home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

थायरॉइड कैंसर डायट : ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर - होगा सही, तभी तो तबियत में आएगा सुधार!

थायरॉइड कैंसर डायट : ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर -  होगा सही, तभी तो तबियत में आएगा सुधार!

थायरॉइड कैंसर, जो आमतौर पर थायरॉइड ग्रंथि के ऊतकों में होने वाला कैंसर कहलाता है, यह स्थिति काफी गंभीर मानी जाती है। इसके चलते व्यक्ति को कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है, साथ ही साथ लंबे समय ये तकलीफ व्यक्ति को अपनी गिरफ्त में रखती है। ऐसी स्थिति में थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) के इलाज के साथ-साथ थायरॉइड कैंसर डायट भी बेहद जरूरी मानी जाती है। इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) के बारे में, जो आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकती है। लेकिन इससे पहले जानते हैं कि थायरॉइड कैंसर आखिर है क्या।

और पढ़ें: थायरॉइड और वजन में क्या है कनेक्शन? ऐसे करें वेट कम

क्या है थायरॉइड कैंसर?

थायरॉइड ग्लैंड में होने वाले कैंसर को थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) कहा जाता है। थायरॉइड ग्रंथि (Thyroid gland) गले के निचले भाग में स्थित होती है, जिसका आकार बटरफ्लाय की तरह होता है। यह शरीर में एक ख़ास तरह के हॉर्मोन को पहुंचाने का काम करती है। यह कैंसर थायरॉइड ग्रंथि में विकसित होता है, जिसके चलते व्यक्ति को गर्दन में गांठ, आवाज में भारीपन, सूजन, अचानक वजन बढ़ना या घटना जैसी अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। हालांकि थायरॉइड कैंसर को ठीक करने के लिए नई-नई तकनीक रोजाना अस्तित्व में आ रही हैं, लेकिन इसके बारे में सही जानकारी होना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसलिए अब जानते हैं थायरॉइड कैंसर के प्रकार के बारे में।

थायरॉइड कैंसर के प्रकार (Types of Thyroid Cancer)

थायरॉइड कैंसर के कई प्रकार होते हैं, जिन्हें थायरॉइड ग्लैंड में पाई जाने वाली कोशिकाओं के आधार पर अलग-अलग बांटा गया है। इन प्रकारों में शामिल है –

  • पैपिलरी थायरॉइड कैंसर (Papillary thyroid cancer)
  • फॉलिक्युलर थायरॉइड कैंसर (Follicular thyroid cancer)
  • मेड्यूलरी थायरॉइड कैंसर (Medullary thyroid cancer)
  • एनाप्लास्टिक थायरॉइड कैंसर (Anaplastic thyroid cancer)
  • थायरॉइड लिंफोमा (Thyroid lymphoma)

थायरॉइड के ये सभी प्रकार व्यक्ति के लिए मुसीबत का कारण बन सकते हैं, इसलिए जरूरी है कि थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) के लक्षणों के बारे में आपको पता हो। आइए जानते हैं इसके लक्षणों के बारे में।

और पढ़ें: Thyroid Nodules : थायरॉइड नोड्यूल क्या है?

थायरॉइड कैंसर के लक्षण : पहचानें बीमारी की आहट को! (Thyroid Cancer Symptoms)

थायरॉइड कैंसर की शुरुआत में आपको कई लक्षण नजर आते हैं, जिस पर ध्यान देना बेहद जरूरी है। इन लक्षणों में –

  • गले में गांठ
  • खाना निगलने में कठिनाई
  • खांसी की लगातार तकलीफ
  • आवाज बैठना
  • गर्दन में सूजन
  • आवाज में बदलाव
  • बोलने की क्षमता में बदलाव
  • आंखों की समस्या
  • बालों का ड्राय होना
  • स्किन में रूखापन
  • अचानक वजन बढ़ना या घटना

यह सभी लक्षण थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) की ओर इशारा करते हैं, इसलिए आपको इस बीमारी से जुड़ी सभी बातों पर ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। चलिए अब जान लेते हैं थायरॉइड कैंसर क्यों होता है।

थायरॉइड कैंसर के कारण : ध्यान देना है जरूरी! (Thyroid Cancer Causes)

कैंसर की समस्या का असल कारण अब तक पता नहीं चल पाया है, लेकिन इसके होने के पीछे कुछ कारण इस तरह हो सकते हैं –

  • बाकी कैंसर की तरह थायरॉइड कैंसर की तकलीफ भी कोशिका में डीएनए परिवर्तन या म्यूटेशन की वजह से होता है
  • यदि व्यक्ति के परिवार में थायरॉइड कैंसर की बीमारी हो, तो यह समस्या आनुवंशिक तौर पर भी आपको परेशान कर सकती है
  • यदि व्यक्ति में आयोडीन की कमी है, तो उसे थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) का खतरा हो सकता है
  • रेडिएशन थेरेपी, एक्स रे या सिटी स्कैन (Radiation therapy, X-rays or CT scans) के चलते भी थायरॉइड कैंसर की समस्या हो सकती है

ऐसी स्थिति में आपको यदि थायरॉइड कैंसर की समस्या हो रही है, तो आपको अपने खान-पान पर ध्यान देने की बेहद जरूरत पड़ती है। इसलिए थायरॉइड कैंसर डायट एक ऐसा उपाय है, जिससे आप इस समस्या में आराम पा सकते हैं।आइए जानते हैं थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) के बारे में जरूरी बातें।

और पढ़ें: थायरॉइड के बारे में वो बातें जो आपको जानना जरूरी हैं

थायरॉइड कैंसर डायट : अपनाएं पर डॉक्टर की सलाह से! (Thyroid Cancer diet)

थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer)

आमतौर पर थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) डायट में रेडियोएक्टिव आयोडीन थेरेपी (Radioactive iodine therapy) दी जाती है, इसी की वजह से आपको थायरॉइड कैंसर डायट में आयोडीन डायट (Iodine diet) प्रिस्क्राइब की जाती है। इस डायट में अलग-अलग तरह के खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ पाए जाते हैं, जिस में बड़ी मात्रा में आयोडाइज्ड सॉल्ट, अनाज, सीरियल्स, ब्रेड, फिश, सेलफिश, पोल्ट्री, मिल्क प्रोडक्ट आदि का समावेश होता है। ऐसे में आपको थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) में ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर पर खास ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। आइए अब आपको थायरॉइड कैंसर डायट में आप के नाश्ते, दोपहर के खाने और रात के खाने से जुड़ी जानकारी देते हैं।

थायरॉइड कैंसर डायट : ब्रेकफास्ट

सबसे पहले बात करते हैं ब्रेकफास्ट की यानी कि सुबह के नाश्ते की। यह किसी भी व्यक्ति के लिए एक जरूरी मील माना जाता है, इसलिए थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) के अंतर्गत आपका नाश्ता एक अहम रोल निभाता है। ब्रेकफास्ट में आप –

  • किसी भी तरह के फल या जूस
  • एग वाईट ऑमलेट
  • दालचीनी, शहद, अखरोट, फलों के साथ ओटमील
  • टोस्ट की एक स्लाइस
  • ब्लैक कॉफी या चाय

इन सभी चीज़ों का इस्तेमाल कर सकते हैं। ये सभी खाद्य पदार्थ एक हेल्दी ब्रेकफास्ट के अंतर्गत आते हैं।

थायरॉइड कैंसर डायट : लंच

अब बात करते हैं लंच, यानी कि दोपहर के खाने की, जो आपको पूरे दिन कार्य करने में मदद करता है। इसलिए यह खाना आपके लिए जरूरी माना जाता है। थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) में आप दोपहर के खाने में इन चीजों का समावेश कर सकते हैं –

और पढ़ें: थायरॉइडाइटिस (thyroiditis) क्या है?

थायरॉइड कैंसर डायट : डिनर

अब बारी है डिनर की। रात का खाना आपको बहुत ही सोच समझ कर खाना चाहिए, इसलिए थायरॉइड कैंसर डायट में रात का खाना हल्का रखना बेहद जरूरी है। थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) के अंतर्गत आप रात के खाने में –

  • बॉइल्ड या बेक्ड आलू
  • फ्रेश सब्जियां
  • सलाद
  • थोड़े से फल
  • मीट, जिसमें बीफ, लैम्ब, पोर्क या टर्की

आदि का समावेश कर सकते हैं। आपके दिन की तीन जरूरी मील्स थायरॉइड कैंसर डायट के अनुसार लेनी चाहिए। लेकिन किसी भी तरह की डायट को फॉलो करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेकर अपनी जरूरत के अनुसार इसमें बदलाव लाने चाहिए। आइए अब जानते हैं उन खाद्य पदार्थों के बारे में, जो आपको थायरॉइड कैंसर डायट में नहीं लेना चाहिए।

थायरॉइड कैंसर डायट : किन चीज़ों से करें परहेज़? (Thyroid Cancer Abstinence)

थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) में आपको कुछ खाद्य पदार्थों से दूरी बनानी चाहिए, क्योंकि यह खाद्य पदार्थ आपकी स्थिति को और भी बदतर बना सकते हैं। इसलिए इन खाद्य पदार्थों को अपनी थाली से दूर रखें।

थायरॉइड कैंसर डायट में इन सभी चीजों का समावेश नहीं होता, इसलिए आपको इन चीजों से दूरी बनाने की जरूरत पड़ती है।

थायरॉइड कैंसर डायट : इन चीज़ों से करें दोस्ती!

कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी हैं, जिन्हे आप थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) के अंतर्गत ले सकते हैं। इन खाद्य पदार्थों में समावेश होता है –

  • एग वाईट
  • नॉन आयोडाइज्ड सी साल्ट
  • घर पर बनी ब्रेड
  • ताजे फल और सब्जियां
  • अनाज, सीरियल, पास्ता
  • नैचुरल अनसॉल्टेड नट्स
  • ब्लैक चाय या कॉफी
  • सोडा
  • काली मिर्च, ड्राय हर्ब्स, वेजिटेबल ऑयल
  • चीनी, जैम, जेली, मेपल सिरप

और पढ़ें: थायरॉइड से बचने के लिए करें एक्सरसाइज

यह सभी खाद्य पदार्थ थायरॉइड कैंसर डायट में आपकी मदद कर सकते हैं। इसलिए इन खाद्य पदार्थों को खाने से आपको तकलीफ नहीं होती। ध्यान रखें कि थायरॉइड कैंसर डायट के अंतर्गत आपको डॉक्टर की सलाह लेने की बेहद जरूरत होती है, इसलिए थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) बिना डॉक्टर की सलाह के ना लें।

थायरॉइड कैंसर (Thyroid Cancer) की समस्या में ट्रीटमेंट के दौरान आपको खानपान ठीक बनाए रखने की बेहद जरूरत पड़ती है, इसलिए थायरॉइड कैंसर डायट (Thyroid Cancer diet) आपके खानपान की जरूरत को पूरा करने में मददगार साबित हो सकती है।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड