आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम को समझने के लिए जानें ये 9 लक्षण

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम को समझने के लिए जानें ये 9 लक्षण

कहते हैं “बेटियां मां का दर्द अच्छी तरह समझती हैं, तभी तो आधे घरों की जिम्मेदारी अपने सिर पर लेकर चलती हैं।” हालांकि मां का साथ जिम्मेदारियों को कम करने में देना, उनकी रोजमर्रा के कामों की उलझनों को तो कम करने में सहायक है, लेकिन क्या ये उनकी मानसिक परेशानियों को भी कम करने में मददगार है? अब ऐसा हम इसलिए कह रहें हैं, क्योंकि नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन में पब्लिश्ड रिपोर्ट एवं अन्य रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार भारत में प्रत्येक 10 में से 4 महिला एंग्जायटी की शिकार हैं। आज मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) से जुड़ी जानकारी आपसे शेयर करेंगे, जिससे आप अपनी मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम को दूर करें और अपनी मां को सिर्फ फिजिकल सपोर्ट ही नहीं, बल्कि मेंटल सपोर्ट भी दे सकें।

और पढ़ें : क्यों फीमेल हॉर्मोनल इम्बैलेंस का उपचार है जरूरी?

क्या है एंग्जायटी प्रॉब्लम (Anxiety problem)?

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother's anxiety problem)

यह एक मेंटल हेल्थ प्रॉब्लम है, जिसमें बेचैनी, घबराहट या नेगेटिव थॉट्स ज्यादा आते हैं। कभी-कभी एंग्जायटी की वजह से हाथ कांपना, जरूरत से ज्यादा पसीना आना या नींद नहीं आने की समस्या होती है। अगर एंग्जायटी प्रॉब्लम की ओर ध्यान ना दिया जाए, तो मिर्गी (Epilepsy) की समस्या या सुसाइडल थॉट्स (Suicidal thoughts) भी आ सकते हैं। इसलिए ऐसी कोई भी परिस्थितियों का सामना ना करना पड़े इसलिए मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) को समझना बेहद जरूरी है और तभी तो आप अपने रिश्ते को हमेशा खूबसूरत और हेल्दी बनाये रख सकते हैं। चलिए अब सबसे पहले जानते हैं मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) को कैसे समझें।

और पढ़ें : Generalized Anxiety Disorder : जेनरलाइज्ड एंजायटी डिसऑर्डर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) के कारण किस तरह के लक्षण देखे जा सकते हैं?

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम को समझने के लिए निम्नलिखित लक्षणों पर गौर करें। जैसे:

  1. मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम को समझने का सबसे पहले स्टेप है उनकी बातों को समझना। अगर आपकी मां ज्यादातर किसी बात को लेकर चिंतित (Worried) रहती हैं और उस बारे में आपसे बात करतीं हैं या फिर बात नहीं कर पाना।
  2. नर्वस (Nervous) महसूस करना भी मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम को दर्शाता है।
  3. अगर आपकी मां बार-बार आपको बता रहीं है कि वो अच्छा महसूस नहीं कर रहीं, तो यह भी एंग्जायटी प्रॉब्लम (Anxiety problem) की ओर इशारा करता है।
  4. छोटी-छोटी चीजों या शारीरिक रूप से ठीक होने पर भी किसी पर आश्रित रहना।
  5. अगर आपकी मां हमेशा सवालों में उलझी रहती हैं, तो यह भी आपकी मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Anxiety problem) के ओर इशारा करता है।
  6. बार-बार कॉल या मैसेज करना।
  7. शारीरिक रूप से खुद को नुकसान पहुंचाना भी मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Anxiety problem) में शामिल है।
  8. बार-बार ऐसा महसूस करना कि कहीं परिवार का कोई सदस्य किसी परेशानी में ना पड़ जाएं।
  9. अगर घर में छोटे बच्चे हैं, तो बार-बार उनके बारे में पूछना।

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) समझने के लिए सबसे पहले इन ऊपर बताई 9 लक्षणों पर ध्यान दें।

और पढ़ें : चिंता और डिप्रेशन: इन तरीकों से समझें इनके बीच का अंतर

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम के कारण क्या हैं? (Cause of Mother’s anxiety)

महिलओं में एंग्जायटी प्रॉब्लम के कई कारण हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • जॉब (Work Pressure) की वजह से तनाव में रहना
  • सोशल प्रेशर (Social pressure) के कारण तनाव में रहना।
  • फोबिया (Phobia) की समस्या होना।
  • किसी क्रॉनिक इलनेस (Chronic illness) से पीड़ित होना।
  • कैफीन (Caffeine) का सेवन ज्यादा करना।
  • मडिकेशन एंड सप्लिमेंट्स का सेवन अत्यधिक करना।
  • थायरॉइड प्रॉब्लम ( Thyroid Problems) होना।

इन शारीरिक परेशानियों या मानसिक परेशानियों की वजह से मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम हो सकती है। इसलिए इन बातों पर ध्यान दें और उन्हें हमेशा खुश रहने के लिए प्रेरित करें।

एंग्जायटी प्रॉब्लम ना हो इसलिए खुश रहना बेहद जरूरी है। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो पर क्लिक करें और जानिए हैप्पी (Happy) और टेंशन फ्री (Tension free) लाइफ के लिए क्या करना है जरूरी।

और पढ़ें : एंग्जायटी यानी चिंता से राहत पाने के लिए इन होम्योपैथी उपचारों को अपनाना न भूलें

मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम का इलाज कैसे करवाएं? (Treatment for Mother’s anxiety)

मेंटल इलनेस के ट्रीटमेंट का नाम आते ही लोगों के जहन में गलत ख्याल आते हैं और वो अक्सर इसे पागलपन से जोड़कर देखते हैं। इसलिए अगर आपकी मां या परिवार किसी अन्य सदस्य की भी यही सोच है, तो सबसे पहले उनकी इस सोच को दूर करें। मेंटल हेल्थ ट्रीटमेंट भी अन्य बीमारियों के इलाज की तरह है।

  • एंग्जायटी ट्रीटमेंट के दौरान मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट एंटी-एंग्जायटी दवाईयां जैसे बेंजोडाइजेपाइन (Benzodiazepines) प्रिस्क्राइब कर सकते हैं।
  • अगर मां को एंग्जायटी प्रॉब्लम Mother’s anxiety) की वजह से मूड स्विंग (Mood swing) बार-बार होता है, तो एंटीडिप्रेसेंट्स (Antidepressant) दी जा सकती है।
  • एंग्जायटी डिसऑर्डर या हाय ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) होने पर बीटा ब्लॉकर्स (Beta-blockers) सेवन करने की सलाह दी जाती है।

डॉक्टर पेशेंट की हेल्थ कंडिशन, उम्र और अन्य शारीरिक स्थितियों को ध्यान में रखते हुए दवा प्रिस्क्राइब करते हैं, जिससे आपकी मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) को कम करने में मदद मिलती है।

नोट: यहां बताई गईं दवाओं का सेवन अपनी मर्जी से ना करें, क्योंकि इसके साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं और पेशेंट की परेशानी कम ना होकर और बढ़ सकती है।

और पढ़ें : एंग्जायटी से बाहर आने के लिए क्या करना चाहिए ? जानिए एक्सपर्ट की राय

मां को एंग्जायटी प्रॉब्लम (Mother’s anxiety problem) ना हो इसलिए क्या करें?

अगर आपकी मां किसी भी कारण से एंग्जायटी महसूस करती हैं, तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:

  1. नियमित एक्सरसाइज (Workout) करें। एक्सरसाइज जरूरत से ज्यादा ना करें और अगर पहली बार वर्कआउट कर रहीं हैं, तो बेहतर होगा फिटनेस एक्सपर्ट की निगरानी में करें।
  2. अगर किसी भी कारण से आपकी मां एक्सरसाइज नहीं कर पा रहीं हैं, तो उनपर दवाब ना डालें और योगासन (Yoga) करने के लिए उन्हें प्रेरित करें। योग की शुरुआत भी योगा एक्सपर्ट की निगरानी में करें।
  3. अगर एक्सरसाइज या योग दोनों ही करना किसी कारण से संभव ना हो, तो मेडिटेशन (Meditation) करें। मेडिटेशन से भी एंग्जायटी प्रॉब्लम को दूर की जा सकती है।

ये तीन टिप्स में से किसी एक का भी पालन नियमित किया जाए, तो एंग्जायटी की समस्या धीरे-धीरे दूर हो सकती है।

अगर आप मां की एंग्जायटी प्रॉब्लम की वजह से परेशान हैं और घरेलू उपायों से वो ठीक नहीं हो रहीं, तो ऐसी स्थिति में देर ना करें, क्योंकि एंग्जायटी की समस्या किसी अन्य मानसिक परेशानी को दावत दे सकती है। इसलिए डॉक्टर से कंसल्टेशन करें। अगर आप एंग्जायटी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं या विशेषज्ञों से भी समझना बेहतर होगा।

महिलाओं में डिप्रेशन से जुड़ी जानकारी आपके पास है कितनी सही? जानने के लिए नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और अपना स्कोर जानिए।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Women and Anxiety/https://adaa.org/find-help-for/women/anxiety/Accessed on 07/05/2021

Being a Parent When You Have Anxiety/https://www.nami.org/Blogs/NAMI-Blog/February-2019/Being-a-Parent-When-You-Have-Anxiety/Accessed on 07/05/2021

Moms Are Not OK: COVID-19 and Maternal Mental Health/https://www.frontiersin.org/articles/10.3389/fgwh.2020.00001/full/Accessed on 07/05/2021

Anxiety Symptoms in Women/https://www.caron.org/blog/anxiety-symptoms-in-women/Accessed on 07/05/2021

Anxiety disorders/https://www.womenshealth.gov/mental-health/mental-health-conditions/anxiety-disorders/Accessed on 07/05/2021

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/05/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड