backup og meta

मोटापे के कारण पुरुष भी हो सकते हैं इनफर्टिलिटी का शिकार!

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/12/2021

मोटापे के कारण पुरुष भी हो सकते हैं इनफर्टिलिटी का शिकार!

मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या (infertility problems) सिर्फ महिलाओं में ही नहीं, बल्कि पुरुषों में भी हो सकती है। 2006 में की गई रिचर्स के मुताबिक पुरुषों में 9 किलो वजन बढ़ने के साथ ही इनफर्टिलिटी (infertility) के 10 % चांस बढ़ जाते हैं। स्टडी में ये बात सामने आई है कि जो पुरुष ओवरवेट होते हैं उनके पार्टनर को कंसीव करने के दौरान लंबा समय लग सकता है। साथ ही मोटापे के कारण मिसकैरिज का रेट भी बढ़ जाता है। मोटापा इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट (infertility treatment) के दौरान भी समस्या खड़ी करता है। महिला हो या फिर पुरुष, दोनों का मोटापा इनफर्टिलिटी की वजह बन सकता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कैसे मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी होती है?

और पढ़ें : हेल्थ इंश्योरेंस से पर्याप्त स्पेस तक प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी है इस तरह की फाइनेंशियल प्लानिंग

पुरुषों में मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी (Infertility and obesity in men)

हाल ही में स्टडी में ये बात सामने आई है कि मेल ओबेसिटी (male obesity) के कारण पुरुषों में स्पर्म काउंट (Sperm count) और स्पर्म कॉन्सन्ट्रेशन (पर मिलियन सीमन में उपस्थित स्पर्म की संख्या) में कमी आ जाती है। पुरुषों के मोटापे के कारण टेस्टोस्टेरॉन में भी कमी हो जाती है।

हावर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में किए गए एक शोध के मुताबिक ओवरवेट पुरुषों (Overweight male) में नॉर्मल पुरुषों की अपेक्षा कम मात्रा में स्पर्म प्रोड्यूस होते हैं। कई बार स्पर्म न बनने के भी चांसेस रहते हैं। इस कारण से मोटे पार्टनर के चलते महिलाओं को कंसीव  करने में समस्या हो सकती है। इस दौरान 14 स्टडी में ओवरवेट पुरुषों में स्पर्म काउंट (Sperm count) और नॉर्मल वेट मेन को शामिल किया गया। रिजल्ट में सामने आया कि इजेकुलेशन के समय कुछ लोगों में से 11 प्रतिशत में लो स्पर्म काउंट पाया गया। वहीं 39 प्रतिशत लोगों में इजेकुलेशन के समय स्पर्म की उचित मात्रा नहीं पायी गई। 42 प्रतिशत ओबीस में लो सपर्म काउंट पाया गया। इस स्टडी में ये बात सामने आई कि मोटे पुरुषों में स्पर्म काउंट की कमी की वजह से इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

ओबेसिटी और इनफर्टिलिटी की समस्या : जानिए आप मोटे हैं या नहीं?

मोटापे से मतलब शरीर में अतिरिक्त चर्बी से है। माप का आधार हाइट और वेट होता है। बॉडी मास इडेक्स (BMI) की हेल्प से शरीर के मोटापे को मेजर किया जाता है। अगर आप को अपनी हाइट और वेट का सही अंदाजा है तो,

बीएमआई                               वेट स्टेटस

18.5 से कम                             अंडरवेट

8.5-24                                    नॉर्मल

25.0-29.9                              ओवर वेट

30.0-34.9                              मोटापा (क्लास फर्स्ट)

35.0-39.9                              मोटापा (क्लास सेकेंड)

40.0 या उससे अधिक             अत्यधिक मोटापा (क्लास थर्ड)

और पढ़ें : मरेना (Mirena) हटाने के बाद प्रेग्नेंट हुआ जा सकता है?

ओबेसिटी और इनफर्टिलिटी की समस्या : मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी और कम टेस्टोस्टेरॉन (Low testosterone) की समस्या

ओबेसिटी और इनफर्टिलिटी

मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या होती है क्योंकि ऐसे समय में शरीर में टेस्टोस्टेरॉन (Low testosterone) का स्तर कम होने लगता है। जिन पुरुषों में अचानक से मोटापा बढ़ता है, उनकी प्रजनन क्षमता कम होने लगती है। कम टेस्टोस्टेरॉन से स्पर्म की गुणवत्ता (Sperm quality) भी खराब हो जाती है। कम टेस्टोस्टेरॉन से सेक्स करने की इच्छा भी कम होने लगती है। यही कारण है कि मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या होने लगती है।

मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी है तो वजन घटाने से पड़ेगा असर?

अगर आपने वजन चेक किया और ओवरवेट से छुटकारा पाने के लिए वेट लूज करने की सोच रहे हैं, तो एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क करें। अगर मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी (Infertility) है तो इसे इंप्रूव किया जा सकता है। बैटर ईटिंग और एक्सरसाइज हैबिट (Exercise) से ऐसा संभव है। ऐसा करने के कुछ ही समय बाद ही आपकी फीमेल पार्टनर आसानी से कंसीव कर सकती हैं। अगर मोटापा किसी बीमारी की वजह से  नहीं है तो इसे कुछ आदतों के माध्यम से सुधारा जा सकता है। किसी अन्य वजह से मोटापा (Obesity) होने पर डॉक्टर सिर्फ डायट और एक्सरसाइज की सलाह की जगह सर्जरी के लिए भी कह सकता है।

और पढ़ें : सेकेंड बेबी प्लानिंग के पहले इन 5 बातों का जानना है जरूरी

मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी है तो घटाएं वजन (Weight loss)?

इस विषय पर अभी तक रिसर्च नहीं की गई है कि ज्यादा एक्सरसाइज करने से इनफर्टिलिटी (Infertility) को घटाया जा सकता है, लेकिन एक बात रिसर्च में जरूर आई है कि ज्यादा एक्सरसाइज करने से टेस्टोस्टेरॉन में कमी हो सकती है। टेस्टोस्टेरॉन में कमी से गर्भधारण में समस्या पैदा हो सकती है। इसके साथ ही ज्यादा एक्सरसाइज टेस्टिकल्स (Testicles) को नुकसान पहुंचा सकती हैं। अगर आपको ओवरवेट की समस्या है गर्भधारण की कोशिश भी कर रहे हैं तो बेहतर होगा कि एक बार डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : कैसा हो मिसकैरिज के बाद आहार?

ओबेसिटी और इनफर्टिलिटी की समस्या : मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की वजह

पुरुषों में सिर्फ मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी (Infertility) नहीं होती है। अन्य कारणों से भी इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है। कुछ कारण जैसे,

  • वेरिकोसेलस (Varicoceles) या नसों में सूजन की समस्या
  • रिप्रोडेक्टिव ट्रेक में इंफेक्शन
  • इजेकुलेशन के समय समस्या
  • कैंसर की बीमारी
  • हार्मोन इम्बैलेंस
  • मेडिकेशन
  • रिप्रोडेक्टिव ऑर्गन का फिजिकल डिफेक्ट
  • कुछ मेडिकल कंडिशन जैसे सीलिएक रोग, तनाव (Stress), शराब का सेवन, इंडस्ट्रीयल केमिलकल आदि से भी पुरुषों में इनफर्टिलिटी की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
  • मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या तो बढ़ ही जाती है, लेकिन जो पुरुष मोटापा कम करने का प्रयास करते हैं, उन्हें बेहतर परिणाम भी मिल जाते हैं। अगर सही खानपान के साथ ही एक्सरसाइज की जाए तो फर्टिलिटी को बढ़ाया जा सकता है। मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या है तो इसे दूर करने के लिए उचित कदम उठाएं।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी है तो ध्यान रखें ये बातें

    मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या का इलाज करने के लिए आपको अपने शरीर पर ध्यान देना चाहिए। सबसे पहले अपने खानपान पर ध्यान दें। खानें में फैटी फूड को इग्नोर करना शुरू कर दें। साथ ही फाइबर फूड को अपनाएं। ऐसा करने से हाजमा दुरस्त होगा और शरीर में अतिरिक्त वसा जमा नहीं होगा। घर के खाने से ही अपनी भूख मिटाएं। बाहर का खाना अनहेल्दी होने के साथ ही शरीर में अधिक मात्रा में फैट जमा करता है। शरीर में पानी की कमी न होने दें। रोजाना आठ से नौ ग्लास पानी पिएं। ऐसा करने से पाचन सही रहेगा। अगर शरीर को सही मात्रा में पोषण मिलता रहे और पाचन क्रिया सही रहे, तो मोटापे की समस्या नहीं होती है। हेल्दी रहने के लिए व्यायाम का सहारा लेना भी जरूरी है। रोजाना वॉक करना अपनी आदत में शामिल करें। साथ ही योगा भी किया जा सकता है। मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या को कुछ समाधान करके खत्म किया जा सकता है।

    अगर कुछ बातों को रोजाना अपनाया जाए तो मोटापे की समस्या कम हो सकती है। मोटापे कम होने के साथ ही स्पर्म की क्वालिटी में भी सुधार आएगा। मेल फर्टिलिटी की जांच के लिए डॉक्टर टेस्ट करता है। अगर आपको भी मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या है तो एक बार डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। सीमन एनालिसिस के बाद और भी टेस्ट किए जा सकते हैं। मोटापे के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या का पता चल जाने पर डॉक्टर उचित समाधान भी बताएंगे।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/12/2021

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement