सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन, दिल्ली के एम्स में आज सुबह ली अंतिम सांस

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अप्रैल 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का सोमवार सुबह दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में निधन हो गया। जानकारी के मुताबिक सीएम के पिता ने एम्स में सुबह 10.45 पर अंतिम सांस ली थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट के शव को पैतृक गांव उत्तराखंड (पंचूर) ले लाया जा रहा है। जानकारी के अनुसार, सीएम के पिता पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उन्हें किडनी और लिवर की समस्या थी जिसकी वजह से उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। गंभीर समस्या की वजह से उन्हें मार्च ही में एम्स में भर्ती कराया गया था। फिलहाल उन्हें आईसीयू में रखा गया था और वो डायलिसिस पर चल रहे थे। आनंद सिंह बिष्ट 89 साल के थे। आपको बताते चलें कि सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट बतौर फॉरेस्ट रेंजर अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

यह भी पढ़ेंः Dilation and curettage (D&C) : डायलेशन और क्यूरिटेज प्रोसीजर क्या है?

पिछले एक महीने से बीमार थे सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता

आनंद सिंह बिष्ट की हालत उनके पैतृक घर उत्तराखंड में अचानक से खराब हो गई थी। एक महीने पहले हालत ज्यादा खराब होने पर उन्हें उत्तराखंड में पौड़ी- गढ़वाल जिले से एयर एंबुलेंस के जरिये दिल्ली के एम्स में लाया गया था। तब से उनका इलाज लगातार एम्स में चल रहा है। सीए योगी आदित्यनाथ के पिता को किडनी और लिवर की गंभीर समस्या हो गई थी। जब सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता की मौत हुई, उस वक्त वो कोरोना महामारी से निपटने के लिए महत्वपूर्ण मीटिंग में व्यस्त थे। सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट फॉरेस्ट रेंजर के पद से 1991 में रिटायर हो गए थे और उसके बाद से ही वे अपने गांव में रह रहे थे। सीएम योगी आदित्यनाथ का अपने पिता आनंद सिंह बिष्ट से मिलना कम ही हो पाता था। योगी आदित्यनाथ ने बचपन में ही अपना परिवार छोड़ कर गोरखपुर महंत अवेद्यनाथ के पास चले आए थे। सीएम योगी की व्यस्त शेड्यूल के कारण भी उनके परिवार से मुलाकात लंबे समय पर ही हो पाती थी।

यह भी पढ़ेंः भारत का पहला प्रोटीन डे आज, जानें क्यों पड़ी इस खास दिन की जरूरत?

लिवर का शरीर में क्या होता है काम ?

शरीर के आतंरिक अंगों में लीवर सबसे बड़ा होता है। लीवर का वजन करीब 3 पाउंड (लगभग 1.3 किलोग्राम) होता है। यह पेट के ऊपरी हिस्से में दाईं ओर स्थित होता है। लिवर का हमारे शरीर में महत्मवपूर्ण रोल होता है। लिवर डाइजेस्टिव एंजाइम बनाने के साथ ही ब्लड क्लॉटिंग में भी मदद करता है। शरीर में लिवर ही एक मात्र ऐसा अंग है कि यदि इसके एक हिस्से को हटाया जाए तो यह दोबारा डेवलप हो कर अपने पुराने आकर में आ जाता है।

लिवर अगर पूरी तरह से खराब हो जाए तो इंसान का जीना मुमकिन नहीं है। वहीं आधा लिवर खराब हो जाने पर जीने की संभावना रहती है। अगर किसी भी व्यक्ति को लिवर संबंधि समस्या हो जाती है तो उसे बैक्टीरियल और फंगल इंफेक्शन जल्दी होने के चांसेज रहते हैं। साथ ही ब्लड में टॉक्सिक एलिमेंट्स और केमिकल की मात्रा बढ़ सकती है। लिवर अगर पूरा खराब हो जाता है तो कुछ ही दिनों में स्थिति बहुत बिगड़ जाती है और इंसान की मृत्यु हो सकती है। लिवर में समस्या होने पर अगर सही समय पर इलाज कराया जाए तो स्थिति सुधर सकती है। लिवर खराब होने पर शरीर में विभिन्न प्रकार के लक्षण नजर आ सकते हैं। लिवर का हमारे शरीर में महत्वपूर्ण कार्य होता है इसलिए इसका सही से काम करना भी बहुत जरूरी होता है।

जानिए लिवर का शरीर में क्या होता है काम ?

  • ब्लड क्लॉटिंग में मदद करता है।
  • ब्लड से टॉक्सिक एलिमेंट रिमूव करता है
  • पित्त नामक डाइजेस्टिव एंजाइम बनाता है।
  • विटामिन और मिनरल को स्टोर करता है
  • हार्मोन और इम्यून रिसपॉन्स को कंट्रोल करता है

आनंद सिंह बिष्ट को थी किडनी की समस्या, जानिए इस बारे में

लिवर की तरह ही किडनी भी शरीर का महत्वपूर्ण अंग होता है। किडनी को गुर्दा भी कहा जाता है। किडनी हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है, जो शरीर में मौजूद रक्त को फिल्टर करने और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करती है। हमारे शरीर में दो किडनी होती हैं, जो कि कमर के ठीक ऊपर स्पाइन के दोनों तरफ स्थित होती हैं। किडनी की बीमारी के कारण आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जो कि गंभीर होने पर जानलेवा भी साबित हो सकती है।

किडनी मजबूत हड्डियों के लिए विटामिन डी के मेटाबॉलिज्म का काम भी करती है। किडनी पाचन, मसल्स एक्टिविटी और दवाई या कैमिकल के संपर्क में आने के बाद रक्त से वेस्ट मटेरियल बाहर निकालने में मदद करती है। साथ ही किडनी शरीर में एरिथ्रोपोइटिन  (erythropoietin) नाम के केमिकल का उत्पादन भी करती है, जो शरीर को रेड ब्लड सेल्स का उत्पादन करने के लिए संकेत भेजता है। जब किडनी फेल हो जाती है तो व्यक्ति को डायलिसिस की हेल्प लेनी पड़ती है। अगर व्यक्ति कि एक किडनी खराब है और दूसरी ठीक तरह से काम कर रही है तो भी व्यक्ति जीवित रह सकता है। एक किडनी खराब होने पर व्यक्ति को कई तरह के परहेज के साथ ही डॉक्टर की बताई गई बातों का ध्यान भी रखना पड़ता है।

यह भी पढ़ें : खेल में नंबर-1 आने के लिए बॉडी रखनी पड़ती है फिट, इस तरह खिलाड़ी रखते हैं अपनी बॉडी फिटनेस का ध्यान

डायलिसिस का क्या काम होता है?

डायलिसिस एक प्रक्रिया है जिसकी सहायता से किडनी का काम आसानी से होता है। डायलिसिस को आर्टिफिशियल किडनी कहना सही रहेगा। किडनी हमारे शरीर में मुख्य रूप से खून को साफ करके अन्य अंगों में संचारित करने का काम करती है। अगर किडनी खराब हो जाए, तो ब्लड में उपस्थित खराब पदार्थ  शरीर के सभी अंगों में प्रवाहित होने लगेंगे जिससे शरीर के अंग खराब होने शुरू हो सकते हैं। इसके कारण कई बीमारियां हो सकती हैं। इससे बचाव करने के लिए डायलिसिस भी एक उपचार की प्रक्रिया होती है। डायलिसिस व्यक्ति के शरीर के खून को फिल्टर करके वापस उसे शरीर के सभी अंगों में प्रवाहित करने का कार्य करता है। हालांकि, डायलिसिस की प्रक्रिया को हम लॉन्ग टर्म नहीं कह सकते हैं।

और पढ़ेंः-

Osteomyelitis : ऑस्टियोमाइलाइटिस क्या है?

युवराज सिंह ने कैंसर के दौरान क्या-क्या नहीं सहा, लेकिन कभी हार नहीं मानी

डिओडरेंट के नुकसान से बचने के लिए बरतें ये सावधानियां, हो सकता है कैंसर तक

मेल ब्रेस्ट कैंसर के क्या हैं कारण, जानिए लक्षण और बचाव

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Percutaneous Nephrolithotomy : परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी क्या है?

जानिए परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी की जानकारी in Hindi, परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी क्या है, कैसे और कब की जाती है, Percutaneous Nephrolithotomy की प्रक्रिया, क्या है जोखिम, जानें इसके खतरे, कैसे करें रिकवरी, कैसे करें बचाव।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 28, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

Peritonitis : पेरिटोनाइटिस क्या है?

जानिए पेरिटोनाइटिस की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, पेरिटोनाइटिस के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, Peritonitis का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Suniti Tripathy
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z सितम्बर 10, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

गैर-कोरोना मरीजों के ट्रीटमेंट चार्जेज में बढ़ोत्तरी

महामारी पर महंगाई की मार झेल रहे हैं गैर-कोरोना मरीज, ट्रीटमेंट चार्जेज की बढ़ोत्तरी से हैं परेशान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Former PM Dr. Manmohan SIngh - पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की कल रात बिगड़ी तबीयत, एम्स में भर्ती

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Rishi Kapoor Died- ऋषि कपूर का निधन

कैंसर से दो साल तक लड़ने के बाद ऋषि कपूर ने दुनिया को कहा, अलविदा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अप्रैल 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Irrfan Khan Died- इरफान खान का निधन

‘मकबूल एक्टर’ इरफान खान का निधन, मुंबई में ली आखिरी सांस

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अप्रैल 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें