home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

साइनस से राहत पाने के लिए किन घरेलू उपायों को कर सकते हैं ट्राई?

साइनस से राहत पाने के लिए किन घरेलू उपायों को कर सकते हैं ट्राई?

साइनस को साइनसाइटिस या साइनस संक्रमण भी कहा जाता है। साइनस हमारे कान,गाल की हड्डी और आंखों और माथे के बीच में मौजूद एयर पॉकेट्स होते हैं। यह साइनस बहुत तंग चैनल्स से जुड़े होते हैं । साइनसाइटिस या साइनस संक्रमण इस साइनस के टिश्यू में होने वाली जलन या सूजन है। साइनस पतली बलगम बनाते हैं जो नाक के चैनलों से बाहर निकलते हैं। इससे नाक साफ होता है और बैक्टीरिया भी दूर रहते हैं। आमतौर पर साइनस में हवा भरी होती है। लेकिन, जब वो ब्लॉक हो जाते हैं तो उनमें द्रव भर जाता है। तो इससे बैक्टीरिया बढ़ सकते हैं और यह संक्रमण (बैक्टीरियल साइनसिसिस) का कारण बन सकता है। जानिए साइनस के लक्षण, कारण और उपचार क्या हैं इसके साथ ही साइनस के घरेलू उपाय के बारे में जानना न भूलें।

साइनस के प्रकार (Types os Sinus)

साइनस के घरेलू उपाय जानने से पहले जानें इसके प्रकारों के बारे में। साइनस कई प्रकार का हो सकता है। जैसे:

  • एक्यूट साइनोसाइटिस : जब सामान्य सर्दी-जुकाम के कारण होने वाला वायरल इंफेक्शन नाक के मार्ग की सूजन को बढ़ाता है। तो इसे तीव्र साइनसाइटिस कहा जाता है। इसके लक्षण आमतौर पर दो से चार सप्ताह तक रहते हैं। इस तरह का साइनस पराग या धूल जैसे मौसमी एलर्जी के कारण भी हो सकता है।
  • सबएक्यूट साइनोसाइटिस : जब साइनस इंफेक्शन चार हफ्तों से लेकर तीन महीनों तक रहता है, तो इसे सबएक्यूट साइनस कहा जाता है। अगर आपको यह समस्या हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।
  • क्रोनिक साइनोसाइटिस : जब साइनस इंफेक्शन तीन महीने से भी अधिक समय तक रहे, तो उसे क्रोनिक साइनस कहा जाता है। यह समस्या ज्यादातर तब होती है, जब रोगियों को नाक की समस्या या लगातार एलर्जी होती है

और पढ़ें: Chronic sinusitis : क्रोनिक साइनोसाइटिस क्या है?

साइनस के लक्षण (Symptoms of Sinus)

एक्यूट साइनस के वयस्कों में लक्षण आमतौर पर सर्दी-जुकाम है। जो जल्दी ठीक नहीं होता या 5 – 7 दिनों के बाद इसके लक्षण बढ़ जाते हैं। साइनस के घरेलू उपाय से पहले जानिए क्या हैं इसके लक्षण:

  • सांस से बदबू आना या कोई भी गंध न आना
  • खांसी, जो आमतौर पर रात के समय बढ़ जाती है।
  • थकावट और बीमार महसूस होना
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • नाक में दवाब जैसी दर्द होना, आंखों के पीछे दर्द होना, दांत में दर्द
  • नाक का बंद होना या बहना
  • गले मेंं खराश

क्रोनिक साइनस के लक्षण एक्यूट साइनस के जैसे ही होते हैं। हालांकि यह लक्षण 12 हफ्तों से अधिक समय तक रह सकते हैं।

बच्चों मेंं साइनस के लक्षण इस प्रकार हैं:

  • सर्दी-जुकाम या सांस की बीमारी जो पहले बेहतर हो रही हो, लेकिन बाद में खराब होने लगती है।
  • अधिक बुखार, नाक का बहना , जो कम से कम 3 दिनों तक रहता है।
  • खांसी के साथ या नाक का बहना, यह समस्या 10 से अधिक दिनों तक रह सकती है और अगर इसमें सुधार नहीं हो रहा हो, तो यह साइनस का संकेत हो सकता है।

और पढ़ें: साइनस (Sinus) को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

साइनस के कारण (Causes of Sinus)

साइनस के घरेलू उपाय के बारे में जानने से पहले जानें इसके कारण क्या-क्या हैंसाइनोसाइटिस वायरस, बैक्टीरिया या फंगस के कारण हो सकता है। जो साइनस में सूजन पैदा करते हैं और उन्हें ब्लॉक करते हैं। इसके कुछ खास कारण इस प्रकार हैं:

  • सामान्य सर्दी-जुकाम
  • नाक की एलर्जी या मौसमी एलर्जी जिसमें मोल्ड की एलर्जी भी शामिल है
  • पोलिप्स
  • सेप्टम मेंं गड़बड़: सेप्टम एक ऐसी कार्टिलेज लाइन है, जो नाक को विभाजित करती है। अगर इसमें गड़बड़ या कोई खराबी है तो यह भी साइनस का कारण हो सकता है।
  • बीमारी और दवाईयों के कारण इम्यून सिस्टम का कमजोर होना।
  • छोटे बच्चे और शिशुओं को भी यह हो सकता है और इसका सामान्य कारण है उनका अधिक समय डे केयर में बिताना। जहां सफाई नहीं होती। इसकी वजह से साइनस होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • वयस्कों में स्मोकिंग की आदत साइनस इंफेक्शन की संभावना को बढ़ा देती है। अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो आपको तुरंत बंद कर देना चाहिए। स्मोकिंग आपके और आपके आसपास के लोगो के लिए हानिकारक है।

जानिए बीमारियों के उपचार के रूप में योगा का क्या महत्व है, इस वीडियो के माध्यम से:

साइनस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Sinus)

साइनस की समस्याओं को कम करने के लिए आप साइनस के घरेलू उपाय अपना सकते हैं, जैसे:

जितना हो सके पानी पीएं

जितना हो सके पानी और अन्य तरल पदार्थों का सेवन करें। इनको लेने से आपकी बलगम कम होगी जिससे साइनस के कम होने में भी मदद मिलेगी। कैफीन और अल्कोहलिक पेय पदार्थों का सेवन न करें। इससे डिहाइड्रेशन हो सकती है।

और पढ़ें: Sinusitis: साइनोसाइटिस क्या है? जाने इसके कारण, लक्षण और इलाज

आराम करें (Take rest)

जितना हो सके, उतना अधिक आराम करें। इससे इंफेक्शन से लड़ने और जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी।

भाप लें (Steam)

एक गर्म पानी का बर्तन से अपने चेहरे पर भाप लें। आप गर्म तौलिये या कपड़े को भी अपने चेहरे पर लगा सकते हैं। इससे आपको साइनस में होने वाली दर्द से राहत मिलेगी और आपकी नाक के द्वार खुलेंगे। दिन में दो से चार बार भाप लेने की सलाह दी जाती है।

नेसल सेलाइन स्प्रे (Nasal Spray)

साइनस के घरेलू उपाय में अगला है नेसल सेलाइन स्प्रे। नेसल सेलाइन स्प्रे जिसमें नमक वाला पानी होता है, उससे दिन मेंं कई बार स्प्रे करें । ऐसा करने से आपका नाक खुलेगा और साथ ही सूजन से भी मुक्ति मिलती है

मसालें खाएं ( Spices)

ऐसा माना जाता है कि कई मसाले और मसालेदार आहार से नाक साफ होती है। इसके लिए अपने आहार में काली मिर्च, हल्दी, अदरक और दालचीनी का प्रयोग करें।

और पढ़ें: Pilonidal Sinus Surgery : पिलोनिडल साइनस सर्जरी क्या है?

विटामिन C (Vitamin C)

विटामिन C युक्त आहार लेने से आपके साइनस इंफेक्शन से लड़ने मेंं मदद मिलती है। इसके साथ ही इनसे साइनस मेंं होने वाली सूजन और अन्य लक्षणों के दूर होने में भी मदद मिलती है। विटामिन C खट्टे फलों मेंं भरपूर मात्रा में होती है जैसे नींबू, संतरा, मौसमी, टमाटर आदि।

ह्युमिडिफायर

साइनस के घरेलू उपाय में ह्युमिडिफायर का प्रयोग करना भी शामिल है। इससे नाक साफ होती है। साइनस को दूर करने के लिए एक नेटी पॉट या सेलाइन स्क्वीज़ बोतल का उपयोग किया जा सकता है।

तनाव (Stress) से बचे

तनाव भी एलर्जी और साइनस का एक कारण हो सकता है इसलिए तनाव, चिंता और अवसाद से बचेइसमें व्यायाम और ध्यान आपकी मदद कर सकता है योगासन भी साइनस के लक्षणों को दूर करने में प्रभावी हैं

दवाईयां (Medicine)

आप साइनस में होने वाली दर्द और दबाब को दूर करने के लिए एंटीथिस्टेमाइंस, दर्द दूर करने वाली दवाईयां ले सकते हैं। लेकिन इन्हें लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। इन दवाईयों को बच्चों को न दें। सर्दी-खांसी की दवा जैसे ओक्सीमेंटाजोलिन या फैनीलेफ्रीन आदि को लेते हुए सावधान रहें। इनसे शुरू में तो आराम मिलेगा लेकिन बाद में बंद नाक के लक्षण बदतर हो सकते हैं।

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x