सी सेक्शन के बाद सेक्स लाइफ एन्जॉय करने के कुछ बेहतरीन टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

शिशु को जन्म देने के बाद नई मां में कई शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक परिवर्तन आते हैं। प्रसव के बाद सेक्स को लेकर सबकी राय अलग-अलग होती है। अधिकतर महिलाएं प्रसव के बाद सेक्स के बारे में नहीं सोच पाती। इसका कारण शारीरिक स्थिति, दर्द, शिशु की जिम्मेदारी,तनाव आदि हो सकता है। महिलाओं के मन में शिशु के जन्म के बाद सेक्स को लेकर एक भय होता है। खासतौर. पर अगर बच्चे का जन्म सी सेक्शन से हुआ हो। जानिए सी सेक्शन के बाद सेक्स कितने समय बाद करना सुरक्षित है और इस के बाद बरतने वाली सावधानियों के बारे में।

सी सेक्शन के बाद सेक्स कब करना चाहिए

सी सेक्शन के बाद सेक्स कब करना चाहिए। इसका जवाब आप पर निर्भर करता है। यानी, जब आप इस के लिए कम्फर्टेबल महसूस करें तब आपको सेक्स करना चाहिए। जो चीजें इस स्थिति में आपको सबसे अधिक प्रभावित करती हैं वो हैं सी सेक्शन के दौरान होने वाला घाव और दूसरी वजाइनल ब्लीडिंग और तीसरी आपकी भावनात्मक स्थिति। इसके साथ ही आपको सी सेक्शन सर्जरी के बाद सेक्स के लिए अपने पूरे स्वस्थ्य, आपका स्ट्रेंथ लेवल और बर्थ कंट्रोल तरीकों पर भी ध्यान देना चाहिए। 

और पढ़ें: सेक्स को एंजॉय करने के लिए ट्राई करें सेक्स लुब्रिकेंट्स (sex lubricants)

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद पूरी तरह से स्वस्थ होने में समय लगता है। ऐसे में सेक्सुअल एक्टिविटी के लिए कई हफ्तों से लेकर महीने भी लग सकते हैं। कुछ महिलाएं शिशु के जन्म के तीन हफ्तों के बाद सेक्स के लिए खुद को तैयार पाती है। कुछ लोगों में यह गलतफहमी होती है कि सी सेक्शन डिलीवरी के बाद सेक्स के लिए अधिक समय इंतजार नहीं करना पड़ता कोई इस प्रसव में योनि को कोई नुकसान नहीं होता। लेकिन यह सही नहीं है। सी सेक्शन डिलीवरी के बाद सेक्स के लिए भी कम से कम 6 हफ्तों का इंतज़ार आवश्यक है। अगर इससे पहले आप सेक्सुअल गतिविधियां करते हैं, तो आपको संक्रमण और कुछ अन्य जटिलताएं होने की संभावना रहती है।

क्यों करें कम से कम 6 हफ्तों का इंतजार?

6 सप्ताह के समय में गर्भाशय सामान्य आकार में वापस आता है,  गर्भाशय ग्रीवा बंद हो जाती है और सी सेक्शन दौरान लगा चीरा भी ठीक हो जाता है। इसलिए, सी  सेक्शन के बाद संभोग के लिए कम से कम छह हफ्तों का इंतजार करना चाहिए। हालांकि, इस दौरान प्रसव के बाद होने वाले तनाव और अन्य कारणों से महिला की सेक्स करने की इच्छा भी कम हो जाती है। आपने बच्चे को नौ महीने अपने गर्भ में रखा है। उसके बाद बड़ी सर्जरी से उसे जन्म दिया और अब शिशु की जिम्मेदारी, मानसिक तनाव और अन्य समस्याओं का सामना कर रही हैं। ऐसे में सेक्स ड्राइव को कम होना सामान्य है

अगर ऐसा है तो इस दौरान होने वाले हर बदलाव और भावनाओं को अपने पार्टनर के साथ शेयर करें। अगर आप अभी सेक्स के तैयार नहीं हैं तो अभी कुछ और समय के लिए इंतजार करना बेहतर है। 

सी सेक्शन के बाद सेक्स के लिए पुजिशन

सी सेक्शन के बाद स्वस्थ होने में समय लगता है। कुछ महिलाएं डिलीवरी के कई महीनों बाद तक सर्जरी वाली जगह पर झुनझुनी और सुन्नता महसूस करती हैं। अगर आप फिर से संभोग करना चाहती हैं तो कुछ सेक्स पुजिशन इसमें आपकी मदद कर सकती हैं। इसमें ऐसी स्थितियां जिसमे महिला ऊपर हो, वो पूरी तरह से सही हैं क्योंकि इसमें पूरा नियंत्रण होता है। इसमें पेनेट्रेशन आदि का भी आपको ध्यान रखना है। ऐसी पुजिशन ट्राई करें, जिनमें आपको आराम महसूस हो और आपके घाव या पेट के अन्य भागों में प्रेशर न पड़े। दबाव पड़ने से आपको दर्द हो सकती है। आप कुछ अच्छी पुजिशन्स भी ट्राई कर सकते हैं जैसे साइड बाई साइड और स्पूनिंग। आप वजाइनल सेक्स की जगह ओरल सेक्स का मजा भी ले सकते हैं जो जिससे आपकी सेक्स लाइफ अधिक आरामदायक और मजेदार बन सकती है।

और पढ़ें :First time Sex: महिलाओं के पहली बार सेक्स के दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव

सी सेक्शन डिलीवरी के बाद दर्द होता है?

प्रसव के बाद सेक्स अधिकतर महिलाओं के लिए असुविधाजनक और बैचैन करने वाला होता है। हो सकता है कि कुछ महिलाओं को सी सेक्शन के बाद संभोग करने में आनंद महसूस हो।  प्रसव के बाद पहली बार सेक्स से ब्लीडिंग भी हो सकती है। जिन महिलाओं की वजाइनल डिलीवरी हुई हो उनकी तुलना में सी सेक्शन प्रसव के बाद ठीक होने में समय लग सकता है। इस दौरान अगर आप योनि या घाव के आसपास क्षेत्र में दर्द का अनुभव करते हैं तो आपको डॉक्टर की राय लेनी चाहिए। क्योंकि, इससे इंफेक्शन और अन्य समस्याएं हो सकती हैं। 

सी सेक्शन के बाद सेक्स के टिप्स

पार्टनर के साथ समय बिताएं

प्रसव के 6 हफ्तों बाद भी सभी महिलाएं सेक्स करना शुरू नहीं करना चाहती। ऐसा थकावट, दर्द या सेक्स में रूचि खो देने के कारण होता है। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो अपने पार्टनर से बात करे। अगर आपने 6 हफ्तो के बाद सेक्स करना निर्धारित किया है, तो आपको कुछ ऐसी चीजें करनी चाहिए जिससे आपको अच्छा महसूस हो और जिन्हें करना आपके के लिए आसान हो। कुछ समय आपको अपने पार्टनर के साथ अकेले में बिताएं। एक अच्छी मालिश से भी आप आरामदायक महसूस करेंगे

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

लुब्रीकेंट का प्रयोग

अधिकतर महिलाएं प्रसव के बाद असुविधाजनक महसूस करती हैं। खासतौर, पर अगर वो स्तनपान करा रही हों। हार्मोन्स में परिवर्तन और यौन इच्छा में कमी के कारण योनि में रूखापन हो सकता है। जिससे सेक्स के दौरान दर्द हो सकती है। ऐसे में आप वाटर बेस्ड लुब्रीकेंट का प्रयोग कर सकते हैं

सब्र रखें 

सी सेक्शन के बाद वजाइनल सेक्स के दौरान सब्र रखें। इस दौरान आपके शरीर को सब्र की आवश्यकता होती है। जो चीजे आपको प्रसव से पहले मजा देती थी हो सकता है कि अब वैसा न हो। क्योंकि इस दौरान भावनाओं में परिवर्तन आ सकता है।

और पढ़ें :Quiz: महिलाओं में मेनोपॉज का दिल की बीमारी से रिश्ता जानने के लिए खेलें क्विज

न कहने से शर्माएं नहीं

सी सेक्शन के बाद डिलीवरी सेक्स के दौरान आप कैसा महसूस कर रहे हैं। यह आपके पार्टनर को भी पता होना चाहिए। अगर संभोग के समय आपको असुविधा या दर्द हो रही हो तो अपने पार्टनर को बताने में न ही शर्मायें न ही हिचकें। अगर आप संभोग के समय अच्छा महसूस न कर रहे हों तो तुरंत अपने पार्टनर को बताएं और इस दौरान अपराध या शर्म की भावना को छोड़ना ही बेहतर है।

कीगल एक्सरसाइज

अगर आपको ऐसा लगता है कि सी सेक्शन के बाद कीगल एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। तो आपका यह विचार गलत है। कीगल करने से पेल्विक फ्लोर कि मांसपेशियां मजबूत होती है। इससे गर्भावस्था पर प्रभाव पड़ता है। प्रसव के बाद आप कीगल कर सकती है। 

और पढ़ें :प्रेग्नेंसी में STD (Sexually Transmitted Diseases): जानें इसके लक्षण और बचाव

कैसे करें

  • अपने पेल्विक फ्लोर को इस तरह से पकड़े, जैसे कि आप मूत्र के बीच में रोक रहे थे।
  • कुछ सेकेंड के लिए उन मांसपेशियों को पकड़ कर रखें।
  • दिन भर में जितनी बार चाहें उतनी बार दोहराएं। जितना ज्यादा उतना अच्छा।

याद रखें, सी सेक्शन के बाद जब आप सेक्सुअल गतिविधियां फिर से शुरू करती हैं तो आपके लिए कई चीजों का ध्यान रखना आवश्यक है। अगर आप पूरी सावधानियां बरतते हैं। तो आप जल्दी ही अच्छा और स्वस्थ महसूस कर सकते हैं। ऐसे में, सी-सेक्शन के बाद संभोग आपके लिए सुखद अनुभव होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या नॉर्मल डिलिवरी के समय बच्चे में अच्छे बैक्टीरिया पहुंचते हैं ?

डिलिवरी के समय अच्छे बैक्टीरिया कैसे मिलते हैं की जानकारी in hindi. डिलिवरी के समय अच्छे बैक्टीरिया वजायना से निकलने वाले लिक्विड में पाए जाते हैं। ये बैक्टीरिया बच्चे को मां से मिलते हैं। सिजेरियन डिलिवरी में ऐसा नहीं हो पाता है। जानिए अच्छे बैक्टीरिया से क्या होता है फायदा?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 31, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

स्टडी: लड़के की डिलिवरी होती है ज्यादा पेनफुल

लड़के की डिलिवरी के समय समस्या की जानकारी in hindi. क्या लड़के की डिलिवरी के समय मां को अधिक कष्ट सहना पड़ता है? स्टडी में लड़के के ड्यू डेट से पहले पैदा होने को वजह बताया गया है। Boy delivery is more painful

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
माँ और शिशु, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 11, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

सिजेरियन डिलिवरी के बाद स्तनपान करवाने के टिप्स

जानिए सिजेरियन डिलिवरी के बाद स्तनपान करवाने के लिए जरूरी टिप्स क्या हैं in hindi. डिलिवरी के बाद कितने वक्त में शिशु को स्तनपान करवाना चाहिए? सिजेरियन डिलिवरी के बाद स्तनपान करवाना आसान कैसे हो सकता है?

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 6, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना भविष्य में मोटापे का कारण बन सकता है?

सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना का कारण क्या है, सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना कैसे घटाएं, C section offspring obesity control in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी नवम्बर 26, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डिलिवरी के वक्त दाई

डिलिवरी के वक्त दाई (Doula) के रहने से होते हैं 7 फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में बुखार - fever in pregnancy

प्रेग्नेंसी में बुखार: कहीं शिशु को न कर दे ताउम्र के लिए लाचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
लोअर सेगमेंट सिजेरियन सेक्शन (LSCS)

लोअर सेगमेंट सिजेरियन सेक्शन (LSCS) के बाद नॉर्मल डिलिवरी के लिए ध्यान रखें इन बातों का

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
heal faster from a C-Section,सी सेक्शन के बाद देखभाल

सी सेक्शन के बाद देखभाल कैसे करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रकाशित हुआ जनवरी 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें