backup og meta

पेरिमेनोपॉज का इलाज कैसे किया जाता है? अपॉइंटमेंट के दौरान किन-किन बातों का रखें ध्यान?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 02/03/2021

पेरिमेनोपॉज का इलाज कैसे किया जाता है? अपॉइंटमेंट के दौरान किन-किन बातों का रखें ध्यान?

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार 40 से 59 वर्ष की उम्र की 56 प्रतिशत महिलाएं पेरिमेनोपॉज (Perimenopause) की समस्या से परेशान होती हैं। वहीं 40.5 प्रतिशत महिलाएं पोस्टमेनोपॉज (Postmenopause) की समस्या फेस करती हैं। दरअसल पेरिमेनोपॉज के दौरान महिलाएं रजोनिवृत्ति के लक्षणों को महसूस करती हैं। ऐसे वक्त में ज्यादातर महिलाएं नींद ना आने की समस्या के साथ-साथ कई अन्य शारीरिक परेशानियों से गुजरती हैं। इस आर्टिकल में पेरिमेनोपॉज और पेरिमेनोपॉज का इलाज (Treatment for Perimenopause) कैसे किया जाता है, यह समझने की कोशिश करेंगे। लेकिन सबसे पहले पेरीमोनोपॉज क्या है, इसे समझते हैं।

और पढ़ें : मेनोपॉज के दौरान इंसोम्निया की समस्या कहीं आप पर हावी न हो जाए, ध्यान रखें इन बातों का

पेरिमेनोपॉज क्या है? (What is Perimenopause?)

हर महिला को पेरिमेनोपॉज की स्थिति का सामना करना पड़ता है। पेरिमेनोपॉज (Perimenopause), मेनोपॉज (Menopause) से कुछ साल पहले होने वाला ट्रान्जेशन पीरियड है। इस दौरान ओवरी से एस्ट्रोजेन (Estrogen) का निर्माण कम होने लगता है। इस स्टेज में आने पर महिला को अपनी मेडिकल हिस्ट्री, जेनेटिक्स, लाइफ स्टाइल एवं शरीर में हो रहे बदलाओं को ध्यान में रखना चाहिए। रिसर्च की मानें तो तकरीबन 4 साल तक पेरिमेनोपॉज से जुड़ी परेशानियों का सामना महिलाओं को करना पड़ता है। लेकिन पेरिमेनोपॉज का इलाज (Treatment for Premenopausal) कर इस दौरान होने वाली शारीरिक परेशानियों को कम किया जा सकता है।

और पढ़ें : महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप है जरूरी, बढ़ती उम्र के साथ रखें इन बातों का ध्यान

पेरिमेनोपॉज का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Perimenopause)

पेरिमेनोपॉज का इलाज (Treatment for Perimenopause)

पेरिमेनोपॉज का इलाज निम्नलिखित तरह से किया जाता है। जैसे:

हॉर्मोन थेरिपी (Hormone Therapy): सिस्टेमिक (Systemic) एस्ट्रोजन थेरिपी दवा, जेल एवं क्रीम के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे पेरिमेनोपॉज की वजह से होने वाली परेशानी जैसे रात के वक्त जरूरत से ज्यादा पसीना आने की समस्या दूर होती है। पेरिमेनोपॉज के इलाज दौरान पेशेंट की मेडिकल हिस्ट्री को ध्यान में रखकर एस्ट्रोजन (Estrogen) की डोज डॉक्टर तय करते हैं। ईस्ट्रोजेन के सेवन से हड्डियों से जुड़ी तकलीफ को भी दूर करने में मदद मिलती है।

वजायनल ईस्ट्रोजेन (Vaginal Estrogen): अगर वजायना जरूरत से ज्यादा ड्राय हो रही है, तो वजायनल टैबलेट (Vaginal tablets) या क्रीम इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। इससे वजायना में होने वाले रूखेपन को दूर किया जा सकता है और इंटरकोर्स के दौरान होने परेशानियों से भी राहत मिल सकती है।

डिप्रेशन की दवाइयां (Depression medicine): पेरिमेनोपॉज का इलाज कर रहे डॉक्टर को ऐसा लगता है कि महिला पेरिमेनोपॉज की वजह से डिप्रेशन (Depression) का शिकार हो रही है, तो डॉक्टर सेलेक्टिव सेरोटोनिन रिउप्टेक इनहिबिटर्स (Selective Serotonin Reuptake Inhibitors [SSRIs]) प्रिस्क्राइब करते हैं। यह दवा एंटी-डिप्रेशन की तरह काम करती है और मेनोपॉज से जुड़ी परेशानियों को भी कम करने में मददगार साबित हो सकती है।

गाबापेन्टिन (न्युरोन्टिन) (Gabapentin) (Neurontin): गाबापेन्टिन (न्युरोन्टिन) डॉक्टर पेशेंट को दौरे पड़ने की स्थिति में देते हैं, लेकिन कई बार पेशेंट की कंडिशन को देखते हुए इस दवा को भी प्रिस्क्राइब करते हैं।

पेरिमेनोपॉज का इलाज विशेष रूप से इन्हीं दवाओं से किया जाता है। लेकिन अगर पेशेंट की स्थिति गंभीर है या किसी अन्य बीमारियों से पीड़ित हैं, तो उसे ध्यान में रखकर पेरिमेनोपॉज का इलाज किया जाता है।

और पढ़ें : ये हैं वजायना में होने वाली गंभीर बीमारियां, लाखों महिलाएं हैं ग्रसित

पेरिमेनोपॉज का इलाज: डॉक्टर से अपॉइंटमेंट के दौरान किन-किन बातों का ध्यान रखें?

पेरिमेनोपॉज का इलाज करवाना जरूरी है। ज्यादातर महिलाएं पीरियड्स, पेरिमेनोपॉज या मेनोपॉज के दौरान होने वाली परेशानियों को इग्नोर करने लगती है। जबकि डॉक्टर्स की मानें, तो ऐसा नहीं करना चाहिए और गायनोकोलॉजिस्ट (Gynecologist) से कंसल्ट करना चाहिए और अपॉइंटमेंट के दौरान निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे:

  • 3 से 4 महीने का रिपोर्ट तैयार करें। इस दौरान महिलाओं को अपने मासिक धर्म (Menstrual cycles) के स्टार्टिंग डेट और ब्लीडिंग किस दिन बंद हुई है, इसकी जानकारी रखनी होगी। इसके साथ ही ब्लीडिंग की स्थिति को भी ध्यान में रखना चाहिए कि कब ब्लीडिंग ज्यादा हुई है, कम हुई है या बहुत ज्यादा हुई है।
  • पेरिमेनोपॉज (Perimenopause) के दौरान पीरियड्स होने पर यह भी रिकॉर्ड रखना जरूरी है कि इस दौरान महिला अपने शरीर में क्या-क्या बदलाव महसूस करती हैं? अगर इस दौरान कोई भी लक्षण समझ आये या आप महसूस करें, तो अपने गायनोकोलॉजिस्ट से ये जरूर शेयर। क्योंकि पेरिमेनोपॉज का इलाज ठीक तरह से तभी संभव है, जब आप अपनी शारीरिक परेशानियों को इग्नोर नहीं कर, इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को दें।
  • अपने पर्सनल इन्फॉर्मेशन जैसे अगर आप किसी कारण तनाव (Tension) में रहती है या कोई अन्य वजहों को भी इग्नोर ना करें।
  • अगर आप किसी भी तरह की दवाओं का सेवन करती हैं या विटामिन्स (Vitamins) और सप्लिमेंट्स (Supplements) लेती हैं, तो इसकी जानकारी भी अपने डॉक्टर को अवश्य दें। अगर डॉक्टर ने आपको कोई खास दवाओं के सेवन की सलाह दी है, तो प्रिस्क्रिप्शन जरूर अपने गायनोकोलॉजिस्ट को दिखाएं।

डॉक्टर से मिलने के दौरान अपने परिवार के सदस्य या ऐसे एक व्यत्कि को साथ जरूर ले जाएं, जो आपकी शारीरिक परेशानियों को जानते हों। इससे फायदा ये होगा कि अगर आप डॉक्टर को कुछ बताना भूल गई हैं, तो आपके साथ गए व्यक्ति आपको रिमाइंड करवा सकते हैं।

ये सभी जानकारी अपने डॉक्टर से जरूर शेयर करें, जिससे पेरिमेनोपॉज का इलाज ठीक तरह से किया जा सकता है।

और पढ़ें : मेनोपॉज और लिबिडो में क्या है संबंध और कैसे पाएं इस स्थिति में राहत? 

पेरिमेनोपॉज का इलाज: डॉक्टर से मिलने के दौरान आपको क्या-क्या सवाल पूछना चाहिए?

आपको अपने डॉक्टर से निम्नलिखित सवाल पूछना चाहिए। जैसे:

  • क्या जो लक्षण मैं महसूस कर रहीं हूं, उनसे भी अलग कोई लक्षण हो सकते हैं?
  • कौन-कौन से टेस्ट मुझे करवाने की जरूरत है?
  • कोई मेरी कंडिशन गंभीर है या कुछ ही दिनों में मेरी परेशानी कम हो सकती है?
  • पेरिमेनोपॉज का इलाज ठीक तरह से हो और इस दौरान होने वाली परेशानियों से मैं दूर रहूं, इसके लिए आप मुझे क्या सलाह देंगे।
  • मुझे कब-कब आपसे मिलने की जरूरत है।
  • इन सवालों को आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछें।
  • पेशेंट को अपने डॉक्टर से ये सभी सवाल पूछने चाहिए। वहीं डॉक्टर भी परिमोनोपॉज के इलाज के दौरान पेशेंट से कुछ सवाल पूछ सकते हैं।

    और पढ़ें : पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) फर्टिलिटी को कर सकता है प्रभावित, जानें क्या करें

    पेरिमेनोपॉज का इलाज जब डॉक्टर शुरू करते हैं, तो पेशेंट्स से क्या-क्या पूछ सकते हैं?

    पेरिमेनोपॉज (Perimenopause) के इलाज के दौरान डॉक्टर आपसे निम्नलिखित सवाल पूछ सकते हैं। जैसे:

    • क्या आपका पीरियड्स साइकिल (Menstrual Cycle) नॉर्मल है या पीरियड्स (Periods) से जुड़ी पूरी जानकारी बताएं।
    • आपको किस तरह के लक्षण नजर आते हैं या समझ आते हैं?
    • आपको ऐसे लक्षण कब से समझ आ रहें हैं?
    • लक्षणों की वजह से आपको क्या-क्या परेशानी होती है?

    इन सवालों के अलावा पेरिमेनोपॉज के इलाज (Treatment for Perimenopause) के दौरान डॉक्टर आपसे आपकी सेहत से जुड़े अन्य सवाल भी पूछ सकते हैं।

    अगर आप पेरिमेनोपॉज की स्थिति फेस कर रहीं हैं और पेरिमेनोपॉज का इलाज (Treatment for Perimenopause) शुरू करना चाहती हैं, तो इसमें देरी ना करें। जल्द से जल्द डॉक्टर से कंसल्ट करें। पेरिमेनोपॉज से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 02/03/2021

    advertisement iconadvertisement

    Was this article helpful?

    advertisement iconadvertisement
    advertisement iconadvertisement