बच्चों की गट हेल्थ के लिए आजमाएं ये सुपर फूड्स

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 26, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

पिछले कुछ सालों में आपने गट हेल्थ के बारे में काफी कुछ सुना होगा। इसको सुनने के बाद हो सकता है, आपने अपनी गट हेल्थ को ठीक करने के लिए अलग-अलग प्रयोग भी किए होंगे। लेकिन पेरेंट्स को बच्चों की गट हेल्थ के बारे में जानना जरूरी है। वहीं पेरेंट्स का बच्चों की गट हेल्थ के बारे में जानना और उसको हेल्दी रखना भी जरूरी है। आपके बच्चे की गट हेल्थ को उनके गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में रहने वाले हजारों माइक्रोब्स से जोड़ा जाता है। ये माइक्रोब बैक्टिरिया, फंजाई और वायरस से मिलकर बनता है। इसमें से बहुत से माइक्रोब बच्चों की गट हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं और गट के पोषण के लिए फायदेमंट बैक्टिरिया ही देर तक बचते हैं और इससे बॉडी को फायदा होता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों की गलतियां नहीं हैं गलत, उन्हें समझाएं यह सीखने की है शुरुआत

बच्चों की गट हेल्थ को बेहतर बनाने के लिए उनका शरीर अलग-अलग प्रोसेस का इस्तेमाल करता है। बच्चे के पेट में रहने वाले अलग-अलग बैक्टीरिया में उन एजेंटों से बचाने की क्षमता होती है, जो बच्चों में रोग का कारण बन सकते हैं या इम्यून सिस्टम  को सपोर्ट करते हैं। इसके अलावा ये बैक्टिरिया खाने से पोषक तत्वों और ऊर्जा को निकाल सकते हैं और बच्चे के शरीर के कई प्रकार के कार्यों को प्रभावित कर सकते हैं।

बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी है हाई फाइबर फूड

फाइबर फायदेमंद बैक्टीरिया को फीड करने में मदद करता है, जिसकी उसे जरुरत होती है। फाइबर फूड सामान्य पाचन को बनाए रखने में भूमिका निभाता है, जिससे बच्चे के डाइजेस्टिव सिस्टम में सुधार होता है। हालांकि यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आपका बच्चा कैसा आहार ले रहा है। आजकल की लाइफस्टाइल में लोग प्रोसेस्ड फूड पर ज्यादा निर्भर होते हैं। जितना अधिक हमारे भोजन को प्रोसेस किया जाता है, उतना ही उस खाने में कम फाइबर होता है। अपने बच्चे को प्लांट बेस्ट फूड देने की कोशिश करें, जिससे उनका फाइबर इनटेक बढ़ें। हाई फाइबर फूड खाने से बच्चे की गट हेल्थ सुधरेगी और वह पूरी तरह हेल्दी रहेगा।

बीन्स

बीन्स पौधे-आधारित फाइबर के सबसे मजबूत स्रोतों में से एक हैं और फाइबर तथा प्रोटीन के लिए सबसे सस्ते सोर्स है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में भाषा के विकास के लिए पेरेंट्स भी हैं जिम्मेदार

फल और सब्जियां

ये रंग-बिरंगे फल और सब्जियां केवल देखने में अच्छे नहीं होते, बल्कि आपके बच्चों की गट हेल्थ के लिए भी अच्छे होते हैं। इन फलों और सब्जियों से आप एक से एक टेस्टी स्नैक्स बना सकते हैं।  यह आपके बच्चे को कई तरह के विटामिन और मिनरल्स भी देते हैं, जिसकी उनके शरीर को जरूरत होती है। ज्यादातर फलों और सब्जियों में फाइबर होता है, जो बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी होता है।

नट्स

नट्स ना केवल फैट और प्रोटीन के अच्छे सोर्स हैं, बल्कि वे फाइबर का एक मजबूत स्रोत हैं। इन्हें आपके बच्चों की गट हेल्थ के लिए अच्छा माना जाता है। इसको खाने से आपके बच्चों की गट हेल्थ बढ़ती है।

दाल

दाल में फाइबर का अच्छा अमाउंट होता है । यह ना केवल बच्चे की गट में गुड बैक्टिरिया के लिए अच्छा होता है, बल्कि यह बच्चों की गट हेल्थ के लिए भी काफी अच्छा होता है। इसको खाने से बच्चों को प्रोटीन के साथ-साथ फाइबर भी अच्छी मात्रा में मिलता है।

यह भी पढ़ेंः ब्रेन स्ट्रोक का कारण बन सकते हैं ये फूड्स

बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी है फ्लैक्स सीड

फ्लैक्स सीड शरीर के जरूरी बैक्टीरिया को खिलाने के लिए एक अच्छा फाइबर स्रोत है। अपने बच्चे के खाने से लेकर पीने की चीजों में फ्लैक्स सीड्स जोड़ने के बारे में सोचें। न केवल ये छोटे बीज जरुरी बैक्टिरिया को पोषण देते हैं, बल्कि उन्हें ओमेगा -3 भी उपलब्ध होता है। यह उनके दिमाग को हेल्दी बनाने में मदद करता है और बच्चों की गट हेल्थ के लिए भी जरुरी होता है।

प्रीबायोटिक्स भी है बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी

प्रीबायोटिक्स को फाइबर के रूप में जाना जाता है। लेकिन हर फाइबर एक प्रीबायोटिक नहीं है। गट में मौजूद फायदेमंद बैक्टिरिया प्रीबायोटिक फूड से पोषण लेते हैं, इसलिए इनकी जरुरत बैक्टिरिया को फीड कराने के लिए होती है। वे स्मॉल इंटेस्टाइन में नहीं पचते हैं और कोलन तक पहुंचने की क्षमता रखते हैं, जहां उन्हें गट माइक्रोब द्वारा फरमेंट किया जाता है। प्रीबायोटिक्स खिलाने से अच्छे बैक्टीरिया को पोषण मिलता है, जिससे खराब बैक्टिरिया गट से बाहर निकलते हैं। प्रीबायोटिक्स बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी है, क्योंकि यह गुड बैक्टिरिया के लिए फूड का काम करते हैं।

यह भी पढ़ेंः बच्चों के साथ ट्रैवल करते हुए भूल कर भी न करें ये गलतियां

बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी प्रीबायोटिक फूड्स

हरे केले (Green Banana)

जब आप केले की बात करते हैं, तो हमेशा पीला केला दिमाग में आता है। लेकिन, शायद आपको नहीं पता हरा केला एक प्रीबायोटिक फूड है। अगली बार से आप जब भी फल लेने जाएं तो हरे केले को अवॉयड ना करें। हरा केला आपके बच्चों की गट हेल्थ के लिए जरुरी फ्रूट है, जिसे आप कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

शतावरी (Asparagus)

यह रंगीन प्रीबायोटिक आपके अच्छे बैक्टीरिया के लिए एक शानदार फूड है। जिस तरह से यह आपके बैक्टिरिया के लिए अच्छा है, इसका सीधा असर आपके बच्चों की गट हेल्थ पर पड़ता है। यह बच्चों की गट हेल्थ के लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों का झूठ बोलना बन जाता है पेरेंट्स का सिरदर्द, डांटें नहीं समझाएं

लहसुन और प्याज

यह प्रीबायोटिक लगभग सभी घर में इस्तेमाल होते हैं। इसके बहुत से फायदे हैं। यह न केवल बच्चों की गट हेल्थ के लिए फायदेमंद हैं, बल्कि इसके दूसरे फायदे भी हैं। आपके लिए अपने बच्चों के खानें में इन आइटम को जोड़ना आसान भी है। ये पॉकेट फ्रेंडली हैं और इसको बनाना आसान है। बहुत से लोग प्याज को सलाद की तरह खाते हैं, जिसमें फाइबर भी होता है और यह प्री बायोटिक भी है।

बच्चों की गट हेल्थ उनके स्वास्थ के लिए बहुत जरुरी है। अगर बच्चे को गट में कोई परेशानी होती है तो उसका पूरा स्वास्थ खराब  हो सकता है। इससे बचने के लिए बच्चों को शुरु से हेल्दी खाना खाने की आदत डालें। उनके खाने में फाइबर, प्रीबायोटिक फूड को शामिल करें। इस तरह से उन्हें शुरु से ही इस तरह का खाना खाने की आदत होगी, जो आगे चलकर उन्हें गट से संबंधित किसी भी तरह की परेशानी से बचाएगा।

और पढ़ेंः

पेरेंट्स का बच्चों के साथ सोना बढाता है उनकी इम्यूनिटी

बच्चों को व्यस्त रखना है, तो आज ही लाएं कलरिंग बुक

बच्चों में चिकनपॉक्स के दौरान दें उन्हें लॉलीपॉप, मेंटेन रहेगा शुगर लेवल

बच्चों के अंदर पनप रही नेगेटिविटी को कैसें करें हैंडल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Quiz : न्यूट्रिशन की आवश्यक जानकारी के लिए खेलें क्विज

    न्यूट्रिशन के बारे मे जानिए जरूरी बातें

    Written by Nidhi Sinha
    क्विज फ़रवरी 11, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

    बच्चों में फूड एलर्जी के कारण, बच्चों में फूड एलर्जी क्यों होता है, फूड एलर्जी के लिए क्या करें, कैसे पहचाने फूड एलर्जी kids Food Allergy, जानें और

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Lucky Singh
    बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग दिसम्बर 13, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    अपनी प्लेट उठाना और धन्यवाद कहना भी हैं टेबल मैनर्स

    बच्चों को टेबल मैनर्स कैसे सिखाएं, Table Manners in kids, टेबल मैनर्स क्यों जरुरी है, बच्चों को बाहर खाना सिखाएं, क्यों सिखाएं बच्चों को बाहर खाना

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Lucky Singh
    बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग दिसम्बर 13, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चों को खड़े होना सीखाना है, तो कपड़ों का भी रखें ध्यान

    बच्चों को खड़े होना सीखाना टिप्स क्यों जरूरी है, बच्चों को खड़े होना सीखाना कैसे आसान बनाएं, बच्चों को खड़े होने के लिए जरूरी टिप्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Lucky Singh
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग दिसम्बर 13, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    दही के लाभ

    उम्र की लंबी पारी खेलने के लिए, करें योगर्ट का सेवन जरूर

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Shikha Patel
    Published on जून 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    शिशुओ-को-घमौरी

    जानें शिशुओं को घमौरी होने पर क्या करनी चाहिए?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi
    Published on अप्रैल 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    Roseola- रास्योला

    Roseola: रोग रास्योला?

    Written by Kanchan Singh
    Published on अप्रैल 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    डाउन सिंड्रोम की समस्या

    डाउन सिंड्रोम की समस्या से जूझ रहे लोगों के सामने जानिए क्या होते हैं चैलेंजेस

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on मार्च 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें