई का पूर ध्यान रखें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus – Accessed on 22/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html – Accessed on 22/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ – Accessed on 22/4/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 92 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200421-sitrep-92-covid-19.pdf?sfvrsn=38e6b06d_4 – Accessed on 22/4/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ – Accessed on 22/4/2020

WHO warns lifting of coronavirus lockdowns must be gradual – https://economictimes.indiatimes.com/news/international/business/who-warns-lifting-of-coronavirus-lockdowns-must-be-gradual/articleshow/75265201.cms – Accessed on 22/4/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x