home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

कैमिकल और फिजिकल सनस्क्रीन क्या है? सनस्क्रीन के टाइप के बारे में भी जान लें

कैमिकल और फिजिकल सनस्क्रीन क्या है? सनस्क्रीन के टाइप के बारे में भी जान लें

माना जाता है कि, सनस्क्रीन का इस्तेमाल सिर्फ गर्मियों में ही किया जाना चाहिए क्योंकि उस समय धूप तेज होती है और आपकी स्किन पर उसका हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है, लेकिन ऐसा नहीं है, सूरज की रोशनी आपकी त्वचा को किसी भी मौसम में प्रभावित कर सकती है। इसलिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल भी आपको हर बार धूप में निकलने से पहले जरूर करनी चाहिए। भले ही मौसम कोई भी हो, लेकिन अगर बाहर धूप है तो सनस्क्रीन का इस्तेमाल बेहद आवश्यक हो जाता है।

कई लोगों को सनस्क्रीन खरीदने और यूज करने से पहले उसके टाइप को लेकर कंफ्यूजन बना रहता है। चूंकि आजकल मार्केट में इतने सारे सनस्क्रीन के टाइप उपलब्ध हैं कि, कौन सा इस्तेमाल करें और कौन सा नहीं समझना मुश्किल हो सकता है। आज इस आर्टिकल के जरिए हम सनस्क्रीन को लेकर आपके मन में आने वाले सभी दुविधाओं को दूर कर रहे हैं। यहां हम आपको विशेष रूप सनस्क्रीन के सभी प्रकार और उसके फायदे एवं नुकसानों के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

सनस्क्रीन के टाइप: SPF/UV/UVA/UVB में क्या अंतर है?

हर बार मार्केट से जब आप कोई भी सनस्क्रीन खरीदते होंगे तो उसके पैकेट पर आपको SPF/UV/UVA/UVB आदि लिखा हुआ जरूर नजर आता होगा। अमूमन लोग केवल ज्यादा गुणवत्ता वाले SPF सनस्क्रीन को ही खरीदते हैं, लेकिन इसके अलावा भी विभिन्न रेज का ध्यान भी सनस्क्रीन खरीदते समय रखना चाहिए। आइए जानते हैं इन सभी विभिन्न रेंज में क्या प्रमुख अंतर है और इनका कंपोजिसन किसी भी सनस्क्रीन में होना क्यों जरूरी है।

और पढ़ें: नारियल क्यों है शरीर के लिए लाभकारी?

सनस्क्रीन के टाइप (Sunscreen Type) समझने से पहले समझते हैं कि SPF क्या है?

SPF यानि सन प्रोटेक्शन फैक्टर इसका इस्तेमाल सनस्क्रीन में आपको लंबे समय तक सूरज की रोशनी से बचाने के लिए किया जाता है। इसलिए सनस्क्रीन खरीदते समय ज्यादा से ज्यादा उच्च SPF वाला सनस्क्रीन टाइप को खरीदना चाहिए। हालांकि इसका उपयोग खासतौर से इस बात पर भी निर्भर करता है आप कितनी देर तक सूरज की रोशनी में बाहर रहते हैं। उदाहरण के तौर पर SPF 15 सनस्क्रीन टाइप का अगर आप इस्तेमाल करते है तो ये आपको 15 गुणा लंबे समय तक सूरज की रोशनी से बचाने का काम करती है।

और पढ़ें: क्या आप जानते हैं की सनस्क्रीन से नुकसान भी हो सकते हैं?

UV सनस्क्रीन (UV Sunscreen) क्या है?

UV सनस्क्रीन टाइप विशेष रूप से आपकी त्वचा को सूरज के हानिकारक अल्ट्रा वायलेट रेज से बचाने का काम करती है। सूरज के इस हानिकारक अल्ट्रा वायलेट रेज को ही दो विशेष केटेगरी में विभाजित किया गया है, UVA और UVB इन दोनों का भी सनस्क्रीन में मौजूद होना आवश्यक माना जाता है।

UVA सनस्क्रीन (UVA Sunscreen) क्या है?

यू वी रेज के साथ A विशेष रूप से एजिंग का मानक माना जाता है। इसे अल्ट्रा वायलेट एजिंग रेज के नाम से भी जाना जाता है। ये वो किरणें होती हैं जो आपकी त्वचा के सबसे गहरी और निचली परत तक पहुंच सकती है। ये किरणें आपकी स्किन के भीतर कोशिकाओं की संरचना को तोड़ने का काम करती है। इस वजह से ही स्किन पर फाइन लाइन, पिगमेंटेशन और मेलेनोमा की समस्या उत्पन्न होती है। इसलिए आपके सनस्क्रीन टाइप में ये UVA प्रोटेक्शन का गुण जरूर होना चाहिए।

UVB सनस्क्रीन क्या है? (UVB Sunscreen)

यू वी रेज के साथ B विशेष रूप से सनबर्न और त्वचा संबंधी रोगों के लिए जिम्मेवार माना जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, UVB रेज विशेष रूप से स्किन की भीतरी परतों को प्रभावित करती हैं और सनबर्न के साथ ही विभिन्न स्किन रोगों का कारण भी बन सकती है। ये हानिकारण किरणें स्किन कैंसर का कारण बन सकती है। इसलिए सनस्क्रीन में UVB प्रोटेक्शन का होना भी बेहद जरूरी माना जाता है।

सनस्क्रीन के टाइप

और पढ़ें: खिड़की से भी आती हैं यूवी रेज, इनडोर में भी करें सनस्क्रीन यूज

सनस्क्रीन के टाइप (Sunscreen Type) में फिजिकल और कैमिकल सनस्क्रीन क्या है?

फिजिकल सनस्क्रीन (Physical Sunscreen )

फिजिकल सनस्क्रीन में मुख्य रूप से कुछ ऐसे खनिज पदार्थ पाए जाते हैं आपकी त्वचा पर एक सुरक्षात्मक परत बनाते हैं। ये परत आपकी स्किन को खासतौर से हानिकारक यू वी किरणें जैसे UVB और UVA से बचाने का काम करती है। सनस्क्रीन के इस प्रकार को विशेष रूप से संवेदनशील त्वचा के लिए प्रभावी माना जाता है। यह आपकी स्किन के रोम छिद्रों को मिनीमाइज कर उसे सूरज के हानिकारक किरणों से बचाने का काम करती है। शोधकर्ताओं के अनुसार भारत में रहने वालों के लिए फिजिकल सनस्क्रीन का इस्तेमाल काफी है। इसमें UVB और UVA प्रोटेक्शन के साथ SPF 20 पाया जाता है, ये आपको अल्ट्रा वायलेट रेज से बचाने में अहम भूमिका अदा करती है।

कैमिकल सनस्क्रीन टाइप (Chemical Sunscreen Type)

बात अगर करें कैमिकल सनस्क्रीन की तो इसमें ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो आपकी त्वचा को खासतौर से हानिकारक अल्ट्रा वायलेट रेज से सुरक्षा प्रदान करती हैं। ये त्वचा के अंदर आने वाली इन खतरनाक किरणों को अवशोषित कर रासायनिक प्रक्रियों के द्वारा उनके प्रभाव को खत्म करने का काम करती हैं। कैमिकल सनस्क्रीन आमतौर पर फिजिकल सनस्क्रीन से थोड़े पतले होते हैं। इस सनस्क्रीन टाइप को त्वचा पर लगाना काफी आसान होता है। हालांकि, जिनकी त्वचा संवेदनशील होती है उन्हें कैमिकल सनस्क्रीन लगाने से त्वचा संबंधी दिक्कतें हो सकती हैं।

और पढ़ें: Sunburn: सनबर्न क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

सनस्क्रीन (Sunscreen) के टाइप से जुड़े इन तथ्यों को भी जरूर जान लें

  • NHS या कैंसर रिसर्च यूके के द्वारा आपको सबसे कम SPF 15 युक्त सनस्क्रीन लगाने की सलाह दी जाती है, चाहे आपकी स्किन टाइप कुछ भी क्यों ना हो। हालांकि, दूसरी तरफ ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ डर्मेटोलॉजिस्ट आपको SPF 30 लगाने की सलाह देते हैं, यदि आप धूप में ज्यादा देर के लिए निकल रहे हैं।
  • सनस्क्रीन खरीदते समय इस बात का ध्यान जरूर रखें कि, वो UVA और UVB दोनों से सुरक्षित हों। आपके सनस्क्रीन टाइप की रेटिंग 3 से 4 के बीच होना चाहिए।
    कैंसर रिसर्च सेंटर यूके अनुसार यदि आप माथा, बांह और हाथों को सूर्य की किरणों से बचाना चाहते हैं तो आपको करीबन दो चम्मच के बराबर सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • सनस्क्रीन को यदि आप घर में स्टोर करके रखते हैं तो उसे ऐसी जगह पर रखें जो ठंडी हो और जहां सूरज की रोशनी सीधी न पड़ती हो।

बहरहाल सनस्क्रीन से संबंधित इन आवश्यक जानकारियों को जानने के बाद अब आप भी इस बात का खास ध्यान रख पाएंगे कि आपके लिए कौन सा सनस्क्रीन बेहतर है। हमें उम्मीद है कि अब आपको सनस्क्रीन के टाइप को समझना आसान होगा। सनस्क्रीन के टाइप को लेकर किसी प्रकार का डाउट है तो एक्सपर्ट से सलाह लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Sunscreening Agents

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3543289/ Accessed on 4/03/2020

Sunscreen: How to Help Protect Your Skin from the Sun

https://www.fda.gov/drugs/understanding-over-counter-medicines/sunscreen-how-help-protect-your-skin-sun–  Accessed on 4/03/2020

Sunscreen burning facts

https://www.epa.gov/sites/production/files/documents/sunscreen.pdf  -Accessed on 4/03/2020

Sunscreen vs. Sunblock: Which One Should I Use?

https://www.healthline.com/health/sunscreen-vs-sunblock -Accessed on 4/03/2020

Sunscreen/ https://www.webmd.com/drugs/2/drug-366/sunscreen-topical/details/Accessed on 4/03/2020

लेखक की तस्वीर badge
indirabharti द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/04/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड