कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : सिनौवैक का दावा कोरोनावैक से हो सकता है महामारी का इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना पूरी दुनिया के साथ भारत में भी अपने पैर तेजी से पसार रहा है। भारत में कोरोना से दो लाख का आंकड़ा छूने के कगार पर है। ऐसे में कोरोना को लेकर वैक्सीन की खोज जोरो पर हैं। जहां एक तरफ चीन से कोरोना वायरस फैलने की बात की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ चीन की कई कंपनियां वैक्सीन ढूंढने में लगी है। इसी बीच चीन की बायोफार्माच्यूटिकल कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने कोरोनावैक के नाम से एक वैक्सीन इजात की है। आइए जानते हैं कि कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट क्या है?

और पढ़ें : पेपर टॉवेल (टिश्यू पेपर) या हैंड ड्रायर्स: कोरोना महामारी के समय हाथों को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट के बारे में जानें

कोविड 19 वैक्सीनलेटेस्ट अपडेट में हम आपको बताएंगे कि कई देश कोरोना वैक्सीन को लेकर दावेदारी कर रहे हैं कि उन्होंने कोरोना की वैक्सीन ढूंढ ली है :

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : सिनोवैक बायोटेक ने कोरोनावैक को लेकर किया बड़ा दावा

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट में चीन की फार्माच्यूटिकल कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने दुनिया को एक उम्मीद की किरण दिखाई है। सिनोवैक का दावा है कि उन्होंने कोरोनावैक के नाम से एक कोविड 19 वैक्सीन इजात की है, दो कोरोना वायरस पर 99 प्रतिशत प्रभावी होगी। सिनोवैक बायोटेक ने मीडिया में भी इस बात की दावेदारी की है और कहा है कि हम 99 प्रतिशत आश्वस्त हैं कि कोरोनावैक कोरोना के खिलाफ एक प्रभावी भूमिका निभाएगी।  

सिनोवैक ने कोरोनावैक को लेकर दो स्टेज तक का ट्रायल कर लिया है। इस ट्रायल में उन्होंने 1000 से ज्यादा लोगों को शामिल किया था। इसके बाद अब तीसरे ट्रायल के लिए यूनाइटेड किंगडम के साथ बात चल रही है। मंजूरी मिलते ही, इस कोरोनावैक का तीसरा और अंतिम ट्रायल किया जाएगा। एकेडमिक जॉर्नल साइंस के एक रिपोर्ट के मुताबिक सिनोवैक ने बंदरों पर कोरोना वैक्सीन का पहला ट्रायल किया था। जो बंदरों को कोरोना के इंफेक्शन से बचाने में मददगार साबित हुआ। हालांकि सिनोवैक का कहना है कि अंतिम ट्रायल के बाद वैक्सीन को मंजूरी मिलते ही वैक्सीन की 10 करोड़ डोज बनाने की तैयारी करेंगे। 

और पढ़ें : कोरोना महामारी में मुंबई का हो रहा है बुरा हाल, जानिए आखिर क्यों न्यूयार्क से ज्यादा गंभीर हो रहे हैं हालात

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : मॉडर्ना पहुंचा ट्रायल के दूसरे फेज में

यूएस बेस्ड मॉडर्ना थैरेप्यूटिक्स (Moderna Therapeutics) ने भी कोविड-19 के लिए वैक्सीन बनाने की दावेदारी की है। कोरोना वैक्सीन पर ट्रायल करने के लिए एफडीए ने भी मंजूरी दे दी थी। जिसके बाद फर्स्ट फेज के लिए वैक्सीन mRNA-1273 को 45 लोगों पर ट्रायल के तौर पर इस्तेमाल किया गया था। कुल 45 लोगों को 28 दिनों के ट्रायल के लिए इंजेक्शन दिया गया था। mRNA-1273 वैक्सीन में मॉलीक्यूलर निर्देश होते हैं जो इंसान की कोशिकाओं को वायरल प्रोटीन बनाने के लिए प्रेरित करते हैं। वैक्सीन का काम इम्यूनिटी को मजबूत कर वायरस से लड़ना है।

मॉडर्ना थैरेप्यूटिक्स अब मरीजों पर सेकेंड फेज यानी कि दूसरे फेज का ट्रायल भी शुरू कर चुकी है। दूसरे फेज के ट्रायल में 600 मरीजों को शामिल किया गया है। इन 600 लोगों में सभी उम्र के लोगों को शामिल किया गया है। दूसरे फेज के ट्रायल के सफल होने के बाद जुलाई में मॉडर्ना थैरेप्यूटिक्स कंपनी तीसरे और अंतिम ट्रायल की ओर कदम बढ़ाएगी। फिलहाल तक हुए ट्रायल में mRNA-1273 वैक्सीन का सकारात्मक प्रभाव पाया गया गया है। 

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : चीन और बीजिंग मिल कर बना रहें वैक्सीन

बीजिंग इंस्टीच्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स और चाइना नेशनल बायोटेक ग्रुप कंपनी ने मिल कर कोरोना वैक्सीन बनाने का बीड़ा उठाया है। कोरोना वैक्सीन का दो फेज का ट्रायल भी पूरा कर लिया गया है। कंपनियों का दावा है कि इस साल के अंत तक या अगले साल की शुरुआत तक कोरोना की वैक्सीन बाजार में आ जाएगी। इसके बाद कोरोना से इलाज बहुत आसान हो सकता है।

और पढ़ें : एक्सरसाइज के दौरान मास्क का इस्तेमाल कहीं जानलेवा न बन जाए

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : रूस वैक्सीन के साथ ही एंटी-कोविड 19 ड्रग पर कर रहा काम

दुनिया में कोरोना से पीड़ित देश की सूची में तीसरे नंबर पर मौजूद रूस भी कोरोना वैक्सीन पर काम कर रहा है। इसके साथ रूस एंटी-कोविड 19 ड्रग बनाने का भी दावा कर रहा है। रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय के तरफ से जारी बयान में ये बात सामने आई है कि रूस में इस वक्त कोरोना के लिए लगभग 50 अलग-अलग तरह की वैक्सीन पर काम चल रहा है। जिसमें से कई वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल दो हफ्तों में शुरू किया जाएगा। साथ ही क्लीनिकल ट्रायल के लिए वॉल्टियर्स को भी चुन लिया गया है। 

साइबेरिया की वेक्टर इंस्टीट्यूट में भी उनमें से एक वैक्सीन की तैयारी चल रही है। जिसका ट्रायल अभी जानवरों पर किया जा रहा है। इसके बाद सितंबर तक क्लीनिकल ट्रायल करने की बात की जा रही है। फिलहाल रूस में कोरोना की दवा के तौर पर एविफैविर (Avifavir) नामक दवा को मंजूरी मिल गई है। एविफैविर का जेनेरिक नाम फैविपिरैविर (favipiravir) है। जिसे 330 मरीजों पर ट्रायल किया गया। जिसके सकारात्मक प्रभाव देखने को मिले हैं। 

और पढ़ें : कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए फेस शील्ड क्या जरूरी है, जानिए

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : फाइजर ने अक्टूबर तक वैक्सीन बनाने का किया दावा

यूएस की फार्माच्यूटिकल कंपनी फाइजर (Pfizer) का दावा है कि वह कोरोना की वैक्सीन बनाने के बेहद करीब है। फाइजर जर्मन फर्म बायॉन्टेक के साथ मिल कर इस साल अक्टूबर तक वैक्सीन बाजार में लाने के लिए काम कर रहे हैं। कोरोना के लिए फाइजर BNT162 नामक वैक्सीन प्रोग्राम के लिए यूएस और यूरोप के साथ काम कर रही है। जिसमें एमआरएन के फॉर्मेट और एंटीजन के विभिन्न कॉम्बिनेशन के साथ काम किया जा रहा है। फाइजर का दावा है कि हम बहुत जल्द इस वैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल की दिशा में आगे ले कर जाएंगे। ट्रायल सफल होने पर ही इसे तुरंत बाजार में उतारा जाएगा। 

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : नोवावैक्स का पहला ट्रायल रहा सफल

नोवावैक्स वैक्सीन को कोविड-19 वैक्सीन का सबसे प्रबल दावेदार माना जा रहा है। नोवावैक्स ने हाल ही में वैक्सीन के लिए एपिडेमिक प्रीपेयरडनेस इनोवेशन (Epidemic Preparedness Innovation) के अंतर्गत 388 मिलियन डॉलर की फंडिग मिली है। नोवावैक्स के रिसर्च और डेवलपमेंट प्रेसीडेंट डॉ. ग्रेगरी ग्लेन ने बताया है कि कोरोना के  वैक्सीन केंडीडेट NVX-CoV2373 से हमे अच्छे रिजल्ट मिले हैं। ऑस्ट्रेलिया की बायोटेक कंपनी करीब 130 लोगों पर परीक्षण इस वैक्सीन का परीक्षण कर रही है। इस वैक्सीन का पहला ट्रायल चूहों पर किया गया, जो कि सफल रहा है। अब इसे दूसरे फेज के ट्रायल के लिए तैयार किया जा रहा है। 

कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट में आपने जाना कि पूरी दुनिया में कितनी तेजी से वैक्सीन पर काम चल रहा है। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं बन जाती हैं, तब तक हमें कोरोना से सावधानी को ही इसका बचाव समझना होगा। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स in Hindi, school reopen guidelines covid-19 safety tips in Hindi, सेफ्टी टिप्स की गाइडलाइन।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड 19 व्यवस्थापन सितम्बर 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को लेकर राज्य सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। महाराष्ट्र सरकार ने सभी 'मंडलों' के लिए गणेशोत्सव मनाने के लिए नगर पालिका या लोकल अथॉरिटी से परमिशन लेना अनिवार्य कर दिया है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
त्योहार, स्वास्थ्य बुलेटिन अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सीरो सर्वे को लेकर क्यों हो रही है चर्चा, जानें एक्सपर्ट से इसके बारे में सबकुछ

सीरो सर्वे क्या है, एंटीबॉडी टेस्ट क्यों किया जाता है, एंटीबॉडी टेस्ट कैसे करते हैं, कोरोना में सीरो सर्वे, आईसीएमआर की गाइडलाइन, Sero survey antibody test Covid-19, ICMR.

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 के बाद ट्रैवल

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें