home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

अच्छी ग्रोथ के लिए छह साल के बच्चे की डायट में शामिल करें ये चीजें!

अच्छी ग्रोथ के लिए छह साल के बच्चे की डायट में शामिल करें ये चीजें!

अक्सर मांओं के मन में प्रश्न होता है कि आखिर बच्चे के खाने में क्या शामिल किया जाए, कि उनको पर्याप्त पोषण मिल सके। बच्चों को हेल्दी खाना खिलाना भी कहीं न कहीं मांओं के लिए एक बड़ा टास्क होता है।बच्चों की हेल्दी ग्रोथ के लिए खाने में एसेंशियल न्यूट्रिएंट्स शामिल करना बहुत जरूरी होता है। हेल्दी ग्रोथ और डेवलपमेंट के लिए बच्चे के खाने में कार्बोहायड्रेट, प्रोटीन, फैट, कैल्शियम, आयरन, विटामिन बी12, विटामिन बी6 और विटामिन ए का होना बहुत जरूरी है। बच्चों की प्रत्येक खुराक बैलेंस्ड होनी चाहिए। अगर बच्चे के खाने में न्यूट्रीशन की कमी होती है, तो उसके शरीर में किसी प्रकार की समस्या भी हो सकती है। बच्चों के खाने में आरडीए (Daily recommended dietary allowance) बैलेंस होना चाहिए, तभी वो हेल्दी रहते हैं। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बच्चों का डायट प्लान या 6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart) संबंधित जानकारी देंगे।

और पढ़ें: बच्चों के लिए इंडियन ब्रेकफास्ट: इन आइडियाज से बच्चों को मिलें स्वाद और सेहत दोनों

6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart)

छह साल तक होते ही बच्चों की अपनी पसंद और नापसंद होती है। इस उम्र में कुछ ऐसे भी बच्चे होते हैं, जो एक ही प्रकार के खाने को पसंद करते हैं और हेल्दी खाने को देखकर भागने लगते हैं। बच्चों को टीवी देखकर या अन्य बच्चों की तरह ही फास्ट फूड्स पसंद आने लगते हैं। अगर आपके घर में अक्सर फास्ट फूड्स बनता है, तो हो सकता है कि आपके बच्चे को दूध, फ्रूट्स या वेजीटेबल्स ज्यादा पसंद न आएं। ये बच्चे के स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है। 6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart) प्रिपेयर करते समय आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि कहीं कोई न्यूट्रिएंट छूट न जाए। आपको उसकी डायट में डेयरी प्रोडक्ट से लेकर कार्ब, प्रोटीन, मिनिरल्स, विटामिंस आदि को शामिल करना बहुत जरूरी है। आप चाहे तो बच्चे की पसंद की सब्जियों को ज्यादा इस्तेमाल भी कर सकती हैं। जानिए 6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart) कैसा होना चाहिए और साथ ही किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

और पढ़ें: एडीएचडी वाले बच्चों के लिए फिन्गोल्ड डायट : जानिए इस खास डायट की पूरी एबीसीडी!

डेयरी प्रोडक्ट: डेयरी प्रोडक्ट में मिल्क (Milk), योगर्ट (Yogurt), चीज (Cheese) आदि सीमित मात्रा में शामिल कर सकते हैं। आप छह साल के बच्चे के लिए एक कप मिल्क का इस्तेमाल कर सकते हैं। डेयरी प्रोडक्ट्स कैल्शियम (Calcium), प्रोटीन का अच्छा सोर्स होती है।

प्रोटीन: फिश (Fish), पीनट बटर (Peanut Butter), मसूर की दाल या अन्य दालें।

फ्रूट/ वेजीटेबल्स: सीजनल फल, सब्जियां करीब आधा से एक कप।

ब्रेड/सीरियल्स: थायमिन, आयरन (Iron), नियासिन के लिए छह साल के बच्चे के खाने में व्होल ग्रेन ब्रेड, चावल, पास्ता (Pasta), सीरियल्स आदि जरूर शामिल करें।

और पढ़ें: बच्चों को विटामिन डी की कमी से बचाने के लिए इन 9 लक्षणों को ना करें इग्नोर

बच्चे की दिनचर्या में ये फूड्स कर सकती हैं शामिल-

सुबह उठने के बाद – दूध के बनी हुई दलिया, कुछ नट्स/ दूध के साथ व्होल ग्रेन टोस्ट (whole grain toast)

ब्रेकफास्ट – इडली सांभर / उपमा / ऑमलेट / उबले अंडे(Boiled eggs) / पोहा/ सीजनल सब्जियों से बना ओट्स।

स्कूल में – राजमा-चावल/ चने या फिर छोले के साथ रोटी/ सीजनल सब्जी के साथ परांठा/ वेजीटेबल स्टफ्ड परांठा।

लंच में बच्चों का खाना – अगर टिफिन में बच्चे को परांठा दिया है, तो लंच में आप दही के साथ बच्चे की फेवरेट दाल और चावल को एड कर सकते हैं। लंच में सैलेड भी शामिल करें।

शाम का नाश्ता – घर में तैयार किए हुए बनाना चिप्स/एक ग्लास दूध/ दाल से बना मीठा हलवा/रवे से बनी कोई डिश।

रात का खाना– रात का खाना हल्का होना चाहिए। आप बच्चे को खाने में दाल, सब्जी के साथ चपाती दे सकते हैं।

और पढ़ें: बच्चों के लिए गुड़ : इस्तेमाल से पहले पढ़ लें ये जरूरी बातें!

बच्चों का डायट प्लान: स्नैक्स का चयन करते समय रखें सावधानी

6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart) तैयार करते समय आपको स्नैक्स को लेकर अधिक सावधानी रखने की जरूरत है। बच्चों को मार्केट के चिप्स से लेकर ऐसे कई स्नैक्स होते हैं, जो बेहद पसंद आते हैं लेकिन इनमें पोषक तत्व नहीं होते हैं। बच्चे घर की अपेक्षा स्कूल में अधिक एक्टिव होते हैं और उसी दौरान उन्हें स्नैक्स के माध्यम से अधिक कैलोरी भी मिलती है। आप उनके टिफिन में पीनट बटर सैंडविच, चीज, योगर्ट, फ्रूट्स, वेजीटेबल्स स्टिक आदि हेल्दी स्नैक्स रख सकते हैं। आप बच्चे के लिए दो टिफिन तैयार करें। एक टिफिन में हेल्दी स्नैक्स (Healthy snacks) को जरूर शामिल करें। हेल्दी स्नैक्स उस समय बहुत काम आते हैं, जब बच्चों को बार-बार भूख लग रही हो।

बच्चों का डायट प्लान बनाते समय आपको साबुत अनाज यानी व्होल ग्रेंस को प्राथमिकता देने की जरूरत है। आप रिफाइंड ग्रेंस का भी चुनाव कर सकते हैं। बेहतर होगा कि बच्चे को जूस देने के बजाय आप उसे फल खाने के लिए कहें। बच्चों को पैक्ड जूस या फिर पैक्ड फूड्स न खिलाएं क्योंकि इनमें प्रिजर्वेटिव्स होते हैं। खाना बनाते समय अधिक शुगर या फिर नमक का इस्तेमाल न करें।

और पढ़ें: बच्चों के लिए छाछ फायदे : एक नहीं, दो नहीं, बल्कि हैं अनगिनत!

छह साल के बच्चे को एक दिन में कितनी दें कैलोरी?

छह से 12 साल के बच्चों को रोजाना 1,600 से 2,200 कैलोरी की जरूरत होती है। कैलोरी की मात्रा बच्चों के एक्टिव रहने के हिसाब से भी तय की जाती है। बच्चों को जरूरत के मुताबिक कैलोरी का सेवन करना चाहिए। अगर बच्चे अधिक कैलोरी लेते हैं और कैलोरी बर्न नहीं करते हैं, तो इस कारण से वेट बढ़ सकता है। घर के अंदर टीवी देखने या फिर मोबाइल देखने से कैलोरी बर्न नहीं होती है। अगर आपका बच्चा आउटडोर गेम (Outdoor games) नहीं खेलता है, तो उसे खेलने के लिए कहें। हेल्दी फूड्स खाने के साथ ही अगर शरीर को हेल्दी रखना है, तो फिजिकल एक्टिविटी (Physical activity) भी बहुत जरूरी होती है।

अगर बच्चे को किसी प्रकार की बीमारी है या फिर वो किसी हेल्थ कंडीशन (Health condition) से जूझ रहा है, तो ऐसे में आपको 6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart) बनाने से पहले डॉक्टर से राय जरूर लेनी चाहिए। कुछ बच्चों को दूध या फिर अन्य फूड्स से एलर्जी की समस्या हो सकती है, आपको उन चीजों से बने किसी भी फूड्स को उनके खाने में शामिल नहीं करना चाहिए। बच्चे को कभी भी जबरदस्ती खिलाने का प्रयास न करें। कुछ बच्चे तो जबरदस्ती खिलाने पर वॉमिट भी कर देते हैं। अगर बच्चे को भूख नहीं लगती है, तो आपको इस बारे में डॉक्टर को जानकारी देनी चाहिए क्योंकि ये समस्या किसी बीमारी से भी जुड़ी हो सकती है।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता है। इस आर्टिकल में हमने आपको 6 साल के बच्चे का डायट चार्ट (6 year old child food chart) के संबंध में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ दिन पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x