अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस की बीमारी से संक्रमित मरीजों की संख्या हर घंटे बढ़ती जा रही है। इसका सबसे बड़ा कारण है कि, लोग जाने-अनजाने में इससे संक्रमित तो हो जाते हैं, लेकिन उन्हें पता नहीं होता है कि, क्या करें और क्या न करें। मसलन, कोरोना वायरस से बचाव के लिए हाथ धोना है, घर से बाहर नहीं जाना है, किसी से नहीं मिलना है या क्या करना है, यह तो हर कोई जानता है। लेकिन, लोगों को इस बारे में पूरी जानकारी नहीं है कि अगर वह कोरोना वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति से जाने-अनजाने में संपर्क में आ गए हैं या वह किसी कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो क्या करना चाहिए। इस आर्टिकल में जानते हैं कि अगर कोई कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज आपके आसपास मिला है और आप उसके संपर्क में आ चुके हैं, तो क्या करना चाहिए।

यह भी पढ़ें- Coronavirus Predictions: क्या बिल गेट्स समेत इन लोगों ने पहले ही कर दी थी कोरोना वायरस की भविष्यवाणी

कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज आसपास हो तो करें ये काम

अगर आपके आसपास कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज मिलता है या आप किसी कोरोना वायरस पॉजिटिव व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो तुरंत निम्नलिखित कार्यों या तरीकों को अपनाना चाहिए। जिससे अगर आपको संक्रमित व्यक्ति से कोरोना वायरस होने की आशंका हो, तो आप खुद के जरिए इसे फैलने से रोक सकते हैं। वहीं अगर आपको इसकी सही जानकारी नहीं है, तो तुरंत प्रशासन को इसकी सूचना दें।

कोरोना वायरस के लक्षणों की जांच करें

सबसे पहले आपको कोरोना वायरस के लक्षणों के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि, अगर आपके आसपास कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज मिला है और आप उसके संपर्क में आ गए हैं, तो आप में कोरोना वायरस के लक्षण दिखना चिंता करने का सबसे पहला कारण हो सकता है। कोरोना वायरस के लक्षणों में बुखार, खांसी और सांस लेने में दिक्कत सबसे प्रमुख होते हैं।

यह भी पढ़ें- 21 दिन तक पूरे भारत में कंप्लीट लॉकडाउन, पीएम मोदी का फैसला

कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर

अगर आप में कोरोना वायरस के लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं, तो भी इसका ये मतलब नहीं है कि आपको कोरोना वायरस हो गया है। क्योंकि, कोरोना वायरस के लक्षण बिल्कुल आम फ्लू की तरह हैं, तो यह आम समस्या भी हो सकती है जो अपने आप ठीक हो जाए। इसलिए आपको कोरोना वायरस का टेस्ट करवाने के लिए थोड़ा रुकना चाहिए और अपने लक्षणों का निरीक्षण करना चाहिए। लेकिन, अपने आसपास कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज मिलने या संक्रमित मरीज की देखभाल करने पर आपको खुद में यह लक्षण दिखते ही निम्नलिखित सावधानी बरतनी शुरू कर देनी चाहिए।

यह भी पढ़ें- नए कोरोना वायरस टेस्ट को अमेरिका से मिली ‘इमरजेंसी’ मान्यता, 10 गुना तेजी से लगाएगा संक्रमण का पता

कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज कोई हो, तो बरते ये सावधानी

  1. सबसे पहले अपने आप को घर में आइसोलेट कर देना चाहिए और सिर्फ मेडिकल केयर या टेस्ट के लिए ही बाहर निकलना चाहिए। सेल्फ आइसोलेट के लिए खुद को एक कमरे के अंदर ही सीमित कर लें।
  2. आपको अपने घर में अन्य सदस्यों या पालतू जानवरों से भी दूरी बना लेनी चाहिए। इसके अलावा अगर संभव हो, तो अलग बाथरूम ही इस्तेमाल करें। वरना, अपने बाथरूम जाने के बाद अच्छी तरह साफ-सफाई करें।
  3. घर में होने पर भी हर समय मुंह पर मास्क का प्रयोग करें और बाहर जाने पर तो करें ही। मास्क का प्रयोग करने के साथ ही उसे डिस्पोज करने का तरीका भी ध्यान रखें कि मास्क उतारने के बाद उसे बंद डस्टबिन में फेंके और हाथों को सीधा साबुन से धोएं।
  4. हाथों को दिन में हर दो या एक घंटे में साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं। अगर पानी और साबुन उपलब्ध न हो, तो एल्कोहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें।
  5. अपने आसपास कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज मिलने पर या ऐसे मरीज की देखभाल करने पर खुद में दिखने वाले लक्षणों के बाद अपने गिलास, कप, कपड़े, खाना, तौलिया, बेड की चादर, बर्तन आदि सबसे अलग कर दें और सिर्फ उन्हें ही इस्तेमाल करें। इसके अलावा, इन चीजों की साफ-सफाई का भी पूरा ध्यान व सावधानी बरतें।
  6. अपने द्वारा छूएं जाने वाली चीजों या सतहों जैसे- गेट का हैंडल, टॉयलेट, मोबाइल फोन, टेबल, माइक्रोवेव, ओवन, फ्रिज आदि को अच्छी तरह साफ और डिस्इंफेक्ट करवाएं। साफ और डिसइंफेक्ट करने वाला व्यक्ति भी मास्क और ग्लव्स जैसी सावधानियों का पूरा ध्यान रखे।
  7. अपने लक्षणों की निगरानी करने पर यदि एक या दो दिन के भीतर उनमें गंभीरता या समस्या (जैसे- बुखार, खांसी या सांस में ज्यादा तकलीफ) दिखाई दे रही है, तो तुरंत अपने हेल्थकेयर प्रोवाइडर या सरकार द्वारा जारी हेल्पलाइन पर संपर्क करें मेडिकल हेल्प मांगें।
  8. इसके अलावा, अगर आपके लक्षणों में कमी आ रही है या आप ठीक होने लग रहे हैं, तो कुछ दिन और निगरानी करके सेल्फ आइसोलेशन छोड़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस पर बने ये मजेदार मीम्स, लेकिन अब ‘ करो-ना ‘

आसपास कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज मिलने पर घर की सफाई कैसी होनी चाहिए?

कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज अगर आपके संपर्क में आया है तो घर को खुद को और घर को अपने द्वारा छूने वाली हर चीज को डिसइंफेक्ट करें। आपको जानना चाहिए कि साफ-सफाई दो तरह की होती है, पहली सिर्फ क्लीनिंग यानी सफाई और दूसरी डिसइंफेक्टिंग यानि शुद्धिकरण या निस्संक्रमण। स्वच्छ भारत अभियान में की जाने वाली सफाई सिर्फ क्लिीनिंग है, जबकि कोरोना वायरस जैसे संक्रमण को रोकने के लिए आपको डिसइंफेक्टिंग की जरूरत होती है, ताकि सतह या किसी भी चीज से वायरस को पूरी तरह हटाया जा सके। क्लिीनिंग में सतह से सिर्फ कीटाणुओं, गंदगी और धूल को हटाया जा सकता है। लेकिन हटाने से कीटाणु मरते नहीं है, बल्कि एक जगह से दूसरी जगह चले जाते हैं और पहले वाली जगह उनकी संख्या कम हो जाती है। जबकि, डिसइंफेक्टिंग में सतह को साफ करने के बाद कीटाणुओं को मारने वाली दवाओं या कैमिकल का इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस से लड़ने के लिए चाहिए हेल्दी इम्यूनिटी, क्या आप जानते हैं इस बारे में

कोरोना वायरस से सावधानी

कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज से संपर्क होने से पहले कोरोना वायरस से बचने के लिए भारत सरकार ने लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। जबतक कोरोना वायरस वैक्सीन नहीं मिल जाती, तबतक इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  • अपने मुंह, नाक और आंखों को छूने से बचें।
  • दोनों हाथों को अच्छी तरह से धोएं
  • बेवजह लोगों से न मिलें, भीड़ न लगाएं।
  • अगर आपको खुद में बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत जैसे लक्षण दिख रहे हैं, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  • छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू पेपर या फिर कोहनी को मोड़कर रखें।।
  • अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  • अगर आप मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  • मास्क से अपने मुंह और नाक को अच्छी तरह कवर करें ताकि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  • मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  • उपयोग करने के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।
  • एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :

इलाज के बाद भी कोरोना वायरस रिइंफेक्शन का खतरा!

कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

वर्क फ्रॉम होम : कोरोना वायरस की वजह से घर से कर रहे हैं काम, लेकिन आ रही होंगी ये मुश्किलें

क्या प्रेग्नेंसी में कोरोना वायरस से बढ़ जाता है जोखिम?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य आपके लिए चिंता का विषय बन सकता है। कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य निमोनिया, सांस फूलने जैसे स्थितियों से गुजर सकता है। वर्ल्ड लंग डे पर जानें कोरोना के बाद फेफड़ों की कैसे देखभाल करें, world Lung Day, Coronavirus, COVID-19.

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

पीपीआई यानी प्रोटोन पंप प्रोटोन पंप इंहिबिटर, ऐसी दवाएं जो हार्ट बर्न और एसिडिटी के इलाज में उपयोग की जाती है। अमेरिकन स्टडीज में दावा किया गया है कि इनके उपयोग से कोरोना वायरस का रिस्क बढ़ जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड 19 सावधानियां, कोरोना वायरस सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध,epilepsy and covid-19

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव, heart issues after recovery from coronavirus

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें