backup og meta

विटामिन और सप्लिमेंट्स सिर्फ बड़ों को नहीं बच्चों के लिए भी है जरूरी, लेकिन कैसे करें पूर्ति?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 22/06/2022

विटामिन और सप्लिमेंट्स सिर्फ बड़ों को नहीं बच्चों के लिए भी है जरूरी, लेकिन कैसे करें पूर्ति?

“मेरा बेबी अगर एक दिन भी कम खाता है, तो मुझे बहुत टेंशन होने लगती है। कभी-कभी मुझे ये भी लगता है कि क्या जो डायट मैं अपने बच्चे को दे रहीं हूं वो ठीक है भी नहीं! इन्हीं उलझनों में एक उलझा और मेरी ये है कि क्या बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स देना मेरा सही निर्णय है या नहीं?” ये कहना है मिसेज नीतू दयाल का, जो एक बच्चे की मां हैं। बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids) के बारें में सिर्फ मिसेज दयाल ही नहीं कई ऐसे पेरेंट्स हैं, जो बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स को लेकर उलझन में रहते हैं। आज इस आर्टिकल में किड्स विटामिन सप्लिमेंट्स (Kids Vitamin supplements) से जुड़ी सभी जानकारी आपसे शेयर करेंगे।

और पढ़ें: स्कूल के बच्चों का स्वास्थ्य कैसा होना चाहिए, जानिए उनके लिए सही आहार और देखभाल के तरीके के बारे में

किन बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स आवश्यक है? (Which Kids Need Vitamin Supplements?)

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids)

वर्किंग पेरेंट्स, सिंगल पेरेंट या केयर टेकर के कमी की वजह से कुछ बच्चों को बैलेंस और न्यूट्रिशन की आवश्यक मात्रा बच्चों को नहीं मिल पाती है। ऐसी स्थिति में पीडियाट्रिशियन बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स उनके डायट में शामिल करने की सलाह देते हैं। बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स खासकर निम्नलिखित स्थिति में रिकमेंड की जा सकती है। जैसे:

  • जिन बच्चों को ताजे (Fresh food) एवं साबुत अनाज (Whole grain) ना मिल पाए।

    डायट ठीक तरह से फॉलो नहीं कर पाने वाले बच्चे।

    जिन बच्चों को कोई बीमारी जैसे अस्थमा (Asthma) या डायजेशन से जुड़ी परेशानी  (Digestive problems) हो और ऐसी स्थिति में कुछ खास तरह की दवाओं का सेवन करना पड़ता हो।

  • फास्ट फूड (Fast food) या प्रोसेस्ड फूड (Processed food) का सेवन ज्यादा करने वाले बच्चें।
  • बच्चा अगर कोई खास तरह के डायट जैसे वेजिटेरियन डायट  (Vegetarian diet) या वीगन डायट (Vegan diet) फॉलो करता हो।
  • जो बच्चे अत्यधिक कार्बोनेटेड सोडा (Carbonated sodas) का सेवन ज्यादा करते हों।

इन ऊपर बताई गई स्थितियों में बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids) देने की सलाह पीडियाट्रिशियन जरूर कर सकते हैं। पेरेंट्स को कभी भी किड्स विटामिन सप्लिमेंट्स अपनी मर्जी से देना तय ना करें, क्योंकि यह बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स क्या-क्या आवश्यक है? (Vitamin supplements for kids)

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की कमी ना हो इसलिए निम्नलिखित खनिज तत्व की आवश्यकता हटी है। जैसे:

विटामिन ए (Vitamin A)-

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की लिस्ट में सबसे पहले बात आता है विटामिन ए। बच्चों के शरीर में विटामिन ए की पर्याप्त मात्रा बच्चे की इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने में मददगार होता है। वहीं विटामिन ए बच्चे की त्वचा, आंख, हड्डियों के विकास एवं टिशू के निर्माण में सहायक होता है।

विटामिन ए की पूर्ति के लिए क्या करें?

पेरेंट्स बच्चों को दूध, अंडे, गाजर, स्क्वैश एवं रतालू जैसे खाद्य एवं पेय पदार्थों का सेवन करवाना चाहिए।

विटामिन बी (Vitamin B)-

विटामिन बी का यहां मतलब है बी 2, बी 3, बी 6 एवं बी 12 जैस सभी विटामिन्स से है। बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids) की लिस्ट में इनसभी विटामिन को शामिल करना आवश्यक होता है, क्योंकि इससे बच्चों के शरीर का मेटाबॉलिस्म बेहतर होता है, बॉडी को एनर्जी मिलती है, नर्वस सिस्टम ठीक तरह से काम करता है।

विटामिन बी (Vitamin B) की पूर्ति के लिए क्या करें?

बच्चों के शरीर में विटामिन बी की कमी को दूर करने के लिए नट्स, दूध, चीज, बीन्स एवं सोयाबीन उनके डायट में शामिल करें। वहीं अगर आपका बच्चा नॉनवेजिटेरियन खाने का शौकीन है, तो आप बच्चे को चिकन, फिश, एग या मीट का सेवन करवा सकते हैं।

और पढ़ें: बार-बार बीमार होना और थका हुआ फील करना है विटामिन डी की कमी के लक्षण

कैल्शियम (Calcium)-

बच्चों के शरीर के विकास के लिए कैल्शियम की अत्यंत खास भूमिका मानी जाती है। इसलिए बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की लिस्ट में कैल्शियम रिच फूड ( Calcium rich food) जरूर शामिल करें।

कैल्शियम की पूर्ति के लिए क्या करें?

दूध, योगर्ट, चीज, टोफू एवं ऑरेंज जूस का सेवन करवाना लाभकारी होता है।

आयरन (Iron)-

आयरन की कमी कई सारी शारीरिक परेशानियों पैदा कर सकता है। आयरन की कमी रेड ब्लड सेल्स (Red Blood Cells [RBC]) के निर्माण में बाधा पहुंचा सकती है। वहीं आयरन की कमी उन लड़कियों के लिए अत्यधिक नुकसानदायक हो सकती हैं, जो मेंस्ट्रुएशन (Menstruation) के करीब हों। ऐसी स्थिति में अडोलेसेन्स (Adolescence) से जुड़ी परेशानियों का खतरा बढ़ सकता है।

आयरन की पूर्ति के लिए क्या करें?

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की लिस्ट में आयरन से भरपूर खाध पदार्थों को जरूर शामिल करें। जैसे रेड मीट (Red meats), पालक (Spinach), बिन्स (Beans), सूखा आलूबुखारा (Prunes) आदि का सेवन करवाया जा सकता है।

प्रोटीन (Protein)-

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की लिस्ट में प्रोटीन को भी शमिल करना बेहद जरूरी है। प्रोटीन की मदद से मसल्स का निर्माण होता है और जिन खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, उसे तोड़कर ऊर्जा मिलने में सहायक होती है। यही ऊर्जा बच्चों को एनर्जेटिक रखती है। सिर्फ इतना ही नहीं प्रोटीन की वजह से बच्चों में संक्रमण (Infection) से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है और बॉडी में ऑक्सिजन लेवल भी बेहतर रहता है।

प्रोटीन की पूर्ति के लिए क्या करें?

बच्चों में प्रोटीन की कमी ना हो, इसलिए मीट, चिकन, मछली (Fish), अंडा, नट्स (Nuts), बीन्स (Beans) और डेयरी प्रोडक्ट्स (Dairy products) उनके डायट में नियमित रूप से शामिल करें।

और पढ़ें : स्कूल के बच्चों के लिए हेल्दी हेबिट्स क्यों है जरूरी? जानें किन-किन आदतों को बच्चों को बताना है बेहतर

नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ (National Institute of Health) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids) पर ध्यान देना बेहद जरूरी है। इसलिए पेरेंट्स को निम्नलिखित आवश्यक तत्वों को रेग्यूलर डायट में शामिल करना चाहिए। जैसे:

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids)

न्यूट्रिशन (Nutrient)    1 से 3 साल तक के बच्चों के लिए          4 से 8 साल के बच्चों के लिए

कैल्शियम                                   700 mg                                               100 mg

आयरन                                        7 mg                                                   10 mg

विटामिन ए                                  300 mg                                               400 mcg

विटामिन बी 12                            0.9 mcg                                              1.2 mcg

विटामिन सी                                 15 mg                                                  25 mg

विटामिन डी                                 15 mcg                                                15 mcg

पेरेंट्स को अपने बच्चे की डायट (Kids diet) में इन ऊपर बताई गई मात्राओं को ध्यान रखना चाहिए या डॉक्टर से कंसल्ट कर अपने अपने बच्चे के हेल्थ कंडिशन (Health condition) को ध्यान में रखते हुए डायट समझ सकते हैं।

और पढ़ें : छोटे बच्चों के लिए फोर्टिफाइड दूध की क्या है एहमियत, जानते हैं आप?

कैसे सुनिश्चित करें कि बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids) पर्याप्त मात्रा में मिल रहे हैं?

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids)

निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखकर आप बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की पर्याप्त मात्रा का ध्यान रख सकते हैं। जैसे:

  • बच्चों को डायट में अलग-अलग तरह के न्यूट्रिशनल फूड दें, जिससे बच्चों को पर्याप्त मात्रा में न्यूट्रिशन मिल सके।
  • लंच, डिनर और स्नैक्स में फल, सब्जियां, साबुत अनाज, लीन प्रोटीन, स्वस्थ वसा और डेयरी उत्पाद को शामिल करें।
  • अगर बच्चों को एक ही तरह का खाना खिलेंगे, तो वो बच्चों को पसंद नहीं आ सकता है। इसलिए अलग-अलग हेल्दी स्टाइल में बच्चों को स्नैक्स, लंच या डिनर सर्व करें।
  • बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स का ध्यान रखने के साथ-साथ बच्चों को ज्यादा चीनी खाने की आदत ना डालें। वहीं प्रोसेस्ड फूड (Processed food) भी ना दें।

बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स की कमी ना हो इसलिए उन्हें नियमित रूप से सिट्रस फ्रूट्स (Citrus fruit) जैसे स्ट्रॉबेरी (Strawberries), कीवी (Kiwi) किसी ब्रोकली (Broccoli) का सेवन करवाएं। उनके डायट में रेग्यूलर टमाटर और हरी पत्तेदार सब्जियां (Green vegetables) भी शमिल करें।

इन बातों को ध्यान में रखने के साथ-साथ डॉक्टर से भी कंसलटेशन जरूर करें, जिससे बच्चे को सही मात्रा में आवश्यक पोषण की पूर्ति हो सके और वो हेल्दी रह सके। विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements) की बैलेंस मात्रा बच्चों के विकास और सिखने की क्षमता में अत्यधिक सहायक होते हैं। इसलिए किसी के कहने या विज्ञापन देखकर बच्चों के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स का निर्णय नहीं लेना चाहिए।

और पढ़ें : एब्डॉमिनल माइग्रेन! जानिए बच्चों में होने वाली इस बीमारी के बारे में

नोट: बच्चों के शारीरिक विकास के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements) भी बाजार में अलग-अलग तरह के मिलते हैं, लेकिन इन दवाओं का सेवन अपनी मर्जी से ना करें और किसी के कहने या बताये अनुसार भी नहीं करना चाहिए। अगर बच्चे का विकास ठीक तरह से नहीं हो पा रहा है, तो डॉक्टर से कंसल्ट करें और डॉक्टर द्वारा प्रिस्क्राइब की गई विटामिन या सप्लिमेंट्स बच्चें को दें।

अगर आप किड्स के लिए विटामिन सप्लिमेंट्स (Vitamin supplements for kids) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। आप चाहें, तो हमें कमेंट बॉक्स या हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज पर भी अपना सवाल पूछ सकते हैं।

बच्चों के सेहत के विकास के लिए नींद भी अत्यधिक जरूरी है। कैसे? जानने के लिए खेलें नीचे दिए इस क्विज को

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 22/06/2022

advertisement iconadvertisement

Was this article helpful?

advertisement iconadvertisement
advertisement iconadvertisement