मक्खियों से कोरोना वायरस फैल सकता है? जानें क्या है डॉक्टर्स की राय

Medically reviewed by | By

Update Date मई 7, 2020
Share now

इस वक्त देश में कोरोना संक्रमण के 1000 से ज्यादा मामले हैं। वहीं 27 लोगों (30 मार्च, 00:38 तक) की मौत हो चुकी है। हर तरफ कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। इसी बीच एक चर्चा जोर पकड़ रही है कि क्या मक्खियों से भी कोरोना वायरस फैल सकता है? दरअसल, बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने अपने एक वीडियो में बताया कि मक्खियों से कोरोना वायरस फैलता है। इस खबर के आने के बाद लोग और भी ज्यादा डर गए और बिग बी का ये वीडियो तेजी से वायरल होने लगा।

मक्खियों से कोरोना वायरस फैलता है?

अमिताभ ने चीन की मेडिकल मैगजीन द लैंसेट की रिपोर्ट के आधार पर यह वीडियो पोस्ट किया है। उन्होंने वीडियो में कहा कि चीन के विशेषज्ञों ने पाया कि संक्रमित व्यक्ति अगर स्वस्थ भी हो जाए तो उसके मल में कोरोना का वायरस कई दिनों तक जिंदा रह सकता है। इससे मक्खियों से कोरोना वायरस फैल सकता है। अगर वह मक्खी फल-सब्जी पर बैठ जाए तो संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। हालांकि, उन्होंने यह वीडियो अपने फैंस और देश के लोगों को जागरूक करने के लिए पोस्ट किया था।

यह भी पढ़ें: शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाकर कोरोना वायरस से करनी होगी लड़ाई, लेकिन नींद का रखना होगा खास ध्यान

मक्खियों से कोरोना वायरस : लैंसेट की रिपोर्ट

द लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक, घरों, बाजारों, दुकानों और गली-मोहल्‍लों में मंडराती हुई मक्खियों से कोरोना वायरस फैल सकता है। इसमें बताया गया था कि यदि किसी व्यक्ति को कोविड-19 है और वह ठीक भी हो जाता है तो उसके मल में कोरोना का वायरस कई दिनों तक जिंदा रह सकता है। इस रिपोर्ट ने लोगों की चिंता बढ़ा रखी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया यह बयान

अब अमिताभ के इस बयान पर स्वास्थ्य मंत्रालय का बयान आ गया है। मंत्रालय ने मक्खी से कोरोना फैलने का सारा सच सामने ला दिया है। मंत्रालय ने जनता को संबोधित करते हुए एक मीडिया कॉन्फ्रेंस में कहा, किसी भी सूरत में सामाजिक दूरी के नियम का सख्ती से पालन करें। सरकार के साथ पूरे देश की जिम्मेदारी है कि एकजुट होकर कोरोना को रोकने में अपना सहयोग दें। साथ ही बिग बी के ट्वीट पर उन्होंने कहा कि हमने वीडियो नहीं देखा लेकिन इतना जरूर कह सकता हूं कि यह वायरस मक्खियों से बिल्कुल नहीं फैलता है। इसके अलावा मंत्रालय ने यह भी बताया कि अभी हम कम्यूनिटी स्टेज यानी तीसरी स्टेज पर नहीं पहुंचे हैं।

यह भी पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

अपर सचिव एवं एनएचएम के मिशन निदेशक युगल किशोर पंत व स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने कहा कि किसी भी महामारी के चार चरण होते हैं। कोविड-19 भी इससे अलग नहीं है। इसके भी चार चरण हैं। करियर, लोकल ट्रांसमिशन, कम्यूनिटी ट्रांसमिशन व महामारी। पहले चरण में मामले बाहर से आते हैं, दूसरे चरण में यह स्थानीय स्तर पर फैलता है। तीसरे चरण में यह कई लोगों को संक्रमित करता है और चौथे चरण में महामारी बन जाता है। सामाजिक दूरी बनाकर हम इस पर काबू पा सकते हैं। बता दें, बिग बी के इस ट्वीट को प्रधानमंत्री ने भी रीट्वीट किया था जिसे अब डिलीट कर दिया गया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए की अपील

इस नियम का लोगों को सख्ती से पालन करना होगा। हालांकि जिस तेजी से संक्रमण बढ़ रहा है वह चिंताजनक है। हम अपेक्षाकृत स्थिरता की ओर बढ़ रहे हैं। अगर इसे जड़ से खत्म करना है तो हम सबको मिलकर सामाजिक दूरी बनानी होगी। मंत्रालय ने यह भी बताया कि देश के 17 राज्यों के अस्पतालों में कोरोना वायरस के संक्रमण का उपचार हो रहा है। देशभर में 25 और प्राइवेट लैब को कोरोना संक्रमण की जांच के लिए अनुमति दी गई है। हालांकि सैंपल कलेक्शन के लिए 20 हजार से ज्यादा सेंटर हैं।

यह भी पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोरोना से लड़ने के लिए ट्रेनिंग

डॉक्टरों को एम्स दिल्ली की ओर से ऑनलाइन ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके अलावा आशा वर्कर, एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को भी संक्रमण के बारे में ट्रेनिंग दी जा रही है।वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के सदस्य आर गंगा केतकर ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए कदम इतने प्रभावी हैं कि यदि हम उनका सख्ती से पालन करें, तो देश में शायद ही कोरोनो वायरस के मामले बढ़ेंगे। उन्होंने मीडिया से अपील की है कि वे कोई ऐसी खबर ना दें जिससे लोगों में घबराहट बढ़े।

कोरोना वायरस के चलते देश लॉकडाउन जरूर हुआ है लेकिन भारत सरकार हर संभव प्रयास कर रही है कि जनता को कोई तकलीफ ना हो। इसके लिए भारत सरकार ने लोगों की सुविधा के लिए दवाओं की होम डिलीवरी की अनुमति दी है। इसे जल्द ही भारत के राजपत्र में प्रकाशित होने की अधिसूचना भी जारी की गई है। उत्तराखंड सरकार ने कोरोना वायरस के कारण दूसरे राज्यों में फंसे लोगों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। लैंडलाइन नंबर- 0135 2722100, व्हाट्सऐप नंबर- 9997954800

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

कोरोना वायरस से बचने को लेकर कुछ जरूरी बातें—

कोरोना वायरस का डर हर किसी में है लेकिन अगर सही जानकारी होगी तो इससे डरने की जरूरत नहीं सिर्फ सावधानी की जरूरत है। सबसे पहले जानते हैं कि किसे मास्क पहनना जरूरी है औ किसे नहीं।

  • अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको मास्क की जरूरत नहीं है।
  • अगर आप किसी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो आपको मास्क पहनना होगा
  • जिन लोगों को बुखार, कफ या सांस में तकलीफ की शिकायत है, उन्हें मास्क पहनना चाहिए और तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

कोरोना वायरस या कोरोना वायरस की अन्य जानकारियों के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता।

और पढ़ें :-

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

कोरोना वायरस वैक्सीन को विकसित होने में इतना समय क्यों लग रहा है? कैसे बनती है कोई वैक्सीन

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या सहलौन जाने की सोच रहे हैं आप, जानें ऐसा करना सेफ है या नहीं?

सहलौन में सेफ्टी - भारत में कुछ क्षेत्रों में शर्तों के साथ नाई की दुकान, सैलून/सहलौन, पार्लर आदि के खुलने की इजाजत दे दी गई है। लेकिन जानते हैं कि, क्या वहां जाना सुरक्षित है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal

रेड लाइट एरिया को बंद करने से इतने प्रतिशत तक कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, स्टडी में बात आई सामने

येल स्कूल ऑफ मेडिसिन और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की ओर की गई स्टडी में ये बात सामने आई है कि रेड लाइट एरिया को कुछ समय तक बंद रखने से कोरोना के मामलों में कमी आ सकती है। red light area, covid-19, coronavirus

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi

कोरोना वायरस से लड़ाई में भारत मजबूत, पूरी दुनिया में सबसे कम ‘डेथ रेट’

कोरोना वायरस से लड़ाई में जीत रहा भारत। देश में इस खतरनाक वायरस से संक्रमित हुआ हर तीसरा मरीज इलाज के बाद ठीक होकर घर पहुंच रहा है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mona Narang

डॉक्टर से ऑनलाइन परामर्श ले रहे हैं, तो इन बातों का ध्यान रखना न भूलें!

कोरोना महामारी के समय लोगों को ऑनलाइन डॉक्टर कंसल्टेशन की सलाह दी जा रही है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि डॉक्टर से ऑनलाइन परामर्श लेते समय आपको किन बातों का ध्यान रखना है? यहां दी गई है सारी जानकारियां (follow these steps to Consulting a doctor online)

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Suraj Kumar Das