Skipped heartbeat: क्या हार्ट बीट का स्किप होना सामान्य है या नहीं?

    Skipped heartbeat: क्या हार्ट बीट का स्किप होना सामान्य है या नहीं?

    शरीर के अन्य अंगों की तरह हमारा हार्ट भी बेहद महत्वपूर्ण काम करता है। हार्ट का काम दिमाग और अन्य महत्वपूर्ण अंगों को ऑक्सीजन और अन्य न्यूट्रिएंट्स की लगातार सप्लाई करने के लिए ब्लड पंप करना है। हमारा हार्ट रोजाना लगभग 115,000 टाइम्स बीट करता है, लेकिन क्या आपने कभी ऐसा महसूस किया है कि आपके हार्ट ने अचानक बीट को स्किप कर दिया हो? आज हम हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) क्या है इसके बारे में बात करने वाले हैं। हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat), सुनने में असामान्य लग सकता है, लेकिन इसे आप उस फीलिंग के रूप में परिभाषित कर सकते हैं जब आपका हार्ट बहुत हार्ड या फास्ट बीट करना शुरू कर दे। आइए जानें इसके बारे में विस्तार से।

    हार्ट बीट का स्किप होना क्या है? (Skipped heart beat)

    “हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat)” को हार्ट पल्पिटेशन (Heart palpitations) के रूप में भी जाना जाता है। यह वो समस्या है, जब कोई ऐसा महसूस करें जैसे उसकी हार्ट बीट फास्ट-बीटिंग, पाउंडिंग या स्किप हो गयी है। हालांकि, इसके अधिकतर मामलों में किसी भी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं होती है। लेकिन, कुछ मामलों में यह परेशानी की वजह भी हो सकती है। कई लोग इस परेशानी में छाती, सिर और यहां तक गर्दन में हेविनेस की समस्या को महसूस करते हैं। लेकिन, ज्यादातर लोगों में यह असामान्य हार्ट बीट्स की समस्या खुद ही ठीक हो जाती है। कई बार इसके लिए मेडिकल ट्रीटमेंट की जरूरत भी होती है ताकि भविष्य में इस परेशानी से बचा जा सकता है। अब जानते हैं इसके लक्षणों के बारे में।

    और पढ़ें: एरिथमिया के घरेलू उपाय क्या हार्ट बीट को कर सकते हैं कंट्रोल?

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat): क्या हैं इसके लक्षण?

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) यानी हार्ट पल्पिटेशन (Heart palpitations) के लक्षण हर व्यक्ति के लिए अलग हो सकते हैं। अधिकतर लोगों के लिए इस समस्या के सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं:

    • बीट्स का स्किप होना (Skipping beats)
    • लगातार तेजी से फ्लटरिंग (Fluttering rapidly)
    • हार्ट बीट का बहुत अधिक होना (Beating too fast)
    • सामान्य से बीटिंग का हार्ड होना (Beating harder than usual)

    इस बात का ध्यान रखें कि यह परेशानी आपको खड़े हुए, बैठे हुए या लेटे हुए कभी भी हो सकती है। ऐसा भी हो सकता है कि आप इसे पूरे जीवन में एक ही बार में महसूस करें या लगातार इनका अनुभव करते रहें। जैसा कि पहले ही बताया गया है कि इसके अधिकतर एपिसोड खुद ही ठीक हो जाते हैं लेकिन इस दौरान कुछ लक्षण किसी गंभीर कंडिशन का संकेत भी हो सकते हैं। यह लक्षण इस प्रकार हैं:

    • छाती में दर्द या बेचैनी (Chest pain or discomfort)
    • गंभीर सांस लेने में समस्या होना (Severe shortness of breath)
    • चक्कर आना और जी मिचलाना (Dizziness and nausea)
    • बेहोशी (Fainting)

    इन लक्षणों का ध्यान रखें और अगर इनमें से कोई भी आपको नजर आता है तो तुरंत मेडिकल ट्रीटमेंट लें। अब जानते हैं कि क्या हैं इस समस्या के कारण?

    हार्टबीट का स्किप होना, Skipped heartbeat
    हार्ट बीट का स्किप होना, Skipped heart beat

    और पढ़ें: Heartbeat Vector: तेज दिल की धड़कन? कहीं ‘हार्ट बीट वेक्टर’ की राह में तो नहीं आप!

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat): यह हैं इसके कारण

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) आमतौर पर गंभीर नहीं होता है। यही नहीं, इसके कारणों का भी अधिकतर मामलों में पता नहीं होता। किंतु यह कारण अक्सर हानिरहित होते हैं। इन कारणों को दो भागों में बांटा गया है एक नॉन-हार्ट-रिलेटेड कारण और हार्ट-रिलेटेड कारण। आइए जानें इनके बारे में विस्तार से:

    नॉन-हार्ट-रिलेटेड कारण (Non-Heart-related causes)

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) यानी हार्ट पल्पिटेशन (Heart palpitations) के नॉन-हार्ट रिलेटेड कारण इस प्रकार हैं:

    • स्ट्रेस और फियर जैसी इमोशनल फीलिंग्स
    • एंजायटी
    • बहुत अधिक कैफीन, निकोटीन और एल्कोहॉल का सेवन करना
    • इलीगल सब्सटांस का सेवन करना जैसे कोकीन आदि
    • हॉर्मोनल चेंजेज
    • गंभीर फिजिकल एक्टिविटी
    • हर्बल या न्यूट्रिशनल सप्लिमेंट्स
    • कुछ दवाइयां जिनमें डायट पिल्स, सर्दी-जुकाम की दवाइयां शामिल हैं
    • कुछ बीमारियां या स्थितियां जैसे बुखार, डीहायड्रेशन, असामान्य इलेक्ट्रोलाइट लेवल आदि
    • मेडिकल कंडिशंस जैसे लो ब्लड शुगर, लो ब्लड प्रेशर आदि
    • फूड सेंसिटिविटी या एलर्जी

    और पढ़ें: लड़का या लड़की : क्या हार्टबीट से बच्चे के सेक्स का पता लगाया जा सकता है?

    हार्ट-रिलेटेड कारण (Heart-related causes)

    हार्ट बीट का स्किप होने के हार्ट-रिलेटेड कारण इस प्रकार हैं:

    इनके अलावा भी इसके कुछ अन्य कारण हो सकते हैं। अब जानते हैं कि क्या है इसके निदान और उपचार के बारे में।

    और पढ़ें: जानिए क्या हैं हार्टबीट बढ़ने के अन्य रीजन्स, इन्हें नजरअंदाज करने की गलती न करें!

    हार्ट बीट का स्किप होने की समस्या का कैसे हो सकता है निदान?

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) एक हानिरहित समस्या है, लेकिन यह परेशानी का कारण भी हो सकता है। इसके कारण का भी अधिकतर पता नहीं होता है। ऐसे में, इसका निदान भी आसान नहीं होता है। इसके निदान के लिए डॉक्टर रोगी की फिजिकल जांच करेंगे और मेडिकल हिस्ट्री को भी जांचेंगे। अगर उन्हें संदेह है कि इन लक्षणों के कारण कुछ हो सकता है, तो वे टेस्ट्स की सलाह देंगे, जो इस प्रकार हैं:

    इसके अलावा डॉक्टर कुछ अन्य टेस्ट्स के लिए भी कह सकते हैं। इसके निदान के बाद डॉक्टर इसके उपचार पर फोकस करेंगे। जानिए कैसे संभव है इसका उपचार?

    और पढ़ें: एट्रियल प्रीमैच्योर कॉम्प्लेक्स : एब्नॉर्मल हार्टबीट्स को पहचानें, क्योंकि यह हैं इस बीमारी का संकेत!

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat): ऐसे हो सकता है इसका उपचार

    हार्ट बीट का स्किप होने यानी हार्ट पल्पिटेशन (Heart palpitations) की परेशानी का उपचार इसके कारण पर निर्भर करता है। इसके अधिकतर लोगों में यह परेशानी खुद ही ठीक हो जाती हैं और इसमें उपचार की जरूरत नहीं होती है। लेकिन अन्य लोगों के लिए इसके उपचार के लिए इसके कारणों का पता होना और बचाव जरूरी है। पाइए इसके बारे में पाएं अन्य जानकारी:

    ट्रिगर्स को नजरअंदाज करें (Avoid triggers)

    अगर रोगी में इस समस्या का कारण स्ट्रेस या एंग्जायटी है, तो इनसे बचने के तरीकों के बारे में जानें। इसके लिए आप योगा, मेडिटेशन आदि का सहारा ले सकते हैं। इसके अलावा डॉक्टर भी इसमें आपकी मदद कर सकते हैं।

    सही आहार है जरूरी (Eat right food)

    कुछ ड्रग्स, दवाईयां यहां तक की फूड भी इस परेशानी का कारण बन सकते हैं। अगर आपको पता है कि किसी खास खाद्य-पदार्थों के सेवन से हार्ट बीट का स्किप हो रही हो, तो इसे तुरंत अपनी डायट से निकाल दें। इसके साथ ही सिगरेट स्मोकिंग भी इसकी वजह बन सकती है। ऐसे में सिगरेट स्मोकिंग से भी बचें।

    खुद का ध्यान रखें (Take care of yourself)

    किसी भी कंडिशन या परेशानी से बचने के लिए आपका खुद का ख्याल रखना बेहद जरूरी है। इसके लिए हायड्रेट रहें, सही से खाएं और नियमित व्यायाम करें। हेल्दी लाइफस्टाइल के यह कम्पोनेंट हार्ट पल्पिटेशन (Heart palpitations) के जोखिम को कम कर सकते हैं।

    कारण के अनुसार ट्रीटमेंट (Find cause-specific treatment)

    यह तो समझ ही गए होंगे कि हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) क्या है? अगर इसका कारण कोई अन्य बीमारी या कंडिशन है, तो आपके डॉक्टर सबसे पहले इस रोग के उपचार के बारे में सोचेंगे। इन ट्रीटमेंट ऑप्शन में दवाईयां, सर्जरी या अन्य प्रॉसीजर शामिल हो सकते हैं।

    और पढ़ें: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन (Erectile dysfunction) और अनियमित हार्टबीट का आखिर क्या है संबंध?

    हार्ट बीट का स्किप होना (Skipped heart beat) क्या है और इसके लक्षणों, कारण, उपचार आदि के बारे में आप जान ही गए होंगे। आप यह भी जान गए होंगे कि अधिकतर मामलों में यह समस्या गंभीर नहीं होती है। लेकिन, अगर आप इसे बार-बार अनुभव करें या इसके लक्षण आपकी दिनचर्या को प्रभावित कर रहे हों, तो तुरंत मेडिकल हेल्प लें। अगर इसके बारे में आपके मन में कोई भी सवाल है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें। आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/01/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड