क्या वाकई में सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसा प्लेजर देते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल न सिर्फ सिंगल महिलाएं और पुरुष बल्कि, शादी-शुदा लोग भी करते हैं। हालांकि, भारत में इसका इस्तेमाल कितने प्रतिशत तक किया जाता है इसका कोई सटीक आंकड़ा उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि, भारत में अभी भी सेक्स टॉयज पर न खुलकर बात की जाती है।

एक ई-कॉमर्स साइट की मानें, तो उसने अपने साल 2018 के ऑनलाइन सर्च से इस बात का खुलासा किया है कि करीब 20 फीसदी भारतीय ल्यूब्रिकेंट्स, सेक्स गेम्स और सेक्स टॉयज के बारे में जानने या खरीदने के लिए ऑनलाइन सर्च करते हैं, जो यह साफ करता है कि भारत में भी सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में लोग दिलचस्पी लेते हैं।

और पढ़ें : हर दिन सेक्स करना कैसे फायदेमंद है, जानिए इसके 9 वजह

क्यों किया जाता है सेक्ट टॉयज का इस्तेमाल?

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल व्यक्ति सेक्स का आनंद उठाने के लिए करता है। यह एक छोटे या बड़े खिलौना के रूप में मिलता है, जिसमें डिल्डो और वाइब्रेटर जैसे खिलौने का निर्माण महिलाओं के लिए किया जाता है। पुरुषों के लिए सेक्स टॉयज महिलाओं की योनि के रूप में डिजाइन किए खिलौने होते हैं। हालांकि, विदेशों में अब सेक्स टॉयज के तौर पर डॉल्स भी मिलती हैं।

सेक्स टॉयज कैसे काम करता है?

ये खिलौने मोबाइल फोन की तरह चार्ज किए जा सकते हैं। या फिर कुछ सेल के जरिए भी चलते हैं, जो कंपनशील या अकंपनशील हो सकते हैं।

बैन है सेक्स टॉय का इस्तेमाल

सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना भारत में गैर कानूनी अपराध माना जाता है। भारतीय दंड संहिता की धारा 292 के तहत सेक्स टॉय खरीदना या इसकी बिक्री करने पर पाबंदी लगाई है क्योंकि, सेक्स टॉय का इस्तेमाल भारत में ‘अश्लील’ माना जाता है, जिसके तहत इस नियम का उल्लंघन करने पर दो साल तक की जेल हो सकती है।

और पढ़ें : नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

ऑर्गैज्म के लिए कितना सफल है सेक्स टॉयज का इस्तेमाल?

इसमें कोई दोराय नहीं कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसे ही प्लेजर ही देते हैं। हालांकि, यह व्यक्ति के अनुभव पर भी निर्भर करता है। क्योंकि, सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में किसी दूसरे साथी की जरूरत नहीं होती। लेकिन, अगर किसी को सिर्फ साथी के साथ ही सेक्स करना पसंद है, तो उन्हें सेक्स टॉयज से रियल सेक्स जैसा प्लेजर नहीं मिल सकता है।

और पढ़ेंः वर्जिन सेक्स या वर्जिनिटी खोना क्या है? समझें इससे जुड़ी बातें

क्या है डॉक्टर्स की राय?

हैलो स्वास्थ्य की टीम ने कंस्लटिंग होम्योपैथ और क्लिनिकल सेक्सोलॉजिस्ट, डॉ. शाहबाज सायद M.D (Hom), PGDPC के साथ बात की। उनका कहना है, “भारत में सेक्स के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म या प्लेजर नहीं मिल पाता है। हालांकि, फोरप्ले या हस्थमैथुन के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म का एहसास होता है। वहीं, अगर बार-बार एक ही तरह के सेक्स पुजिशन अपनाई जाएं, तो इससे शारीरिक संबंध से मन धीरे-धीरे हट सकता है। इसलिए, कभी-कभार सेक्स के लिए सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करना सही होता है।”

“सेक्स का आनंद लेने के लिए कभी-कभी रिश्ते में कुछ नयापन लाना जरूरी होता है। साथ ही, जरूरी सावधानियों का भी ध्यान रखना चाहिए। यह ध्यान रखें कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल बहुत ज्यादा या लगातार न करें। क्योंकि, यह आपको इसका आदी बना सकता है। इसके अलावा, इन टॉयज का इस्तेमाल साथी के साथ संबंध बनाने के दौरान किया जाए, तो यह रिश्ते को और भी ज्यादा मजबूत और आनंददायक बना सकता है।”

और पढ़ें : फीमेल कंडोम और मेल कंडोम में क्या अंतर है?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

सेक्स टॉयज के हेल्थ बेनिफिट्स

अलग-अलग शोध से पता चलता है कि यौन सुख बढ़ाने के लिए सेक्स टॉयज का उपयोग करने से आपको नींद आने, इम्यूनिटी पावर बढ़ाने, दर्द से राहत, तनाव कम करने और मस्तिष्क की शक्ति बढ़ाने में मदद मिल सकती है। सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने के लिए उम्र एक बाधा नहीं है। न्यूयॉक के सेक्सोलॉजिस्ट डॉ इवांस कहते हैं कि, एक महिला ने हमें बताया कि उसने 70 में सेक्स टॉय का उपयोग करके अपने पहले संभोग का आनंद लिया। सेक्स टॉयज से सेक्स करने से दवा के विपरीत कम साइड-इफेक्ट्स हैं और कई महिलाओं को क्लिटोरल ओर्गास्म और जी-स्पॉट ओर्गास्म का आनंद लेने में यह मददगार साबित हो सकता हैं और कई महिलाओं को यह ऐसा सुख देता है जो उन्होंने पहले कभी ना महसूस किया हो। सेक्स टॉयज लोगों को सेक्सुअल प्लेजर और आनंद लेने के लिए जारी रखने में मदद कर सकते हैं जब पेनिट्रेटिव सेक्स संभव नहीं है। ”

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सेक्स टॉयज को इस तरह से पेश किया गया है वे सेक्स के बारे में एक बिना किसी संकोच के बात कर सकें कि उन्हें एख कपल की तरह क्या पसंद है या अकेले उन्हें कैसा सेक्स पसंद है।  डॉक्टर कहते हैं, “यह कुछ ऐसा हो सकता है जो शर्मिंदगी या वस्तुओं की खरीद के डर के कारण पहले नहीं आजमाया गया हो, लेकिन विशेषज्ञ इसको इस्तेमाल करने की सलाह देते है।”

सेक्स टॉय चुनते समय सिलिकॉन, कड़े ग्लास, धातु या ABS प्लास्टिक से बने ‘त्वचा-सुरक्षित’ उत्पादों की सलाह देते हैं, क्योंकि कुछ ऐसी सामग्रियों से बने होते हैं जो यौन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। अगर आपके पास कोई स्वास्थ्य समस्या है जो आपके सेक्सुअल हेल्थ को प्रभावित कर रही है तो इसके लिए तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। आपका स्थानीय यौन स्वास्थ्य क्लिनिक भी सलाह देने में सक्षम हो सकता है।

और पढ़ें : सेक्स न करने के भी होते हैं इतने नुकसान, जानकर हैरान रह जाएंगे

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने से होने वाले नुकसान

इन टॉयज का इस्तेमाल करने के कई नुकसान हो सकते हैंः

  • ये टॉयज बस एक खिलौना होते हैं। इससे सिर्फ सेक्स का प्लेजर प्राप्त किया जा सकता है। यह मनुष्य की तरह प्यार नहीं जता सकता है।
  • इन टॉयज के इस्तेमाल की लत बहुत जल्दी लग सकती है।
  • इन टॉयज का इस्तेमाल लोगों को अकेले रहने के लिए आदी बना सकता है। क्योंकि, अगर एक बार इसकी लत लग जाती है, तो फिर उन्हें साथी के साथ चरम सुख प्राप्त करने में कठिनाई हो सकती है।
  • सेक्स टॉयज का इस्तेमाल यौन संचारित रोगों का खतरा बढ़ा सकता है। इसलिए, हर बार इसका इस्तेमाल करने से पहले इसे अच्छे से साफ करना चाहिए।

उम्मीद है कि आपको सेक्स टॉयज से जुड़ी जानकारी मिल गई होंगी। लेकिन, अगर आपके में इससे संबंधित और भी कोई सवाल है, तो हमसे जरूर पूछें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पीठ दर्द के साथ बेहतर सेक्स के लिए ध्यान रखें ये जरूरी बातें

पीठ दर्द के साथ बेहतर सेक्स कैसे करें? सही सेक्स पुजिशन के साथ कुछ अन्य उपाय अपनाकर आप पीठ दर्द के साथ बेहतर सेक्स करने के रास्ते को आसान बना सकते हैं। मिशनरी, बैक स्पूनिंग..back pain and sex in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
सेक्शुअल हेल्थ और रिलेशनशिप, स्वस्थ जीवन सितम्बर 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

पुरुषों के लिए सेक्स टिप्स: जानें हेल्दी सेक्स लाइफ के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं?

पुरुषों के लिए सेक्स टिप्स, सेक्स के दौरान क्या करें और क्या नहीं, इस दौरान होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जानकारी,Healthy sex tips for men

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Ruby Ezekiel
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

LGBT कम्युनिटी में 60 प्रतिशत लोग होते हैं डिप्रेशन का शिकार, जानें क्या है इसकी वजह?

LGBT में डिप्रेशन का क्या हैं मुख्य कारण? क्या है मनोचिकित्सक की राय? किन बातों को ध्यान रखना है आवश्यक? Depression Among Lesbian, Gay, Bisexual and Queer.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कॉन्डोमलेस सेक्स के क्या होते हैं रिस्क, बीमारियों से बचाव के लिए यह जानना है जरूरी

कॉन्डोमलेस सेक्स काफी घातक होता है, इसका इस्तेमाल करने वाले लोग कई बीमारियों से बच जाते हैं वहीं जो इस्तेमाल नहीं करते उन्हें बीमारी का खतरा रहता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

Recommended for you

सेक्स के दौरान पूप

सेक्स के दौरान पूप: जानिए क्यों होता है ऐसा और इससे कैसे बचें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हॉर्नी और सेक्स

सेक्स के बारे में सोचते रहना नहीं है कोई बीमारी, ऐसे कंट्रोल में रख सकते हैं अपनी फीलिंग्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
जेनोफोबिया

सेक्स से लगता है डर? हो सकता है जेनोफोबिया

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
रिलेशनशिप में चीटिंग

क्यों मिला आपको रिलेशनशिप में धोखा? वजह ढूंढ रहे हैं तो पढ़ें यह आर्टिकल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें