हाथ और पैर के नाखून भी बताते हैं स्वास्थ्य का हाल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

नाखूनों से जुड़े फन फैक्ट्स

नाखूनों से जुड़े सच जानने से पहले जरा स्कूल डेज को याद कर लेते हैं। हमारे स्कूल डेज में नियमित रूप से नाखूनों की जांच होती थी (अबभी ऐसा होता है) और उस वक्त हमें नाखून बढ़ाने की इजाजत नहीं थी। लेकिन, उम्र बढ़ने के साथ-साथ स्कूल से निकलने के बाद कॉलेज लाइफ शुरू हुई और साथ ही शुरू हुआ अपने-आप को स्टाइलिश लुक देना। इसमें चेहरे और बालों के साथ-साथ हमारे नाखून भी आते हैं। नाखून के लुक्स को लेकर हमसभी मैनिकियोर और फ्रेंच मैनिकियोर और न जाने क्या-क्या करवाते हैं। लेकिन, शायद आपको नाखूनों से जुड़े 23 सच के बारे में जानकारी न हो।

नाखूनों से जुड़े रोचक तथ्य

  • स्वस्थ नाखून हल्के गुलाबी रंग के होते हैं।
  • नाखून चबाना (नेल बाइटिंग) को ऑनिकोफेजिया कहा जाता है।
  • (20 से 30 प्रतिशत लोगों में नाखून चबाने की आदत होती है)
  • सर्दियों की तुलना में गर्मियों में नाखून तेजी से बढ़ते हैं
  • नाखूनों पर होने वाले सफेद धब्बे कैल्शियम की कमी को नहीं दर्शाते हैं।
  • अंगुली के नाखून और पैरों के नाखून एक महीने में कम से कम 3 मिलीमीटर तक बढ़ते हैं।
  • हाथ-पैरों के नाखून और आंखों के कोर्नियां को ब्लड और ऑक्सिजन की जरूरत नहीं होती है।
  • हाथ के नाखूनों को पूरी तरह से दोबारा बढ़ने में 3 से 6 महीने का वक्त लग सकता है।
  • जिस हाथ से आप लिखते हैं उन अंगुलियों के नाखून तेजी से बढ़ते हैं और इसमें भी बीच की अंगुली (Middle Finger) के नाखून सबसे पहले बढ़ते हैं।
  • पैर के नाखूनों के मुकाबले हाथ के नाखून तेजी से बढ़ते हैं।
  • हाथ और पैरों के नाखूनों को पूरी तरह से बढ़ने (नए नाखून) में कम से कम 6 महीने का वक्त लगता है।
  • अंगूठे का नाखून अन्य उंगलियों के नाखूनों के मुकाबले सबसे धीरे बढ़ता है।
  •  नाखूनों के सफेद भाग को लुनुला (Lunula) कहा जाता है।

और पढ़ें: आखिर क्यों कुछ लोगों को होती है बार-बार नाखून चबाने की आदत?

  •  अंगुलियों की लंबाई पर भी नाखूनों की बढ़ने की लंबाई निर्भर करती है।
  •  फिंगर्नेल में केराटिन होता है, जो मनुष्य के शरीर में सबसे मजबूत माना जाता है।
  •  शरीर में आयरन की कमी से नाखूनों के आकार एक जैसे नहीं होते हैं।
  •  फंगल इंफेक्शन जैसे कि टिनिया एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है और नाखूनों (हाथ-पैर के नाखून) को भी संक्रमित कर देता है।
  •  उम्र बढ़ने के साथ-साथ नाखूनों के बढ़ने की गति भी धीमी हो जाती है।
  • कभी-कभी और किसी-किसी व्यक्ति के हाथ या पैर के नाखून नहीं होते हैं। ऐसा जन्म से ही होता है, इसे नेल-पेटेला सिंड्रोम कहते हैं।
  •  ऐसी धारणा है की किसी भी व्यक्ति के मौत के बाद नाखूनों का बढ़ना जारी रहता है। लेकिन, यह गलत है क्योंकि मौत के बाद शरीर कड़ा होने लगता है ऐसे में नाखून बढ़े हुए नजर आते हैं।
  • स्किन प्रॉब्लम जैसे सोरायसिस, एक्जिमा, लिचेन प्लेनस या ल्यूपस होने पर नाखूनों को कमजोर कर देती है।
  •  तनाव और थकान का असर नाखूनों पर भी पड़ता है और ये कमजोर होने लगते हैं।
  •  10 से 18 साल के बच्चों में नाखून चबाने की आदत देखी गई है। यह हानिकारक तो नहीं है लेकिन, अच्छी आदत भी नहीं है।
  • नाखून से जुड़ी परेशानी भी हो सकती है। ऐसे में डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

और पढ़ें: Quiz: जली हुई माचिस की तीली से लगाते थे काजल, क्विज से जानें मेकअप से जुड़े फैक्ट्स

नाखून भी बताते हैं आपकी सेहत का हाल

नाखून का रंग क्या बताता है

नाखून का रंग आपकी सेहत के बारे में बताता है। यहां समझ लें कि अगर किसी के नाखून का रंग फीका या बैरंग दिखे, तो समझ लें कि यह किसी इंफेक्शन या पोषण की कमी की और इशारा कर सकता है। इसके अलावा नाखून का रंग आपके आतंरिक अंगों का हाल भी बता सकता है। नाखूनों का रंग अगर भूरा हो रहा है या गहरा होता जा रहा है, तो इसका मतलब है कि शरीर में थायरॉइड की समस्या हो सकती है। वहीं अगर नाखून सफेद पड़ते जा रहे हैं, तो इसका मतलब हो सकता है कि इंसान में आयरन की कमी हो गई है।

नाखून अगर कमजोर हो रहे हैं, तो

नाखूनों का कमजोर होना भी एक संकेत हो सकता है। थायरॉइड या फंगल इंफेक्शन के कारण नाखून रूखे, कमजोर या फिर भूरभूरे हो जाते हैं। नाखून का कमजोर होना फंगस के कारण भी हो सकता है, जो स्किन और मुंह में रैशेज के रूप में सामने आते हैं।

 मोटे नाखूनों का क्या है मतलब

नाखूनों मोटे आमतौर पर फंगल इंफेक्शन के कारण होते हैं। साथ ही इसे गंभीरता से लिए जाने की जरूरत होती है, तो आर्थ्राराइटिस, डायबिटीज, फेफड़ों में इंफेक्शन, एग्जिमा, सायरोसिस भी इसके कारण होते हैं। नाखूनों का कड़ा और मोटा होना, पीलापन, वृद्ध‍ि में कमी होना जैसे कारण इनके पीछे हो सकते हैं।

और पढ़ें: फास्टिंग के दौरान डायबिटीज के मरीज रखें इन बातों का रखें ध्यान

 नाखून का पीला होना

हाथों की ऊंगलियों के नाखून का रंग पीला पड़ना, यूं तो नेल पॉलिश के अत्यधिक प्रयोग के कारण हो सकता है, लेकिन इसके पीछे फंगल इंफेक्शन या सायरोसिस जैसे गंभीर कारण भी हो सकते हैं। नीलापन या सिलेटी रंग लिए हुए नाखूनों का मतलब है कि आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है और उसे ऑक्सीजन की आवश्यकता है।

नाखून पर गहरे रंग की लाइन दिखना

अगर आपको नाखून पर गहरे रंग की लाइन दिखती है, तो आम तौर पर इसमें चिंता की कोई बात नहीं होती है। लेकिन बहुत ही दुर्लभ मामले में यह एक प्रकार के स्किन कैंसर का भी संकेत हो सकता है। यह अंगूठे या उंगुली में स्किन कैंसर का कारण हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर को दिखाएं और जरूरी टेस्ट कराएं।

और पढ़ें: हेयर मसाज से दूर होती है दिल की बीमारियां, जाने अन्य 6 फायदे

नाखून पर लाल कलर की लाइन दिखना

नाखून के नीचे लाल या भूरे रंग की लाइन दिखने पर घबराने की कोई बात नहीं होती है। लेकिन कई बार ये आथ्रॉइटिस या सायरोसिस के लक्षण भी हो सकते हैं। ऐसे में आपको डॉक्टर को दिखाने की जरूरत हो सकती है। इसके अलावा जरूरी टेस्ट भी टाइम पर करा लें।

अंदर मुड़े हुए नाखून

अंदर की तरफ मुड़े नाखूनों से ब्लड और आयरन की कमी होने का संभावना रहती है। वहीं अगर नाखून चम्मच की तरह मुड़े हुए हो तो आनुवंशिक रोग और ट्रॉमा की स्थिति हो सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

डायबिटीज पैचेस : ये क्या है और किस प्रकार करता है काम?

डायबिटीज पैचेस लगाना स्वास्थ्य के लिए है कितना लाभकारी, मार्केट में कितने प्रकार के डायबिटीज पैचेस हैं उपलब्ध, जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Galvus Met : गैल्वस मेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

गैल्वस मेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन और विल्डागलिप्टिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Galvus Met

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे मैनेज कर सकते हैं? चलना ध्यान करने के पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? Walking Meditation in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

प्रेग्रेंसी में होम फीटल डॉप्लर का इस्तेमाल करने से पहले जानें जरूरी बातें

होम फीटल डॉप्लर का इस्तेमाल, प्रेग्नेंसी के लिए मेडिकल डिवाइस इस्तेमाल करने के फायदे, Home Fetal Doppler के नुकसान। जानिए होम फीटल डॉप्लर क्या है in Hindi,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी अप्रैल 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स/Diabetes Test Strips

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करें इस्तेमाल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
हाथ और स्वास्थ्य के बारे में क्विज

Quiz : हाथ किस तरह से स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में बता सकते हैं, जानने के लिए खेलें यह क्विज

के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 25, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
क्या मेटफोर्मिन वेट लॉस का कारण बन सकती है

जानिए, मेटफार्मिन को वजन कम करने के लिए प्रयोग करना चाहिए या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मधुमेह का उपचार कैसे करें

क्या डायबिटीज का उपचार संभव है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें