बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

शिशु के दांत साफ करना इतना मुश्किल नहीं होता है जितना की उनके लिए सही टूथपेस्ट का चुनाव करना होता है। सभी नए पेरेंट्स अपने बच्चे के लिए बेस्ट टूथपेस्ट चाहते हैं। आप चाहें तो बच्चे के लिए टूथपेस्ट का इस्तेमाल नहीं भी कर सकते हैं। शिशु के मुंह को केवल सफाई की आवश्यकता होती है और इसके लिए ब्रश की जरूरत होती है। टूथपेस्ट बच्चों के दांतों को सुरक्षित व साफ रखने के लिए अधिक महत्वपूर्ण नहीं होता है। ब्रश या किसी धागे की मदद से दांत साफ करना ज्यादा जरूरी होता है।

ब्रश की मदद से शिशु के मुंह में मौजूद गंदगी और कैविटी विकसित होने से रोकी जा सकती है। ब्रश मुंह के अंदर बायोफिल्म को जमने नहीं देता है जिसके कारण शिशु का मुंह और दांतों का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। यही कारण है कि ब्रश करना कैविटी को रोकने के लिए इतना महत्वपूर्ण होता है, लेकिन जैसा कि कई डेंटिस्ट कहते हैं की बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का इस्तेमाल करने से मुंह की सफाई में तेजी और अधिक सुरक्षा रहती है। इसलिए बच्चे को बचपन से ही टूथपेस्ट के साथ ब्रश करने की आदत डालनी चाहिए।

यदि आप अपने बच्चे के लिए बेस्ट टूथपेस्ट ढूंढ रहे हैं तो बता दें कि आज हम आपको आपके बच्चे की उम्र के हिसाब से टूथपेस्ट का चुनाव करने में मदद करेंगे। इस लेख में पढ़ें कि टूथपेस्ट क्या होता है, शिशु के लिए इसका महत्व और बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट के क्या फायदे होते हैं।

यह भी पढ़ें – बच्चों में याददाश्त बढ़ाने के उपाय

टूथपेस्ट क्या होता है?

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट में निम्न साफ-सफाई करने वाले पदार्थ मौजूद होते हैं :

  • हुमेक्टैंट, यह एक नेनोलिपिड जैल की तरह होता है जो नमी बनाए रखने में मदद करता है
  • 75 प्रतिशत पानी
  • 20 फीसदी अपघर्षी (abrasive) पदार्थ
  • 2 प्रतिशत झाग व फ्लेवर के घटक
  • 2 प्रतिशत पीएच प्रतिरोधी
  • 0.24 फीसदी फ्लोराइड

यह भी पढ़ें – गर्भावस्था में मतली से राहत दिला सकते हैं 7 घरेलू उपचार

बच्चों में टूथपेस्ट का इस्तेमाल क्यों आवश्यक है?

शिशु दांत टूथपेस्ट के साथ साफ करने से निम्न चीजों में मदद मिलती है :

अपने शिशु की उम्र के हिसाब से टूथपेस्ट कब चुनना चाहिए, इस बारे में बेहतर सलाह के लिए डेंटिस्ट से संपर्क करें। 

यह भी पढ़ें – लॉकडाउन में बच्चों के लिए रेसिपी: ऐसे घर में ही तैयार करें बच्चों की फेवरेट ब्राउनी और पिज्जा 

कौन सा टूथपेस्ट है बेस्ट

फ्लोराइड टूथपेस्ट में मौजूद सबसे महत्वपूर्ण पदार्थ होता है। टूथपेस्ट में यदि फ्लोराइड की पर्याप्त मात्रा मौजूद है तो उसकी ब्रांड और प्रकार जैसे जैल, पेस्ट या पाउडर से आमतौर पर कोई फर्क नहीं पड़ता है। सभी प्रकार के फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट प्लेग और कैविटी से लड़ने में प्रभावशाली होते हैं और दांतों व मसूड़ों को साफ और चमकाने में मदद करते हैं। आप चाहे टूथपेस्ट किसी भी ब्रांड का लें बस यह जरूर सुनिश्चित कर लें की वह भारत सरकार द्वारा प्रमाणित है या नहीं।

कुछ टूथपेस्ट में दांत के मैल को कंट्रोल करने के गुण होते हैं तो कुछ में उन्हें सफेद बनाने के, लेकिन फ्लोराइड सभी में एक सक्रिय पदार्थ के रूप में मौजूद होता है जो बच्चों के दांतों को मजबूत बनाने व उन्हें सुरक्षति रखने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें – प्रेग्नेंसी में कोरोना वायरस होने पर क्या होगा बच्चे पर असर? 

बच्चों को अलग प्रकार के टूथपेस्ट की आवश्यकता क्यों होती है?

शिशुओ और बच्चों को सामान्य टूथपेस्ट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। बच्चों में 3 साल की उम्र तक थूकने की काबिलियत विकसित नहीं हुई होती है जिसके कारण वह टूथपेस्ट में मौजूद रसायनों को निगल सकते हैं। बड़ो व बच्चों के लिए बाजार में उपलब्ध कई टूथपेस्ट खुद को प्राकृतिक बताते हैं जबकि वह मुंह और दांतों की सफाई के लिए हानिकारक होते हैं। अपने बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का चुनाव करने के लिए डेंटिस्ट से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें – बच्चे को सुनाई देना कब शुरू होता है?

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट पदार्थ

बच्चों के लिए सामान्य टूथपेस्ट हानिकारक हो सकते हैं लेकिन यदि उनके टूथपेस्ट में कुछ पदार्थों का परहेज किया जाए तो वह उनके लिए सुरक्षित हो सकते हैं। एक बार जब आपका शिशु टूथपेस्ट के इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाता है तो उसके लिए सही टूथपेस्ट का चयन करना बेहद मुश्किल हो सकता है। यदि आप अपने बच्चे के लिए बेस्ट टूथपेस्ट चाहते हैं तो उसके अंदर निम्न इंग्रेडिएंट्स जरूर मौजूद होने चाहिए :

बच्चों के टूथपेस्ट में मौजूद अधिकतर पदार्थ बड़ों के टूथपेस्ट से अलग होते हैं। बच्चे के टूथपेस्ट में दांतों को सफेद करने वाले और अन्य हानिकारक रसायन मौजूद नहीं होते हैं जो कि शिशु के मसूडों को प्रभावित कर सकते हैं। बच्चों के लिए केवल उन टूथपेस्ट का चुनाव करें जिन पर किड्स, टोडलर या चिल्ड्रन लिखा हो। इससे इस बात की पुष्टि हो जाती है कि टूथपेस्ट में हानिकारक पदार्थ मौजूद नहीं हैं। इसके अलावा बच्चों के टूथपेस्ट में सोडियम लॉरेल सल्फेट नहीं होना चाहिए क्योंकि यह मुंह के छालों की आशंका को बढ़ा देते हैं।

अधिकतर माता-पिता का यह सवाल होता है कि क्या उन्हें अपने शिशु के लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का चुनाव करना चाहिए? इसका जवाब है हाँ, अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के मुताबिक कम उम्र से ही फ्लोराइड का इस्तेमाल करने से आगे चल कर दांतों को सुरक्षित रखने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें – सेक्स और जेंडर में अंतर क्या है जानते हैं आप?

बच्चों के लिए ऐसा टूथपेस्ट चुनना चाहिए जिसमें हल्का और अच्छा फ्लेवर मौजूद हो। बच्चों को दांत साफ करवाना सिखाने में यह बेहद मददगार होता है। अच्छे स्वाद के कारण बच्चे नियमित रूप से ब्रश करने से मना नहीं करते हैं और एक अच्छी आदत अपना लेते हैं। हालांकि, शिशु के टूथपेस्ट में शक्तिशाली फ्लेवर जैसे पुदीना या दालचीनी से परहेज करें। बच्चों को फलों और बबल गम का स्वाद अधिक पसंद आता है।

इसके साथ ही अगर आप अपने बच्चे के लिए किसी प्राकृतिक टूथपेस्ट का इस्तेमाल करने की सोच रहे हैं तो बता दें कि आप ऐसा बिना किसी झिझक के कर सकते हैं। प्राकृतिक टूथपेस्ट लगातार लोगों के बीच लोकप्रिय होने लगे हैं। आपके शिशु के लिए प्राकृतिक टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना एक बेहतर विकल्प रहेगा क्योंकि इनमें किसी भी प्रकार के हानिकारक पदार्थ मौजूद नहीं होते हैं।

और पढ़ें – हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स से बच्चों को हो सकता है नुकसान, जाने कैसे?

और पढ़ें – बेबी रैशेज: शिशु को रैशेज की समस्या से कैसे बचायें?

और पढ़ें – बच्चों में काले घेरे के कारण क्या हैं और उनसे कैसे बचें?

और पढ़ें – बच्चों की लार से इंफेक्शन का होता है खतरा, ऐसे समझें इसके लक्षण

और पढ़ें – प्रेग्नेंसी के दौरान कीड़े हो सकते हैं पेट में, जानें इससे बचाव के तरीके

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    अपने बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं

    बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं? इस आर्टिकल से जानें कैसे जानवरों के प्रति अपने बच्चे को दयालु बनाएं, teach children kind to animals in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग जुलाई 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    बच्चे का मल कैसे शिशु के सेहत के बारे में देता है संकेत

    बच्चे का मल काला, हरा, लाल, सख्त, सॉफ्ट तो कभी पानी की तरह हो सकता है, हर मल की अपनी विशेषता है, जानें क्या करें व क्या नहीं, पढ़ें यह आर्टिकल।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Satish Singh
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग जुलाई 17, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

    बच्चों को नैतिक शिक्षा और सीख देने के क्या हैं फायदे? कम उम्र में सीखाएं यह बातें

    बच्चों को नैतिक शिक्षा और सीख देना क्यों जरूरी है, पैरेंट्स हो या स्कूल किन किन नैतिक शिक्षा को देना चाहिए। जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग जुलाई 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    क्या है अन्नप्राशन संस्कार, कब और किस तरीके से करना चाहिए, क्या है इसके नियम

    अन्नप्राशन संस्कार से जुड़ी हर अहम जानकारी के लिए पढ़ें यह आर्टिकल, पेरेंट्स क्या करें व क्या न करें ताकि आपका शिशु असहज महसूस न करें, जानें आर्टिकल में।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग जुलाई 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    शिशु में गैस की परेशानी

    शिशुओं में गैस की परेशानी का घरेलू उपचार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on अगस्त 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    How to Care for your Newborn during the First Month - नवजात की पहले महीने में देखभाल वीडियो

    पहले महीने में नवजात को कैसी मिले देखभाल

    Written by Sanket Pevekar
    Published on अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    नवजात के लिए जरूरी टीके – Vaccines for Newborns

    नवजात के लिए जरूरी टीके – जानें पूरी जानकारी

    Written by Sanket Pevekar
    Published on अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास

    बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास के लिए बचपन से ही दें अच्छी सीख

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on जुलाई 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें