home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Insect bites: दंश क्या है?

परिचय|लक्षण|जोखिम|निदान|उपचार|घरेलू उपचार
Insect bites: दंश क्या है?

परिचय

दंश क्या है?

हम चाहे घर पर हो या बाहर, पार्क में हों या किसी अन्य जगह किसी इन्सेक्ट का काटना यानी दंश बेहद सामान्य है। यह इन्सेक्ट मधुमक्खी, चीटियां, मच्छर, ततैया आदि कोई भी हो सकता है। आमतौर पर ऐसे किसी कीट के काटने को हम गंभीरता से नहीं लेते। इन कीटों का काटना दर्दभरा हो सकता है। इसके साथ ही प्रभावित स्थान का लाल होना, खुजली, सूजन भी हो सकती है। लेकिन, कई स्थितियों में इसके परिणाम कुछ खतरनाक हो सकते हैं। कई इंसेक्ट्स के काटने से कई बीमारियां भी हो सकती हैं जैसे वेस्ट नील वायरस आदि। ऐसे में अगर किसी को इन्सेक्ट काटते हैं तो उन्हें लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए और अगर कुछ गंभीर लगे तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

लक्षण

दंश के लक्षण क्या है?

आमतौर पर दंश के केवल कुछ ही खास लक्षण होते हैं जैसे दंश वाले स्थान पर दर्द, लालिमा, सूजन या खारिश आदि। अधिकतर मामलों में यह लक्षण कुछ ही दिनों में दूर हो जाते हैं। हालांकि, कुछ लोगों में कुछ कीड़ों के जहर से गंभीर एलर्जी रिएक्शंस हो सकते हैं। ऐसा मधुमक्खियों और ततैया के काटने पर सबसे अधिक बार होता है। ऐसे मामले में, रिएक्शंस अधिक गंभीर होती है। यह लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

  • स्किन रैशेस
  • सांस लेने में समस्या होना
  • जीभ, होंठों या चेहरे पर सूजन होना
  • ब्लड प्रेशर का कम होना
  • पेट में दर्द होना
  • उल्टी
  • धड़कन का तेज होना

कब डॉक्टर के पास जाना चाहिए

अगर आपको कुछ गंभीर लक्षण देखने को मिलें तो उन्हें नजरअंदाज न करें। इन स्थितियों में तुरंत डॉक्टर से मिलें:

  • सांस लेने में मुश्किल
  • चक्कर आना और बेहोशी
  • बेचैनी
  • हीव्स
  • मतली, ऐंठन या उल्टी
  • बिच्छू का काटना और अगर रोगी एक बच्चा हो

जोखिम

दंश के जोखिम क्या है?

इन्सेक्ट बाईट अर्थात दंश की संभावना इन स्थितियों में बढ़ जाती है, अगर:

  • आप अधिकतम घर के बाहर काम करने या अन्य स्थितियों में बिताते हैं।
  • गर्म मौसम में रहते हैं।
  • सही सुरक्षा का प्रयोग नहीं करते या अपनी इन कीटों से सुरक्षा नहीं करते।
  • पालतू जानवरों के लिए पिस्सू और टिक निवारक उपायों का उपयोग करना भूल जाएं।
  • कीड़ों को अपने शौक के रूप में पकड़ते हैं।

निदान

दंश का निदान क्या है?

सभी इन्सेक्ट बाईटस अर्थात दंश की स्थिति में चिकित्स्क अटेंशन की आवश्यकता नहीं पड़ती। अगर आपको गंभीर रिएक्शन है, तो डॉक्टर आपसे इसके लक्षण और मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछ सकते हैं। आपकी शारीरिक जांच की जायेगी। आपसे पूछा जाएगा कि आपको किस तरह के इन्सेक्ट ने काटा है। आपके द्वारा बताई गयी जानकारी से उन्हें लक्षणों के बारे में अधिक जानने में मदद मिलेगी और वो आसानी से इसका उपचार कर पाएंगे।

  • दंश वाली जगह को अच्छे से साफ़ किया जाएगा ।
  • उस पर कूल कंप्रेस का प्रयोग किया जाएगा या उस जगह पर बर्फ लगाई जा सकती है इससे दर्द और सूजन से राहत मिलेगी।
  • हाइड्रोकोर्टीसोन क्रीम, कैलमाइन लोशन या बेकिंग सोडा पेस्ट का प्रयोग किया जाएगा।
  • खुजली से बचने के लिए एंटीहिस्टामिन का प्रयोग किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें :पेट में जलन कम करने वाली दवाईयों को लगाना होगा वॉर्निंग लेबल

उपचार

दंश का उपचार क्या है?

अधिकतर इन्सेक्ट बाईटस और दंश को घर में ही आसानी से ठीक किया जा सकता है। यदि आप जानते हैं कि आपको पहले से ही टिक एलर्जी है, तो टिक को न हटाएं। इसके बजाय, इसका उपचार कराएं। टिक को हटाने से यह अधिक एलर्जीन युक्त लार इंजेक्ट कर सकता है।

डंक या दंश के बाद क्या करें?

  • प्रभावित स्थान को अच्छे से साबुन और पानी से साफ़ करें।
  • इस स्थान पर आइस पैक या कोई ठंडी चीज़ लगाएं। कुछ घंटों के बाद हर पंद्रह मिनट में इसे लगाएं।हालांकि, इसे सीधे प्रभावित क्षेत्र पर न लगाएं।
  • दर्द और सूजन को दूर करने के लिए एसिटामिनोफेन या आइबूप्रोफेन लें। लेकिन, इन्हे लेने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • खुजली को दूर करने के लिए कैलमाइन लोशन,एंटीहिस्टामिनेस, टोपिकल स्टेरॉयड क्रीम का प्रयोग करें। लेकिन, इनके प्रयोग से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • कई बार इन्सेक्ट या इन्सेक्ट का भाग त्वचा में रह जाता है। इन्हे निकालने से न केवल दर्द या अन्य समस्याएं दूर होंगी। बल्कि, आगे भी आपको इन्फेक्शन आदि नहीं होगा।
  • स्टिंगर को दूर करने के लिए एक तीखे कोने वाली चीज जैसे क्रेडिट कार्ड का प्रयोग करें ।
  • टिक को दूर करने के लिए ट्वीज़र से टिक के सर को पकड़ें और धीरे-धीरे उसे बाहर निकालें। टिक को त्वचा के ऊपर तब तक दबाए रखें जब तक कि वह अपना दंश न छोड़ दे।
  • कीड़े लाइम रोग या रॉकी माउंटेन स्पॉटेड फीवर जैसे संक्रमण का कारण बन सकता है। जितनी जल्दी आप कीड़े को हटा देंगे, उतना ही संक्रमण की संभावना कम होगी।

यह भी पढ़ें: कितना सामान्य है गर्भावस्था में नसों की सूजन की समस्या? कब कराना चाहिए इसका ट्रीटमेंट

घरेलू उपचार

दंश का घरेलू उपचार क्या है?

जब आप ऐसी जगह हों जहां इंसेक्ट होने की संभावना हो, तो यह सावधानियां अपनाएं:

  • इन्सेक्ट रिपेलेंट्स का प्रयोग करें।
  • अपनी त्वचा को इन्सेक्ट की बाईट से बचाने के लिए लंबी बाजू वाली कमीज या पैंटस पहने।
  • ऐसे परफ्यूम, क्रीम, लोशन आदि का प्रयोग करने से बचे, जिनकी मीठी या तेज खुशबू हो।
  • चटकीले या गहरे रंग के कपड़े न पहने।
  • जब भी बगीचे में काम करें तब ग्लव्स पहनें।
  • उस समय पर ऐसी जगह पर जाने से बचे जब इन्सेक्ट अधिक एक्टिव होते हैं।
  • सुबह और शाम के समय घर के अंदर रहें। इन समय के दौरान मच्छर सबसे अधिक सक्रिय होते हैं।
  • उन क्षेत्रों से दूर रहें जहां मच्छर पनपते हैं, जैसे कि पानी के आसपास के क्षेत्र।
  • उन क्षेत्रों के आसपास सावधानी बरतें, जहां कीट अपना घर बनाते हैं। इनमें दीवारें, झाड़ियां, पेड़ और खुले कचरे के डिब्बे शामिल हैं। कूड़ेदान को हमेशा ढक कर रखें।
  • जिन जगहों पर मकड़ियां रहती हैं, वहां सावधानी से काम करें जैसे अंधेरी जगहें।
  • मधुमक्खी या ततैया आदि को न छेड़ें।
  • अपने घर के आसपास पेस्ट कंट्रोल कराना न भूलें।
  • जितना हो सके अपने खाने को कवर कर के रखें ,तब भी जब आप घर के बाहर खाना खा रहे हों।

। बेहतर जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें:

बच्चों को मच्छरों या अन्य कीड़ों के डंक से ऐसे बचाएं

डेंगू बुखार से हुई एक और मौत, सामने आएं मच्छरों से जुड़े 11 और मामले

डेंगू के दौरान न करें ये गलतियां, एक्सपर्ट से जानें कैसे करनी है रोकथाम

ट्रेंडिंग हेल्थ टॉपिक 2019: दिल्ली का वायु प्रदूषण रहा टॉप गूगल सर्च में, जानिए कौन रहा दूसरे नंबर पर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/04/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड