यह वैक्सिंग टिप्स (Waxing Tips) फॉलो कर पाएं वैक्सिंग के बाद होने वाली समस्याओं से निजात

    यह वैक्सिंग टिप्स (Waxing Tips) फॉलो कर पाएं वैक्सिंग के बाद होने वाली समस्याओं से निजात

    अपनी खूबसूरती को बढ़ाने के लिए थ्रेडिंग, फेशियल, ब्लीचिंग के साथ-साथ जो सबसे अधिक महत्वपूर्ण है वो, है वैक्सिंग (Waxing)। वैक्सिंग (Waxing) से हम अपने शरीर के अनचाहे बाल आसानी से हटा सकते हैं। वैक्सिंग (Waxing) से हम अनचाहे बालों को तो हटा देते हैं लेकिन, इसके बाद कुछ समस्याएं होना भी सामान्य बात हैं। वैक्सिंग (Waxing) के बाद कई लड़कियां खुजली, रेडनेस या दाने निकल आने की परेशानियों का सामना करती हैं। कुछ चीजों का ध्यान रखकर आप इन समस्याओं से बच सकते हैं। इसलिए वैक्सिंग (Waxing) के बाद इन चीजों का खास ख्याल रखें।

    वैक्सिंग के बाद दानें क्यों आते हैं?

    कई लोगों को वैक्स कराने के बाद छोटे-छोट दाने आ जाते हैं। ऐसा अक्सर इंफ्लामेशन के कारण होता है। ज्यादातर इंफ्लामेशन बिना किसी ट्रीटमेंट के अपने आप ही चला जाता है, लेकिन अगर आपको सफेद दाने जिनमें फ्लूइड भरा हुआ है और वह कुछ दिनों में ठीक नहीं हो रहा है तो इसका मतलब है कि आपको माइल्ड इंफेक्शन हुआ है। इसका उपचार भी घर में किया जा सकता है।

    अगर आपको दाने इंफ्लामेशन के बाद लगभग एक हफ्ते के बाद विकसित हुए हैं तो यह इनग्रोन हेयर का कारण बन सकता है। इनग्रोन हेयर फॉलिक्यूलिटिस का प्रकार है। जिसमें बाल स्किन के बाहर न उगकर अंदर ही उगने लगते हैं। इनग्रोन हेयर के कारण छोटे, गोल शेप के बंप बन जाते हैं जो मुंहासे की तरह दिखाई देते हैं। जरूरी नहीं है कि हेयर इनके अंदर दिखाई दें। अगर आपके बाल नैचुरल रूप से कर्ली हैं तो इनग्रोन हेयर की संभावना ज्याद बढ़ जाती है। कुछ बातों का ध्यान रखकर आप इस समस्या से बच सकते हैं।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    आफ्टर वैक्सिंग टिप्स:

    ब्यूटी सैलून से वैक्सिंग सर्विस लेने के बाद नीचे बताई गई बातों पर ध्यान दें। इससे वैक्सिंग के बाद होने वाली त्वचा-संबंधी समस्यायों (skin problems) से निजात मिलती है। जानिए क्या हैं आफ्टर वैक्सिंग टिप्स

    1) वैक्सिंग के बाद मॉश्चराइजर का प्रयोग करें

    वैक्सिंग (Waxing) करने के बाद न केवल अनचाहे बाल निकल जाते हैं बल्कि, हमारी त्वचा भी अधिक कोमल हो जाती है। ऐसे में त्वचा पर रेडनेस, खुजली और दाने जैसी समस्याएं होना बहुत सामान्य है। त्वचा की इन परेशानियों से बचने के लिए मॉश्चराइजर का प्रयोग करें। ध्यान रखें कि आपका मॉश्चराइजर ऐंटीसेप्टिक गुणों वाला हो। प्राकृतिक घटकों जैसे एलोवेरा से बना मॉश्चराइजर आपको वैक्सिंग के बाद होने वाली जलन आदि से बचाता है। कई बार इसके बाद आने वाले बाल त्वचा के अंदर ही उगने लगते हैं। इन सभी परेशानियों से बचने के लिए अपनी त्वचा पर मॉश्चराइजर लगाएं।

    और पढ़ें : इस तरह से करें अंडरआर्म्स की क्लीनिंग, नहीं पड़ेगी स्किन काली

    2) स्क्रब

    स्क्रब करने से वैक्सिंग (Waxing) के बाद त्वचा से डेड सेल और त्वचा के अंदर उगने वाले बालों से छुटकारा मिल सकता है। हफ्ते में दो बार अपनी स्किन को स्क्रब करना न भूलें। हो सके तो घर का बना स्क्रब प्रयोग में लाएं जैसे, बेसन और नींबू का स्क्रब। इसे लगाने से आपकी त्वचा खूबसूरत भी होगी

    और पढ़ें : त्वचा के लिए जरूरी है स्क्रबिंग

    3) वैक्स कराने के तुरंत बाद धूप में ना जाएं

    वैक्स कराने के बाद त्वचा संवेदनशील हो जाती है इसलिए आपको इस दौरान धूप के सम्पर्क में आने से बचना चाहिए। संवेदनशील त्वचा को धूप से बहुत जल्दी नुकसान होता है। इसलिए अगर आप इसके बाद बाहर जाने की सोच रहे हैं तो, ध्यान रखें इससे टैनिंग की संभावना बढ़ जाती है। अगर जाना आवश्यक है तो, अपनी त्वचा को पूरी तरह से ढककर बाहर निकलें और अच्छे से सनस्क्रीन का प्रयोग करें।

    और पढ़ें : आईब्रो बनवाने के बाद कभी न करें ये गलतियां

    4) वैक्स के बाद नारियल तेल का यूज करें

    इसके बाद आप रैशेस और जलन महसूस कर सकते हैं जिससे, खुजली हो सकती है। इससे बचने के लिए नारियल तेल को अपनी त्वचा पर लगाएं। इससे त्वचा की लालिमा, सूजन और खुजली ठीक होती है। इसके कुछ दिनों बाद तक इस तरीके को अपनाये। इसके बाद होने वाले इंफेक्शन से बचने के लिए आप अपनी त्वचा पर टी-ट्री से बने मॉस्चराइजर का प्रयोग कर सकते हैं। इसके ऐंटीसेप्टिक गुण संवेदनशील त्वचा को राहत पहुंचाने में सहायक होते हैं।

    5) स्विमिंग से बचें

    वैक्सिंग (waxing) कराने के बाद त्वचा बिल्कुल साफ और संवेदनशील हो जाती है। ऐसे में इसका खास ख्याल रखना बेहद आवश्यक है। इसके बाद धूप में न जाने के साथ-साथ बहुत जरूरी है कि आप स्विमिंग भी न करें। वैक्सिंग (waxing) के बाद त्वचा के पोर खुल जाते हैं जिससे, इंफेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके साथ ही हॉट बाथ, स्टीम रूम या जकूजी का प्रयोग करने से भी बचें।

    और पढ़ें: क्या होता है स्पा? जानिए स्पा का तरीका और इसके फायदे

    6) केमिकल युक्त उत्पादों से रहें दूर

    अपनी त्वचा को किसी भी समस्या से दूर रखने के लिए बहुत आवश्यक है कि वैक्सिंग के बाद डिओडोरेंट या किसी भी ऐसे केमिकल युक्त उत्पादों का प्रयोग न करें। कम से कम 24 घंटों तक ऐसा न करें क्योंकि ऐसा करने से आपकी त्वचा में सूजन हो सकती है।

    7) टाइट कपड़े न पहनें

    अगर आप वैक्सिंग (waxing) के बाद टाइट कपड़े पहनते हैं तो, यह आपकी त्वचा के लिए हानिकारक है। अगर आपने टांगों की वैक्सिंग (waxing) कराई है तो, टाइट जींस की जगह खुली और आरामदायक लोअर पहनें। अगर आपने बिकनी वैक्स कराई है तो, अपने अंडरगारमेंट्स का खास ख्याल रखें।

    आपके कपड़े ऐसे हों जिनमें, आपकी त्वचा सांस ले सके यानी उसमें हवा पास हो सके। खुले कपड़े आपको वैक्सिंग (waxing) के बाद त्वचा में होने वाले रैशेस, रेडनेस, सूजन जैसी समस्याओं से भी बचाएंगे। वैक्सिंग के बाद आपको पसीना नहीं आना चाहिए। अगर वैक्सिंग (waxing) के बाद आपकी त्वचा लाल या उस पर दाने हो जाते हैं तो, आप अपनी त्वचा पर बर्फ लगाएं। इसके साथ ही इन पर नींबू का रस लगाने से भी आपकी त्वचा को लाभ होता है और त्वचा में ताजगी बनी रहती है।

    8) बर्फ का उपयोग करें

    वैक्स के बाद आइस या बर्फ का उपयोग ना सिर्फ वैक्स के बाद होने वाले दर्द को कम करता है ब्लकि अफेक्टेड त्वचा को सुकून पहुंचाता है। इसके लिए प्रभावित क्षेत्र पर कोल्ड कम्प्रेस का कुछ मिनट के लिए उपयोग करें।

    9) बहुत ज्यादा खुशबूदार प्रोडक्ट्स का उपयोग न करें

    कुछ दिन के लिए स्किन पर खुशबूदार प्रोडक्ट्स जैसे लोशन, क्लींजर आदि का उपयोग न करें। कुछ समय तक सामान्य या कम खुशबू वाले प्रोडक्ट्स का ही यूज करें। इससे स्किन इरीटेशन से बच सकते हैं।

    10) बार-बार स्किन को टच न करें

    अगर वैक्सिंग के बाद दाने या गए हैं तो उन्हें बार-बार छुएं नहीं। स्किन का बैक्टीरिया फ्री रहना जरूरी है। किसी भी दाने को फोड़ने और इनग्रोन हेयर को निकालने की कोशिश न करें। स्किन पर किसी भी स्किन केयर प्रोडक्ट का उपयोग करने से पहले हाथों को अच्छी तरह क्लीन कर लें।

    11) एलोवेरा जेल का उपयोग करें

    एलोवेरा जेल अस्थाई रूप से स्किन को हाइड्रेड करने और आराम पहुंचाने का काम करता है। वैक्सिंग के बाद अगर आप संवेदनशीलता का अनुभव करते हैं तो आप एलोवेरा जेल का उपयोग लोशन और मॉश्चराइजर की जगह कर सकते हैं।

    और पढ़ें : कई तरह से लाभदायक है चेहरे की मालिश, जानिए इसके फायदे

    पहली बार वैक्सिंग के समय अपनाएं ये वैक्सिंग टिप्स

    अगर आप पहली बार वैक्सिंग कराने जा रही हैं तो नीचे बताए गए टिप्स जरूर याद रखें-

    • सबसे पहले एक अच्छा ब्यूटी पार्लर चुनें। जहां पर साफ-सफाई सही ढंग से हो।
    • वैक्स कराने से पहले हमेशा सूती और ढीले कपड़े ही पहनें क्योंकि वैक्स के बाद स्किन बहुत सेंसेटिव हो जाती है और टाइट कपड़ों से त्वचा पर रैशेज हो सकते हैं। ऐसे में कॉटन के कपड़ों का ही चुनाव बेहतर होगा।
    • वैक्स कराने से पहले गर्म पानी से नहा कर जाएं। इससे त्वचा के पोर्स खुल जाते हैं जिससे वैक्सिंग के दौरान दर्द नहीं होता है। साथ ही बॉडी के जिस हिस्से की वैक्सिंग करवानी हो वहां कोई बॉडी लोशन या क्रीम लगाकर न जाएं।
    • स्किन के हिसाब से एलोवेरा वैक्स, चॉकलेट वैक्स (chocolate wax), हनी वैक्स (honey wax) आदि का चयन करें।
    • अगर आपको स्किन से जुड़ी कोई भी समस्या है तो वैक्स कराने से पहले अपनी स्किन प्रॉब्लम के बारे में ब्यूटीशियन को जरूर बताएं।
    • वैक्सिंग के बाद त्वचा का लाल होना, छोटे-छोटे दाने निकलना और रैशेज होना आम बात है। इसमें परेशान होने वाली कोई बात नहीं है। ऐसे में वैक्सिंग के बाद स्किन की बर्फ से सिंकाई करें।

    वैक्सिंग (waxing) कराने के लगभग एक सप्ताह के बाद बाल फिर से उगना शुरू हो जाते हैं। ऐसे में आपको शेविंग करने से बचना चाहिए क्योंकि ऐसा करना से हेयर ग्रोथ साइकिल में समस्या आ जाती है। चूंकि वैक्स कराने से पहले बालों का सही तरीके से उगना भी आवश्यक है। अच्छे परिणामों के लिए आपको चार से छह हफ्ते के बाद ही वैक्स करानी चाहिए।

    उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और वैक्सिंग से संबंधित जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

    डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


    Anu sharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 05/10/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement