धूम्रपान (Smoking) ना कर दे दांतों को धुआं-धुआं

Medically reviewed by | By

Update Date मार्च 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

धूम्रपान(Smoking) से होने वाले स्वास्थ्य संबंधी नुकसानों के बारे में अधिकतर लोग बखूबी वाकिफ हैं, लेकिन इसके बाद भी धूम्रपान के आदी इससे दूरी नहीं बना पाते। इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि स्मोकिंग न सिर्फ कई बीमारियों को जन्म देती है बल्कि, आपकी पर्सनैलिटी से जुड़े एक महत्वपूर्ण हिस्से यानी दांतों को भी खराब करती है। जानें कैसे स्मोकिंग से दांतों को नुकसान पहुंचता है और आप समय से पहले बूढ़े हो जाते हैं।

धूम्रपान (Smoking) से दांतों को नुकसान कैसे पहुंचता है?

स्मोकिंग से गम्स के टिशू सेल पर बुरा असर पड़ता है। धूम्रपान से दांतों को नुकसान पहुंचाने के लिए बैक्टीरियल प्लाक भी जिम्मेदार होता है। बैक्टरीरियल प्लाक काफी मात्रा में बनता है। इससे मसूड़ों की बीमारी होती है। स्मोकिंग करने से ब्लड सर्कुलेशन में ऑक्सिजन की कमी होती है और मसूड़े प्रभावित होते हैं।

यह भी पढ़ें : पूरी जिंदगी में आप इतना समय ब्रश करने में गुजारते हैं, जानिए दांतों से जुड़े ऐसे ही रोचक तथ्य

किस तरह का असर पड़ता है दांतों पर?

धूम्रपान (Smoking) से दांतों को नुकसान अंदरुनी और बाहरी दोनों तौर पर होता है। यह दांतों की सुंदतरता और मजबूती दोनों को धीरे-धीरे खत्म कर देता है।

1. गोंद की बीमारी– दरअसल धुएं में निकोटीन होता है, जो बैक्टीरिया के विकास के विकास में काफी मदद करता है। इससे प्लाक बनता है और यह दांतों में गोंद की बीमारी को जन्म देता है।
2. पेरियोडोंटल बीमारी– अगर कोई ज्यादा स्मोकिंग करता है, तो उसके पेरियोडोंटल (Periodontal) बीमारी की चपेट में आने की आशंका ज्यादा होती है। दरअसल, धुएं में मौजूद निकोटिन हड्डियों में खनिजों की मात्रा को कम करता है, इससे पेरियोडोंटल (Periodontal) बीमारी के मामले बढ़ते हैं।
3. सूजन व पस का बनना– धूम्रपान करने वालों में काले दाग आम बात हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, एक तरफ जहां ये मसूड़ों की उचित सफाई की अनुमति नहीं देते हैं, वहीं दूसरी तरफ दर्द व सेंसिटिविटी को निरंतर बढ़ावा देते हैं। इससे मसूड़ों में सूजन हो जाती है और पस बनने लगता है।

4. मसूड़ों की बीमारी को दबाना– धूम्रपान का एक और सबसे बड़ा नुकसान ये है कि यह मसूड़े की बीमारी का पता नहीं चलने देता। इससे शुरुआत में बीमारी का पता नहीं चल पाता। इस बीच स्मोकिंग से दांत और सहायक ऊतक (Accessory tissue), संक्रमित होने लगते हैं और धीरे-धीरे आपके दांत कमजोर होने लगते हैं।
5. मसूड़े कमजोर होने और बदबू की समस्या– धूम्रपान करने से मसूड़े भी कमजोर होने लगते हैं। यही नहीं दांतों की वजह से मुंह से बदबू भी आने लगती है।

यह भी पढ़ें : जानिए मुंह में छाले (Mouth Ulcer) होने पर क्या खाएं और क्या न खाएं

दांतों की देखभाल कैसे करें?

धूम्रपान से दांतों को नुकसान की चर्चा के बाद इनकी देखभाल की बात भी जरूरी है। अब बात करेंगे कि आखिर कैसे आप कुछ बातों का ध्यान रखकर अपने दांतों को सुरक्षित रख सकते हैं?

स्मोकिंग छोड़ने का प्रयास करें

दांतों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए सबसे बेहतर यही है कि आप धूम्रपान छोड़ दें। शुरुआत में आपको दिक्कत हो सकती है, लेकिन धीरे-धीरे अगर कोशिश करें तो आप सफल हो सकते हैं। अगर एकदम से छोड़ना बहुत मुश्किल है, तो पहले आप दिन में जितनी सिगरेट पीते हैं पहले उसे घटाएं।

डेंटिस्ट से मिलें

अगर आप धूम्रपान नहीं छोड़ पा रहे हैं और दांत भी खराब हो रहे हैं, तो बिना देरी किए आपको डेंटिस्ट से चेकअप कराना चाहिए। डेंटिस्ट दांतों की सफाई की सलाह देने के साथ ही कई अन्य जरूरी सावधानियां भी बता सकता हैं, जो आपके काफी काम आएंगी।

कुछ खास टीथ प्रोडक्ट का करें इस्तेमाल

आप दांतों को ठीक रखने के लिए कुछ स्पेशल टीथ प्रोडक्ट भी इस्तेमाल कर सकते हैं। बाजार में धूम्रपान करने वालों के लिए स्पेशल टूथपेस्ट मोजूद हैं, जो आम टूथपेस्ट से अलग होते हैं। ये आपके दांतों से गंदगी हटाते हैं।

दिन में दो बार करें दांतों की सफाई

आप अगर दांतों को साफ व स्वस्थ रखना चाहते हैं तो दिन में कम से कम दो बार नियमित रूप से ब्रश करें। जितनी बार भोजन करें, उतनी बार पानी के साथ अच्छे से कुल्ला करें।

दांतों की सफाई

आपको नियमित रूप से एक समय अवधि में अपने दांतों की स्केलिंग, रूट प्लानिंग और उनकी क्लिनिकल सफाई भी करनी चाहिए। धूम्रपान(Smoking) कई लोगों खासकर युवाओं के लाइफ स्टाइल का सबसे जरूरी हिस्सा बन चुका है। यही वजह है कि वे इसके हर खतरों को नजरअंदाज करते हैं। स्मोकिंग न सिर्फ कई बीमारियों को जन्म देता है, बल्कि ये आपकी पर्सनैलिटी से जुड़े एक महत्वपूर्ण हिस्से यानी दांतों को भी खराब करता है।

स्मोकिंग के साथ-साथ इन चीजों से भी करें परहेज

  • कैंडीज दांतों में चिपक जाती हैं। कैंडी में कई तरह के एसिड होते हैं। ये एसिड्स दांतों पर लम्बे समय तक बने रहते हैं। इस वजह से दांतों में सड़न की संभावना बढ़ जाती है।
  • वाइट ब्रेड खाते ही लार स्टार्च को शुगर में तोड़ना शुरू कर देती है। ब्रेड दांतों के बीच में चिपक जाता है। इस वजह से दांतों को नुकसान पहुंचता है।
  • एल्कोहॉल के सेवन से लार कम बनती है। सलाइवा या लार दांतों को स्वस्थ रखने के साथ ही खाने को दांतों में चिपकने से रोकती है। दांतों की समस्या से बचना चाहते हैं तो मुंह को हाइड्रेट रखें।
  • अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के मुताबिक किसी भी कठोर पदार्थ को चबाने से इनेमल को नुकसान हो सकता है। बर्फ से भी दांतों को दिक्कत हो सकती है।
  • धूम्रपान से दांतों को नुकसान पहुंचता है लेकिन कोल्ड ड्रिंक्स भी दांतों को नुकसान पहुंचाने में पीछे नहीं होती। कोल्ड ड्रिंक्स को कार्बोनेटेड पानी से बनाया जाता है। इसकी वजह दांत और मसूड़े कमजोर हो जाते हैं।
  • आलू के चिप्स मोटापा ही नहीं दांतों की सेहत के लिए भी नुकसानदायक होते हैं। इनमें स्टार्च होने की वजह बैक्टीरिया ज्यादा पनपते हैं। इस वजह से दांतों को नुकसान पहुंचता है।

दांतों की देखभाल के साथ ही जीभ को साफ करना भी ना भूलें। चूंकि ओरल हेल्थ कई अन्य बीमारियों की जड़ हो सकती है।

और पढ़ें:-

समझें दांतों के प्रकार और जानिए इनके कार्य क्या हैं

माउथवॉश (Mouthwash) खरीदने से पहले जान लें ये बातें

तेजी से ब्रश करना दांतों को कर सकता है कमजोर

दांतों की कैविटी से बचना है तो ध्यान रखें ये बातें

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Toothache : दांत में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    दांत दर्द एक आम समस्या है, लेकिन क्या कभी सोचा ये क्यों होता है? कैसे इसका इलाज किया जाए कि दांत दर्द की समस्या दोबारा न हो सके।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 21, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    मुंह की समस्याओं का कारण कहीं डायबिटीज तो नहीं?

    डायबिटीज से मुंह की समस्या क्यों होती है, जानें डायबिटीज से मुंह की समस्या किस तरह की होती है, डायबिटीज कैसे पहुंचाता है ओरल हेल्थ को नुकसान, जानें और

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Lucky Singh
    हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज नवम्बर 8, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    डायबिटीज की दवा दिला सकती है स्मोकिंग से छुटकारा

    स्मोकिंग से छुटकारा पाने का उपाय क्या है और क्या इसमें डायबिटीज की दवा मदद कर सकती है। स्मोकिंग से छुटकारा पाने के आसान तरीके, Smoking Quit in hindi, स्मोकिंग छोड़ने के फायदे।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Lucky Singh
    स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें नवम्बर 6, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    छोटे बच्चे की नाक कैसे साफ करें? हर मां को परेशान करता है ये सवाल

    बच्चे की नाक साफ कैसे करें in hindi. भाप से नाक साफ करें? नाक साफ ना होने के कारण बच्चे असहज हो जाते हैं। बच्चे के नाक के छिद्र छोटे होने की वजह से आपको ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत होती है।

    Medically reviewed by Dr. Abhishek Kanade
    Written by Nikhil Kumar
    बच्चों का स्वास्थ्य (0-1 साल), पेरेंटिंग अक्टूबर 20, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें