home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

स्टडी : मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग होता है सेफ और प्रभावी

स्टडी : मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग होता है सेफ और प्रभावी

आज के दौर में पीरियड्स होने पर आमतौर पर ज्यादातर महिलाएं पैड्स का यूज करती हैं। पैड्स का यूज करना किसी भी महिला के लिए वाकई सरल विधि होता है। वजह सिर्फ इतनी है कि इसे आसानी से लगाया और हटाया जा सकता है। अब जबकि टेक्नोलॉजी का जमाना है तो नई चीजों का ईजाद होना कोई बड़ी बात नहीं है। पीरियड्स के लिए मेंस्ट्रुअल कप के यूज के बारे में क्या आपने सुना है। आपने अगर मेंस्ट्रुअल कप के बारे में सुना है लेकिन किसी डर की वजह से अभी तक यूज नहीं किया है तो आपके लिए एक खुशखबरी है। जी हां, एक स्टडी में ये बात सामने आई है कि मेंस्ट्रुअल कप सेफ और प्रभावी होते हैं। मेंस्ट्रुअल कप के यूज से वजायना के आसपास के टिशू को किसी भी प्रकार की हानि नहीं होती है।

स्टडी के दौरान बाल्टीमोर में जॉन्स हॉपकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के जूली हेनेगन का कहना है कि ‘पीरियड्स के दौरान खरीदे जाने वाले उत्पादों में नए अध्ययन के अनुसार मेंस्ट्रुअल कप सुरक्षित और कम लागत के कारण चर्चा में हैं।’ लड़कियों के मन में मेंस्ट्रुअल कप को लेकर तमाम बातें रहती हैं। इन्हीं बातों के ध्यान में रखते हुए स्टडी की गई, और परिणाम भी सकारात्मक आए। मेंस्ट्रुअल कप का आपने कभी यूज किया हो या फिर नहीं, लेकिन इसके बारे में जानकारी लेना बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें : Female Sterilisation : महिला नसबंदी (फीमेल स्टरलाइजेशन) क्या है?

मेंस्ट्रुअल कप के बारे में कम है जानकारी

स्टडी में ये बात सामने आई कि लोगों को मेंस्ट्रुअल कप के बारे में कम जानकारी है और साथ केवल 30 प्रतिशत वेबसाइट में ही मेंस्ट्रुअल कप के बारे में जानकारी दी गई है। विभिन्न प्रकार कि शिक्षा देने वाली वेबसाइट भी मेंस्ट्रुअल कप के सही से उपयोग के बारे में जानकारी शामिल नहीं है। स्टडी में शामिल मेट्स इस बारे में कहते हैं कि मेंस्ट्रुअल कप से वेस्ट नहीं निकलता है, साथ ही महिलाओं को हर महीने पीरियड्स के लिए अन्य प्रोडक्ट खरीदने की जरूरत भी नहीं पड़ती है। न्यूयॉर्क शहर के लेनॉक्स हिल अस्पताल में प्रसूति-स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉ. जेनिफर वू कहते हैं कि मेंस्ट्रुअल कप का यूज बिना किसी भी जोखिम के किया जा सकता है। मेंस्ट्रुअल कप को पीरिड्स समाप्त हो जाने के बाद निकाल लेना चाहिए।

ऑर्गन प्रोलैप्स है तो रखे ध्यान

जिन महिलाओं के बच्चा हो गया है और जिनको पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स है, उन्हें खून का रिसाव रोकने के लिए मेंस्ट्रुअल कप की फिटिंग जाँच कर लेनी चाहिए। इस बारे में डॉक्टर से जानकारी जरूर प्राप्त करनी चाहिए। डॉक्टर इंट्रा यूटेराइन डिवाइस के यूज के बारे में सही जानकारी देगा। अगर ऐसे लोगों को किसी भी प्रकार का जोखिम है तो डॉक्टर उस बारे में भी जानकारी दे सकता है।

यह भी पढ़ें : ब्रेकअप के बाद फ्रेंडशिप रखनी है तो रखें इन बातों का ख्याल

मेंस्ट्रुअल कप क्या है ?

मेंस्ट्रुअल कप बेल शेप, फ्लेक्सिबल डिवाइस होता है, जिसे पीरियड्स के समय के समय वजायना के अंदर लगाया जाता है। जिस तरह से पीरियड्स में सैनेटरी पैड्स और टैम्पूंस का यूज किया जाता है, ठीक वैसे ही मेंस्ट्रुअल कप का भी यूज ब्लड कलेक्ट करने के लिए किया जाता है। इस वजाइना के अंदर लगाने के बाद 12 घंटे बाद हटाने की जरूरत पड़ती है। इसके बाद मेंस्ट्रुअल कप को हटाकर और उसे खाली करके धोया जा सकता है। साफ करने के बाद इसे फिर से वजायना के अंदर लगाया जाता है। ये रीयूजेबल कप होता है जो कि सिलिकॉन या रबर का बना होता है। कुछ कप लास्ट लॉन्गर होते हैं, वहीं कुछ मेंस्ट्रुअल कप डिस्पोजल होते हैं।

यह भी पढ़ें : स्टेप-बाय-स्टेप जानिए महिला कंडोम (Female condom) का इस्तेमाल कैसे करें

कोई भी महिला यूज कर सकती है मेंस्ट्रुअल कप

मेंस्ट्रुअल कप का यूज कोई भी महिला कर सकती है। अगर आप भी कप का यूज करना चाहती हैं तो अपनी स्त्री रोग विशेषज्ञ से बात करें। आप कप खरीदने के लिए ऑनलाइन ऑर्डर भी कर सकती हैं। सबसे पहले ये जरूर देखे कि आप को किस साइज की जरूरत है। साइज वेट के अकॉर्डिंग भी हो सकता है। ज्यादातर ब्रांड्स के कप स्मॉल और लार्ज साइज के आते हैं। ऐसे में किसी भी महिला के लिए अपने साइज का कप खरीदना बहुत ही आसान है। अगर आप भी पीरियड्स के दौरान कप खरीदना चाहती हैं तो आपको और आपके डॉक्टर को इन बातों का ध्यान रखना पड़ेगा।

स्मॉल कप का उन महिलाओं के लिए किया जाता है जिनकी एज 30 से कम होती है। जिन महिलाओं की उम्र 30 से ज्यादा होती है उनके लिए लार्ज कप यूज करना सही रहता है। कुछ पैमानों के आधार पर तय किया जाता है कि किस कप का साइज महिला को यूज करना चाहिए। सही साइज न होने पर महिला को कप यूज करने के दौरान असुविधा हो सकती है।

जब पहली बार यूज कर रही हो कप

जब कोई भी महिला पहली बार मेंस्ट्रुअल कप यूज कर रही हो तो उसे दिक्कत हो सकती है। ऐसे में कप को यूज करने के दौरान उसमे लुब्रिकेंट का यूज भी किया जा सकता है। लुब्रिकेंट के रूप में पानी या वॉटर बेस्ड ल्यूब का यूज किया जा सकता है। वेट मेंस्ट्रुअल कप का यूज आसानी से किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : शादी-शुदा महिलाओं को रिश्तेदार क्यों देते हैं ये ताने?

कप का यूज कैसे किया जाए ?

मेंस्ट्रुअल कप का यूज करना आसान होता है। अगर महिला बार कप का यूज कर रही है तो वो पहले निर्देशों पर ध्यान दें। कप खरीदने के साथ ही निर्देश भी दिए जाते हैं। साथ ही ऑनलाइन वीडियो के माध्यम से भी कप को इनसर्ट करने की विधि देखी जा सकती है।

  • सबसे पहले अपने हाथों को धो लें।
  • वॉटर बेस्ड ल्यूब का यूज का यूज कप के रिम में करें। ऐसा करने से आसानी से कप वजायना के अंदर कप इंसर्ट हो जाता है।
  • अब कप के रिम को फोल्ड करें और फिर रिम को ऊपर की तरफ रखें। फिर इसे अंदर डालने के बाद घुमाएं।
  • कप को सही तरह से इंसर्ट किया है तो इसे महसूस किया जा सकता है।
  • मेंस्ट्रुअल कप का यूज पीरियड्स में करने के दौरान आप आसानी से चल सकते है, जंप कर सकते हैं और कोई भी एक्टिविटी कर सकते हैं। ऐसा करने से कप गिरेगा नहीं और दाग लगने का भी टेंशन नहीं रहेगा।
  • अगर आपके मन में पीरियड्स के दौरान कप को यूज करने को लेकर कोई शंका है तो इस बारे में अपने डॉक्टर से जरूर बात करें।

कप को बाहर कब निकालना चाहिए ?

मेंस्ट्रुअल कप का यूज छह से 12 घंटे में किया जा सकता है। अगर किसी को हैवी फ्लो होता है तो छह घंटे कप का यूज करना बेहतर रहेगा। साथ ही जिन महिलाओं को नॉर्मल फ्लो होता है, उनके लिए रात भर आसानी से कप का यूज किया जा सकता है। 12 घंटे में कप भर जाएगा, ऐसे में कप को रिमूव करना बहुत जरूरी होता है। कप रिमूव करने बाद साफ करना भी जरूरी होता है।

कप का यूज करना आसान होता है। ये उन महिलाओं के लिए बेहतर रहता है जिन्हें बाहर ट्रेवलिंग के दौरान पैड्स चेंज करने का समय नहीं मिल पाता है। साथ ही भागदौड़ वाला काम ज्यादा करना होता है। कुछ लड़कियों को कप का यूज करने से वर्जिनिटी को लेकर खतरा भी महसूस होता है। लेकिन ऐसा नहीं है। कप का यूज करने से वर्जिनिटी को कोई भी खतरा नहीं होता है। कप को हटाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखें।

  • कप को हटाने से पहले हाथ जरूर धुलें।
  • अपनी इनडेक्स फिंगर और थंब को वजाइना के अंदर डाले। अब कप की स्टेम को नीचे की ओर खींचे।
  • बेस को पिंच करें ताकि आसानी से सील रिलीज हो जाए। इसके बाद कप को नीचे की खींचना आसान हो जाता है। इसके बाद कप को खाली करके अच्छी तरह से साफ कर लें।

यह भी पढ़ें : Laparoscopic cholecystectomy : लैप्रोस्कोपिक कॉलेसिस्टेक्टमी क्या है?

कुछ महिलाओं को इन कारणों से कप लगता है बेहतर

बजट फ्रेंडली

रियूजेबल कप का यूज कई बार किया जा सकता है। साल भर में पीरियड्स के दौरान कम खर्च करना पड़ता है। जबकि पैड्स में हर महीने का खर्चा होता है। जो महिलाएं एक बार कप का यूज कर लेती है, उनके लिए मेंस्ट्रुअल कप यूज करना आसान हो जाता है। साथ ही जिन जो महिलाएं कप का यूज करने से डरती हैं, उन्हें भी इसका यूज करना चाहिए।

पीरियड्स के दौरान रहता है सेफ

पीरियड्स के दौरान अक्सर महिलाओं को ये भागदौड़ करने, घूमने या फिर वाइट करने में परेशानी होती है। कप का यूज करने से इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है। कप का यूज करने से ब्लड कप के अंदर ही रहता है और बाहर उसका रिसाव नहीं हो पाता है। इस कारण से ब्लड का कपड़े में लगने का डर भी खत्म हो जाता है। कप को सही तरह से यूज करना बहुत जरूरी है।

आसानी से रुक जाता है ब्लड

पीरियड्स के दौरान हर महिला के कुछ निश्चित मात्रा में खून का रिसाव होता है। खून का रिसाव होने से कुछ समय के अंतराल में गीलापन भी लग सकता है। गीलेपन और चेंज करने की समस्या से छुटकारा पाना के लिए कप का यूज करना बेहतर रहता है।

यह भी पढ़ें :

मेंस्ट्रुअल कप ईको फ्रेंडली होता है

मेंस्ट्रुअल कप रीयूजेबल होता है। रीयूजेबल होने के कारण इसका दोबार यूज किया जा सकता है। मतलब ज्यादा वेस्ट की समस्या नहीं होती है। पैड्स रोजाना दो से तीन बार चेंज करना पड़ सकता है। ऐसे में वातावरण को भी नुकसान पहुंच सकता है।

सेक्स के लिए भी होती है आसानी

पीरियड्स के दौरान सेक्स को लेकर समस्या होती है। अगर मेंस्ट्रुअल कप का यूज किया जाए तो सेक्स के दौरान पार्टनर को पता भी नहीं चलेगा और सेक्स का आनंद भी लिया जा सकेगा। सेक्स करने से पहले रीयूजेबल कप लेना ही बेहतर होता है, लेकिन सॉफ्ट डिज्पोजेब्ल कप सेक्स के दौरान इस्तेमाल किया जा सकता है। मेंस्ट्रुअल कप वजायना के अंदर होता है, इसलिए पार्टनर का पेनिस कप को टच नहीं कर पाता है।

पीरियड्स के दौरान क्या यूज करना सही रहेगा, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करें। बिना परामर्श किए कोई भी नया प्रयोग न करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ेंः

पीरियड्स के दौरान किस तरह से हाइजीन का ध्यान रखना चाहिए?

पीरियड्स में देर होने के बहुत से हैं कारण, जानें

पहली बार पीरियड्स होने पर ऐसे रखें अपनी बच्ची का ख्याल

क्विज खेलें और जानें पीरियड्स के बारे में

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 22/04/2020
x