आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी क्या है, और इसे साइफ इफेक्ट्स भी जानें

    सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी क्या है, और इसे साइफ इफेक्ट्स भी जानें

    यदि आपको सर्वाइकल कैंसर का पता चला है, तो बस यह जान लें कि यह आमतौर उपचार योग्य है। बस इसका समय रहते पता चल जाए। खासकर यदि आपके डॉक्टर ने इसे जल्दी पकड़ लिया हो। इसके इलाज करने, अपने लक्षणों को दूर करने और आपको लंबे समय तक जीने में मदद करने के लिए कई विकल्प आपके पास हैं, जिमसें से एक सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी (Cervical cancer radiation therapy) भी है। इसके अलावा और भी कई उपचार हैं, लेकिन सबसे पहले, आपके डॉक्टर को कैंसर के चरण का निर्धारण करेंगे। जिसमें यह पता लगाएंगे कि इसका आकार, और क्या यह शरीर के अन्य भागों में फैल गया है। डॉक्टर स्टेज के अनुसार सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी (Cervical cancer radiation therapy) का इस्तेमाल कर सकते हैं। सरवाइकल कैंसर के उपचार में शामिल हैं:

    • कीमोथेरिपी
    • रेडिएशन थेरिपी
    • सर्जरी
    • टार्गेटेड थेरिपी

    और पढ़ें: सर्वाइकल कैंसर के साथ जीना हो सकता है चुनौतिपूर्ण, जानिए कैसे करें इस चुनौति का सामना

    सवाईकल कैंसर क्या है (what is cervical cancer) ?

    सर्वाइकल कैंसर तब होता है जब महिलाओं के गर्भाशय ग्रीवा में कोशिकाएं बदल जाती हैं, जो गर्भाशय और योनि को जोड़ती हैं। यह कैंसर उनके गर्भाशय ग्रीवा के सेल्स को प्रभावित कर सकता है। इससे उनके शरीर के अन्य भागों (मेटास्टेसिस) में फैल सकता है, जैसे कि फेफड़े, यकृत, मूत्राशय, योनि और मलाशय आदि में।सर्वाइकल कैंसर के अधिकांश मामले ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी) के संक्रमण के कारण होते हैं, जिसे टीके से रोका जा सकता है। 35 से 44 वर्ष की महिलाओं को इसके होने की संभावना सबसे अधिक होती है। 15% से अधिक नए मामले 65 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में हैं, विशेष रूप से वो, जो नियमित जांच नहीं करवा पा रहे हैं।

    और पढ़ें: स्टेज 1 सर्वाइकल कैंसर: कैंसर के लक्षणों और इलाज को समझें यहां!

    सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी (Radiation therapy for cervical cancer)

    रेडिएशन थेरिपी कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए एक हाय एनर्जी वाली तकनीक है, जो प्रभावि हिस्से में दी जाती है। सर्वाइकल कैंसर के चरण के आधार पर, रेडिएशन थेरिपी का उपयोग किया जा सकता है:

    मुख्य उपचार के एक भाग के रूप में। सर्वाइकल कैंसर के कुछ चरणों में सर्जरी के बाद रेडिएशन का इस्तेमाल किया जाता है। अन्य चरणों के लिए, विकिरण और कीमो को एक साथ दिया जाता है। क्योंकि कीमो रेडिएशन को बेहतर ढंग से काम करने में मदद करता है। रेडिएशन थेरिपी का उपयोग गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के इलाज के लिए किया जा सकता है, जो अन्य अंगों और ऊतकों में फैल गया है। सर्वाइकल कैंसर के इलाज के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली रेडिएशन थेरिपी के प्रकार हैं:

    • एक्सटर्नल बीम रेडिएशन
    • ब्रैकीथेरेपी

    यह जानना महत्वपूर्ण है कि धूम्रपान विकिरण से होने वाले दुष्प्रभावों को बढ़ाता है और उपचार को कम प्रभावी बना सकता है। यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो आपको बंद कर देना चाहिए।

    और पढ़ें: स्टेज 2 सर्वाइकल कैंसर: कैंसर के लक्षणों और इलाज को समझें यहां!

    एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरिपी (External beam radiation)

    एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरिपी (EBRT) का उद्देश्य शरीर के बाहर से ही मशीन की साहयता से कैंसर का एक्स-रे करना है। यह सामान्य एक्स-रे कराने जैसा है, लेकिन रेडिएशन की डोज अधिक मजबूत होती है। प्रत्येक रेडिएशन थेरिपी केवल कुछ ही मिनटों तक चलती है और इसकी प्रक्रिया दर्द रहित है। जब ईबीआरटी का उपयोग सर्वाइकल कैंसर के मुख्य उपचार के रूप में किया जाता है, तो इसे आमतौर पर कीमोथेरिपी के साथ किया जाता है। अक्सर, सिस्प्लैटिन नामक कीमो दवा की कम खुराक का उपयोग किया जाता है। अन्य कीमो मेडिसिन का भी उपयोग किया जा सकता है। रेडिएशन ट्रीटमेंट सप्ताह में 5 दिन, लगभग 5 सप्ताह तक दिए जाते हैं। रेडिएशन के दौरान निर्धारित समय पर कीमोथेरिपी दी जाती है। यदि कैंसर दूर के क्षेत्रों में नहीं फैला है, तो ब्रैकीथेरेपी, जिसकी चर्चा नीचे की गई है, समवर्ती कीमोथेरिपी के पूरा होने के बाद भी दी जा सकती है।

    EBRT का उपयोग उन रोगियों में सर्वाइकल कैंसर के मुख्य उपचार के रूप में भी किया जा सकता है, जो कीमोथेरिपी को सहन नहीं कर सकते हैं, सुरक्षित रूप से सर्जरी नहीं करा सकते हैं, या सर्जरी नहीं करना चाहते हैं। इसका उपयोग कैंसर फैलाने वाले क्षेत्रों के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

    और पढ़ें: स्टेज 3 सर्वाइकल कैंसर: कैंसर के लक्षणों और इलाज को समझें यहां!

    एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरिपी (EBRT) के संभावित दुष्प्रभाव

    गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लिए एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरिपी (EBRT) के अल्पकालिक दुष्प्रभाव शामिल हो सकते हैं:

    • थकान (थकान)
    • पेट की ख़राबी
    • दस्त या ढीला मल (यदि श्रोणि या पेट को विकिरण दिया जाता है)
    • मतली और उल्टी
    • त्वचा में परिवर्तन (छीलने या छीलने के लिए हल्की लाली)

    और पढ़ें: स्टेज 4 सर्वाइकल कैंसर: कैंसर के लक्षणों और इलाज को समझें यहां!

    ब्रेकीथेरिपी (Brachytherapy)

    ब्रैकीथेरेपी, या आंतरिक रेडिएशन थेरिपी, कैंसर के प्रभावी इलाज में से एक है। अक्सर एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरिपी (EBRT) के ठीक बाद ब्रैकीथेरेपी दी जाती है । इसे इंट्राकेवेटरी ब्रैकीथेरेपी के रूप में जाना जाता है। रेडिएशन सोर्स योनि (और कभी-कभी गर्भाशय ग्रीवा में) में एक उपकरण में रखा जाता है। सर्वाइकल कैंसर के मुख्य उपचार के एक भाग के रूप में ईबीआरटी के अलावा मुख्य रूप से ब्रेकीथेरेपी का उपयोग किया जाता है। शायद ही कभी, प्रारंभिक चरण के सर्वाइकल कैंसर के बहुत विशिष्ट मामलों में इसका उपयोग अकेले किया जा सकता है।

    ब्रैकीथेरेपी के संभावित अल्पकालिक दुष्प्रभाव

    ब्रैकीथेरेपी का सबसे आम दुष्प्रभाव योनि में जलन है। यह लाल और पीड़ादायक हो सकता है, और एक निर्वहन हो सकता है। वजायनल इरिटेशन भी हो सकती है। ब्रैकीथेरेपी भी ईबीआरटी के समान कई दुष्प्रभाव पैदा कर सकती है, जैसे थकान, दस्त, मतली, मूत्राशय की जलन, और लो ब्लड काउंट है।

    और पढ़ें: सर्वाइकल कैंसर और सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस में न हो कंफ्यूज, ये दोनों हैं अलग बीमारी

    रेडिएशन थेरिपी के दीर्घकालिक दुष्प्रभाव (Long term side effects of radiation therapy)

    महिलाएं उपचार के बाद महीनों से लेकर वर्षों तक विकिरण से संबंधित दुष्प्रभावों का अनुभव कर सकती हैं।

    वजायनल स्टेनोसिस (Vaginal stenosis)

    ईबीआरटी और ब्रैकीथेरेपी दोनों योनि में स्कार टिशू का निर्माण कर सकते हैं। स्कार टिशू योनि वजायनल स्टेनोसिस कहा जाता है। स्कार टिशू वजायनल को छोटा करने के साथ, उसके खिचाव को भी कम कर सकते हैं, जो वजायनल सेक्स को दर्दनाक बना सकता है। एक महिला अपनी योनि की दीवारों को सप्ताह में कई बार, या तो यौन संबंध बनाकर या योनि डाइलेटर (योनि को फैलाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली प्ला स्टिक या रबर ट्यूब) का उपयोग करके इस समस्या को रोकने में मदद कर सकती है।

    और पढ़ें: एसटीडी और सर्वाइकल कैंसर में क्या संबंध है?

    वजायनल ड्रायनेस (Vaginal dryness)

    योनि का सूखापन और दर्दनाक सेक्स, की जाने वाली रेडिएशन थेरिपी (ब्रैकीथेरेपी और ईबीआरटी दोनों) का दीर्घकालिक दुष्प्रभाव हो सकता है। स्थानीय रूप से उपयोग किए जाने वाले एस्ट्रोजेन योनि के सूखेपन और योनि के अस्तर में बदलाव का कारण हो सकते हैं, खासकर अगर रेडिएशन ने अंडाशय को क्षतिग्रस्त कर दिया, और प्रारंभिक रजोनिवृत्ति का कारण बना हो। ये हाॅर्मोन आमतौर पर योनि में प्रवेश कराए जाते हैं और मुंह से लेने के बजाय जननांग क्षेत्र में अवशोषित होते हैं। वे जेल, क्रीम, अंगूठी और टैबलेट के रूप में आते हैं।

    और पढ़ें: Segmental resection of Lung Cancer: जानिए लंग कैंसर का सेग्मेंटल रिसेक्शन से जुड़ी पूरी जानकारी!

    रेक्टल ब्लीडिंग (Rectal bleeding)

    रेक्टल वॉल पर रेडिएशन से उस क्षेत्र में क्रॉनिक सूजन हो सकती है, जिस कारण रक्तस्राव हो सकता है और कभी-कभी मलाशय का स्टेनोसिस (संकीर्ण) हो सकता है, जो दर्दनाक भी हो सकता है। मलाशय और योनि के बीच एक फिस्टुला भी बन सकता है, जिससे मल योनि से बाहर आ सकता है। ये समस्याएं आमतौर पर विकिरण उपचार के बाद पहले 3 वर्षों के दौरान होती हैं। इन जटिलताओं को ठीक करने के लिए सर्जरी जैसे अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

    और पढ़ें: कैंसर के लिए स्टीरियोटैक्टिक बॉडी रेडियोथेरिपी (Stereotactic body radiotherapy) क्यों दी जाती है?

    कमजोर हड्डियां (Weak bones)

    श्रोणि में विकिरण हड्डियों को कमजोर कर सकता है, जिससे फ्रैक्चर हो सकता है। हिप फ्रैक्चर सबसे आम हैं, और विकिरण के 2 से 4 साल बाद हो सकते हैं। फ्रैक्चर के जोखिम की निगरानी के लिए नियमित कुछ जांचों की सलाह दी जाती है।

    और पढ़ें:स्टमक कैंसर कीमोथेरिपी (Stomach cancer chemotherapy): कब जरूरत पड़ती है पेट के कैंसर में कीमोथेरिपी!

    सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी के बारे में आपने जाना यहां। किसी भी प्रकार के कैंसर का इलाज उसकी स्टेज और मरीज की शरीर स्थिति पर निर्भर करता है। थेरिपी में साथ डॉक्टर के द्वारा बतायी गई दवाओं को भी समय पर लेना जरूरी है, तभी यह थेरिपी अपना प्रभावकारी असलर दिखाती हैं। सर्वाइकल कैंसर के लिए रेडिएशन थेरिपी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Cervical Cancer Treatment Accessed on 27 June, 2022

    https://www.cancer.gov/types/cervical/hp/cervical-treatment-pdq

    Cervical Cancer. Accessed on 27 June, 2022

    https://www.nccn.org/professionals/physician_gls/pdf/cervical.pdf

    Cervical Cancer. Accessed on 27 June, 2022

    https://www.cancer.org/cancer/cervical-cancer/treating/radiation.html#references

    Cervical cancer Accessed on 27 June, 2022

    https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/cervical-cancer/diagnosis-treatment/drc-20352506/

    Cervical cancer Survivors Accessed on 27 June, 2022

    https://www.cdc.gov/cancer/cervical/stories/index.htm/

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: