home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डिलिवरी के बाद बच्चे को देखकर हो सकती है उदासी, जानें बेबी ब्लूज से जुड़े फैक्ट्स

डिलिवरी के बाद बच्चे को देखकर हो सकती है उदासी, जानें बेबी ब्लूज से जुड़े फैक्ट्स

क्या आप भी मां बनने के बाद डिप्रेशन में चली गई हैं? अगर आपका जवाब हां है तो यह सामान्य सी बात है। शायद आपको हैरानी होगी सुनकर कि कई महिलाओं को प्रसव के बाद बेबी ब्लूज और पोस्टपार्टम डिप्रेशन (Postpartum Depression) से गुजरना पड़ता है। वहीं, अगर आकड़ों की बात की जाए तो डिलिवरी के तीन से दस दिनों के बाद महिलाओं में एक तरह की मानसिक स्थिति देखने को मिलती है, जिसे बेबी ब्लूज (Baby Blues) कहते हैं। इस आर्टिकल में जानते हैं प्रसव के बाद होने वाले डिप्रेशन से जुड़े कुछ फैक्ट्स के बारे में-

बेबी ब्लूज के बारे में तथ्य

  • जिन महिलाओं में बायपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) होता है उनमें पोस्टपार्टम साइकोसिस (postpartum psychosis) की संभावना 40% अधिक होती है। उनमें से 10% मामलों में आत्महत्या या शिशु मृत्यु की संभावना देखी गई है।
  • अवसाद, चिंता विकार या गंभीर मूड विकारों वाली महिलाओं में डिलिवरी के बाद अवसाद होने की संभावना 30% से 35% अधिक होती है।

और पढ़ें : गर्भावस्था में आम है ये समस्या, जानें प्रेगनेंसी में सिरदर्द से बचाव के उपाय

बेबी ब्लूज पर क्या कहती है रिसर्च

  • एक अध्ययन में पाया गया कि एशियाई देशों में प्रसवोत्तर अवसाद (postpartum depression) की दर नई माताओं में 65% या उससे अधिक हो सकती है।
  • लगभग 70-80% न्यू मॉम को शिशु के जन्म के चार-पांच दिनों के बाद कुछ नकारात्मक भावनाओं का सामना करना पड़ता है। चाइल्ड बर्थ (child birth) के पहले सप्ताह के दौरान लगभग 80 प्रतिशत तक महिलाओं में ‘बेबी ब्लूज’ देखने को मिलता है।
  • डिलिवरी के बाद डिप्रेशन एक मनोदशा विकार (mood disorder) है जो महिलाओं को प्रसव के बाद प्रभावित कर सकता है।
  • डर, अत्यधिक सेंसिटिव होना, चिड़चिड़ापन और मूड स्विंग (mood swings) जैसी समस्याएं ज्यादातर स्त्रियों में प्रसव के बाद देखने को मिलती हैं, इसे ही बेबी ब्लूज (baby blues) कहा जाता है। ये किसी भी महिला को हो सकता है।

क्यों होता है बेबी ब्लूज?

  • बच्चे को जन्म देने के 3 से 5 दिन बाद मां असहाय, चिंतित, चिड़चिड़ी और परेशान महसूस करती हैं, जिसकी वजह से बेबी ब्लूज होता है।
  • डिलिवरी के बाद शुरुआती कुछ दिनों तक मूड स्विंग रहता है। समय के साथ जल्द ही यह समस्या दूर हो जाती है। अगर प्रसव के कई महीने बाद तक भी अगर महिला में ऐसे लक्षण मौजूद दिखें तो मेडिकल साइंस की भाषा में इसे पोस्टपार्टम डिप्रेशन कहा जाता है। आपको इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से जानकारी लेनी चाहिए।

और पढ़ें : अगर दिखाई दें ये लक्षण तो समझ लें हो गईं हैं पोस्टपार्टम डिप्रेशन का शिकार

डिलिवरी के बाद बेबी ब्लूज

  • बेबी ब्लूज में महिला को रोने की इच्छा, भूख और नींद न लगना, आत्महत्या का ख्याल आना आदि होता है।
  • बेबी ब्लूज का कारण, प्रसव के तुरंत बाद होने वाला हॉर्मोनल बदलाव है। प्रेग्नेंसी के बाद महिला में हॉर्मोनल बदलाव बहुत तेजी से होता है। इसकी वजह से नई मां को मूड स्विंग होता है।
  • बेबी ब्लूज आगे चल कर पोस्टपार्टम डिप्रेशन का रूप ले लेता है। इसके लक्षण बेबी ब्लूज से भी ज्यादा खतरनाक होते है।
और पढ़ें :प्रेग्रेंसी में होम फीटल डॉप्लर का इस्तेमाल करने से पहले जानें जरूरी बातें

भावनाओं में होता है तीव्र बदलाव

  • बेबी ब्लूज में मां को एक पल खुशी तो दूसरे पल उदासी महसूस होती है।
  • हारवर्ड हेल्थ पब्लिकेशन में प्रकाशित एक रिपोर्ट में तो यह बात भी सामने आई है कि मां के साथ-साथ पहली बार पिता बनने वाले 10 प्रतिशत और बच्‍चे के जन्‍म के बाद 25 प्रतिशत पुरुषों में भी पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन देखने को मिलता है।
  • 10% से 20% मामलों में न्यू मॉम्स में नैदानिक ​​प्रसवोत्तर (clinical postpartum depression) अवसाद मिलता है।
  • हारवर्ड हेल्थ पब्लिकेशन में छपी एक स्टडी में पाया गया कि जन्म देने के एक साल बाद तक हर सात में से एक महिला पीपीडी यानी पोस्टपार्टम डिप्रेशन का अनुभव कर सकती है। संयुक्त राज्य में हर साल लगभग चार मिलियन (40 लाख) महिलाएं बच्चों को जन्म देती हैं। इसका मतलब है कि लगभग छह लाख महिलाएं डिलिवरी के बाद अवसाद का अनुभव करती हैं।

और पढ़ें :कितना सामान्य है गर्भावस्था में नसों की सूजन की समस्या? कब कराना चाहिए इसका ट्रीटमेंट

बेबी ब्लूज से ऐसे करें बचाव

बेबी ब्लूज या पोस्टपार्टम डिप्रेशन से बचाव का सबसे अच्छा तरीका है कई तरीके के ट्रीटमेंट्स का संयोजन। यानी काउंसलिंग, दवाइयां और देखभाल के साथ-साथ मां बनी महिला को भावनात्मक सपोर्ट देना। काउंसलिंग में महिला को उसकी बीमारी के बारे में बताया जाता है, कि ये होना आम है और इससे कैसे निपटा जाए। लेकिन अगर डिलिवरी के बाद डिप्रेशन बहुत ज्याद है, तो इसके लिए डॉक्टर कुछ एंटी डिप्रेसेंट लिख सकता है। आपको इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

परिवार की लें मदद

बच्चे के जन्म के बाद यकीनन घर में खुशियां आ जाती है लेकिन एक बात का ध्यान हमेशा रखें कि नई मां बच्चे के जन्म के बाद कई विचारों से घिर जाती है। नई मां के मन में ये सवाल होता है कि वो कैसे बच्चे को पालेगी और साथ ही अपने स्वास्थ्य को कैसे जल्द वो ठीक कर पाएगी। बच्चे के जन्म के बाद मां शारीरिक रूप से कमजोर होती है, इसलिए वो अधिक परेशान रहती है। साथ ही उसे बच्चे की भी चिंता रहती है। इन सब बातों के बीच मूड का अचानक से परिवर्तन होना, चिंता होना, डिप्रेशन में चले जाना परिणाम के रूप में सामने आता है। ऐसे में परिवार के सदस्यों के साथ ही विशेष तौर पर बच्चे के पिता को पूरा सहयोग देना चाहिए। होने वाले पिता को समय-समय पर न्यू मॉम को ये एहसास दिलाना चाहिए कि वो हर कदम में उनके साथ हैं। साथ ही हर एक छोटी बात को भी ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से होने वाली मां की चिंता कम हो जाएगी और साथ ही पोस्टपार्टम डिप्रेशन की संभावना भी कम हो जाएगी। आपको इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

और पढ़ें : जीवनभर रहता है प्रसूति हिंसा का एहसास, जानें क्या है यह और क्या यह आपके साथ भी हो सकता है?

उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल की जानकारी पसंद आई होगी और आपको पोस्टपार्टम डिप्रेशन या बेबी ब्लूज से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें। उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आपको डिलिवरी के बाद किसी भी प्रकार की मानसिक समस्या से गुजरना पड़ रहा है तो बेहतर होगा कि आप इस बारे में एक बार डॉक्टर से बात जरूर करें। बिना सलाह से आपकी सेहत खराब हो सकती है, जिसका असर बच्चे की सेहत पर भी दिखाई पड़ सकता है।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/08/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x