home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

चमेली के फूल के 10 फायदे शायद नहीं होंगे पता

चमेली के फूल के 10 फायदे शायद नहीं होंगे पता

चमेली या जैस्मिन सफेद रंग का खुशबूदार फूल है जो कुछ ही पलों में अपनी खुशबू से मन को खुश कर देता है। इसकी खुशबू मनमोहक होती है और इसका प्रयोग कई तरह के परफ्यूम में किया जाता है। हालांकि यह अपनी खुशबू के लिए प्रसिद्ध है, लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि यह फूल सिर्फ खूशबू तक ही सीमित नहीं हैं बल्कि खूबसूरती बढ़ाने में भी आप चमेली के फूलों का उपयोग कई तरीके से​ किया जा सकता है।

चमेली के फूल का क्या अर्थ है?

चमेली के पौधे और फूल के अर्थ स्थान और संस्कृति के अनुसार अलग-अलग मान्यताएं रखते हैं। हालांकि, इस पौधे और इसके फूल को अक्सर प्यार, सुंदरता या कामुकता के प्रतीक के रूप में माना जाता है। इसका शुद्ध सफेद फूल पवित्रता का प्रतीक माना जा सकता है। इसका सफेद फूल बहुत ही कोमल होता है। इसके फूलों की भीनी महक काफी तेज होती है, तो कामुकता को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

और पढ़ेंः महुआ के फायदे : इन रोगों से निजात दिलाने में असरदार हैं इसके फूल

जानते हैं कैसे चमेली का फूल शरीर के अंगो के लिए फायदेमंद है ?

1) आरामदायक नींद लाने में मदद करता है

चमेली का उपयोग डिप्रेशन को दूर करने के लिए ज्यादातर चाय में किया जाता है। जैस्मिन ऑयल जब एरोमाथेरेपी में उपयोग किया जाता है तो यह नर्वस सिस्टम को एक्साइट करके मूड को एक्टिव कर देता है। यह आरामदायक नींद लाने में मदद करता है।

2) रिलेक्‍स करने में मददगार:

चमेली का फूल तंत्रिकाओं को शांत करने में बहुत कारगर है, जिससे आप रिलेक्स महसूस करते हैं। जैस्मिन के तेल में नारियल का तेल मिलाकर बॉडी मसाज करें। इसका उपयोग कई स्पा में अरोमाथेरेपी में किया जाता है।

और पढ़ेंः सेल्फ मसाज कैसे करें? जानिए इसके फायदे

[mc4wp_form id=”183492″]

3) स्‍कैल्‍प को स्वस्थ रखें:

चमेली के फूल के एंटीमाइक्रोबियल और एंटीसेप्टिक गुण स्‍कैल्‍प के संक्रमण को दूर करने में मदद करते हैं। जैस्मिन के तेल की कुछ बूंदे बादाम या नारियल तेल में मिलाकर धीरे-धीरे स्‍कैल्‍प पर मसाज करें। कुछ घंटों के बाद हल्‍के शैम्‍पू से बालों को धो लें। अच्‍छे परिणाम के लिए एक या दो महीने के लिए सप्‍ताह में एक बार इस उपाय को जरूर अपनाएं।

4) शरीर की दुर्गंध दूर करे:

अगर आप शरीर की दुर्गंध से छुटकारा पाने के उपायों की तलाश कर रहे हैं, तो जैस्मिन के फूलों का प्रयोग करें। जैस्मिन स्‍प्रे घर में ही बना सकते हैं। इसे बनाने के लिए एक स्‍प्रे बोतल लेकर उसमें पानी डालें। फिर इस पानी में एक चम्मच चमेली का तेल मिलाकर बोतल को अच्‍छी तरह से हिला लें। स्प्रे तैयार हो गया है। बॉडी पर स्‍प्रे करके आप शरीर की दुर्गंध को दूर कर सकते हैं।

और पढ़ेंः अगर आपके वजायना से आती है बदबू तो हो जाएं सावधान

5) बालों को कंडीशन करें:

जैस्मिन का फूल बालों को कंडीशन करने के लिए भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है। चमेली के फूलों को कुछ घंटों के लिए गर्म पानी में भिगों दें। फिर पानी को कमरे के तापमान पर ठंडा होने दें। अब बाल धोने के बाद इस पानी से बाल धो लें। यदि आपके बाल घुंघराले हैं तो इस मिश्रण में चमेली का तेल भी मिला लें।

6) चमकती त्वचा देता है:

जैस्मिन के तेल का उपयोग करने से कोमल और दमकती त्वचा पाई जा सकती है। यह तेल त्वचा की लोच बढ़ाता है, रूखी और सेंसिटिव त्वचा को निखारता है। आप अपने फेसवाश या लोशन में इस तेल की कुछ बूंदें मिला सकते हैं, या फिर नारियल तेल के साथ चमेली के तेल की कुछ बूंदें मिलाकर मालिश भी कर सकते हैं।

7) त्वचा को टाइट करें:

चमेली के फूल में ऐसे गुण होते हैं जो दिनभर आपकी त्‍वचा को मॉश्‍चराइज रखने में मदद करते हैं। हालांकि आप चमेली के फूल का उपयोग सीधे अपनी त्‍वचा पर नहीं कर सकते इसलिए चमेली के अर्क वाले क्रीम या लोशन का इस्तेमाल करें।

और पढ़ेंः ब्यूटी एक्सपर्ट का दिया हुआ ये मंत्रा अपना कर दें एजिंग को मात

8) निशान मिटाए:

चमेली का तेल फोड़े और मुंहासों के कारण होने वाले जख्मों को सुखा देता है। यह स्ट्रेच मार्क्स को भी ठीक करता है। इसीलिए अगर मुंहासें या फोड़े के निशान हैं तो इसके अर्क या उससे बने तेल या क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं।

9) एंग्जायटी के लक्षण कम करने में मदद करे

जैस्मीन या चेमली का फूल एंग्जायटी के लक्षणों को कम करने में काफी मददगार साबित हो सकते हैं। इसलिए, अक्सर लोग इसे एक इंडोर प्लांट के तौर पर घर और ऑफिस में इस्तेमाल भी करते हैं। इसके फूलों की भीनी-भीनी खुशबू मन को शांत करने में मदद कर सकते हैं।

10) कान बहने की समस्या का उपचार करे

चमेली का इस्तेमाल एक औषधी के तौर पर भी इसका किया जा सकता है। कान में दर्द या कान बहने की समस्या होने पर इसे एक औषधी के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए आपको चमेली के 20 ग्राम ताजे पत्तों को तिल के 100 मिली तेल में उबालना होगा। इसके बाद इस तेल को छान लें और ठंडा होने पर कान के अंदर इस तेल की एक-एक बूंद डालें। इससे कान बहने की समस्या, काम के दर्द या कान में खुजली की समस्या से राहत पाई जा सकती है। हालांकि, एक औषधी के तौर पर आपको इसका इस्तेमाल हमेशा अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट के परामर्श के बाद ही करनी चाहिए।

और पढ़ेंः बच्चों में कान के इंफेक्शन के लिए घरेलू उपचार

क्या चमेली का फूल खाद्य पदार्थ के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है?

चमेली का फूल खाद्य पदार्थ के रूप में इस्तेमाल करने पर कितना सुरक्षित हो सकता है, इस पर उचित जानकारी का आभाव है। हालांकि, जैस्मीन के फूल तेज सुगंध वाले होते हैं और पारंपरिक रूप से इसका इस्तेमाल सुगंधित चाय के लिए किया जाता है। हालांकि, एक बात का ध्यान रखें, चेमली की तरह ही दिखने वाले अन्य फूलों का इस्तेमाल खाद्य तौर पर करना स्वास्थ्य के लिए जोखिम भरा हो सकता है। अगर आप खाद्य के तौर पर चमेली के फूल या इससे बने किसी उत्पाद का सेवन करना चाहते हैं, तो किसी एक्सपर्ट से उसकी गुणवत्ता की पहचान अवश्य कराएं। अपने डॉक्टर की देखरेख और उचित परामर्श के बाद ही इसे आपको आहार के रूप में इस्तेमाल करना चाहिए।

चेमली का कौन सा प्रकार सबसे अधिक संगंधित फूलों वाला होता है?

चमेली का सबसे सामान्य प्रकार जैस्मीनम ऑफिसिनेल (Jasminum officinale), जिसे कभी-कभी कवियों की चमेली भी कहा जाता है, चमेली के सबसे सुगंधित प्रकारों में से एक माना जाता है। इसके फूलों की सबसे तेज सुंगंध गर्मियों के मौसम में महसूस की जा सकती है। इसका पौधा 12 से 24 इंच तक बड़ा हो सकता है और गर्मियों के मौसम में इसका पेड़ फूलों से खिल जाता है।

इन कारणों की वजह से चमेली एक अदभुत फूल है। इसके बहुत से फायदे हैं जिससे हमारी बॉडी की कई समस्याएं दूर हो सकती हैं। इसीलिए आप इसका इस्तेमाल आसानी से कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

JASMINE. https://www.rxlist.com/jasmine/supplements.htm. Accessed on 10 September, 2020.

Jasmine tea consumption and upper gastrointestinal cancer in China. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3236106/. Accessed on 10 September, 2020.

Flavonoids: The secret to health benefits of drinking black and green tea?. https://www.health.harvard.edu/heart-health/brewing-evidence-for-teas-heart-benefits. Accessed on 10 September, 2020.

Jasmine. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK501843/. Accessed on 10 September, 2020.

jasmine. https://tisserandinstitute.org/learn-more/jasmine-the-mood-enhacer/. Accessed on 10 September, 2020.

Jasmine – Chameli: Benefits, Remedies, Research, Side Effects. https://www.easyayurveda.com/2016/11/30/jati-jasminum-grandiflorum-sambac-jasminum-officinale/. Accessed on 11 September, 2020.

लेखक की तस्वीर
Sushmita Rajpurohit द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 20/04/2021 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड