home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

टूथ सेंसिटिविटी के कारण और उपाय

टूथ सेंसिटिविटी के कारण और उपाय

सेंसेटिव शब्द सुनते ही हम सभी पहले स्किन (त्वचा) के बारे में सोचने लगते हैं लेकिन, हमारे दांत भी सेंसिटिव होते हैं, इसे ही टूथ सेंसिटिविटी (दांतों में झनझनाहट) कहते हैं। दांतों में झनझनाहट होना आम समस्या हो सकती है, लेकिन यह काफी दर्द भरा होता है। हालांकि, टूथ सेंसिटिविटी को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि यही पायरिया जैसी बीमारियों को बढ़ाने में मदद करता है।

डेंटल रिसर्च के मुताबिक, 100 लोगों में से 10 लोगों को टूथ सेंसिटिविटी की समस्या होती है और जो इस परेशानी से गुजर रहे होते हैं, उन्हें चाय, ठंडा पानी और आइसक्रीम जैसे खाद्य पदार्थों के सेवन से परेशानी होती है।

यह भी पढ़ें : Cilnidipine : सिल्नीडिपाइन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

टूथ सेंसिटिविटी में कैसे रखें ख्याल

  • नियमित रूप से टूथ ब्रश करें। ब्रश की मदद से आराम से दांतों की सफाई करें मगर ये जरूर ध्यान रखें की ब्रश करते वक्त दांतों पर ज्यादा जोर न दें, हल्के हांथों से ब्रश करें।
  • ढ़ाई से तीन महीने के बाद टूथ ब्रश जरूर बदलें।
  • सुबह ब्रश करने के पहले फ्लॉसिंग करें इससे दो दांतों के बीच में फंसे खाने के छोटे-छोटे टुकड़े आसानी से निकल जाएंगे।
  • फ्लॉसिंग और टूथ ब्रश के बाद पानी से कुल्ला करें और उंगलियों की मदद से मसूड़ों की थोड़ी से मसाज करें।
  • हल्के गर्म पानी से नियमित कुल्ला करने से भी फायदा मिलता है। माउथवॉश का प्रयोग करें।
  • दांतों को ज्यादा जोर से न रगड़ें इससे दांतों का एनामेल हटने लगता है। एनामेल दांतों के लिए सुरक्षाकवच की तरह काम करता है।
  • एसिडिक चीजें जैसे खट्टा (अचार), बहुत मीठा (टॉफी,चॉकलेट), रेड वाइन और सोडा इन पदार्थों का सेवन कम से कम करें।
  • नमक और सरसों के तेल को एक साथ मिलाकर दांतों और मसूड़ों की मसाज करें।
  • डेंटिस्ट से सलाह लेकर सेंसिटिव टूथ पेस्ट का इस्तेमाल करें। जीभ को भी प्रतिदिन साफ करें।

ये भी पढ़े Abscess Tooth: एब्सेस टूथ क्या है?

टूथ सेंसिटिविटी की समस्या क्यों होती है

  • ज्यादा ठंडा और गर्म पदार्थों का सेवन नुकसानदायक होता है।
  • टूथ ब्रश करते समय दांतों को जोर से रगड़ना हानिकारक होता है।
  • ब्रोकन टूथ की समस्या से भी दांतों में सेंसिटिविटी हो सकती है।
  • दांतों की साफ-सफाई पर ध्यान नहीं देना भी इसका कारण बन जाता है।

टूथ सेंसिटिविटी दूर करने के लिए घरेलू इलाज

  • लौंग या लौंग के तेल की 4 से 5 बूंदे कॉटन (रुई) में लेकर मसूड़ों पर हल्की मालिश करने से आराम मिलता है। इससे इंफेक्शन का खतरा भी कम रहता है।
  • नमक को पानी में नमक मिलाकर पीने से दांतों का इंफेक्शन कम होने में मदद करता है, नमक में एंटीबैक्टेरिया तत्व मौजूद होते हैं।
  • कच्चे प्याज में एंटीइंफ्लेमेंटरी गुण मौजूद होते हैं इसके सेवन से झनझनाहट की समस्या धीरे-धीरे ठीक होने में मदद मिलती है।
  • 2 से 3 कच्चे लहसुन की कलियों को पीस कर और पानी मिलाकर मसूड़े पर लगाने से भी सेंसिटिविटी की परेशानी ठीक हो सकती है।
  • टूथ सेंसिटिविटी की शुरुआत गर्म और ठंडी चीजों के सेवन से होती है लेकिन ये समस्या धीरे-धीरे बढ़ने लगती है और खाने-पीने में परेशानी होती है। इसलिए बेहतर होगा की खुद से इलाज ना करें, दांतों के डॉक्टर से मिलें और जो सलाह दी जाए उसे ही अपनाएं।

यह भी पढ़ें : दांतों की सफाई करते हैं न सही से? क्विज से जानें कितना सही है आपका तरीका

टूथ सेंसटिविटी से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

आज के इस दौर में जब हम समय की कमी या बदलती लाइफस्टाइल के चलते जंक फूड का सेवन काफी मात्रा में करने लगे हैं या यूं कहें कि इन्हीं पर निर्भर होते जा रहे हैं। ऐसे में इसका असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। जंक फूड या बेटाइम खाना खाने से वजन बढ़ने की समस्या तो होती ही है। लेकिन, यह जानकर आप शायद चौंक जाएंगे कि इसके कारण आपके दांतों पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। यह टूथ सेंसिटिविटी का कारण बन सकता है। ऐसे में टूथ सेंसिटिविटी से बचने के लिए आपको दिन में दो बार ब्रश करने की आदत डालनी चाहिए। साथ ही यह भी जान लें कि ब्रश करने का सही तरीका क्या है। दिन में दो बार कम से कम दो मिनट के लिए ब्रश करना बहुत जरूरी हो जाता है। इससे आपके दांतों पर प्लाक के जमने की आशंका कम हो जाती है। प्लाक के दांतों पर जमने से यह दांतों में कैविटी और मसूढ़ों में सूजन का कारण बन सकता है। इसके अलावा अगर इसकी सफाई न की जाए तो प्लाक की परत कठोर होती जाती है, जिसे टार्टर कहते हैं।

टूथ सेंसिटिविटी से बचने के लिए ब्रश भी सही चुनें

आप जान लें कि दांतों की समस्या से बचने के लिए टूथ ब्रश का चुनाव भी मायने रखता है। लोगों का मानना होता है कि दांतों को स्वस्थ रखने के लिए टूथ पेस्ट सबसे जरूरी होता है लेकिन कम ही लोग इस ओर ध्यान देते हैं कि दांतों को समस्याओं से बचाने के लिए टूथ ब्रश भी बहुत जरूरी होता है। ऐसे में ब्रश का चुनाव करते हुए आपको कुछ चीजों का खास ख्याल रखने की जरूरत होगी। इसके लिए देख लें कि आप जो ब्रश खरीद रहे हैं उसके ब्रिसल्स मुलायम हों। इसकी मदद से दांतों की सफाई तो हो ही जाएं साथ ही मसूड़ों को भी नुकसान न पहुंचे। इसके अलावा यह भी ध्यान रखने की जरूरत होती है आप हर तीन महीने में अपना ब्रश बदले लें। लेकिन अगर तीन महीने से पहले ही ब्रश के ब्रिसल्स हार्ड हो गए हैं, तो उसे भी बदलने की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ें : कितना ख्याल है आपको अपने दांतों का, आज पता चलेगा

टूथ सेंसिटिविटी से बचने के लिए फ्लॉसिंग भी करें

जब हम ओरल हाइजीन की बात करते हैं, तो इसमें सिर्फ दांत और मसूड़ें ही नहीं आते हैं। ओरल हाइजीन में पूरे मुंह की सफाई शामिल है। साथ ही यह भी जान लें कि मुंह में दांतों और मसूढ़ों के अलावा कई ऐसी जगहें होती हैं, जहां ब्रश नहीं पहुंच पाता है। इन बची हुई जगहों के लिए एक ही रास्ता बचा जाता है, वह है फ्लॉसिंग। फ्लॉसिंग से आप दांतों की उन जगहों की सफाई भी बेहतर तरीके से कर सकते हैं, जहां आपका टूथ ब्रश नहीं पहुंच पाता है। इससे इन जगहों पर फंसे फूड पार्टिकल्स भी आसानी से निकल जाते हैं।

ब्रश करने का तरीका भी है जरूरी

आमतौर पर लोगों को लगता है कि टूथ सेंसिटिविटी या अन्य दांतों की समस्या के लिए दिन में दो बार ब्रश करना काफी है। लेकिन, साथ ही यह भी जान लें कि ब्रश करने का सही तरीका भी जनना जरूरी है। ब्रश करने का सही तरीका यह है कि ब्रश को दांतों के इनेमल यानी जोड़ पर ऊपर से नीचे और दाएं से बाएं की ओर करें। इसके अलावा दांतों की सफाई के साथ-साथ जीभ को साफ करना भी न भूलें।

और पढ़ें :

कितना ख्याल है आपको अपने दांतों का, आज पता चलेगा

धूम्रपान (Smoking) ना कर दे दांतों को धुआं-धुआं

दांतों की सफाई करते हैं न सही से? क्विज से जानें कितना सही है आपका तरीका

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What Can You Do About Sensitive Teeth?/https://www.webmd.com/oral-health/guide/tooth-sensitivity#1/Accessed on 11/12/2019

10 Biggest Causes of Tooth Sensitivity/https://www.everydayhealth.com/dental-health/10-biggest-causes-of-tooth-sensitivity.aspx/Accessed on 11/12/2019

Tooth Sensitivity: Causes, Remedies & Treatment/https://www.livescience.com/44377-sensitive-teeth.html/Accessed on 11/12/2019

What causes sensitive teeth, and how can I treat them?/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/adult-health/expert-answers/sensitive-teeth/faq-20057854/Accessed on 11/12/2019

Sensitive teeth/https://www.mouthhealthy.org/en/az-topics/s/sensitive-teeth/Accessed on 11/12/2019

Why Are My Teeth So Sensitive?/https://www.healthline.com/health/sensitive-teeth#1/Accessed on 11/12/2019

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 03/07/2019
x