home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

गर्भावस्था में प्रेग्नेंसी पिलो के क्या हैं फायदे?

गर्भावस्था में प्रेग्नेंसी पिलो के क्या हैं फायदे?

प्रेग्नेंसी के दौरान नींद न आने की बात तो आपने सुनी होगी। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में कुछ भाग जैसे पेट (बेबी बंप), हिप्स और वेट बढ़ जाने के कारण लेटने, करवट लेने और सोने में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इन समस्याओं से कुछ हद तक राहत दिला सकता है प्रेग्नेंसी पिलो। इस आर्टिकल में जानिए कि किस तरह से प्रेग्नेंसी पिलो का यूज कर प्रेग्नेंट महिलाएं आराम की नींद सो सकती हैं।

प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही के दौरान सोने में ज्यादा परेशानी नहीं आती। जैसे ही प्रेग्नेंसी का समय बढ़ता जाता है और वेट बढ़ जाता है, सोने में परेशानी उठानी पड़ सकती है। तीसरी तिमाही के दौरान पेट के बल सोने में समस्या होती है।

इन दिनों आराम के लिए नॉर्मल पिलो का यूज राहत नहीं पहुंचाता है। ऐसे समय में प्रेग्नेंसी पिलो का यूज करना चाहिए। इसे मैटरनिटी पिलो के नाम से भी जानते हैं। इसके लाभ के कारण ही प्रेग्नेंसी के दौरान इसे सजेस्ट किया जाता है।

और पढ़ें : आईवीएफ (IVF) को लेकर मन में है सवाल तो जरूर पढ़ें ये आर्टिकल

कितने तरह का होता है प्रेग्नेंसी पिलो?

1. प्रेग्नेंसी वेज पिलो (Pregnancy Wedge Pillow)

इसे मैटरनिटी कुशन के नाम से भी जाना जाता है। वन साइड लेटने के बाद ये पेट और बैक को सपोर्ट करता है। इसे प्रेग्नेंसी के समय और प्रेग्नेंसी के बाद भी यूज किया जा सकता है। इसे आप यूज कर सकते हैं-

  • पेट के नीचे
  • पेट के पीछे की ओर
  • साइड में सपोर्ट के लिए

यह दो प्रकार का होता है।

  • राउंड प्रेग्नेंसी वेज पिलो
  • ट्राइएंगुलर प्रेग्नेंसी वेज पिलो

2. फुल लेंथ प्रेग्नेंसी पिलो

ये प्रेग्नेंसी पिलो साइज में बढ़े होते हैं। ये पूरी बॉडी के साइज के होते हैं। इसे आप आर्म और लेग के पास लगाकर कंफर्ट फील कर सकते हैं। इस पिलो की हेल्प से आप अपने टमी को सेंटर सपोर्ट भी कर सकते हैं। इसमें भी कुछ वैरायटी आती हैं जैसे-

  • स्ट्रेट फुल लेंथ प्रेग्नेंसी पिलो
  • फ्लेक्सिबल फुल लेंथ पिलो

और पढ़ें : पीएमएस और प्रेग्नेंसी के लक्षण में क्या अंतर है?

3. टोटल बॉडी प्रेग्नेंसी पिलो

इस पिलो का यूज प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही के दौरान करना सही रहता है। ये पिलो लंबा होता है जो नी और बैक पेन के दर्द से राहत देता है। ये पांच से छह फीट लंबा होता है। इससे स्पाइन को सपोर्ट मिलता है। इस पिलो के दो प्रकार होते हैं।

सी-शेप पिलो

जैसा कि नाम से पता चलता है कि इस तकिए का शेप इंग्लिश अल्फाबेट सी के शेप की तरह होता है। यह सिर, पेट, बैक और पैरों को सपोर्ट प्रदान करता है।

यू शेप-पिलो

यू शेप प्रेग्नेंसी पिलो उन महिलाओं के लिए अच्छा है जो पीठ के बल सोना प्रिफर करती हैं, लेकिन बेली का साइज बढ़ने के कारण इस पुजिशन में शो नहीं पाती। यह टमी और बैक के साथ ही पूरी बॉडी को सपोर्ट प्रदान करता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए रेगुलर तकिए क्यों नहीं काम करते हैं?

रेगुलर तकिए गर्भवती महिला को आवश्यक सपोर्ट प्रदान नहीं कर सकते हैं क्योंकि वे इसके लिए डिजाइन नहीं किए गए हैं। रेगुलर तकिए महिला के नींद में होने पर जब वह अनकंफर्टेबल फील करती है या दर्द में होती तो अपनी जगह से खिसक सकते हैं। जिससे असुविधा और शरीर में दर्द होता है। हालांकि, यदि आप गर्भावस्था के दौरान आप रेगुलर तकिए का उपयोग कंफर्टेबली कर रही हैं तो इसका उपयोग जारी रख सकती हैं।

प्रेग्नेंसी पिलो के प्रकार को जानने के बाद आइए जानते हैं इनको यूज करने के क्या फायदे होते हैं।

1. ब्लड सर्क्युलेशन को रखता है सही

प्रेग्नेंसी के दौरान डॉक्टर महिलाओं को एक करवट के बल सोने की सलाह देते हैं। ऐसा करने से ब्लड सर्क्युलेशन सही बना रहता है। ग्रोइंग बेली की वजह से सोने में असुविधा होती है। प्रेग्नेंसी पिलो की हेल्प से सॉफ्टनेस और कुशनिंग का अहसास होता है। प्रेग्नेंसी पिलो बॉडी के एब्डॉमन पार्ट को सपोर्ट करने का काम करता है।

2. कमर दर्द की समस्या में राहत

प्रेग्नेंसी के दौरान कमर दर्द होना आम समस्या होती है। इस वजह से महिलाओं को सोते समय दिक्कत होती है। अध्ययन में ये बात सामने आई है कि प्रेग्नेंसी के समय 50 से 80 % महिलाओं को कमर दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है। अगर आपको पेल्विक पेन की समस्या है तो प्रेग्नेंसी पिलो आपके लिए लाभदायक साबित हो सकता है।

और पढ़ें : आईवीएफ से जुड़े मिथ, जान लें क्या है इनकी सच्चाई?

3. लंबी नींद लेंगी तो मिलेगा चैन

प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेस होना आम है। इस दौरान नींद से राहत मिल सकती है। पिलो की हेल्प से आप रिलैक्स फील कर सकती हैं। आप जितना आराम महसूस करेंगी, आने वाले बच्चे को भी उतना ही रिलैक्स फील होगा।

4. डिलिवरी के बाद भी कर सकती हैं यूज

ऐसा नहीं है कि पिलो का यूज केवल प्रेग्नेंसी के दौरान ही किया जाता है। आप इसे प्रेग्नेंसी के बाद भी यूज कर सकती हैं। आप इसका यूज ब्रेस्टफीडिंग के दौरान भी कर सकती हैं। मार्केट में ये डिफरेंट शेप और साइज में उपलब्ध है।

और पढ़ें : क्या प्रेग्नेंसी कैलक्युलेटर की गणना हो सकती है गलत?

कब कर सकते हैं पिलो का यूज?

वैसे तो पिलो को यूज करने के लिए कोई समय तय नहीं किया गया है, लेकिन आप इसे 20 सप्ताह के बाद या उससे पहले उपयोग कर सकते हैं। 20 सप्ताह के बाद आपको जोड़ो में दर्द, कमर दर्द की समस्या हो सकती है। इस दौरान आप चाहे तो सपोर्ट बेल्ट का यूज भी कर सकती हैं।

प्रेग्नेंसी पिलो खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

क्या पिलो में रीमूवेबल कवर है?

पिलो का कवर उसे क्लीन रखने के लिए जरूरी रहता है। प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं के शरीर से पसीना अधिक निकलता है। अगर पिलो में कवर होगा तो इसे निकालना आसान होगा।

फिलिंग में क्या किया गया है यूज?

आपको पिलो खरीदते समय फिलिंग का भी ध्यान रखना होगा। कुछ पिलो में स्टायरोफोम बॉल भरी होती है। वहीं कुछ पिलो में पॉलिस्टर फाइबर, माइक्रो-बीड्स फिलिंग मेमोरी फोम फिलिंग, नेचुरल एंड ऑर्गेनिक फिलिंग होती है। आपके लिए जो फिलिंग कंफर्टेबल हो, उसे ही लें।

गर्भावस्था के दौरान नींद में सुधार के टिप्स:

  • बिस्तर पर जाने से पहले छोटे मील लें क्योंकि यह आपको हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स की समस्या से बचने में मदद करेगा।
  • मसालेदार और वसायुक्त भोजन से बचना भी सबसे अच्छा है क्योंकि ये पाचन को बिगाड़ सकते हैं।
  • व्यायाम और योग करके दिन के दौरान सक्रिय रहें। व्यायाम आपके शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करेगा और अच्छी नींद लाने में मदद करेगा।
  • दिन के दौरान बहुत सारे तरल पदार्थ पीती रहें, लेकिन बिस्तर पर जाने से पहले बहुत ज्यादा पानी या कोई ड्रिंक न पिएं क्योंकि रात के बीच में जागने से आपकी नींद में खलल पड़ेगा।

आपको प्रेग्नेंसी पिलो का चयन करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर कर लेना चाहिए। आपकी प्रेग्नेंसी स्थिति देखकर डॉक्टर आपको सही सलाह दे पाएंगे।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Pregnancy Pillow Options For Maternity/https://americanpregnancy.org/your-pregnancy/pregnancy-pillow/ (Accessed on 30th December)

8 best pregnancy pillows that help with back pain and side sleeping/. https://www.independent.co.uk/extras/indybest/kids/baby-tech-essentials/best-pregnancy-pillows-for-back-pain-front-sleepers-reviews-a7095866.html. (Accessed on 30th December)

Evaluation of a maternity cushion (Ozzlo pillow) for backache and insomnia in late pregnancy. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/2529841/. Accessed On 11 September, 2020.

Shape design of an optimal comfortable pillow based on the analytic hierarchy process method. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3315854/ Accessed On 11 September, 2020.

Sleep during pregnancy. https://www.pregnancybirthbaby.org.au/sleep-during-pregnancy. Accessed On 11 September, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/09/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x