आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण मरीजों में इस तरह के नजर आ सकते हैं, न करें अनदेखा!

    हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण मरीजों में इस तरह के नजर आ सकते हैं, न करें अनदेखा!

    हृदय वाल्व रोग में, आपके हृदय के एक या अधिक वाल्व ठीक से काम नहीं करते हैं। आपके हृदय में चार वाल्व होते हैं जो रक्त को सही दिशा में प्रवाहित करते रहते हैं। हार्ट वाल्व डिसऑर्डर आपके हृदय के किसी भी वाल्व को प्रभावित कर सकता है। आपके हृदय के वाल्व में फ्लैप होते हैं, जो प्रत्येक दिल की धड़कन के साथ ओपन और क्लोज पोजिशन में होते हैं, जिससे रक्त हृदय के ऊपरी और निचले कक्षों और आपके शरीर के अन्य हिस्सों में पहुंचता है। कुछ मामलों में, एक या अधिक वाल्व ठीक से नहीं खुलते या बंद नहीं होते हैं। हृदय के ऊपरी कक्ष अटरिया (Atria) हैं, और हृदय के निचले कक्ष वेनट्रिक्लस (Ventricles) हैं। हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण (The Symptoms of Worsening Heart Valve Disease ) और उपचार प्रभावित हृदय वाल्व के प्रकार और गंभीरता पर निर्भर करता है। हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण (The Symptoms of Worsening Heart Valve Disease ) मरीजों में अलग-अलग भी देखने को मिल सकते हैं। आपके दिल में ये चार वाल्व हैं:

    • ट्राइकसपिड वाल्व ( Tricuspid valve), जो दाएं आलिंद और दाएं वेंट्रिकल के बीच स्थित होता है
    • पल्मोनरी वाल्व (Pulmonary valve), जो दाएं वेंट्रिकल और पल्मोनरी वाल्व के बीच स्थित है
    • माइट्रल वाल्व (Mitral valve), जो बाएं आलिंद और बाएं वेंट्रिकल के बीच स्थित होता है
    • एओर्टिक वाल्व (Aortic valve), जो बाएं वेंट्रिकल और महाधमनी के बीच स्थित है

    ट्राइकसपिड और माइट्रल वाल्व के माध्यम से दाएं और बाएं अटरिया से रक्त बहता है, जो रक्त को दाएं और बाएं वेंट्रिकल में प्रवाहित करता है। ये वाल्व वापस अर्टिया में ब्लड फ्लो नहीं करने देते हैं, यानि कि बंद हो जाते हैं। रक्त फिर से पल्मोनरी वाल्व और एओर्टिक वाल्व में प्रवाहित होता है। पल्मोनरी धमनी हृदय से फेफड़ों तक ऑक्सिजन रहित रक्त भेजता है। एओर्टिक, जो शरीर की सबसे बड़ी धमनी है, आपके शरीर के बाकी हिस्सों में ऑक्सिजन युक्त रक्त पहुंचाती है। हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण कुछ लोगों में नजर नहीं आते हैं, जबकि अन्य लोगों को स्ट्रोक, दिल के दौरे और रक्त के थक्के जैसी स्थितियों का अनुभव हो सकता है।

    और पढ़ें: Heart Valve Surgery Recovery: जानिए हार्ट वाल्व सर्जरी रिकवरी में कितना वक्त लग सकता है!

    हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण (The Symptoms of Worsening Heart Valve Disease )

    हृदय वाल्व विकारों के लक्षण विकार की गंभीरता के आधार पर भिन्न होते हैं। आमतौर पर लक्षणों की उपस्थिति इंगित करती है कि विकार रक्त प्रवाह को प्रभावित कर रहा है। हल्के या मध्यम हृदय वाल्व विकार वाले कई व्यक्ति किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं करते हैं। हालांकि, संकेत और लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

    • जब डॉक्टर स्टेथोस्कोप से दिल की धड़क्कन सुन रहें हो, तो हूशिंग साउंड होना
    • सांस लेने में कठिनाई महसूस होना, विशेष रूप से एक्टिव रहने या लेटने के दौरान
    • घबराहट होना
    • थकान लगना
    • छाती में दर्द होना, कभी तेज और कभी धीमा
    • चक्कर आना
    • बेहोशी होना
    • सिर दर्द की समस्या होना
    • खांसी आना
    • इस कारण पेट में सूजन की समस्या भी हो सकती है
    • पल्मोनरी एडिमा, जो फेफड़ों में अतिरिक्त तरल पदार्थ के कारण होती है

    और पढ़ें : वैलव्युलर हार्ट डिजीज: दिल से जुड़ी इस बीमारी की पूरी जानकारी जानें यहां!

    हृदय वाल्व रोग के प्रकार क्या हैं (What are the types of heart valve disease)?

    हृदय वाल्व रोग विभिन्न प्रकार के होते हैं, और यह भी संभव है कि किसी मरीज में एक से अधिक वाल्व प्रभावित हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

    वाल्वुलर स्टेनोसिस (Valvular stenosis)

    वाल्वुलर स्टेनोसिस के साथ, वाल्व के ऊतक काफी सख्त हो जाते हैं, जो वाल्व के फंक्शन यानि कि उसके ओपन प्रॉसेज फंक्शन में दिक्कत का कारण बनते हैं, जिस कारण वाल्व ठीक से खुल नहीं पाता है। इस कारण ब्लड का फ्लो भी कम हो जाता है। हल्का संकुचन आपके हृदय की संपूर्ण कार्यप्रणाली को कम नहीं कर सकता है। हालांकि, यदि वाल्व बहुत अधिक संकीर्ण (स्टेनोटिक) हो जाता है, तो यह आपके हृदय के कार्य को कम कर देता है, आपके हृदय को पंप करने में कठनाई होती है और उस पर प्रेशर डलता है। नतीजतन, आपके शरीर के बाकी हिस्सों को पर्याप्त रक्त प्रवाह नहीं हो पाता है। इसके लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

    और पढ़ें : Diuretics in Cardiomyopathy: कार्डियोपैथी में डाइयुरेटिक्स के फायदे तो हैं, लेकिन इसके सीरियस साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं!

    माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स (Mitral valve prolapse)

    माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स को भी कहा जाता है:

    • फ्लॉपी वाल्व सिंड्रोम
    • क्लिक-मरमर सिंड्रोम
    • ब्लून माइट्रल वाल्व
    • बार्लो सिंड्रोम

    यह तब होता है जब माइट्रल वाल्व ठीक से बंद नहीं होता है, जिससे कभी-कभी रक्त वापस बाएं आलिंद में प्रवाहित हो जाता है। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स वाले अधिकांश लोगों में नोटिस करने वाले लक्षण अक्सर नजर नहीं आते हैं और परिणामस्वरूप उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण की बात करें तो माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स में यदि इस तरह के कुछ लक्षण नजर आते हैं, तो उपचार आवश्यक है, जिनमें शामिल हैं:

    और पढ़ें : डायलेटेड कार्डियोमायोपैथी ट्रीटमेंट में एसीई इनहिबिटर्स के बारे में जानें यहां!

    बाइसेपिड एओर्टिक वाल्व (Bicuspid aortic valve disease)

    बाइसीपिड एओर्टिक वॉल्व रोग तब होता है, जब एओर्टिक वॉल्व जिसमें सामान्य तीन के बजाय दो फ्लैप होते हैं। बहुत गंभीर मामलों में, इस प्रकार के विकार के लक्षण जन्म के समय मौजूद होते हैं। इसलिए बाइसीपिड एओर्टिक वाल्व रोग वाले अधिकांश लोगों का वयस्क होने तक निदान नहीं किया जा पाता है। इसके लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

    • फिजिकल एक्टिव रहने के दौरान सांस की तकलीफ महसूस होना
    • छाती में दर्द
    • चक्कर आना
    • बेहोशी

    इस प्रकार के हृदय वाल्व विकार वाले 80 प्रतिशत लोगों को वाल्व की सर्जरी या उसे बदलने आवश्यकता होगी।

    और पढ़ें : Acute Decompensated Heart Failure: जानिए एक्यूट डीकंपनसेटेड हार्ट फेलियर के लक्षण, कारण और इलाज!

    हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के कारण (Heart valve disorder)

    हृदय के चार वाल्व, जो रक्त को सही दिशा में प्रवाहित करते हैं, माइट्रल, ट्राइकसपिड, पल्मोनरी और एओर्टिक वाल्व हैं। प्रत्येक वाल्व में फ्लैप होते हैं, जो प्रति दिल की धड़कन में एक बार खुलते और बंद होते हैं। यदि एक या अधिक वाल्व ठीक से खुलने या बंद होने में विफल हो जाते हैं, तो आपके हृदय से आपके शरीर में रक्त का प्रवाह ठीक से नहीं कर पाता है। हृदय वाल्व रोग जन्म के समय (जन्मजात) मौजूद हो सकता है। यह कई कारणों और स्थितियों, जैसे संक्रमण और अन्य हृदय स्थितियों के कारण वयस्कों में भी हो सकता है।

    हृदय वाल्व की समस्याओं में शामिल हैं:

    रेगुर्गिटेशन : वाल्व फ्लैप ठीक से बंद नहीं होता है, जिससे रक्त आपके हृदय में पीछे की ओर रिसने लगता है। यह आमतौर पर वाल्व फ्लैप्स के वापस उभरे होने के कारण होता है, एक स्थिति जिसे प्रोलैप्स कहा जाता है।
    स्टेनोसिस: इसमें वाल्व के फ्लैप मोटे या हार्ड हो जाते हैं और संभवतः एक साथ फ्यूज हो जाते हैं। इसके परिणामस्वरूप एक संकुचित वाल्व खुलता है और वाल्व के माध्यम से रक्त का प्रवाह कम हो जाता है।
    एटरिसिया : वाल्व नहीं बनता है, और ऊतक की एक ठोस शीट हृदय कक्षों के बीच रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध करती है।

    और पढ़ें : कोलेस्ट्रॉल और हार्ट डिजीज: हाय कोलेस्ट्रॉल क्यों दावत दे सकता है हार्ट डिजीज को?

    हार्ट वाल्व डिसऑर्डर का इलाज जानिए यहां (Know the treatment of heart valve disorder here)

    अगर इसका इलाज न किया जाए तो हृदय वाल्व की समस्या गंभीर हो सकती है। गंभीर मामलों में मरीज की हार्ट सर्जरी या वाल्व बदलने की आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा, हृदय वाल्व रोग के उपचार अंतर्निहित कारणों पर निर्भर करते हैं और साथ में इन बातों का भी ध्यान रखना आवश्यक है:

    • अपने वाल्व को अधिक डैमेज होने से बचाना
    • समय पर दवाएं लेना
    • आवश्यक स्थिति में सर्जरी की आवश्यकता होना, तो सेल्फ केयर करना
    • नियमित रूप से डॉक्टर से मिलना और अपना हार्ट चैकअप करवाना

    वाल्व की सर्जरी या उसे बदलना कई कारकों पर निर्भर करता है, जिनमें निम्न शामिल हैं:

    और पढ़ें : Blood pressure and Heart attack: हार्ट अटैक में ब्लड प्रेशर कहीं किसी और गंभीर बीमारी का ना बन जाए कारण!
    यदि आप गर्भवती हैं और आपको हृदय वाल्व की बीमारी है, तो आप अतिरिक्त आराम की आवश्यकता हैं और/या कुछ दवाएं ले सकती हैं जो आपके बच्चे के लिए सुरक्षित हो। यदि आप गर्भावस्था से पहले अपने वाल्व रोग के बारे में जानते हैं, तो आपको अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से पूछना चाहिए कि क्या आपको प्रेग्नेंसी प्लानिंग करनी चाहिए। इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है कि गर्भावस्था से पहले और उसके दौरान आपका उचित इलाज किया जाता है। यदि आपको वाल्व की गंभीर समस्या है, तो आपका डॉक्टर गर्भावस्था से पहले वाल्व के सर्जरी या प्रतिस्थापन की सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा, हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण के नजर आने पर मरीज को तुंरत डॉक्टर से मिलना चाहिए। डायट से लेकर अन्य कोई भी एक्टिविटीज उनकी निगरानी में ही करें। हार्ट वाल्व डिसऑर्डर के लक्षण के अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

    health-tool-icon

    टार्गेट हार्ट रेट कैल्क्यूलेटर

    जानें अपना साधारण और अधिकतम रेस्टिंग हार्ट रेट,आपकी उम्र और रोजाना एक्टिविटीज और अन्य एक्टिविटीज के दौरान प्राभावित होने वाली हार्ट रेट के बारे में।

    पुरुष

    महिला

    क्या आप खोज रहे हैं?

    आपकी रेस्टिंग हार्ट रेट क्या है? (बीपीएम)

    60

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: