क्या वाकई में सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसा प्लेजर देते हैं?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल न सिर्फ सिंगल महिलाएं और पुरुष बल्कि, शादी-शुदा लोग भी करते हैं। हालांकि, भारत में इसका इस्तेमाल कितने प्रतिशत तक किया जाता है इसका कोई सटीक आंकड़ा उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि, भारत में अभी भी सेक्स टॉयज पर न खुलकर बात की जाती है।

एक ई-कॉमर्स साइट की मानें, तो उसने अपने साल 2018 के ऑनलाइन सर्च से इस बात का खुलासा किया है कि करीब 20 फीसदी भारतीय ल्यूब्रिकेंट्स, सेक्स गेम्स और सेक्स टॉयज के बारे में जानने या खरीदने के लिए ऑनलाइन सर्च करते हैं, जो यह साफ करता है कि भारत में भी सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में लोग दिलचस्पी लेते हैं।

यह भी पढ़ें- क्या आप जानते हैं सेक्स से जुड़े 5 इंटरे​​स्टिंग फैक्ट्स ?

क्यों किया जाता है सेक्ट टॉयज का इस्तेमाल?

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल व्यक्ति सेक्स का आनंद उठाने के लिए करता है। यह एक छोटे या बड़े खिलौना के रूप में मिलता है, जिसमें डिल्डो और वाइब्रेटर जैसे खिलौने का निर्माण महिलाओं के लिए किया जाता है। पुरुषों के लिए सेक्स टॉयज महिलाओं की योनि के रूप में डिजाइन किए खिलौने होते हैं। हालांकि, विदेशों में अब सेक्स टॉयज के तौर पर डॉल्स भी मिलती हैं।

सेक्स टॉयज कैसे काम करता है?

ये खिलौने मोबाइल फोन की तरह चार्ज किए जा सकते हैं। या फिर कुछ सेल के जरिए भी चलते हैं, जो कंपनशील या अकंपनशील हो सकते हैं।

बैन है सेक्स टॉय का इस्तेमाल

सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना भारत में गैर कानूनी अपराध माना जाता है। भारतीय दंड संहिता की धारा 292 के तहत सेक्स टॉय खरीदना या इसकी बिक्री करने पर पाबंदी लगाई है क्योंकि, सेक्स टॉय का इस्तेमाल भारत में ‘अश्लील’ माना जाता है, जिसके तहत इस नियम का उल्लंघन करने पर दो साल तक की जेल हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में सेक्स, कैफीन और चीज को लेकर महिलाएं रहती हैं कंफ्यूज

ऑर्गैज्म के लिए कितना सफल है सेक्स टॉयज का इस्तेमाल?

इसमें कोई दोराय नहीं कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसे ही प्लेजर ही देते हैं। हालांकि, यह व्यक्ति के अनुभव पर भी निर्भर करता है। क्योंकि, सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में किसी दूसरे साथी की जरूरत नहीं होती। लेकिन, अगर किसी को सिर्फ साथी के साथ ही सेक्स करना पसंद है, तो उन्हें सेक्स टॉयज से रियल सेक्स जैसा प्लेजर नहीं मिल सकता है।

यह भी पढ़ेंः डायबिटीज कर सकता है आपकी सेक्स लाइफ को बर्बाद

क्या है डॉक्टर्स की राय?

हैलो स्वास्थ्य की टीम ने कंस्लटिंग होम्योपैथ और क्लिनिकल सेक्सोलॉजिस्ट, डॉ. शाहबाज सायद M.D (Hom), PGDPC के साथ बात की। उनका कहना है, “भारत में सेक्स के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म या प्लेजर नहीं मिल पाता है। हालांकि, फोरप्ले या हस्थमैथुन के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म का एहसास होता है। वहीं, अगर बार-बार एक ही तरह के सेक्स पुजिशन अपनाई जाएं, तो इससे शारीरिक संबंध से मन धीरे-धीरे हट सकता है। इसलिए, कभी-कभार सेक्स के लिए सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करना सही होता है।”

“सेक्स का आनंद लेने के लिए कभी-कभी रिश्ते में कुछ नयापन लाना जरूरी होता है। साथ ही, जरूरी सावधानियों का भी ध्यान रखना चाहिए। यह ध्यान रखें कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल बहुत ज्यादा या लगातार न करें। क्योंकि, यह आपको इसका आदी बना सकता है। इसके अलावा, इन टॉयज का इस्तेमाल साथी के साथ संबंध बनाने के दौरान किया जाए, तो यह रिश्ते को और भी ज्यादा मजबूत और आनंददायक बना सकता है।”

यह भी पढ़ें : फीमेल कंडोम और मेल कंडोम में क्या अंतर है?

सेक्स टॉयज के हेल्थ बेनिफिट्स

अलग-अलग शोध से पता चलता है कि यौन सुख बढ़ाने के लिए सेक्स टॉयज का उपयोग करने से आपको नींद आने, इम्यूनिटी पावर बढ़ाने, दर्द से राहत, तनाव कम करने और मस्तिष्क की शक्ति बढ़ाने में मदद मिल सकती है। सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने के लिए उम्र एक बाधा नहीं है। न्यूयॉक के सेक्सोलॉजिस्ट डॉ इवांस कहते हैं कि, एक महिला ने हमें बताया कि उसने 70 में सेक्स टॉय का उपयोग करके अपने पहले संभोग का आनंद लिया। सेक्स टॉयज से सेक्स करने से दवा के विपरीत कम साइड-इफेक्ट्स हैं और कई महिलाओं को क्लिटोरल ओर्गास्म और जी-स्पॉट ओर्गास्म का आनंद लेने में यह मददगार साबित हो सकता हैं और कई महिलाओं को यह ऐसा सुख देता है जो उन्होंने पहले कभी ना महसूस किया हो। सेक्स टॉयज लोगों को सेक्सुअल प्लेजर और आनंद लेने के लिए जारी रखने में मदद कर सकते हैं जब पेनिट्रेटिव सेक्स संभव नहीं है। ”

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सेक्स टॉयज को इस तरह से पेश किया गया है वे सेक्स के बारे में एक बिना किसी संकोच के बात कर सकें कि उन्हें एख कपल की तरह क्या पसंद है या अकेले उन्हें कैसा सेक्स पसंद है।  डॉक्टर कहते हैं, “यह कुछ ऐसा हो सकता है जो शर्मिंदगी या वस्तुओं की खरीद के डर के कारण पहले नहीं आजमाया गया हो, लेकिन विशेषज्ञ इसको इस्तेमाल करने की सलाह देते है।”

सेक्स टॉय चुनते समय सिलिकॉन, कड़े ग्लास, धातु या ABS प्लास्टिक से बने ‘त्वचा-सुरक्षित’ उत्पादों की सलाह देते हैं, क्योंकि कुछ ऐसी सामग्रियों से बने होते हैं जो यौन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। अगर आपके पास कोई स्वास्थ्य समस्या है जो आपके सेक्सुअल हेल्थ को प्रभावित कर रही है तो इसके लिए तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। आपका स्थानीय यौन स्वास्थ्य क्लिनिक भी सलाह देने में सक्षम हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः सेक्स के लिए सोमवार सबसे बुरा दिन : टिंडर सर्वे

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने से होने वाले नुकसान

इन टॉयज का इस्तेमाल करने के कई नुकसान हो सकते हैंः

  • ये टॉयज बस एक खिलौना होते हैं। इससे सिर्फ सेक्स का प्लेजर प्राप्त किया जा सकता है। यह मनुष्य की तरह प्यार नहीं जता सकता है।
  • इन टॉयज के इस्तेमाल की लत बहुत जल्दी लग सकती है।
  • इन टॉयज का इस्तेमाल लोगों को अकेले रहने के लिए आदी बना सकता है। क्योंकि, अगर एक बार इसकी लत लग जाती है, तो फिर उन्हें साथी के साथ चरम सुख प्राप्त करने में कठिनाई हो सकती है।
  • सेक्स टॉयज का इस्तेमाल यौन संचारित रोगों का खतरा बढ़ा सकता है। इसलिए, हर बार इसका इस्तेमाल करने से पहले इसे अच्छे से साफ करना चाहिए।

उम्मीद है कि आपको सेक्स टॉयज से जुड़ी जानकारी मिल गई होंगी। लेकिन, अगर आपके में इससे संबंधित और भी कोई सवाल है, तो हमसे जरूर पूछें।

यह भी पढ़ें :

इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल : जानें इसके इस्तेमाल से जुड़े मिथक

प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को कैसे बढ़ाएं?

सेक्स और फोरप्ले का क्या है संबंध, आपको है जानकारी ?

प्रेग्नेंसी में सेक्स, कैफीन और चीज को लेकर महिलाएं रहती हैं कंफ्यूज

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    अपने बच्चे या किशोर को सेक्स के बारे में कैसे बताएं, जानिए यहाँ

    जानिए किशोर सेक्स क्या है, बच्चों को सेक्स के बारे में कैसे बताएं, कब बताएं, इस बारे में पाइये टिप्स, teen sex tips , teen sex

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    सेक्शुअल हेल्थ और रिलेशनशिप जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    पावर प्ले में रखते हैं इंटरेस्ट तो ट्राई करें सबमिसिव सेक्स

    सबमिसिव सेक्स क्या है, बीडीएसएम सेक्स क्या है, बॉन्डेज सेक्स कैसे करें, सेक्स के दौरान कौन सी सावधानियां बरतें, BDSM Sex Submissive sex

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    सेक्शुअल हेल्थ और रिलेशनशिप जून 30, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

    लेस्बियन सेक्स कैसे होता है? जानें शुरू से लेकर अंत तक

    लेस्बियन सेक्स के बारे में हमारे बीच काफी अज्ञानता और भ्रम स्थापित है। लेस्बियन पार्टनर कैसे सेक्स करते हैं और क्या इसमें प्रेग्नेंट हो सकते हैं?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal

    सेक्स के दौरान वीर्य स्खलन की मर्यादा (इजैक्युलेशन) को कैसे बढ़ाएं? 

    सह सेक्स क्या है, वीर्य स्खलन की मर्यादा को कैसे बढ़ाएं, सीमन इजैकुलेशन कितनी बार होता है, सह सेक्स में सीमन कितने बार निकलता है, Cum Sex semen Ejaculation.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha

    Recommended for you

    डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन में संबंध क्या है

    डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन – जानिए कैसे लायें सुधार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    मॉर्निंग सेक्स के क्या फायदे हैं, जानिए

    मॉर्निंग सेक्स के फायदे पाने के लिए जानिए कुछ बेहतरीन टिप्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    Horny - हॉर्नी

    हॉर्नी होना क्या है? क्या यह कोई समस्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    तीव्र कामेच्छा

    क्या तीव्र कामेच्छा होना आपके लिए है खतरनाक? जानें इस बारे में सबकुछ

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें