लिकी ब्लैडर क्या है? प्रेग्नेंसी के बाद ऐसा होने पर क्या करें?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

आमतौर पर यूरिन तब पास की जाती है जब इसका एहसास होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में महिलाओं को ये एहसास दिनभर में कई बार हो सकता है। फ्रीक्वेंट यूरिनेशन के कारण कई बार महिलाओं को परेशान होना पड़ता है। लिकी ब्लैडर कुछ गतिविधियों के दौरान समस्या उत्पन्न कर सकता है। प्रेग्नेंसी के समय और बाद में फ्रीक्वेंट यूरिनेशन एक लक्षण के तौर पर दिखाई देता है। लिकी ब्लैडर की वजह से महिलाओं को तुरंत यूरिन पास हो जाती है। करीब 54.3 परसेंट महिलाओं को प्रेग्नेंसी के बाद कुछ नकारात्मक प्रभाव देखने को मिले। प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में इन लक्षणों को बढ़ता हुआ पाया गया है।

यह भी पढ़ें : डिलिवरी के बाद 10 में से 9 महिलाओं को क्यों होता है पेरिनियल टेर?

यूरिनरी इनकॉन्टिनेंट (urinary incontinence) के प्रकार

यूरिनरी इनकॉन्टिनेंट के कई प्रकार होते हैं। जैसे-

स्ट्रैस इनकॉन्टिनेंट (stress incontinence)

ब्लैडर में फिजिकल प्रेशर के कारण यूरिन पास होती है। लिकी ब्लैडर का ये मुख्य कारण हो सकता है। यह अक्सर तेज से हंसते, छींकते या खांसते समय दिखाई देता है।

अर्जेंसी इनकॉन्टिनेंस (Urgency incontinence)

ब्लैडर कॉन्टैक्शन के कारण अचानक से यूरिन आ जाना। यह तब होता है, जब अचानक से यूरिन करने की तेज इच्छा होती है, और उस समय ब्लैडर पर कंट्रोल नहीं हो पाता है। इसमें महिला बाथरूम तक जाने तक भी यूरिन रोकने पर नियंत्रण नहीं कर पाती है।

यह भी पढ़ें : पोस्टपार्टम इंकॉन्टीनेंस क्यों होता है? जानिए इसका इलाज

मिक्स्ड इनकॉन्टिनेंस (mixed incontinence)

ये स्ट्रैस इनकॉन्टिनेंस और अर्जेंसी इनकॉन्टिनेंस का कॉम्बिनेशन है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान होता है टेलबोन पेन, जानिए इसके कारण और लक्षण

ट्रांनसिएंट इनकॉन्टिनेंस  (transient incontinence)

यूरीनरी टैक इंफेक्शन (UTI) या कॉन्टिपेशन की वजह से टेम्परेरी यूरिन का पास होना।

लिकी ब्लैडर की समस्या मुझे कैसे पता चलेगी ?

प्रेग्नेंसी के समय वीक पेल्विक फ्लोर मसल्स के कारण महिलाओं को ब्लैडर और बाॅवेल संबंधी समस्या हो सकती है। लिकी ब्लैडर की समस्या होने पर अचानक से यूरिन पास हो जाती है। अगर महिला की पेल्विक मसल्स कमजोर हैं तो निम्न लक्षण दिख सकते हैं।

  • खांसते, छींकते, हंसते या एक्सरसाइज करते समय यूरिन का निकल जाना।
  • हवा पास करते समय दिक्कत होना।
  • अचानक से तेज यूरिन पास करने का मन होना। ऐसे में बाउल मूमेंट भी तेजी से महसूस हो सकता है।
  • बॉवेल मोशन के बाद सफाई करते समय परेशानी होना।
  • बाॅवेल मोशन के समय दिक्कत होना। पुजिशन को चेंज करना।
  • वजायना में सेंसेशन महसूस होना। इसे पेल्विक ऑर्गन प्रोलेप्स  (Pelvic organ prolapse) कहते हैं।

बेबी के पैदा होने के बाद मां को सेक्स के समय भी समस्या हो सकती है। डिलिवरी के बाद वजायना के आसपास टीयरिंग के कारण दर्द महसूस हो सकता है। ब्रेस्ट फीडिंग के समय ईस्ट्रोजन का लेवल कम हो जाता है जिस कारण से वजायना के आसपास ड्राई महसूस होता है। बेहतर ये होगा कि इस बारे में आप और आपका पार्टनर एक बार डॉक्टर से परामर्श लें।

यह भी पढ़ें : डिलिवरी के बाद बच्चे में किन चीजों का किया जाता है चेक?

कैसे काम करता है ब्लैडर?

लिकी ब्लैडर की समस्या से महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान और बाद में समस्या हो सकती है। हमारे शरीर में ब्लैडर कैसे काम करता है, इस बात की जानकारी भी होनी चाहिए। मूत्राशय यानी ब्लैडर गोल, मांसपेशियों वाला अंग है जो श्रोणि की हड्डियों ( pelvic bones) के ऊपर स्थित होता है। पेल्विक मसल्स इसे सपोर्ट करती हैं। ब्लैडर से बाहर यूरिन के लिए एक ट्यूब होती है जिसे यूरेथ्रा (urethra )कहते हैं। जब ब्लैडर से यूरिन पास हो जाती है तो ब्लैडर मसल्स रिलैक्स हो जाती हैं। जबकि स्फिन्क्टर मसल्स (sphincter muscles) यूरिन को पास होने के पहले तक ब्लैडर को क्लोज रखने में हेल्प करती हैं। जब ब्लैडर में यूरिन रहता है तो नर्व ये सूचना ब्रेन तक पहुंचाने का काम करती है। यूरिन पास करना है या नहीं, ये सूचना नर्व और मसल्स से ही हमें मिलती है। जब नर्व और मसल्स प्रॉपर काम करते हैं, तभी ब्लैडर भी नॉर्मल वर्क करता है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में सेक्स: क्या आखिरी तीन महीनों में सेक्स करना हानिकारक है?

चाइल्ड बर्थ के बाद क्या होता है?

चाइल्ड बर्थ के बाद लिकी ब्लैडर की समस्या कम हो जाए, ऐसा जरूरी नहीं है। वजायनल डिलिवरी के बाद मसल्स और नर्व इंजर्ड हो सकती हैं। लेबर के दौरान पुश करने में कई बार नर्व डैमेज हो जाती हैं। अमेरिकन कांग्रेस ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट्स ने माना कि सिजेरियन डिलिवरी के पहले साल के दौरान लिकी ब्लैडर की समस्या से निजात मिल सकता है। हो सकता है कि दो से पांच साल बाद तक महिलाओं को किसी भी दिक्कत का सामना न करना पड़ें।

यह भी पढ़ें : सी-सेक्शन से जुड़े मिथकों पर आप भी तो नहीं करते भरोसा?

लिकी ब्लैडर की समस्या से कैसे पाएं निजात?

लिकी ब्लैडर की समस्या से निजात पाने के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं। घर में ही एक्सरसाइज के माध्यम से इस समस्या का हल निकाला जा सकता है। अगर महिलाएं डिलिवरी के बाद कीगल एक्सरसाइज पर ध्यान देती हैं तो लिकी ब्लैडर से काफी हद तक छुटकारा मिल सकता है। कीगल एक्सरसाइज से पेल्विक फ्लोर मसल्स टाइट होती हैं। साथ ही मसल्स को स्ट्रेंथ मिलती है। अगर आपको कीगल मसल्स का पता लगाना है तो इसका आसान तरीका है। यूरिनेशन के दौरान कुछ समय के लिए रुक जाएं। जो मसल्स यूरिनेशन के फ्लो को रोकने का काम करती है, उसे की कीगल मसल्स कहते हैं। जब ये मसल्स ढीली पड़ जाती हैं तो बार-बार यूरिन पास करने का मन करता है।

यह भी पढ़ें : नॉर्मल डिलिवरी में मदद कर सकती हैं ये एक्सरसाइज, जानें करने का तरीका

कीगल एक्सरसाइज के दौरान

  • एब्डॉमिनल, थाई और बटॉक्स मसल्स को रिलेक्स करें।
  • पेल्विक फ्लोर मसल्स को टाइट करें।
  • पेल्विक मसल्स को 10 तक गिनने तक होल्ड रखें।
  • 10 तक गिनने के बाद पेल्विक मसल्स को रिलेक्स होने दें।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर डिलिवरी के छह सप्ताह बाद तक भी लिकी ब्लैडर की समस्या ठीक नहीं होती है तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। एक्सीडेंटल यूरिन लीक होने पर कोई अन्य हेल्थ कंडीशन होने की संभावना भी हो सकती है। ब्लैडर पर कंट्रोल न रहने पर कोई और बड़ी समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

डिलिवरी के बाद न्यू मॉम को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उनमें से एक लिकी ब्लैडर भी एक है। लेकिन, प्रसव के 6 सप्ताह के बाद भी यह समस्या बनी हुई है या प्रेग्नेंसी के दौरान आपको लिकी ब्लैडर की समस्या रही है तो इस बारे में एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें 

ये 10 बातें पति कभी अपनी प्रेग्नेंट पत्नी से न कहें

सी-सेक्शन स्कार को दूर कर सकते हैं ये 5 घरेलू उपाय

क्यों जरूरी है ब्रीच बेबी डिलिवरी के लिए सी-सेक्शन?

सिजेरियन डिलिवरी के दौरान कैसा हुआ महसूस? बताया इन मांओं ने

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Autrin: ऑट्रिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    ऑट्रिन दवा की जानकारी in hindi. डोज, साइड इफेक्ट्स, उपयोग, सावधानियां और चेतावनी के साथ रिएक्शन जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Ovral L: ओवरल एल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    ओवरल एल की जानकारी in hindi वहीं इस दवा के साइड इफेक्ट के साथ चेतावनी, डोज, किन बीमारी और दवाओं के साथ कर सकता है रिएक्शन, स्टोरेज कैसे करें के लिए पढें।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

    Urimax: यूरिमैक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    जानिए यूरिमैक्स( Urimax)की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, यूरिमैक्स, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

    अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण करना क्यों है जरूरी? जानिये अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट अगर पोजिटिव आये तो क्या है निदान। Alpha fetoprotein test in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Mousumi Dutta

    Recommended for you

    निफ्टास टैबलेट

    Niftas Tablet : निफ्टास टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    Published on जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    मिफेजेस्ट किट

    Mifegest Kit : मिफेजेस्ट किट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    Published on जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    लिवोजेन एक्सटी टैबलेट

    Livogen XT tablet : लिवोजेन एक्सटी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    Published on जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    सेक्स के बाद गर्भावस्था के लक्षण

    सेक्स के बाद कितनी जल्दी हो सकती हैं प्रेग्नेंट? जानें यहां

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जून 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें