डिनर के बाद फल खाने चाहिए या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट April 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

फ्रूट्स हेल्दी डायट का जरूरी हिस्सा हैं। फल शरीर के लिए ऐसे बहुत से तत्वों की पूर्ति करते हैं जिनको हम अनाज या सब्जियों से नहीं प्राप्त कर सकते। फलों में हाई फाइबर और कम कैलोरी होती है। फल फाइटोकैमिकल्स से भरपूर होते हैं जो हमारे शरीर में होने वाली फ्री रेडिकल क्षति को बेअसर करने में मदद करते हैं। रात में खरबूजा, नाशपाती, या कीवी के एक टुकड़े का सेवन सेहत के लिए अच्छा है। हालांकि, यह याद रखना आवश्यक है कि डिनर और फ्रूट्स खाने के बीच पर्याप्त अंतर होना चाहिए।

इस बात पर गौर करें कि, जब भी आप फल खाएं हमेशा टाइम देखें और उसके कुछ घंटे के बाद ही डिनर करें। डिनर और फल खाने के बीच टाइम गैप होगा तो ये आपके शरीर के लिए ज्यादा असरदार होगा। डिनर के बाद फल खाने के बारे में  इस लेख के माध्यम से और समझने की कोशिश करते हैं।

क्या रात में या डिनर के टाइम फल खा सकते हैं?

फलों को हैवी डायट या डिनर से पहले या थोड़ा बाद में खाना चाहिए। डिनर के साथ फल खाने से स्पाइक एनर्जी के रिलीज होने का खतरा होता है, जो आपकी नींद को प्रभावित कर सकती है। आज की तेज रफ्तार जिदंगी में यदि आप चाहते हैं कि दिन की भाग-दौड़ के बाद आपकी रात की नींद ना खराब हो, तो डिनर के साथ फल खाने से परहेज करें। जैसा कि हमने उपर बताया है कि रात में फल आप खाएं, लेकिन टाइम गैप का ध्यान रखें। डिनर और फल खाने के बीच का अंतर से ही आपको फलों के सभी गुणों का पूरा लाभ मिल पाएगा।

यह भी पढ़ें :हाइब्रिड फूड्स और सब्जियां क्या हैं? जानिए इनके फायदे और नुकसान

देर शाम में फ्रूट्स स्नैकिंग के फायदे

शाम के नाश्ते के रूप में फल खाने के कई लाभ हैं, जैसा कि नीचे बताया गया है:

  • ताजे फलों के नियमित सेवन से स्ट्रोक, किडनी की खराबी, दिल की बीमारियों, मधुमेह और हड्डियों के नुकसान के जोखिमों को कम किया जा सकता है।
  • हाई कैलोरी स्नैक के बजाय उच्च फाइबर वाले फल खाने से वजन कंट्रोल करने में मदद मिलती है
    फल पोषक तत्वों और आवश्यक विटामिन से भरे होते हैं जो आपके स्वास्थ्य और जीवन शक्ति में सुधार करते हैं।
  • जब रात को फल खाने की बात आती है, तो आयुर्वेद कहता है कि तरबूज या सेब जैसे उच्च फाइबर फल आपके पाचन तंत्र के लिए अच्छे होते है।

यह भी पढ़ें: जानिए लो फाइबर डायट क्या है और कब पड़ती है इसकी जरूरत

डिनर के बाद ये फल खाने से बचें

रात को कुछ फलों का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे तरबूज, अंगूर, संतरा आदि ।

डिनर के बाद फल जो खाएं जा सकते हैं

आप सोने से पहले कौन से फल खाते हैं इस पर भी ध्यान देना जरूरी है। रात में प्लेट भर फल न खाएं। अगर आप मीठा खाने को तरस रहे हैं तो सिर्फ फल का एक टुकड़ा ही खाएं जिसमें शुगर की मात्रा कम और फाइबर ज्यादा हो जैसे पपीता। साथ ही फल खाते ही न सो जाएं।

यह भी पढ़ें : वजन घटाने के नैचुरल उपाय अपनाएं, जिम जाने की नहीं पड़ेगी जरूरत

डिनर के बाद फल या पहले कब खाएं?

ऐसा माना जाता है कि आपके फल और भोजन के समय में कम से कम 30 मिनटों का अंतर होना चाहिए। अगर आप डिनर के बाद फल या पहले खाते हैं, तो इससे खाना अच्छे से नहीं पचता है और शरीर को पूरे पोषक तत्व नहीं प्राप्त होते। अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो आपको खाने के बाद कम से कम एक या दो घंटे इंतजार करना चाहिए और उसके बाद फल खाने चाहिए।

यह भी पढ़ें : प्रोसेस्ड फूड खाने से हो सकती हैं इतनी बीमारियां शायद नहीं जानते होंगे आप

सोने से पहले फल कब खाएं?

अक्सर हम डिनर के बाद फल खाने को अच्छा मानते हैं लेकिन, सोने से ठीक पहले फ्रूट्स खाना अच्छा नहीं माना जाता। सोने से पहले इन्हें खाते हैं, तो आपको इन्हें पचाने में मुश्किल होगी, जिससे आपको पेट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसा करने से बॉडी में शुगर लेवल बढ़ सकता है। इसलिए अगर आप सोने से पहले फल खाते हैं, तो आपको नींद न आने की समस्या से दो चार होना पड़ सकता है। एक्सपर्ट्स ऐसी भी सलाह देते हैं कि सोने से लगभग दो घंटे पहले तक खाना खा लें, क्योंकि इससे खाना अच्छे से पचता है। फलों के साथ भी ऐसा ही है। यदि आप सोने ठीक पहले इन्हें खाते हैं, तो फलों को पचाने में मुश्किल होगी, जिससे आपको पेट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें : घी सिर्फ खाने की चीज नहीं है जनाब, जानें इसके एक से एक घरेलू उपाय

सुबह फल कब खाएं?

जैसे डिनर के बाद फल खाने के कुछ नियम हैं उसी तरह मॉर्निंग में भी फ्रूट्स खाने के कुछ नियम हैं। इससे फलों से फायदा उत्तम मिलेगा। एक गिलास पानी पीने के बाद सुबह फलों को खाना चाहिए। यदि आप खाली पेट फल खाते हैं, तो यह आपके सिस्टम को डिटॉक्सिफाई करने में एक प्रमुख भूमिका निभाएगा, जो आपको वजन घटाने और अन्य जीवन गतिविधियों के लिए बहुत अधिक ऊर्जा प्रदान करता है। आदर्श रूप से, फलों को सुबह नाश्ते और दोपहर के भोजन के बीच और शाम को स्नैक्स के रूप में सबसे पहले खाया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Blood Type Diet: ब्लड टाइप डायट क्या है?

आयुर्वेद के अनुसार

आयुर्वेद की मानें तो आप जब खाना खाते हैं और जब फल खाते हैं तो इन दोनों का असर पाचन क्रिया पर अलग तरह से पड़ता है। वहीं, आयुर्वेद चिकित्सा प्रणाली के हिसाब से डिनर के बाद फल सोने से कम से कम तीन-चार घंटे पहले कर खाने चाहिए। अगर आप फल और खाना एक साथ खाते हैं तो आपका शरीर पहले फलों को पचाएगा और उसके बाद खाने को। इसकी वजह से पेट खराब की समस्या हो सकती है और साथ ही आपका शरीर जरूरी पोषण का फायदा भी नहीं उठा पाएगा।

हाई फाइबर से भरपूर फल जल्दी शरीर में पच जाते हैं और प्रोटीन और वसा युक्त खाद्य पदार्थों की तुलना में तेजी से आंत में चले जाते हैं, लेकिन कुछ फल शक्कर से भरे होते हैं जो आपके ब्लड शूगर को तुरंत स्पाइक कर देंगे जिससे ऊर्जा के स्तर बढ़ सकता है और आपकी नींद खराब हो सकती है। इसलिए रात को फल खाते समय कुछ बातों का ध्यान रखे जैसें, डिनर और फल खाने के बीच कुछ घंटों का अंतर बनाए रखें। ऐसे फल चुनें जिनमें चीनी में कम हों लेकिन फाइबर अधिक हो, जैसे नाशपाती। सोने से ठीक पहले फल खाने से बचें और अपनी सेहत का ध्यान रखे। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

और भी पढ़ें :

लंबी यात्रा में डायट कैसी होनी चाहिए?

कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये 6 खानपान की गलतियां? पड़ सकती हैं सेहत पर भारी

मूंगफली और मसूर की दाल हैं वेजीटेरियन प्रोटीन फूड, जानें कितनी मात्रा में इनसे मिलता है प्रोटीन

कच्चे आम के फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान, गर्मी से बचाने के साथ ही कोलेस्ट्रॉल को करता है कंट्रोल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जानें ऐसी 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक जिनकी वजह से वेट लॉस डायट प्लान पर फिर रहा है पानी

    क्या न्यूट्रिशन मिस्टेक आप कर रहे हैं? इन 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक की वजह से ही आपका वजन कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है। वेट लॉस के लिए सबसे सही यह है कि आप जब भूखे हों तभी भोजन करें। nutrition mistakes in hindi

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    पोषण तथ्य, आहार और पोषण May 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    रेड टी के फायदे जानकर, आप भी जरूर चाहेंगे इसे ट्राई करना

    जानिए क्या है रेड टी? रेड टी शरीर के लिए कैसे लाभकारी है? हालांकि कुछ शारीरिक परेशानी और गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    आहार और पोषण, पोषण तथ्य May 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बचे हुए खाने से घर पर ऐसे बनाएं ऑर्गेनिक कंपोस्ट (जैविक खाद), हेल्थ को भी होंगे फायदे

    जैविक खाद घर पर कैसे बनायें? ऑर्गेनिक खाद के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं? कंपोस्टिंग कैसे करते हैं? How to make organic compost in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

    कैसे होता है कुपोषण का इलाज, जानें बीमारी से जुड़े लक्षण और बचाव

    कुपोषण का इलाज कराना बेहद ही जरूरी है, यदि नहीं कराया तो मौत तक हो सकती है। वहीं यह बीमारी न हो उसके लिए क्या करें व क्या न करें जानें इस आर्टिकल में।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    पोषण तथ्य, आहार और पोषण May 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    न्यूट्रिशन

    Nutrition: क्या आपको मिल रहा है पूरा न्यूट्रिशन? न्यूट्रिएंट्स के बारे में जानें सब कुछ

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया AnuSharma
    प्रकाशित हुआ February 7, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
    एम एस धोनी डाइट प्लान

    एम एस धोनी डायट प्लान और फिटनेस सीक्रेट को समझें, ताकि उन्हीं की तरह रह सकें फिट

    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ August 10, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
    Orange- नारंगी

    नारंगी के फायदे व नुकसान : Health Benefit of Orange

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ June 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    फूड बोर्न डिजीज - Food Borne Disease

    क्या आप फूड बोर्न डिजीज और फूड प्वाइजनिंग को एक समझते हैं, जानें दोनों में अंतर

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
    प्रकाशित हुआ May 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें