home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Ataxia: अटैक्सिया क्या है?

परिभाषा|लक्षण|Causes|खतरे|निदान और उपचार|जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार
Ataxia: अटैक्सिया क्या है?

परिभाषा

अटैक्सिया (Ataxia) क्या है?

अटैक्सिया ऐसी बीमारी है जिसमे इंसान चाहते हुए भी किसी काम करने में सक्षम नहीं होता है। ये स्थिति मांसपेशियों में नियत्रंण न होने की वजह से उत्पन्न होती है। चलना, स्पष्ट रूप से बोलना, निगलना, लिखना, पढ़ना, और अन्य गतिविधियों को करने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। ये समस्या केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में दिक्कत या फिर किसी वजह से नुकसान पहुंचने से होती है। मोटर कंट्रोल न होने के कारण आदमी अपने वश में नहीं रहता है और चाहते हुए भी काम नहीं कर पाता है। आर्थोपेडिक चोटों के कारण भी अटैक्सिया गठिया या मांसपेशियों के चोट से दर्द की समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें : Acanthosis nigricans: एकैंथोसिस निगरिकन्स क्या है?

कितना आम है अटैक्सया ?

अटैक्सिया बढ़ती उम्र में होने वाली समस्या है लेकिन, ऐसी स्थिति में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

लक्षण

अटैक्सिया (Ataxia) के लक्षण क्या हैं ?

अटैक्सिया के सामान्य लक्षण

  • कमजोर समन्वय( Poor coordination)
  • अस्थिर चलना और ठोकर खाने की प्रवृत्ति
  • मोटर टास्क में समस्या जैसे कि लिखने, खाने या शर्ट का बटन लगाने में दिक्कत।
  • बोलने में बदलाव।
  • आंख की गति में समस्या।

हो सकता है कि ऊपर कुछ लक्षणों के बारे में नहीं बताया गया हो। यदि आपको उपरोक्त कोई लक्षण दिखाई दें तो कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: क्या है मानसिक बीमारी और व्यक्तित्व विकार? जानें इसके कारण

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपको ये लक्षण दिखाई दें..

  • संतुलन खो देना।
  • हाथ या पैर की मसल्स में कॉर्डिनेशन न हो पाना।
  • चलने में कठिनाई होना।
  • आवाज का कम हो जाना
  • निगलने में कठिनाई होना (खाना खाने में परेशानी होना)।

Causes

किस कारण होता है अटैक्सिया (Ataxia) ?

नर्वस सिस्टम में असामान्यता के कारण अटैक्सिया की समस्या हो जाती है। इस बीमारी में सेंट्रल नर्वस सिस्टम (ब्रेन और स्पाइनल कॉर्ड) और पेरीफेरल नर्वस सिस्टम (रूट और तंत्रिकाएं जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को मांसपेशियों, त्वचा और बाहरी दुनिया से जोड़ती हैं) भी प्रभावित होता है। सेरिबैलम(cerebellum) की शिथिलता के कारण पेशेंट को चलने और किसी भी चीज के साथ कॉर्डिनेट करने में समस्या होती है।

दिमाग में होते हैं ये बदलाव

सेरिबैलम राउंडेड स्ट्रक्चर होता है जो कि ब्रेनस्टेम के सेंट्रल पोर्शन में जुड़ा होता है। सेरिबैलम का बाहरी भाग अनगिनत नर्व सेल्स से घिरा रहता है। इसे सेरबेलर कॉर्टेक्स (cerebellar cortex) कहते है। कॉर्टेक्स तीन लेयर का न्यूरॉन्स सेट है। ये एक-दूसरे से इंटरकनेक्टेड रहता है और एक उच्च नियमित ज्यामितीय संगठन बनाता है। सेंसरी अटैक्सिया में पैरों कि प्रतिक्रया के बारे में मालूम नहीं पड़ता है। जब सेंसरी अटैक्सया की समस्या होती है रोगी को नहीं पता चल पाता है कि उसका पैर जमीन को छू भी रहा है या नहीं।

और शरीर में आ जाती है अस्थिरता

सेरबेलर कॉर्टेक्स( cerebellar cortex) बॉडी के ज्यादातर हिस्सों और ब्रेन के दूसरे रीजन से जानकारी लेता है। फिर मस्तिष्क के बाकी हिस्सों को वापस संकेत भेजता है जो अच्छी तरह से कॉर्डिनेशन का काम करते हैं। अस्थिर चाल से तंत्रिका तंत्र या शरीर के विभिन्न हिस्सों में समस्याएं हो सकती हैं। सेरेबेलर शिथिलता के कारण मनुष्य चलने के दौरान अधिक डगमगाता है। देखने में प्रतीत होता है कि उसने शराब पी है। शराब सेरिबैलम में मुख्य तंत्रिका कोशिकाओं को प्रभावित करती है। एल्कोहाॅल का अधिक सेवन करने से सेरिबैलम में न्यूरॉन्स का पतन हो सकता है।

खतरे

अटैक्सिया (Ataxia) का रिस्क कैसे बढ़ सकता है ?

अटैक्सिया का खतरा निम्नलिखित कारणों से बढ़ सकता है। जैसे-

  • जेनेटिक कारण (परिवार में किसी सदस्य को अटैक्सिया होना)
  • स्ट्रोक जैसी बीमारी होना अटैक्सिया की संभावना को बढ़ा सकता है
  • शरीर में विटामिन-बी 12 की कमी होना
  • इम्यून सिस्टम कमजोर होना

इन बीमारियों के कारण अटैक्सिया का खतरा बढ़ जाता है।

अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

निदान और उपचार

प्रदान की गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

अटैक्सिया (Ataxia) का निदान कैसे किया जाता है?

यदि आपको अटैक्सिया है तो आपने डॉक्टर से संपर्क कर उपचार कराए। एक फिजिकल टेस्ट और न्यूरोलॉजिकल टेस्ट के बाद डॉक्टर आपकी मेमोरी, अटेंशन, सुनने की क्षमता, बैलेंस, कॉर्डिनेशन आदि चेक करेगा। साथ ही कुछ परीक्षण करेगा जैसे कि

इमेजिन स्टडीज (Imaging studies)– आपके मस्तिष्क का सीटी स्कैन संभावित कारणों को के बारे में पता लगाने में मदद करता है। एक एमआरआई कभी-कभी अटैक्सिया वाले लोगों में सेरिबैलम और अन्य मस्तिष्क संरचनाओं की बिगड़ा हुई स्थिति को दिखा सकता है। साथ ही रक्त का थक्का या ट्यूमर के बारे में जानकारी भी मिल जाती है। ट्यूमर आपके सेरिबैलम पर दबाव डाल सकता है।

स्पाइनल टैप – मस्तिष्कमेरु से तरल पदार्थ का एक नमूना निकालने के लिए पीठ के निचले हिस्से में एक सुई डाली जाती है। ये तरल पदार्थ आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में होता है, इसे परीक्षण के लिए एक प्रयोगशाला में भेजा जाता है।

आनुवंशिक परीक्षण– आपका डॉक्टर यह जानने के लिए आनुवंशिक परीक्षण के लिए कह सकता है कि कहीं आपके या आपके बच्चे में जीन उत्परिवर्तन तो इस बीमारी का कारण तो नहीं है।

बीमारी का इलाज कैसे किया जाता है?

अटैक्सिया के लिए कोई उपचार नहीं है। कुछ मामलों में उन दवाओं को रोक दिया जाता है जो इसका कारण बनती है। कुछ मामलों में अटैक्सया चिकनपॉक्स या अन्य वायरल संक्रमण के परिणामस्वरूप होता है। ये अपने आप ठीक भी हो जाता है। आपका चिकित्सक कुछ समस्याएं जैसे दर्द, थकान या चक्कर आना आदि मामलों में उपचार कर सकता है।

एडेप्टिव डिवासेस (Adaptive devices)

मल्टीपल स्केलेरोसिस या सेरेब्रल पाल्सी जैसी स्थितियों के कारण अटैक्सिया का इलाज नहीं हो पाता है। उस स्थिति में,

  • पैदल चलने के लिए लाठी का सहारा लेना।
  • खाने के लिए साफ बर्तन
  • बोलने के लिए सुविधा प्रदान कराना

कुछ थेरेपीज का इस्तेमाल करके आपको आराम मिल सकता है,जैसे-

  • गतिशीलता को बढ़ाने के लिए फिजिकल थेरिपीज का यूज
  • रोज़मर्रा के कामों में मदद जैसे कि खुद को खिलाना आदि के लिए ऑक्युपेशनल थेरिपी
  • आवाज को ठीक करने के लिए स्पीच थेरेपी

ये भी पढ़ें: चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

क्या घरेलू उपचार लिया जा सकता है ?

अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।यदि आपका कोई प्रश्न हैं, तो बेहतर समाधान के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें:-

क्या सुगंध आपके मूड को प्रभावित कर सकती है?

स्टडी: PTSD के साथ ही बुजुर्गों में रेयर स्लीप डिसऑर्डर के मामलों में इजाफा

जानिए सीनियर सिटीजन्स सेल्फ डिफेंस टिप्स

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/05/2021 को
और Admin Writer द्वारा फैक्ट चेक्ड
x