backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

शरीर पर होने वाला त‍िल कैसे जुड़ा है, सेहत के साथ? जानें क्‍या कहता है साइंस

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 28/02/2022

शरीर पर होने वाला त‍िल कैसे जुड़ा है, सेहत के साथ? जानें क्‍या कहता है साइंस

सामान्यता हर व्यक्ति के शरीर पर तिल पाया जा सकता है। इनका रंग काला या भूरा हो सकता है जो हल्के या गहरे भी हो सकते हैं। आमतौर पर, भारतीय संस्कृति में शरीर पर तिल को भविष्य और भाग्य से जोड़ कर देखा जाता है। हालांकि, शरीर पर तिल होने के महत्व को विज्ञान इसके एकदम उलट मानता है। विज्ञान शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर तिल के होने की स्थिति को स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ देखता है। जिसमें तिल के रंग, आकार, प्रकार और स्थान के लिए अलग-अलग स्वास्थ्य स्थितियां और उनसे जुड़े जोखिम बताए जाते हैं। अगर आपके भी शरीर पर तिल है, तो यहां बताई जा रही जरूरी बातें जानना आपके लिए आवश्यक हो सकता है।

और पढ़ें : रखें इन जरूरी बातों का ध्यान तो कम हो जाएंगी स्किन प्रॉब्लम्स

जानिए शरीर पर तिल और उनकी स्थिति पर साइंस की गणना

किसी महिला के शरीर पर तिल या किसी पुरुष के शरीर पर तिल होने का क्या अर्थ होता है, इसे जानने से पहले आपको कुछ अन्य जरूरी बातों पर गौर करना चाहिए। जिसमें शामिल हो सकते हैंः

शरीर पर तिल क्यों होता है?

जिस तरह शरीर की त्वचा पर पाए जाने वाले रोएं (त्वचा पर छोटे-छोटे बाल) आज भी कई तरह से एक कौतुहल माने जाते हैं, उसी तरह ठीक किसी महिला के शरीर पर तिल या किसी पुरुष के शरीर पर तिल होना भी एक कौतुहल का विषय हो सकता है। शरीर पर तिल क्यों होता है या शरीर पर तिल होना कितना जरूरी है, इसके बारे में अभी भी उचित शोध करने की आवश्यकता हो सकती है। विज्ञान के अनुसार, शरीर पर ये तिल तब होते हैं जब त्वचा में कोशिकाएं पूरे त्वचा में फैलने के बजाय एक क्लस्टर में बढ़ना शुरू कर देती हैं। इन कोशिकाओं को मेलानोसाइट्स (melanocytes) कहा जाता है। ये पिगमेंट बनाते हैं जो त्वचा को अपना प्राकृतिक रंग देता है। जो किशोरावस्था और गर्भावस्था के दौरान होने वाले हार्मोन बदलाव से गरहे रंग के हो सकते हैं। वहीं, सूर्य के संपर्क में आने के बाद भी ये काले या भूरे रंग का हो जाते हैं। हालांकि, शरीर के अलग-अलग अंगों या त्वचा के अलग-अलग हिस्सों में तिल का निकलना साइंस सेहत से जुड़ा मानता है। तिल को अंग्रेजी में मोल (Mole) भी कहा जाता है। इनका आकार सामान्य तौर पर गोल होता है, हालांकि विशेष स्थितियों में यह चकोर, अंडाकार या अन्य आकार के भी हो सकते हैं। इसकी तरह इनका साइज भी एक पेन के डॉट से लेकर एक बड़े गोल तिलक तक भी हो सकता है। शरीर में तिल एक भी हो सकता है और एक ही स्थान पर कई तिल भी हो सकते हैं।

और पढ़ें : स्किन कैंसर के 10 लक्षण, जिन्हें आप अनदेखा न करें

किसी महिला या पुरुष के शरीर पर तिल कब निकलता है?

अधिकांश तौर पर तिल बचनपन से ही किसी महिला या पुरुष के शरीर पर दिखाई दे सकते हैं। हालांकि, यह 25 साल की उम्र के दौरान भी दिखाई दे सकते हैं और कुछ मामलों में 40 साल की उम्र में शरीर के अलग-अलग हिस्सों में तिल निकल सकते हैं। आमतौर पर, कुछ तिल उम्र बढ़ने के साथ छोट या बड़े भी होने लगते हैं। जिनमें से कुछ तो शरीर से गायब भी हो जाते हैं। तो वहीं, कुछ तिल भविष्य के लिए एक जोखिम भी बन जाते हैं। कभी-कभी तिल में बाल भी उगने लगते हैं। जो सामान्य और गंभीर दोनों ही स्थिति के तरफ  इशारा कर सकते हैं।

शरीर पर तिल-Mole on body

और पढ़ें : Cancer: कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

शरीर के किसी भी अंग पर तिल के प्रकार

शरीर के किसी भी अंग पर तिल होने के प्रकार निम्न हैंः

कंजेनिटल नेवी (Congenital Nevi)

कंजेनिटल नेवी जन्मजात होता है। यानि, जन्म से ही शरीर पर तिल होना। हालांकि, इसकी संभावना सिर्फ 100 में से एक ही लोगों में हो सकती है। जो भविष्य में मेलेनोमा कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकती है। अगर किसी के शरीर पर जन्मजात तौर पर को कोई तिल है, तो उसे 15 से 18 वर्ष की आयु में उसकी जांच करवानी करवानी चाहिए।

डिसप्लास्टिक नीवी (Dysplastic Nevi)

डिसप्लास्टिक नेवी आम तौर पर औसत पेंसिल के रंग जैसे हो सकते हैं। जिनका आकार सामान्य तिलों के मुकाबले बड़ा हो सकता है। यह सेंटर में गहरे भूरे रंग का हो सकता है और इसके किनारे सेंटर से हल्के रंग के हो सकते हैं। कुछ स्थितियों में इन्हें भी भविष्य में मेलेनोमा के लक्षण माने जा सकते हैं। वहीं, अगर किसी के शरीर में इसी तरह 8 से 10 तिल दिखाई दे, तो उनमें मेलेमोना विकसित होने की संभावना 12 गुना बढ़ जाती है।

और पढ़ें : जीभ का कैंसर क्या है? कब बढ़ जाता है ये कैंसर होने का खतरा?

कैसे पता करें कि कोई तिल कैंसर हो सकता है?

विशेषज्ञ आसानी से शरीर पर कैंसर के लक्षणों वाले तिलों की पहचान कर सकते हैं। हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि सही समय पर इनकी पहचान कराने के लिए आप डॉक्टर से संपर्क करें। आमतौर पर, शरीर पर कैंसर के लक्षणों वाले तिल स्किन कैंसर होने की संभावना को बढ़ाते हैं। इस तरह के तिल अन्य मौजूदा तिलों की तुलना में अलग दिखाई देते हैं। स्किन कैंसर के लक्षणों वाले अधिकतर तिल पहली बार 25 साल की उम्र के बाद दिखाई देने शुरू हो सकते हैं। जिनकें रंग, आकार और प्रकार में आप जल्द ही बदलाव नोटिस कर सकते हैं। अगर आप किसी तिल के रंग, आकार या प्रकार में होने वाले बदलाव को गौर करते हैं, तो आपको तुरंत ही त्वचा विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए। कुछ स्थितियों में कैंसर के लक्षण वाले तिल के स्थान पर खुजली होना या दर्द की भी समस्या हो सकती है।

क्या तिल में बाल निकलना कैंसर के लक्षण हैं?

तिल के स्थान पर बाल का निकलना काफी सामान्य स्थिति है। सामान्य रूप से देखा जाए, तो शरीर की पूरी त्वचा पर छोटे-छोटे रोम छिद्र होते हैं जहां पर रोएं निकलते हैं। ऐसे में तिल पर बाल निकलना काफी सामान्य स्थिति मानी जा सकती है। इन बालों को वैक्सिंग, प्लकिंग और थ्रेडिंग के जरिए निकाला भी जा सकता है। यह स्वास्थ्य के लिहाज से सुरक्षित भी माना जा सकता है। हालांकि, अगर कैंसर लक्षण वाले तिल के स्थानों पर बाल है, तो उसके बारे में आपको अपने त्वचा विशेषज्ञ से बात करनी चाहिए।

और पढ़ें : कैंसर रोगियों के लिए डांस थेरिपी है फायदेमंद, तन और मन दोनों होंगे फिट

[mc4wp_form id=”183492″]

शरीर के किसी भी अंग पर तिल की जांच कैसे करें?

अपने शरीर पर तिल की जांच करने के लिए आपको उन स्थानों की नियमित जांच करनी चाहिए, जो अधिकतर समय के लिए सूर्य की किरणों के संपर्क में आते हैं। जैसे- हाथ, छाती, गर्दन, चेहरा, कान, पैर और पीठ। अगर कुछ हफ्ते और महीने बाद भी इनके रंग, आकार या प्रकार में कोई बदलाव नहीं होता है तो ये सुरक्षित हो सकते हैं। लेकिन, इस दौरान अगर आपको इनमें किसी तरह का बदलाव दिखाई दे या इन स्थानों पर कोई नया तिल दिखाई दे, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

शरीर पर तिल की स्थिति की जांच करने से जुड़ी अधिक जानकारी के बारे में हैलो स्वास्थ्य ने फोर्टिस अस्पताल मुलुंड में त्वचा विशेषज्ञ सलाहकार, डॉ. स्मृति नासवा सिंह से बात की। उनका कहना है “अधिकांश मोल्स या बर्थमार्क सामान्य हो सकते हैं। सबसे सामान्य तिल अक्सर काले रंग के डॉट्स जैसे हो सकते हैं। वे किसी भी चिंता का कारण नहीं होते हैं। इनकी स्थिति का ठीक से पहचान करने के लिए आप आप एबीसीडी (ABCDE) की चेक लिस्ट पर गौर कर सकते हैं। जो इस तरह हैः”

शरीर पर तिल-Mole on body

  • ए (A) विषमता (Asymmetry) – क्या पूरे रंग का तिल एक समान है?
  • बी (B) बॉर्डर (Border) – क्या तिल के किनारे के रंग सेंटर से अलग हैं या किनारों के आकार, प्रकार या रंग में कोई बदलाव होता है?
  • सी (C) रंग (Color) – क्या शरीर के सभी तिल का रंग एक जैसा है और क्या किस तिल का रंग समय-समय पर बदल रहा है?
  • डी (D) गोलाई (Diameter) – क्या तिल की गोलाई पेंसिल के इरेजर से बड़ी हो रही है या बड़ी है?
  • ई (E) विकास (Evolution) – क्या किसी तिल के रंग, आकार प्रकार या स्थान में किसी तरह का बदलाव हो रहा है?

अगर इन सभी चेक लिस्ट में आपका जवाब नहीं है, तो ये तिल स्वास्थ्य के लिए कोई जोखिम नहीं है। लेकिन, अगर इनमें से किसी का भी जवाब हां है, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

मेलेनोमा कैंसर कितना सामान्य है?

मेलेनोमा एक त्वचा कैंसर का प्रकार होता है। जो महिलाओं और पुरुषों दोनों में हो सकता है। पुरुषों में मेलेनोमा के लक्षण वाले तिल जहां सबसे आम तौर पर सीने (छाती) और पीठ में देखे जा सकते हैं, वहीं महिलाओं में यह पैर के निचले हिस्से में देखे जा सकता है। हांलाकि, पुरुषों के मुकाबले इसका सबसे अधिक जोखिम युवा महिलाओं देखा जा सकता है।

अगर कोई तिल कैंसर का कारण है, जो उसका निदान कैसे किया जाता है?

आपके शरीर का कोई तिल कैंसर का कारक है या नहीं, सबसे पहले इसकी जांच करने के लिए आपके त्वचा विशेषज्ञ आपको स्किन बायोप्सी की सलाह दे सकते हैं। स्किन बायोप्सी की प्रक्रिया के तहत विशेषज्ञ प्रभावित स्थान से त्वचा का एक छोटा टुकड़ा लेकर उसका मूल्यांकन करते हैं। अगर ये तिल कैंसर सेल्स युक्त होते हैं आर इनका आकार बहुत छोटा होता है, तो आपके विशेषज्ञ उस तिल के स्थान वाली त्वचा को काट कर अलग कर सकते हैं। यह सबसे उपयुक्त प्रक्रिया मानी जा सकती है। त्वचा विशेषज्ञों के अनुसार, कैंसर सेल्स युक्त तिल को त्वचा से काटने पर कैंसर फैलने का जोखिम दूर हो जाता है। इनका आकार भी छोटा होता है जिससे त्वचा को ज्यादा नुकसान भी नहीं होता है। जो बहुत ही जल्द रिकवरी भी किया जा सकता है।

कुछ स्थितियों में इसका उपचार व्यक्ति के स्वास्थ्य स्थिति और फैमिली मेडिकल हिस्ट्री के तौर पर भी किया जा सकता है। जिसके तहत विशेषज्ञ लेजर ट्रीटमेंट से लेकर, रेडिएशन थेरिपी, ओरल दवाओं या स्किन क्रीम से भी उपचार की प्रक्रिया अपना सकते हैं।

और पढ़ें : स्किन पॉलिशिंग के बारे में क्या नहीं जानते आप? इससे ऐसे त्वचा निखारें

स्किन कैंसर और कैंसर के लक्षणों वाले तिल से बचाव के लिए क्या करें?

स्किन कैंसर के कई कारण हो सकते हैं, जिसे फैमिली हिस्ट्री से लेकर, डायट और लाइफस्टाइल भी शामिल हो सकती है। ऐसे में आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसेः

  • कैंसर सेल्स युक्त तिल निकलने का सबसे मुख्य कारण सूर्य की पराबैंगनी (यूवी) किरणें हो सकती हैं। जिनसे आपको बचाव करना चाहिए। तेज धूप में अगर घर से बाहर निकलना है, तो शरीर को पूरी तरह से ढंक कर रखें। खुले हुएं अंगों पर उच्च क्वालिटी का सनस्क्रीन लगाएं।
  • हड्डियों के उचित विकास के लिए विटामिन डी सबसे जरूरी होता है जो हमें प्राकृतिक तौर पर सूर्य की किरणों से मिलता है। इसके लिए आप सुबह और शाम के वक्त जब सूर्य की करणें बहुत ही मध्ययम हो तभी धूप में टहल सकते हैं। पर ज्यादा देर तक धूप में न रहें।
  • धूप में जाते समय धूप का चश्मा पहनें।

इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 28/02/2022

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement