home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना : जानिए इस समस्या को कैसे करें हैंडल

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना : जानिए इस समस्या को कैसे करें हैंडल

हाय ब्लड प्रेशर (Hypertension) के लक्षण डेवेलप होने से पहले यह आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। अनियंत्रित हाय ब्लड प्रेशर डिसेबिलिटी, खराब लाइफ क्वालिटी और यहां तक कि हार्ट अटैक या स्ट्रोक का कारण बन सकता है। हार्ट और किडनी की समस्याएं पैदा करने के साथ-साथ अनट्रीटेड हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss) भी एक समस्या हो सकती है और यह कई तरह की आय डिजीज का कारण भी बन सकता है। दरअसल, हायपरटेंशन रेटिना में ब्लड वेसल्स को नुकसान पहुंचा सकता है। यह आंख के पीछे का हिस्सा होता है जहां इमेजेज फोकस होती हैं। इसे हाइपरटेंसिव रेटिनोपैथी (हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना) के रूप में जाना जाता है। यदि हाय बीपी का इलाज न किया जाए तो नुकसान गंभीर हो सकता है। इस आर्टिकल में हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना जैसी समस्याओं के बारे में विस्तार से बताया गया है।

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss) : जानें कैसे आंखों की रोशनी होती है प्रभावित

आपकी आंखों में कई छोटी ब्लड वेसल्स होती हैं। जब हाय ब्लड प्रेशर (HBP या हाय बीपी) काफी समय से अनट्रीटेड होता है, तो हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना के साथ ही निम्नलिखित स्थितियां विकसित हो सकती हैं:

  • ब्लड वेसल डैमेज (रेटिनोपैथी) : रेटिना में ब्लड फ्लो की कमी से धुंधला दिखाई देता है या पूरी तरह से दिखना बंद हो जाता है। डायबिटीज और हाय ब्लड प्रेशर वाले लोगों में इस स्थिति के डेवेलपमेंट का खतरा और भी ज्यादा होता है। हाय ब्लड प्रेशर से ग्रस्त रेटिनोपैथी के इलाज के लिए ब्लड प्रेशर का मैनेजमेंट एकमात्र तरीका है।
  • कोरॉइडोपैथी (Choroidopathy): कोरॉइड (Choroid) रक्त वाहिकाओं (Blood vessels) का कलेक्शन है जो रेटिना को ब्लड की सप्लाई करता है। कोरॉइडोपैथी (Choroidopathy) यानी रेटिना के नीचे फ्लूइड के बनने के कारण आईबॉल के पीछे टिश्यू की लाइट-सेंसिटिव लेयर को नुकसान पहुंचता है जिससे डिस्टॉर्टेड विजन की समस्या होती है। यह स्थिति आमतौर पर युवा व्यक्तियों में होती है जो हाय ब्लड प्रेशर में अचानक वृद्धि का अनुभव करते हैं। यह प्रीक्लेम्पसिया (गर्भावस्था में हाय ब्लड प्रेशर), रीनल हाइपरटेंशन के साथ-साथ ट्यूमर सेक्रेट करने वाले पदार्थों के मामलों में देखा जा सकता है जो हाय ब्लड प्रेशर को खतरनाक रूप से बढ़ा सकते हैं।
  • नर्व डैमेज (ऑप्टिक न्यूरोपैथी) : ब्लॉक्ड ब्लड फ्लो के कारण होता है जो ऑप्टिक नर्व को नुकसान पहुंचाता है, यह आपकी आंखों में नर्व सेल्स को नष्ट कर सकता है, जिससे टेम्पररी या परमानेंट विजन लॉस हो सकता है। ऑप्टिक नर्व (मस्तिष्क से रेटिना को जोड़ने वाली तंत्रिका) को नुकसान अनट्रीटेड या खराब तरीके से नियंत्रित हाय ब्लड प्रेशर में देखा जाता है। न्यूरोपैथी हाय ब्लड प्रेशर का सबसे भयानक प्रभाव है।

ये बातें भी जान लें

हाय ब्लड प्रेशर एक महत्वपूर्ण रिस्क फैक्टर है जो पहले से मौजूद आय डिजीज को बढ़ाता है। अनुपचारित हाय ब्लड प्रेशर की उपस्थिति डायबिटिक रेटिनोपैथी (Diabetic retinopathy) की प्रोग्रेस को तेज करती है। हाय ब्लड प्रेशर वाले व्यक्तियों में रेटिनल नस (Retinal vein) और रेटिनल आर्टरी (Retinal artery) में ब्लड के थक्के बनने के कारण अचानक विजन लॉस होने का खतरा होता है। इसके अलावा, हाय ब्लड प्रेशर ग्लूकोमा (आंख के भीतर बढ़ा हुआ दबाव) की शुरुआत को तेज कर सकता है जिससे धीरे-धीरे हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss) जैसी समस्याएं बढ़ने लगती हैं।

और पढ़ें: पोस्टप्रांडियल हायपोटेंशन यानी भोजन के बाद ब्लड प्रेशर का कम होना, कहीं आपको भी नहीं है ये समस्या?

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss)

हाय ब्लड प्रेशर के कारण आंखों के डैमेज होने के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of eye damage due to high blood pressure?)

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना या आंखों का डैमेज होना धीरे-धीरे डेवेलप होता है और कई मामलों में यह दर्द रहित होती है। इसलिए, व्यक्ति तुरंत इलाज की तलाश नहीं कर पाते हैं। सतर्क रहने में ही समझदारी है। हाय ब्लड प्रेशर वाले व्यक्तियों में नेत्र रोग के वॉर्निंग साइन निम्नलिखित हैं:

  • विजन का धीरे-धीरे कम होना (धुंधला दिखना)
  • एक या दोनों आंखों में अचानक विजन लॉस
  • दोहरी छवियां देखना (ड्यूल विजन या डिप्लोपिया/diplopia)
  • सिर दर्द
  • आंखों के सामने रोशनी की चमक आदि

और पढ़ें: हायपरटेंशन के लिए अनार का जूस क्यों माना जाता है फायदेमंद?

हाइपरटेंसिव रेटिनोपैथी के कारण (Causes of Hypertensive Retinopathy)

हाइपरटेंसिव रेटिनोपैथी (Hypertensive retinopathy) एक विजन डिसऑर्डर है जो हाय ब्लड प्रेशर के कारण होता है। हाय ब्लड प्रेशर तब होता है जब आर्टरीज की दीवारों के खिलाफ ब्लड फोर्स बहुत ज्यादा होता है, जिससे आर्टरीज खिंचती हैं, नैरो होती हैं और समय के साथ डैमेज हो जाती हैं। हाइपरटेंसिव रेटिनोपैथी तब होती है जब आंख के पिछले हिस्से में रेटिना को ब्लड की सप्लाई करने वाली ब्लड वेसल्स डैमेज हो जाती हैं। हाय बीपी की गंभीरता और उस स्थिति का अनुभव करने के समय के साथ रेटिना को नुकसान पहुंचने की संभावना बढ़ जाती है।

एडल्ट्स में हाय ब्लड प्रेशर होने का सबसे अधिक खतरा होता है और इसलिए उन्हें हाइपरटेंसिव रेटिनोपैथी विकसित होने का भी सबसे अधिक खतरा होता है। अन्य फैक्टर्स जो हाय बीपी के विकास की संभावना में योगदान कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:

हाय ब्लड प्रेशर और आंखों की समस्याओं का रिस्क किसे ज्यादा है? (Who is at higher risk of high blood pressure and eye problems?)

ब्लड प्रेशर जितना अधिक होगा और जितना अधिक समय तक रहेगा, नुकसान उतना ही अधिक होने की संभावना होती है।

  • जब आपको डायबिटीज, हाय कोलेस्ट्रॉल लेवल, या आप स्मोकिंग करते हैं, तो आपको डैमेज और विजन लॉस का अधिक रिस्क होता है।
  • शायद ही कभी, हाय ब्लड प्रेशर अचानक डेवलप होता है। हालांकि, जब ऐसा होता है, तो यह आंखों में गंभीर बदलाव ला सकता है।
  • रेटिना के साथ अन्य समस्याएं भी अधिक होने की संभावना है, जैसे:
  1. खराब ब्लड फ्लो के कारण आंखों की नसों को नुकसान
  2. रेटिना को ब्लड की सप्लाई करने वाली आर्टरीज में रुकावट
  3. ब्लड को रेटिना से दूर ले जाने वाली नसों में ब्लॉकेज

और पढ़ें: कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स : हाय ब्लड प्रेशर को कम करने का काम करती हैं यह दवाएं!

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना : विजन लॉस का ट्रीटमेंट

हाय ब्लड प्रेशर की सभी संभावित आई कॉम्प्लिकेशन के लिए ट्रीटमेंट (खासकर जब कंडिशन का जल्दी पता चल जाता है) काफी सरल है – अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करें। ट्रीटमेंट के लिए अपने डॉक्टर से मिलें। वह आपको डायट बदलने, व्यायाम करने, वजन कम करने और दवा लेने की सलाह दे सकते हैं।

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss) इस समस्या से बचने के लिए टिप्स

हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss) इस समस्या से बचने के लिए हाय ब्लड प्रेशर से बचने के उपाय करें। यहां कुछ बातें हैं जिनको ध्यान रखकर आप इस समस्या से दूर रह सकते हैं:

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके ब्लड प्रेशर की रीडिंग (blood pressure reading) सामान्य है, नियमित मेडिकल एग्जाम करवाएं। इसी तरह, आंखों की नियमित जांच सभी के लिए जरूरी है, लेकिन अगर आपको हाय ब्लड प्रेशर है तो यह और भी जरूरी है। लक्षण गंभीर होने से पहले नियमित जांच आपके डॉक्टर को विजन में बदलाव की पहचान करने में मदद कर सकती हैं।

और पढ़ें: क्या गट बैक्टीरिया से बढ़ सकती है हायपरटेंशन की परेशानी?

उम्मीद करते हैं कि आपको हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना (High blood pressure and vision loss) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड