प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट खाना सेफ है या नहीं?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Share now

प्रेग्नेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं? इस बात को लेकर अक्सर संशय रहता है। ऐसे ही गर्भावस्था में फलों के सेवन को लेकर भी कई तरह के सवाल खड़े हैं। उन्हीं में से एक है कि प्रेगनेंसी के दौरान ड्रैगन फ्रूट का सेवन करना सुरक्षित है या नहीं। आपको बता दें कि इसे पिताया के नाम से भी जाना जाता है। ऐसे तो ड्रैगन फ्रूट्स के फायदे बेशुमार हैं लेकिन, क्या प्रेग्नेंसी में पिताया के फायदे मिलते हैं? शिशु की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, कई गर्भवती महिलाओं को शंका होती है कि उन्हें गर्भावस्था के दौरान ड्रैगन फ्रूट खाना चाहिए। आइए जानते हैं कि प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट के फायदे, नुकसान और यह गर्भवती महिलाओं को कैसे प्रभावित कर सकता है।

ड्रैगन फ्रूट क्या है?

पिताया फ्रूट, हालांकि मध्य अमेरिका के कुछ हिस्सों के साथ-साथ दक्षिणी अमेरिका और मैक्सिको के क्षेत्रों का मूल फल है। लेकिन, भारत में भी यह कई जगह पाया जाता है। यह सुपरमार्केट में आसानी से देखा जा सकता है और इसे ऑनलाइन भी ऑर्डर किया जा सकता है। अंदर से यह कुछ हद तक कीवी फ्रूट की तरह दिखता है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में पानी का सेवन गर्भवती महिला और शिशु के लिए कैसे लाभकारी है?

क्या प्रेग्नेंसी में पिताया के फायदे मिलते हैं?

ड्रैगन फ्रूट पोषक तत्वों का खजाना है जिससे प्रेग्नेंट महिला के स्वास्थ्य के साथ-साथ शिशु की हेल्थ को भी बढ़ावा मिलेगा। बता दें कि पिताया में कार्बोहाइड्रेट की मौजूदगी गर्भवती महिला को एनर्जेटिक रखने में काफी फायदेमंद साबित होती है। इसमें कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा शिशु की हड्डियों की संरचना के विकास को प्रभावित करती है। साथ ही इसमें मौजूद आयरन, पोटैशियम और कई अन्य प्रोटिनों से इम्यूनिटी सिस्टम बूस्ट होता है। फोलिक एसिड से शिशु का न्यूरोलॉजिकल डेवलपमेंट बेहतर होता है। वहीं, प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट में मिलने वाला विटामिन सी, फाइबर और बीटा-कैरोटीन मां के स्वास्थ्य के लिए मूल्यवान होते हैं। इसमें मुख्य रूप से मौजूद लाइकोपीन हृदय समस्याओं और हाई ब्लड प्रेशर से निपटने में मदद करता है।

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट्स के फायदे

गर्भवती महिला के लिए ड्रैगन फ्रूट के विभिन्न लाभ निम्नलिखित हैं:

एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर

प्रेग्नेंसी के दौरान ड्रैगन फ्रूट का सेवन करना अच्छा माना जाता है क्योंकि यह विटामिन सी से भरपूर होता है। विटमिन सी  एस्कॉर्बिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है। एस्कॉर्बिक एसिड का सेवन कच्चे फल और सब्जियों के रूप में या जूस के रूप में करना गर्भवती महिला के लिए अच्छा माना जाता है। एंटीऑक्सिडेंट आपकी कोशिकाओं को फ्री रैडिकल्स से लड़ने में मदद करते हैं। इससे प्रेग्नेंट महिला की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती मिलती है। एक शोध से पता चलता है कि लाल ड्रैगन फ्रूट के एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव से सिगरेट के धुएं के संपर्क में आने से शिशु को होने वाले खतरे से बचाया जा सकता है। दरअसल, धूम्रपान के संपर्क में आने वाली गर्भवती महिलाओं में प्रसव के समय कम वजन वाले शिशु को जन्म देने का जोखिम हो सकता है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में स्किन प्रॉब्लम: गर्भवती महिलाएं जान लें इनके बारे में

न्यूरल बर्थ डिफेक्ट्स का खतरा कम

विटामिन सी के अलावा ड्रैगन फ्रूट में विटामिन बी 12 या फोलिक एसिड भी होता है। महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान बी 12 विटामिन की खुराक लेने की सलाह दी जाती है ताकि गर्भ में पल रहे शिशु की तंत्रिका वृद्धि सही तरीके से हो सके।

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट एनीमिया दूर करे

एक रिसर्च के अनुसार, गर्भवती महिलाओं में हीमोग्लोबिन और एरिथ्रोसाइट लेवल पर रेड ड्रैगन फ्रूट के रस का सेवन महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। हालांकि, पिताया के इस स्वास्थ्य लाभ के बारे में अभी सीमित अध्ययन ही मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में हर्बल टी से शिशु को हो सकता है नुकसान

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट गर्भकालीन मधुमेह को रोकता है

ड्रैगन फ्रूट में डायट्री फाइबर होते हैं। यह गर्भावस्था के दौरान बहुत अधिक महत्व रखता है क्योंकि हाई फाइबर फूड आपको शुगर क्रेविंग्स को रोकता है। इसके अलावा, उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ उन लोगों के लिए अच्छे माने जाते हैं जिन्हें जेस्टेशनल डायबिटीज है या जिन्हें मोटापे के कारण बाद में मधुमेह होने का खतरा है। इसके साथ ही उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ दिल की सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं।

यह भी पढ़ें : गर्भावस्था में जरूरत से ज्यादा विटामिन लेना क्या सेफ है?

हड्डियों के विकास में मददगार

गर्भ में पल रहे शिशु में हड्डी की संरचना को विकसित करने के लिए सिर्फ कैल्शियम की ही जरूरत नहीं होती है। बोन डेवलपमेंट में फास्फोरस भी एक आवश्यक भूमिका निभाता है, और ये दोनों ही दोनों ड्रैगन फ्रूट में उचित मात्रा में मौजूद होते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान ड्रैगन फ्रूट का सेवन मां की डेंटल हेल्थ को बनाए रखने में भी मददगार होता है।

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट इंफेक्शन से बचाता है

गर्भवती महिला के संक्रमित होने से गर्भ में शिशु को खतरा हो सकता है क्योंकि रोगाणु प्लेसेंटा से बेबी तक पहुंच सकते हैं। ड्रैगन फ्रूट सेलुलर रिजेनरशन (cellular regeneration) में मददगार होता है जिससे संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है। साथ ही साथ इसके एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण शरीर में पहले से मौजूद रोगाणुओं से लड़ने में हेल्पफुल साबित होते हैं।

यह भी पढ़ें : ओवर वेट गर्भवती महिला की कैसी हो डायट ?

प्रेग्नेंसी में पिताया से प्रीक्लेमप्सिया (preeclampsia) का खतरा दूर

प्रेग्नेंसी में हाई ब्लड प्रेशर स्थिति प्रीक्लेमप्सिया के जोखिम को बढ़ाती है। ड्रैगन फ्रूट ब्लड प्रेशर के साथ-साथ ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करने में मदद करता है। प्रेग्नेंसी के दौरान पिताया फल के सेवन गर्भावस्था से जुड़ी जटिलताओं का जोखिम कम कर सकता है।

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट खाने से कब्ज से राहत

प्रेग्नेंसी में कब्ज की समस्या काफी आम है। लेकिन, ड्रैगन फ्रूट के इस्तेमाल से इस समस्या से आसानी से निपटा जा सकता है। इसमें मौजूद हाई फाइबर गर्भवती महिला में कॉन्स्टिपेशन की समस्या को दूर करता है। प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट का नियमित सेवन करने से पाचन तंत्र को सामान्य स्थिति में वापस लाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में संतरा खाना कितना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट खाने से गर्भपात का जोखिम कम

पहली तिमाही के दौरान मिसकैरिज का खतरा अधिक होता है। ड्रैगन फ्रूट फोलिक एसिड से भरपूर होता है और इसके सेवन से गर्भपात का खतरा काफी हद तक कम किया जा सकता है।

गर्भावस्था में ड्रैगन फ्रूट के नुकसान क्या हैं?

प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट खाने के कोई बड़े दुष्परिणाम नहीं हैं। लेकिन, अगर आपको किसी तरह की एलर्जी का अनुभव होता है, जैसे कि खुजली, छींक, चकत्ते या मुंह में जलन तो इसे खाना बंद कर दें। अगर आपको पिताया फल से एलर्जी नहीं है, तो प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट के फायदे आपको मिल सके इसके लिए इसे संतुलित मात्रा में खाना चाहिए।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में बीपी लो क्यों होता है – Pregnancy me low BP

एक दिन में कितना ड्रैगन फ्रूट खा सकते हैं?

एक औसत आकार के ड्रैगन फ्रूट का वजन 350 से 400 ग्राम हो सकता है। गर्भवती महिलाओं को एक दिन में 200 ग्राम फल लेने की सलाह दी जाती है। यदि आप इसके सेवन के बारे में अनिश्चित हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

प्रेग्नेंसी डायट में ड्रैगन फ्रूट को कैसे शामिल करें?

अपने आहार में ड्रैगन फ्रूट को शामिल करने के कुछ तरीके हैं-

  • फल के अंदर के भाग को या तो क्यूब्स या स्लाइस में काटें। आप इसे अन्य फलों के साथ फ्रूट सैलेड के रूप में लें।
  • इसे नियमित फल के रूप में खाया जा सकता है।
  • जूस के रूप में भी इसको लिया जा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान ड्रैगन फ्रूट को शामिल करना आपके और शिशु के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। इस फल के कई लाभ आपके शिशु के विकास के लिए आवश्यक हैं। गर्भवती महिलाओं द्वारा बिना किसी चिंता के पिताया फल का सेवन एक सीमित मात्रा में किया जा सकता है। यदि आपको कोई मेडिकल कंडीशन है, तो इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में चर्चा करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें :

हेल्दी फूड्स की मदद से प्रेग्नेंसी के बाद बालों का झड़ना कैसे कम करें?

प्रेग्नेंसी में विजन प्रॉब्लम होता है क्या? जाने इसके कारण

गर्भावस्था में मलेरिया होने पर कैसे रखें अपना ध्यान? जानें इसके लक्षण

डिलिवरी के वक्त होती हैं ऐसी 10 चीजें, जान लें इनके बारे में

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Ovral L: ओवरल एल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ओवरल एल की जानकारी in hindi वहीं इस दवा के साइड इफेक्ट के साथ चेतावनी, डोज, किन बीमारी और दवाओं के साथ कर सकता है रिएक्शन, स्टोरेज कैसे करें के लिए पढें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण करना क्यों है जरूरी? जानिये अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट अगर पोजिटिव आये तो क्या है निदान। Alpha fetoprotein test in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mousumi Dutta

प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं, जाने कॉफी की सही मात्रा कितनी होती है। Intake of coffee during pregnancy in Hindi.

Written by Shivam Rohatgi
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें

एक्टोपिक प्रेग्नेंसी क्यों बन जाती है जानलेवा?

जानिए क्यों जानलेवा है ये एक्टोपिक प्रेग्नेंसी? क्या हैं इस प्रेग्नेंसी के लक्षण और कारण? क्या एक्टोपिक प्रेग्नेंसी का इलाज संभव है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha

Recommended for you

लिवोजेन एक्सटी टैबलेट

Livogen XT tablet : लिवोजेन एक्सटी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था के दौरान शहद के फायदे,

क्या आप जानते हैं गर्भावस्था के दौरान शहद का इस्तेमाल कितना लाभदायक है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
Published on जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सेक्स के बाद गर्भावस्था के लक्षण

सेक्स के बाद कितनी जल्दी हो सकती हैं प्रेग्नेंट? जानें यहां

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on जून 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ऑट्रिन

Autrin: ऑट्रिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें