रेनिटिडिन का इस्तेमाल करते हैं तो जाएं सावधान, हो सकता है कैंसर का खतरा

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 22, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

साधारण दर्द और बुखार के उपचार के लिए हर घर में आमतौर पर कुछ दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन, बिना डॉक्टर के परामर्श के इस तरह दवा लेने वालों को सावधान हो जाने की जरूरत है। ड्रग कंट्रोलर जनपल ऑफ इंडिया (DCGI) अब इस तरह की सभी दवाइयों पर अपनी पैनी नजर रखे हुए है। बता दें कि भारत में इस तरह के 180 से भी अधिक दवाइयां इस्तेमाल की जाती है, जिन्हें बिना डॉक्टर के परामर्श के सीधे काउंटर से खरीदा जा सकता है। कुछ समय पहले ही ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने अपनी जांच में वलसार्टन में कैंसर पैदा करने वाले पदार्थों की संभावित उपस्थिति जाहिर की थी। वलसार्टन का इस्तेमाल आमतौर पर ब्लड प्रेशर और दिल से जुड़े कुछ मामलों में किया जाता था। वहीं, अब यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (USFDA) ने अपनी एक रिपोर्ट में रेनिटिडिन पर संदेह जाहिर किया है। रेनिटिडिन का इस्तेमाल आमतौर पर सीने में होने वाली जलन के उपचार के लिए किया जाता है।

यूएसएफडीए का कहना है “रेनिटिडिन का इस्तेमाल सीने में हो रही जलन और एसिडिटी के लिए सबसे ज्यादा किया जाता है। आमतौर पर इसे जैंटेक के नाम से भी जाना जाता है, इसमें निम्न स्तर पर एन-नाइट्रोसोडिमिथाइलैमाइन (एनडीएमए) नामक नाइट्रोसामाइन की मात्रा होती है।

यह भी पढे़ंः Ranitidine : रेनिटिडिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या है एनडीएमए?

यूएसएफडीए का दावा है कि एनडीएमए की मात्रा मानव कार्सिनोजेन, यानी कैंसर के खतरे का कारण बन सकता है। हालांकि, अभी इसके परिणामों को जानने के लिए इस पर जांच की जा रही है। इसकी जांच के लिए यूएसएफडीए अंतरराष्ट्रीय नियामकों और उद्योग के साथ काम कर रही थी। साथ ही लोगों को इस दवा का इस्तेमाल करने से मना किया है। अगर कोई नियमित तौर पर इसका सेवन करता है, तो जल्द ही अपने डॉक्टर से संपर्क करने जरूरत है।

रेनिटिडिन के नुकसान

रेनिटिडिन के नुकसान अलग-अलग  शारीरिक परिस्थितियों में अलग-अलग हो सकते हैं।

किडनी की समस्या में रेनिटिडिन के नुकसान

किडनी की समस्या से जूझ रहे लोग या फिर ऐसे लोग, जिन्हें कभी गुर्दे की समस्या रही है, तो उन्हें रेनिटिडिन के नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में किडनी की समस्या से जूझ रहे लोगों को रेनिटिडिन के सेवन से बचने की जरूरत होती है।

लिवर की समस्या में रेनिटिडिन के नुकसान

अगर किसी शख्स को लिवर से जुड़ी बीमारी है या पहले कभी उस तरह की समस्या हो चुकी है, तो रेनिटिडिन के सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह ले लें। रेनिटिडिन के इस्तेमाल से शरीर में एनडीएमए का लेवल बढ़ सकता है और शरीर को रेनिटिडिन के नुकसान हो सकते हैं।

एक्यूट पोरफाइरिया में रेनिटिडिन के नुकसान

एक्यूट पोरफाइरिया एक तरह का इनहार्टेड ब्लड डिसऑर्डर है। इसलिए इस डिसऑर्डर के दौरान इस रेनिटिडिन ड्रग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसके सेवन से एक्यूट पोरफाइरिया की समस्या और गंभीर हो सकती है।

गेस्ट्रिक कैंसर और रेनिटिडिन के नुकसान

इस दवा के सेवन से पेट में एसिड की मात्रा सामान्य से भी हो सकती है। हालांकि, इससे गेस्ट्रिक की समस्या में तो राहत मिल सकती है। लेकिन, ट्यूमर के कैंसर का रूप लेने की आशंका बढ़ जाती है।

शारीरिक परिस्थितियों के अलावा प्रेग्नेंट महिलाओं को भी रेनिटिडिन के इस्तेमाल से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

प्रेग्नेंट महिलाओं का रेनिटिडिन का इस्तेमाल

जानवरों पर किए गए अध्ययन के अनुसार, प्रेग्नेंसी के दौरान रेनिटिडिन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। रेनिटिडिन के इस्तेमाल से गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। अभी भी रेनिटिडिन के इस्तेमाल से जुड़े शोध जारी हैं। जब तक कि शोधकर्ता रेनिटिडिन के इस्तेमाल के बारे में किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचते तब तक गर्भवती महिलाओं को रेनिटिडिन के इस्तेमाल से बचना चाहिए। अगर रेनिटिडिन जैसी दवा जरूरत पड़ती हैं,  तो पहले डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए।

स्तनपान करवाने की स्थिति में रेनिटिडिन का इस्तेमाल

स्तनपान कराने की स्थिति में अगर किसी कारण आप रेनिटिडिन के इस्तेमाल की जरूरत पड़ती हैं, तो इसके सेवन से शिशु को नुकसान हो सकता है। इसलिए स्तनपान की जानकारी अपने हेल्थ एक्सपर्ट को जरूर दें।

सीनियर सिटीजन

सीनियर सिटीजन को किडनी से जुड़ी समस्याएं होना आम बात है। ऐसे में रेनिटिडिन के इस्तेमाल से बुजुर्गों में किडनी से जुड़ी समस्याएं और बढ़ सकती हैं और साथ ही यह दवा उनमें डिप्रेशन जैसी अन्य परेशानियों का भी कारण बन सकती है।

बच्चों के लिए

एक महीने से ज्यादा बड़े शिशु को रेनिटिडिन की दवा दी जा सकती है। लेकिन, यह 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए हानिकारक भी साबित हो सकती है। इसलिए बच्चों को रेनिटिडिन देने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें। रेनिटिडिन के नुकसान को समझने के साथ-साथ यह भी समझें की इसका सेवन कैसे करना चाहिए।

रेनिटिडिन का सेवन बिना डॉक्टर के सलाह के किसी भी सूरत में न करें। साथ ही अगर इसका सेवन कर रहें हैं, तो डॉक्टर द्वारा बताए निर्देशों के अनुसार ही इसका सेवन करें। बिना डॉक्टर की सलाह के रेनिटिडिन का इस्तेमाल करने से इसके साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। रेनिटिडिन की टैबलेट को एक गिलास पानी के साथ ही लें। रेनिटिडिन के नुकसान से बचने के लिए किसी भी खाद्य पदार्थों के सेवन से अगर एसिडिटी की समस्या होती है, तो रेनिटिडिन आधे घंटे से एक घंटे पहले ले लेनी चाहिए। जितनी टैबलेट एक दिन में लेने की सलाह दी गई है उतनी ही लेनी चाहिए। अपनी मर्जी से इस दवा का सेवन न करें और अगर आप रेनिटिडिन से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं या रेनिटिडिन के नुकसान को समझना चाहते हैं तो डॉक्टर से बात करना बेहतर होगा।

भारत में कैसे होता है रेनिटिडिन का इस्तेमाल और निर्माण?

भारत में रेनिटिडिन का इस्तेमाल कई अलग-अलग ब्रांड करते हैं। भारतीय चिकित्सा संघ के पूर्व अध्यक्ष रवि वानखेडकर ने इस बारे में अपना बयान जारी किया है। उन्होंने कहा “रेनिटिडिन में कैंसर का कारण बनने वाले पदार्थ की मात्रा बहुत कम है। हालांकि, डीसीजीआई ने इसकी जांच करने के लिए इसका निर्माण करने वाली कंपनियों से उनका डेटा मांगा है।”

रेनिटिडाइन साल भर में लगभग 730 करोड़ का व्यापार होता है। यह आंकड़े खुद AIOCD-AWACS के अनुमान पर जारी किए गए हैं। मौजूदा समय में बाजारों में इसके 180 से भी अधिक सामान्य ब्रांड उपलब्ध हैं।

वहीं, वलसार्टन की बात करें, तो यह भारत में हर साल लगभग 263 करोड़ की बिक्री होती है, जिसे लेकर अब यूएसएफडीए ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है। इसका निर्माण 50 से अधिक ब्रांड करते थे।

इसके साथ ही, एफडीए अब इस बात पर जांच कर रहा है कि रेनिटिडिन में पाए गए एनडीएमए की मात्रा इसका इस्तेमाल करने वालों पर किस तरह के जोखिम का कारण बन सकता है।

नए संशोधन की समीक्षा डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा की गई

और पढ़ें:

आयुर्वेद व पोस्ट डिलिवरी देखभाल और इससे जुड़े तथ्य और मिथ क्या हैं?

जानें क्या लिवर कैंसर और इसके हाेने के कारण

Lactic Acid Test : लैक्टिक एसिड टेस्ट क्या है?

पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Folvite 5 mg Tablet : फोल्विट 5 एमजी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    फोल्विट 5 एमजी टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फोल्विट 5 एमजी टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Folvite 5 mg डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Glizid M : ग्लिजिड एम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    ग्लिजिड एम की जानकारी in hindi, ग्लिजिड एम के साइड इफेक्ट क्या है, ग्लिक्लाजिड और मेटफॉर्मिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glizid M

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Gelusil Syrup : जेलुसिल सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    जेलुसिल सिरप की जानकारी in hindi, जेलुसिल सिरप के साइड इफेक्ट क्या है, एल्यूमिनियम हाइड्रॉक्साइड (Aluminium Hydroxide), डायमेथीकॉन (Dimethicone), मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड (Magnesium Hydroxide) , रिएक्शन, उपयोग, Gelusil Syrup.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Fertisure M Tablet : फर्टिश्योर एम टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    फर्टिश्योर एम टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फर्टिश्योर एम टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Fertisure M Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें