वजन घटाने के लिए यूज कर रहे हैं सेब का सिरका? तो एक बार उसके नुकसान भी जान लें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

एप्पल साइडर विनेगर यानी सेब का सिरका खाने में स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ सेहत के लिए भी चर्चा में रहता है। चाहें वजन घटाना हो या कोलेस्ट्रॉल कम करना हो। हर सवाल का जवाब सेब का सिरका माना जाने लगा है। ज्यादातर लोगों को आप यही कहते सुनेंगे कि सेब का सिरका शरीर के लिए कोई साइड इफेक्ट पैदा नहीं करता है। लेकिन यह बात सरासर गलत है। ​हर सिक्के के दो पहलु होते हैं, और इसी तरह फायदे के साथ साइड इफेक्ट्स का होना लाजमी है। इसलिए यदि आप वजन घटाने के लिए सेब का सिरका इस्तेमाल कर रहे हैं या करने जा रहे हैं तो, उसके नुकसानों के बारे में भी जान लें।

सेब का सिरका डायट में शामिल करने के ये हैं नुकसान

सेब का सिरका खाने के बाद पाचन क्रिया हो सकती है धीमी

वजन कम करने के चक्कर में यदि आप एप्पल साइडर विनेगर को खाने के तुरंत बाद पीते हैं तो, यह आदत तुरंत बदल लें। यह सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती है। यदि आप ऐसा करते हैं तो, एसीवी आपकी पाचन क्रिया को नकारात्मक तरह से प्रभावित करता है। इससे पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। पाचन क्रिया के धीमे होने के कारण गैस की समस्या, पेट में जलन आदि समस्याएं हो सकती हैं। यदि आप खाना खाने के बाद सेब का सिरका पीना चाहते हैं तो, खाना खाने के करीब 20 मिनट बाद ही सेब का सिरका पीएं।

और पढ़ें: वजन घटाने के लिए डाइट प्लान

डायबिटीज के मरीजों के लिए भी हो सकता है खतरनाक

गैस्ट्रोपरेसिस (Gastroparesis) यानी खाने का बहुत देर तक पेट में रह जाना। इसमें पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। सिरके के कारण यह स्थिति पैदा होना आम बात है। हालांकि यह स्थिति सभी के लिए नुकसानदायक हो सकती है पर डायबि​​टीज 1 के मरीजों के लिए यह और भी खतरनाक साबित हो सकती है। खाने की पाचन क्रिया के अनुसार ही इंसुलिन ली जाती है। सेब का सिरका पेट में होने के कारण पाचन के समय का अनुमान लगाना और भी मुश्किल हो जाता है।

एसीवी को सीधे तौर पर न लें

सेब का सिरका पेट की चर्बी कम करने का काम करके, आपके दांतों पर बुरा असर डाल सकता है। पानी में मिलाने के बाद भी सिरका एसिडिक माना जाता है। इससे आप यह अंदाजा लगा सकते हैं कि बिना पानी में मिलाया हुआ सेब का सिरका कितना ज्यादा एसिडिक हो सकता है। पानी में बिना मिलाए यदि आप इसे लेते हैं तो, यह आपके दांतों के एनामल यानी दांतों की ऊपरी परत को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए याद रखें कि कप या ग्लास से सेब का सिरका सीधे कभी न पीएं।

और पढ़ें: ऑर्गेनिक फूड (organic food) क्या है और क्या हैं इसके फायदे?

सेब का सिरका ज्यादा न पीएं

किसी भी चीज की अति ​खराब होती है। ऐसे ही सेब का सिरका ज्यादा पीना आपके लिए हानिकारक हो सकता है। शुरुआत करते समय खासकर यह याद रखें कि इसे कम से ही शुरू करें। मोटापा कम करने के लिए ज्यादा सिरका न पीएं। पहले तो सिरके को पानी में मिलाकर ही पीएं। दूसरा, दिन में एक या दो चम्मच ही एसीवी का इस्तेमाल करें।

सोने से तुरंत पहले सेब का सिरका न पीएं

एप्पल साइडर विनेगर का सेवन सोने से तुरंत पहले करना गलत होता है। इससे आपकी भोजन नली (Oesophagus) में परेशानी हो सकती है। भोजन नली की परेशानी से जलन, सीने में दर्द, उल्टी, खट्टी डकार जैसी समस्याएं हो सकती हैं। सोने से पहले यदि आप इसे पीना चाहते हैं तो, सोने के करीब आधे घंटे पहले सेब का सिरका पीएं।

और पढ़ें: ब्रो डायट (Bro diet) क्या है, क्यों लोग कर रहे हैं इसे इतना फॉलो?

सिरके से फेफड़ों पर बुरा असर पड़ता है

पहले आंखों को भाना चाहिए, फिर नाक में सुगंध जानी चाहिए तब जाकर जीभ स्वाद ले पाती है। हर खाने के लिए यही नियम फॉलो किया जाता है। इस नियम को एप्पल साइडर विनेगर के साथ न अपनाएं। चूंकि यदि आप इसे सूंघेंगे तो, यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है। एसीवी आपके फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है। फेफड़ों में जलन जैसी समस्या पैदा हो सकती है।

गले में खराश पैदा कर सकता है एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर से आपके गले को भी नुकसान पहुंच सकता है। इसके कारण गले में खराश हो सकती है। इसके लिए कोई शोध नहीं है लेकिन, कुछ केस पाए गए जिनमें देखा गया कि एसीवी से गले में खराश हो सकती है।

और पढ़ें: देर रात खाना सेहत के लिए पड़ सकता है भारी, हो सकती हैं ये समस्याएं

सेब का सिरका कैसे इस्तेमाल करें?

  • सेब का सिरका पानी में मिलाकर ही पीएं। सीधा सेवन कभी न करें।
  • शुरुआती दौर में कम ही सिरका इस्तेमाल करें। धीरे-धीरे इसका सेवन बढ़ाएं पर एक निश्चित मात्रा तक ही।
  • एसीवी को दांतों के सीधे संपर्क में न लाएं। इसे स्ट्रॉ के माध्यम से पीने पर दांतों पर बुरा असर नहीं पड़ता है।
  • दांतों पर इसका बुरा प्रभाव न पड़े इसलिए एसीवी को लेने के बाद कुल्ला कर लें। साथ ही करीब आधे घंटे के बाद ब्रश करें।
  • यदि खाना पचाने में आपको दिक्कत होती है तो, इसका इस्तेमाल न करें या बहुत कम कर दें।
  • हालांकि, इससे एलर्जी नहीं होती है। यदि एलर्जी जैसा महसूस हो तो, इसका उपयोग न करें या डॉक्टर से संपर्क करें।

सेब का सिरका लेते समय इन बातों का रखें ख्याल

  • ज्यादा मात्रा में सेब का सिरका डायट में शामिल करने से सेहत पर हानिकारक हो सकता है।
  • प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान सेब का सिरका निर्धारित मात्रा में ही लेना चाहिए। क्योंकि कई शोधो के बाद भी अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि यह किस तरह प्रेग्नेंट महिलाओं को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • अगर आप पहले ही किसी बीमारी से जूझ रहे हैं और इसको लेकर आपकी दवा चल रही है, तो ऐसे में जरूरी है कि आप सेब का सिरका अपनी डायट में निकाल दें।

मोटापा बहुत बड़ी समस्या है और इससे अन्य शारीरिक समस्याएं भी उत्पन्न होती हैं। इसका यह मतलब नहीं कि जो भी चीज चर्चा में हो वह आप अपना लें। हर फूड या एक्सरसाइज को उपयोग में लाने से पहले उसके फायदों और नुकसान के बारे में जानकारी हासिल कर लें। यदि आप किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो, डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कार्बोहाइड्रेट से परहेज करना, शरीर में इन समस्याओं को देता है दावत

शरीर के लिए कार्बोहाइड्रेट क्यों जरूरी है? शरीर के लिए गुड कार्ब्स जरूरी हैं। डायट में अच्छे कार्बोहाइड्रेट्स को शामिल करने के लिए मछली, फूलगोभी, ब्रोकली, अंडे, पत्तेदार हरी सब्जियां, ब्राउन राइस शामिल करें।

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या आप जानते हैं वजन, बीपी और कोलेस्ट्रोल बढ़ने से इंसुलिन रेजिस्टेंस भी बढ़ सकता है?

इंसुलिन रेजिस्टेंस के कारण क्या हो सकती है बीमारियाँ, इससे कैसे करें बचाव, इसका क्या है इलाज और किन लोगों को होने की है ज्यादा संभावना जानने के लिए पढ़ें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

वेट लॉस के लिए साउथ इंडियन फूड करेंगे मदद

वेट लॉस के लिए साउथ इंडियन फूड की मदद ली जा सकती है। इस तरीके की मदद से आप स्वादिष्ट तरीके से अपने शरीर का अतिरिक्त फैट और कैलोरी बर्न कर सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या आपकी लॉन्ग टाइम वाली सिटिंग जॉब है? हो सकता है आपको “डॉर्मेंट बट सिंड्रोम”

डॉर्मेंट बट सिंड्रोम ट्रीटमेंट, डॉर्मेंट बट सिंड्रोम क्या है, इसके लक्षण, ग्लूटस मेडियस सिंड्रोम ट्रीटमेंट, हैमस्ट्रिंग कर्ल, सिंगल लेग ब्रिज, रोमानियन डेडलिफ्ट (romanian deadlift) जैसे वर्कआउट कूल्हे की मांसपेशियों को आराम पहुंचाते हैं...dormant butt syndrome treatment in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
फिटनेस, स्वस्थ जीवन जून 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वेट लॉस सर्वे - weight loss survey

क्या आप वेट लॉस करना चाहते हैं?

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
परिणीति चोपड़ा डायट प्लान

परिणीति चोपड़ा के डायट प्लान से होगा वेट लॉस आसान, जानिए वर्कआउट सीक्रेट भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
क्या मेटफोर्मिन वेट लॉस का कारण बन सकती है

जानिए, मेटफार्मिन को वजन कम करने के लिए प्रयोग करना चाहिए या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
श्रुति हासन डाइट/shruti hassan diet workout

क्या है श्रुति हासन के हॉट फिगर का राज, जानिए उनका फिटनेस सीक्रेट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अगस्त 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें