21 दिन तक पूरे भारत में कंप्लीट लॉकडाउन, पीएम मोदी का फैसला

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए और भविष्य में इस महामारी के घातक नतीजों को अभी से रोकने के लिए भारतीय प्रधानमंत्री ने बहुत बड़ा कदम उठाया है। पीएम मोदी ने जनता से अपने संबोधन में आज रात यानी 24 मार्च की आधी रात 12 बजे से भारत में कंप्लीट लॉकडाउन यानी संपूर्ण लॉकडाउन का आदेश जारी किया है। जो कि 22 मार्च के जनता कर्फ्यू की तरह ही होगा, लेकिन यह सिर्फ एक दिन का नहीं, बल्कि 21 दिन तक चलेगा। इसका मतलब है कि अभी तक के आदेश के मुताबिक 14 अप्रैल इस लॉकडाउन का अंतिम दिन होगा। आइए, जानते हैं कि कोरोना वायरस के बारे में अपने संबोधन में पीएम मोदी ने क्या कहा?

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

भारत में कंप्लीट लॉकडाउन : जनता कर्फ्यू के लिए प्रशंसा

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने 22 मार्च को हुए जनता कर्फ्यू के बारे में कहा कि, “22 मार्च को जनता कर्फ्यू का संकल्प जो लिया था, एक राष्ट्र के नाते उसकी सिद्धि के लिए हर भारतवासी ने पूरी संवेदनशीलता और जिम्मेदारी के साथ अपना योगदान दिया। बच्चे, बूढ़े, गरीब, मध्यम, हर वर्ग के लोग, हर कोई इस परीक्षा की घड़ी में साथ आया। एक दिन के जनता कर्फ्यू से हमने दिखा दिया, जब देश पर संकट आता है, मानवता पर संकट आता है, तो हम सब मिलकर उसका सामना करते हैं। जनता कर्फ्यू की सफलता के लिए आप सब प्रशंसा के पात्र हैं।”

यह भी पढ़ें- नए कोरोना वायरस टेस्ट को अमेरिका से मिली ‘इमरजेंसी’ मान्यता, 10 गुना तेजी से लगाएगा संक्रमण का पता

आज रात 12 बजे से भारत में कंप्लीट लॉकडाउन

भारत में कंप्लीट लॉकडाउन को विस्तार से समझें

प्रधानंत्री मोदी ने आज यानी 24 मार्च 2020 की आधी रात 12 बजे से पूरे 21 दिन तक भारत में कंप्लीट लॉकडाउन का आदेश दे दिया है। इसके बारे में उन्होंने कहा कि, “आज रात 12 बजे से पूरे देश में संपूर्ण लॉकडाउन होने जा रहा है। हिंदुस्तान, उसके नागरिकों, आपको और आपके परिवार को बचाने के लिए आज रात 12 बजे से बाहर निकलने पर पूरी तरह पाबंदी लगाई जा रही है। हर जगह, हर गांव, हर कस्बे को लॉकडाउन किया जा रहा है। ये भी एक तरह का जनता कर्फ्यू है, उससे थोड़ा सख्त और मजबूत और यह कदम बहुत जरूरी है। इस लॉकडाउन की कीमत आर्थिक रूप से देश को चुकानी पड़ेगी। लेकिन, हर नागरिक के जीवन को बचाना, मेरा, भारत सरकार, राज्य सरकार और स्थानीय निकायों की प्राथमिकता है। मेरी आपसे हाथ जोड़कर विनती है कि, आप देश में जहां हैं वही रहें। अभी के हालात को देखते हुए यह लॉक़डाउन 21 दिन यानी तीन सप्ताह का होगा। आने वाले 21 दिन हर नागरिक, हर परिवार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। एक्सपर्ट की मानें तो कोरोना संक्रमण की साइकिल को तोड़ने के लिए 21 दिन जरूरी होते हैं। अगर ये 21 दिन नहीं संभले तो देश कई साल पीछे चला जाएगा और कई परिवार तबाह हो जाएंगे। यह बात प्रधानमंत्री नहीं बल्कि आपके परिवार के एक सदस्य की रूप में कह रहा हूं। ये 21 दिन घर में रहें, घर में रहें और सिर्फ घर में रहें। इस देशव्यापी लॉकडाउन से आपके घर के दरवाजे पर लक्ष्मण रेखा खींच दी है। इसे पार न करें।”

यह भी पढ़ें- Coronavirus Predictions: क्या बिल गेट्स समेत इन लोगों ने पहले ही कर दी थी कोरोना वायरस की भविष्यवाणी

प्रधानमंत्री ने कहा कि, चीन, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, इटली, ईरान जैसे अनेक देश जिनकी स्वास्थ्य सेवा, अस्पताल, आधुनिक संसाधन पूरी दुनिया में बेहतरीन हैं, तक कोरोना वायरस को फैलने से नहीं रोक पाए। कोरोना वायरस से निपटने के लिए उम्मीद की किरण तब मिली जब इन देशों के नागरिक कई हफ्तों तक घर से बाहर नहीं निकले। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग को अपनाएं और भारत में कंप्लीट लॉकडाउन का पालन करें।

इसके अलावा मोदी ने, हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने के लिए 15 हजार करोड़ रुपयों का प्रावधान किया। जिससे कोरोना से जुड़ी टेस्टिंग फेसिलिटीज, पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्वीपमेंट्स, आइसोलेशन बेड्स, आईसीयू बेड्स, वेंटीलेटर्स और अन्य जरूरी साधनों की संख्या तेजी से बढ़ाई जाएगी। सरकार मेडिकल और पैरा मेडिकल मैनपावर की ट्रेनिंग का काम भी कर रही है। इसके अलावा, मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाओं की सप्लाई जारी रहेगी। इसके लिए कदम उठाए जा रहे हैं और आगे भी उठाए जाते रहेंगे।

भारत में कंप्लीट लॉकडाउन अफवाहों से बचें

मोदी ने भारत में कंप्लीट लॉकडाउन के दौरान अफवाहों और अंधविश्वास से भी दूर रहने को कहा। साथ ही उन्होंने कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवा का सेवन करने से मना किया। उन्होंने कहा कि, इससे आपका जीवन और संकट में आ सकता है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस से लड़ने के लिए चाहिए हेल्दी इम्यूनिटी, क्या आप जानते हैं इस बारे में

कोरोना वायरस अपडेट (latest news on corona)

वर्ल्ड ओ मीटर वेबसाइट के मुताबिक 24 मार्च रात 8:00 बजे तक, दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 3, 95, 809 हो गई है और कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 17 हजार के पार यानी 17,235 हो चुका है। अगर नोवेल कोरोना वायरस से ठीक हो चुके मरीजों की बात करें, तो विश्व में डॉक्टर्स द्वारा ऐसे 1,03,748 लोगों को इस बीमारी से निजात मिल गई है। इसके अलावा, कुल 2,74,826 मामले सक्रिय है, जिसमें से 2,62,625 लोग की स्थिति नियंत्रण में है, जबकि 12,201 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। अबतक, इस वायरस के 1,20,983  मामले बंद हो चुके हैं, जिसमें से 1,03,748 लोग ठीक हो चुके हैं और 17,235 कोरोना वायरस  मौत हो चुकी हैं।

WHO के मुताबिक आंकड़ा

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की तरफ से जारी होने वाली सिचुएशन रिपोर्ट 24 मार्च 2020 को आर्टिकल लिखे जाने तक जारी नहीं हुई थी और इसकी पिछली रिपोर्ट यानी 23 मार्च 2020 को जारी सिचुएशन रिपोर्ट 63 के मुताबिक 23 मार्च की सुबह तक विश्व में कुल 3,32,930 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके थे और दुनिया में कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 14,510 हो चुका था।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस पर बने ये मजेदार मीम्स, लेकिन अब ‘ करो-ना ‘

भारत में कंप्लीट लॉकडाउन : भारत की स्थिति (How many cases of coronavirus in India?)

भारत में कंप्लीट लॉकडाउन के आदेश से पहले भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा 24 मार्च 2020 को शाम 5.45 बजे जारी जानकारी के मुताबिक, देश में अबतक 470 संक्रमित मरीजों की पहचान की जा चुकी है। जिसमें से 39 लोगों का इलाज या डिस्चार्ज कर दिया गया है। इसके अलावा, 1 मरीज को माइग्रेट कर दिया गया है, जबकि कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 9 हो गया है। भारतीय एयरपोर्ट पर अबतक कुल 15,24,266 लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है।

भारत के राज्यों में मरीजों की संख्या की बात करें, तो देश के 24 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना वायरस से संक्रमित मामले पाए जा चुके हैं। जिसमें से ज्यादा मरीजों से कम मरीजों के अनुसार क्रम में केरल, महाराष्ट्र और फिर कर्नाटक का नंबर आता है। कोरोना वायरस का डर लोगों में न फैले इसलिए स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से ऐसे कंट्रोल रूम भी बनाए गए हैं जो 24 घंटे लोगों की सेवा के लिए उप्लब्ध हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दिए गए फोन नंबर 011-23978046 पर संपर्क किया जा सकता है। फोन नंबर के साथ-साथ आप [email protected] पर मेल करके भी कोरोना वायरस के लक्षणों या किसी भी तरह की इससे जुड़ी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :

इलाज के बाद भी कोरोना वायरस रिइंफेक्शन का खतरा!

कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

वर्क फ्रॉम होम : कोरोना वायरस की वजह से घर से कर रहे हैं काम, लेकिन आ रही होंगी ये मुश्किलें

क्या प्रेग्नेंसी में कोरोना वायरस से बढ़ जाता है जोखिम?

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 24, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया मार्च 26, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे