backup og meta

कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म : दिल से जुड़ी इस कंडिशन के बारे में जानते हैं आप?

और द्वारा फैक्ट चेक्ड Nikhil deore


Manjari Khare द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/02/2022

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म : दिल से जुड़ी इस कंडिशन के बारे में जानते हैं आप?

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) आर्टरीज वॉल्स (Arteries wall) की किसी एक मसल्स (जो हार्ट को ब्लड भेजती है) में होने वाली अस्थाई ऐंठन (Spasm) है। स्पाज्म की वजह से हार्ट के किसी हिस्से में ब्लड फ्लो कम हो सकता है या पूरी तरह से ब्लॉक हो सकता है। अगर कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) लंबे समय तक रहता है तो यह चेस्ट पेन (Chest pain) यानी एंजिना (Angina) और यहां तक कि हार्ट अटैक (Heart attack) का कारण बन सकता है। कोरोनरी आर्टरीज स्पाज्म मिडनाइट या अर्ली मॉर्निंग होने की संभावना होती है।

    कई लोग जो कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) से पीड़ित होते हैं उनमें हार्ट डिजीज (Heart disease) का कारण बनने वाले कॉमन रिस्क फैक्टर्स जैसे कि हाय कोलेस्ट्रॉल (High cholesterol) और हाय ब्लड प्रेशर (High blood Pressure) नहीं होते हैं, लेकिन ऐसे लोग अक्सर स्मोकर्स (Smokers) होते हैं। स्मोकिंग छोड़कर कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म के रिस्क को कम किया जा सकता है। इस लेख में जानिए कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म के कारण, लक्षण और उपाय।

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म के लक्षण (Coronary artery spasm symptoms)

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) के लक्षणों में सीने में दर्द, जकड़न, जलन और दवाब का एहसास होना शामिल है। ऐसा एक या अधिक आर्टरीज में मेजर ब्लॉकेज के कारण होता है। सीने में दर्द अक्सर शारीरिक गतिविधियां, खानपान, अत्यधिक तनाव, बहुत ठंडे वातावरण के कारण होता है। दर्द के एपिसोड्स पंद्रह मिनट से कम के हो सकते हैं। ये साल में कई बार, हर दिन या अलग-अलग फ्रीक्वेंसी पर हो सकते हैं। ऐसे लक्षण दिखने पर डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

    और पढ़ें: बीटा ब्लॉकर्स: हायपरटेंशन से लेकर हार्ट अटैक तक दिल से जुड़ी बीमारियों के इलाज में हैं उपयोगी

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म के कारण (Coronary artery spasm Causes)

    स्पाज्म अक्सर कोरोनरी आर्टरीज में होता है जो प्लाक बिल्डअप के कारण कठोर हुई रहती हैं। हालांकि यह प्लाक बिल्डअप (Plaque buildup) वाली धमिनयों में भी हो सकता है। स्पाज्म आर्टरी वॉल की मसल्स के स्क्वीज होने के कारण होता है। ये अक्सर धमनी एक हिस्से में होता है। परीक्षण के दौरान कोरोनरी आर्टरी सामान्य दिखाई दे सकती है, लेकिन यह अन्य समय में सामान्य रूप से कार्य नहीं करती है। एंजिना वाले लोगों में कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) की संभावना ज्यादा होती है।

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म

    कोरोनरी आर्टरी का निदान कैसे किया जाता है? (Coronary artery spasm diagnosis)

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) के डायग्नोसिस प्रॉसेस के लिए आपको एम्ब्युलेटरी मॉनिटर (Ambulatory monitor) पहनना पड़ सकता है। मॉनिटर हार्ट के इलेक्ट्रिकल इंप्लसेज (Heart’s electrical impulses) को रिकॉर्ड करता है। जब आप सो रहे हो तब भी। उदाहरण के लिए अगर आपको बीच रात में चेस्ट पेन होता है तो इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (Electrocardiogram) में बदलाव दिखाई दे सकते हैं जो कि कोरोनरी स्पाज्म को इंडिकेट करता है। हालांकि सभी मरीजों में एपिसोड्स के दौरान ईकेजी बदलाव नहीं दिखाई देते।

    इसके अलावा कोरोनरी स्पाज्म को डायग्नोस करने के लिए डॉक्टर एक विशिष्ट प्रकार का स्ट्रेस टेस्ट कराने के लिए कह सकते हैं। जिसे इरगोनोवीन स्ट्रेस टेस्ट (Ergonovine stress test) कहते हैं। इरगोनोवीन एक ड्रग है जिसे आईवी के जरिए कार्डिएक कैथेटेराइजेशन (Cardiac catheterization) की प्रॉसेस के दौरान इंजेक्ट करते हैं। यह कुछ मिनटों में कोरोनरी स्पाज्म को ट्रिगर कर सकता है। इसके बाद डॉक्टर कोरोनरी आर्टरीज को विजुलाइज करके स्पाज्म से राहत दिलाने के लिए दूसरी दवा इंजेक्ट करता है। ईकेजी को टेस्ट के पहले और बाद में रिकॉर्ड किया जाता है। अगर आपको कोरोनरी स्पाज्म है तो डॉक्टर ईकेजी के साथ ही एंजियोग्राम ।।(Angiogram) भी देख सकता है।

    और पढ़ें: हार्ट अटैक और स्ट्रोक का कारण बन सकता है हाय ब्लड प्रेशर!

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म का ट्रीटमेंट (Treatment of Coronary artery Spasm)

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म के ट्रीटमेंट का उद्देश्य चेस्ट पेन को कंट्रोल करना, फ्यूचर एपिसोड्स को कम करना और हार्ट अटैक को रोकना होता है। कोरोनरी स्पाज्म से राहत दिलाने के लिए निट्रोग्लायसेरिन (Nitroglycerin) मेडिसिन प्रिस्क्राइब की जाती है। वहीं कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) के फ्यूचर एपिसोड्स को रोकने के लिए कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, लेकिन किसी भी दवा का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। हर दवा का डोज मरीज की स्थिति के अुनसार अलग हो सकता है। दवाओं के साइड इफेक्ट्स के बारे में भी डॉक्टर से पूछ लें। कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स के साइड इफेक्ट्स में पैरों में सूजन, पल्सेज का धीमा होना शामिल हैं, लेकिन आपका डॉक्टर इन्हें मैनेज करने में आपकी मदद कर सकता है। दवाओं के साथ ही कोरोनरी स्पाज्म के ट्रिगर करने वाले रिस्क फैक्टर्स को अवॉइड करना भी जरूरी है ताकि हार्ट डिजीज के खतरे को टाला जा सके।

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म और हार्ट अटैक (Coronary artery spasm and heart attack)

    कोरोनरी स्पाज्म और हार्ट अटैक का कारण बन सकता है, लेकिन मेडिकेशन पर रहने वाले लोगों में ऐसा काफी कम देखने को मिलता है। कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) के मामले में अधिकांश लोगों को एंजिना की परेशानी देखने को मिलती है। ऐसे मरीजों में असामान्य हार्ट रिदम की परेशानी देखी जाती है। अगर कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म लंबे समय तक रहता है तो हार्ट अटैक हो सकता है।

    और पढ़ें: छाती के दर्द को भूल कर भी न करें नजरअंदाज, क्योंकि यह हो सकता है विडोमेकर हार्ट अटैक का संकेत

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म के रिस्क फैक्टर्स (Risk factors for coronary spasm)

    कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म का रिस्क 40-60 की उम्र में बढ़ जाता है। कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) दूसरी कंडिशन से भी संबंधित है। जिसमें निम्न शामिल हैं।

  • माइग्रेन (Migraine)
  • रेनॉएड सिंड्रोम (Raynaud’s syndrome)
  • थायरॉइड हॉर्मोन का बढ़ना (Excessive thyroid hormone)
  • क्रोनिक एलर्जिक कंडिशन (Chronic allergic conditions)
  • स्मोकिंग (Smoking)
  • कुछ कीमोथेरिपी ड्रग्स (Some chemotherapy drugs)
  • लो मैग्नीनिशयम लेवल (Low magnesium)
  • हम कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म को कैसे रोक सकते हैं? (How Can we Prevent a Coronary Artery Spasm?)

    आप एथेरोस्क्लेरोसिस को रोककर आर्टरी स्पाज्म के जोखिम को कम कर सकते हैं। इसमें कम फैट वाला आहार खाना, नियमित व्यायाम करना, रक्तचाप को नियंत्रित करना और धूम्रपान छोड़ना शामिल है। ये सभी चीजें हेल्दी रहने और हार्ट डिजीज के रिस्क को कम करने के लिए जरूरी हैं। आप उच्च तनाव की स्थितियों जैसे कुछ ट्रिगर्स से बचकर कोरोनरी धमनी की ऐंठन होने की संभावना को कम कर सकते हैं। इसके लिए योगा, मेडिटेशन, म्यूजिक आदि का सहारा लिया जा सकता हैद्ध अन्य रिस्क फैक्टर्स को कम करने के लिए हमेशा अपने डॉक्टर के आदेशों का पालन करें और समय-समय पर उनकी सलाह लेते रहे।

    और पढ़ें: कोरोनरी आर्टरी प्लाक बन सकता है हार्ट अटैक की वजह, समय पर उपचार है जरूरी!

    उम्मीद करते हैं कि आपको कोरोनरी आर्टरी स्पाज्म (Coronary artery spasm) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

     

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    और द्वारा फैक्ट चेक्ड

    Nikhil deore


    Manjari Khare द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/02/2022

    advertisement iconadvertisement

    Was this article helpful?

    advertisement iconadvertisement
    advertisement iconadvertisement