home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

VLDL cholesterol test: वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट क्यों किया जाता है?

VLDL cholesterol test: वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट क्यों किया जाता है?

कोलेस्ट्रॉल कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से प्रत्येक लिपोप्रोटीन और फैट से मिलकर बना होता है। प्रत्येक प्रकार के लिपोप्रोटीन में कोलेस्ट्रॉल, प्रोटीन और ट्राइग्लिसराइड्स मिक्स होते हैं, लेकिन इनकी मात्रा में अंतर हो सकता है। वीएलडीएल (VLDL ) का कुछ हिस्सा ट्राइग्लिसराइड्स से बना होता है। बहुत कम डेंसिटी वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल का निर्माण लिवर द्वारा होता है और फिर से ब्लडस्ट्रीम के माध्यम से शरीर के विभिन्न ऊतकों में ट्रायग्लिसराइड (Triglycerides) के रूप में भेजा जाता है। कार्डियोवस्कुल डिजीज होने पर वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) की जरूरत पड़ती है। आइए इस आर्टिकल के माध्यम से जाने कि आखिर वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) कैसे किया जाता है और क्या सावधानियां रखी जाती हैं।

बता दें कोलेस्ट्रोल वैक्सी फैट होता है, जो ब्लड के माध्यम से पूरे शरीर में घूमता है। लिपिड ऐसे पदार्थ हैं, जो पानी में नहीं घुलते हैं, इसलिए वे ब्लड में अलग नहीं होते हैं। बॉडी कोलेस्ट्रोल खुद बनाती है लेकिन कुछ कोलेस्ट्रॉल शरीर से भी प्राप्त होता है। कोलेस्ट्रॉल एनिमल्स फूड्स से भी प्राप्त हो सकता है। कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर के लिए जरूरी होता है, लेकिन इसकी सीमित मात्रा ही शरीर के लिए बेहतर होती है। अगर शरीर में कोलेस्ट्रॉल अधिक मात्रा में पाया जाए तो यह हार्ट संबंधी समस्याओं को बढ़ाने का काम करता है।

और पढ़ें: मिक्सड हायपरलिपिडिमिया : कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने वाला जेनेटिक डिसऑर्डर

वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test)

वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट

वीएलडीएल (VLDL) से मतलब वेरी लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन से है। लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल, ट्रायग्लीसिराइड और प्रोटीन से मिलकर बनती है। वीएलडीएल (VLDL) तीन लिपोप्रोटीन में मुख्य एक होता है। वीएलडीएल में अधिक मात्रा में ट्रायग्लीसिराइड (Triglycerides) होता है। वीएलडीएल (VLDL) को बैड कोलेस्ट्रॉल के नाम से भी जानते हैं। ये कोलेस्ट्रॉल आर्टरीज में वॉल में रुकावट पैदा करने का काम करता है।

वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) के माध्यम से ब्लड में वीएलडीएल की मात्रा के बारे में जानकारी ली जाती है। इसे वैरी लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन टेस्ट के नाम से भी जानते हैं। वैरी लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (Very low density lipoprotein), जिसे VLDL कोलेस्ट्रॉल (VLDL cholesterol) भी कहा जाता है। जानिए कैसे किया जाता है ये टेस्ट?

और पढ़ें: पोटैटो और कोलेस्ट्रॉल: क्या सही है हाय कोलेस्ट्रॉल की स्थिति में आलू का सेवन करना?

कैसे किया जाता है वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test)?

वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) के लिए सिंपल ब्लड टेस्ट (Simple blood test) किया जाता है। इस टेस्ट के दौरान वेन से ब्लड निकाला जाता है। डॉक्टर हाथ से कुछ मात्रा में ब्लड सैंपल लेते हैं। टेस्ट के दौरान किसी प्रकार की कमजोरी नहीं होती है। जब हाथ से ब्लड निकाला जाता है, तो हल्का दर्द होता है। इस टेस्ट के माध्यम से हार्ट डिजीज के रिस्क के बारे में जानकारी मिल जाती है। जब आप टेस्ट कराने जाए, तो डॉक्टर से जानकारी लें कि आपको कितने घंटे पहले फास्ट रखना है। अक्सर फास्ट जब 9 से 12 घंटे का होता है, तो डॉक्टर सुबह खाली पेट आने की सलाह भी दे सकते हैं। आप चाहे तो पानी पी सकते हैं।

अगर आप पहले से किन्हीं मेडिसिंस का सेवन कर रहे हैं, तो इस बारे में डॉक्टर या लैबोरेट्री प्रोफेशन को जानकारी जरूर दें। बाकी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप जरूर जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें: हाय कोलेस्ट्रॉल और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन : एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं ये दोनों समस्याएं!

वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) कौन करा सकता है?

वीएलडीएल कोलस्ट्रोल ब्लड में प्रेजेंट होता है, तो ब्लड टेस्ट के माध्यम से इसके बारे में जानकारी मिल जाती है। वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल की ब्लड में मौजूद हार्ट डिजीज (Heart disease) के खतरे को बढ़ाने का काम करती है। यह टेस्ट उन लोगों को कराने की सलाह दी जाती है, जिनकी उम्र अधिक हो चुकी है या जिनकी फैमिली हिस्ट्री में हार्ट पेशेंट या हार्ट संबंधी समस्याओं के पेशेंट रह चुके हैं। जो व्यक्ति अधिक स्मोकिंग करता है या फिर जो व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित है, उसे भी वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) करवाया जा सकता है।

वही मोटापे और खराब लाइफस्टाइल (Lifestyle) जीने वाले लोगों को भी यह टेस्ट कराने की सलाह दी जा सकती है। वीएलडीएल का कम लेवल परेशानी की बात नहीं होता है लेकिन अधिक मात्रा में अगर ये लेवल पाया जाता है, तो हार्ट के साथ ही स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है। डॉक्टर आपको इस बारे में जानकारी देंगे और उसके बाद क्या ट्रीटमेंट लेना है, इस बारे में भी बताएंगे।

और पढ़ें: मक्खन और कोलेस्ट्रॉल के बीच तालमेल बिठाना हैं, तो पढ़ें ये लेख!

वीएलडीएल (VLDL) की सामान्य वैल्यू क्या है?

सामान्य वीएलडीएल स्तर 2 से 30 मिलीग्राम/डीएल (0.1 से 1.7 एममोल/लीटर) तक होता है। वीएलडीएल (VLDL) कोलेस्ट्रॉल के टेस्ट के लिए आपको डॉक्टर सलाह देते हैं। अगर डॉक्टर को बच्चे में किसी बीमारी की शंका दिखती है, तो बच्चों के लिए भी ये टेस्ट किया जा सकता है। 65 उम्र से अधिक के व्यक्ति को हर साल इस टेस्ट को कराने की सलाह दी जाती है। वहीं 55 से 65 की उम्र की महिलाओं को प्रत्येक एक से दो साल के लिए ये टेस्ट कराने की सलाह दी जाती है। 30 मिलीग्राम/डीएल से अधिक वीएलडीएल होने पर आपको हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है।

और पढ़ें: कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अपना सकते हैं ये डायट चार्ट!

डॉक्टर व्यक्ति की बीमारी के अनुसार टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। अगर व्यक्ति में किसी बीमारी के लक्षण दिख रहे हैं, तो डॉक्टर आपको टेस्ट कराने के लिए कहेंगे। टेस्ट कराने के पहले क्या सावधानी रखनी है और क्या बाद में ध्यान देना है, इस बारे में डॉक्टर से जरूर पूछें। अगर टेस्ट कराने के बाद आपको हाथ में किसी प्रकार की समस्या लग रही है, तो भी इस बारे में डॉक्टर से पूछें। टेस्ट का रिजल्ट आने के बाद आप डॉक्टर से उसके ट्रीटमेंट के बारे में पूछ सकते हैं। डॉक्टर हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाने की सलाह देने के साथ ही खानपान में सुधार की सलाह भी दे सकते हैं। आपरको अगर अपने हार्ट को हेल्दी रखना है, तो शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल में रखना बहुत जरूरी है।

हेल्दी डायट और एक्सरसाइज करती है बैड कोलेस्ट्रॉल को कम (Healthy diet and exercise reduce bad cholesterol)

अगर आप चाहते हैं कि आपके रक्त में बैड कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम रहे, तो इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। आप खाने में प्रोसैस्ड फूड्स या मीट, रेड मीट, ऑइली फूड, फुल फैट प्रोडक्ट आदि को दूर करें। खाने में हरी सब्जियां और वेजिटेबल्स को जरूर शामिल करें। आप लो फैट डेयरी प्रोडक्ट (Low fat dairy products) को भी शामिल कर सकते हैं। हेल्दी फूड्स खाने से आपका मोटापा नहीं बढ़ेगा और साथ ही ब्लड में बैड कोलेस्ट्रोल का लेवल भी नहीं बढ़ेगा। अगर फिर भी आपको अपनी डाइट प्लान को लेकर कोई समस्या हो रही हो, तो आप डॉक्टर से जरूर जानकारी लें। रोजाना अच्छी मात्रा में डाइट और एक्सरसाइज बैड कोलेस्ट्रॉल (Bad cholesterol) लेवल को कम करने का काम करती है

इस आर्टिकल में हमने आपको वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (VLDL cholesterol test) के बारे में बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल टेस्ट के बारे अधिक जानकारी चाहिए, तो हमारे फेसबुक पेज पर जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/10/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड